MP Board Class 8th General English Solutions Chapter 4 Trees: Our Saviours

In this article, we will share MP Board Class 8th General English Solutions Chapter 4 Trees: Our Saviours PDF, English Class 8 Chapter 4 MP Board, these solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th General English Solutions Chapter 4 Trees: Our Saviours

Trees: Our Saviours Textual Exercise

Read and Learn
(पढ़ो और याद करो):
Do Yourself.

Word Power
(शब्द सामर्थ्य):

(A) The letters ‘dis’ and ‘un’ before a word often mean ‘not’. Make new words by. adding the correct prefixes.
(किसी भी शब्द के आगे अक्षर “dis” और “un” अक्सर नहीं (नकारात्मक) अर्थ देते हैं। सही प्रत्यय लगाकर नये शब्द बनाएँ।)

  1. happy
  2. continue
  3. agree
  4. fair
  5. kind
  6. approve.

Answer:

  1. unhappy
  2. discontinue
  3. disagree
  4. unfair
  5. unkind
  6. disapprove.

MP Board Solutions

(B) Fill the right word in the right place:
(उचित स्थान से रिक्त शब्द भरो:)
Answer:

  1. Clothes are made of cloth.
  2. My elder brother obviously is older than me.
  3. My grandfather is old and is child-like, but my uncle often behaves in a childish manner which I don’t like.
  4. We can adapt to western ways of living but not adopt them.

(C) Match the words given in the two-boxes to make compound words:
(दो खानों में दिये शब्दों का संयुक्त शब्द बनाने के लिए मिलान करें:)
Answer:
blackboard; toothbrush; newspaper; teapot; notebook; raincoat; farmhouse forehead, suitcase; bargraph.

MP Board Solutions

Comprehension
(बोध प्रश्न):

(A) Answer the following questions:
(नीचे दिये प्रश्नों का उत्तर दें:)

Class 8 English Chapter 4 Trees Our Saviours Question 1.
Why did the workers from a factory come to the village of Gopeshwar?
(व्हाय डिड द वर्कर्स फ्रॉम अ फैक्ट्री कम टु द विलेज ऑफ गोपेश्वर ?)
फैक्ट्री के कर्मचारी गोपेश्वर गाँव क्यों आए ?
Answer:
The workers from a factory had come to the village of Gopeshwar to cut the ash trees to make sleepers for the railways.
(द वर्कर्स फ्रॉम अ फैक्ट्री हैड कम टु द विलेज ऑफ गोपेश्वर टु कट द ऐश ट्रीज टु मेक स्लीपर्स फॉर द रेलवेज।)
फैक्ट्री के कर्मचारी रेलगाड़ी के स्लीपर बनाने के लिए पेड़ काटने गोपेश्वर आए थे।

MP Board Class 8 English Chapter 4 Question 2.
What did the villagers decide when the axe men refused to return?
(व्हॉट डिड द विलेजर्स डिसाइड व्हेन द ऐक्समेन रिफ्यूज्ड टु रिटर्न ?)
गाँववासियों ने क्या निर्णय लिया जब कुल्हाड़ी धारियों ने लौटने से इन्कार कर दिया ?
Answer:
The villagers decided that they would not let the axes touch the trees at any cost.
(द विलेजर्स डिसाइडिड दैट दे वुड नॉट लैट द ऐक्सिज टच द ट्रीज ऐट ऐनी कॉस्ट।)
गाँववासियों ने यह तय किया कि वे किसी भी कीमत पर पेड़ों पर कुल्हाड़ी नहीं लगने देंगे।

MP Board Solutions

Trees Our Saviours Question 3.
What did the axe men do when the villagers hugged the trees and shouted “chipko, chipko”?
(व्हॉट डिड द ऐक्समेन डु व्हेन द विलेजर्स हग्ड द ट्रीज एण्ड शाउटिड “चिपको चिपको” ?)
कुल्हाड़ीधारियों ने क्या किया जब गाँववासियों ने पेड़ों को गले लगा लिया और “चिपको, चिपको” चिल्लाए ?
Answer:
The axe men were frightened and they ran away.
(द ऐक्समेन वर फ्राइटन्ड एण्ड दे रैन अवे।)
कुल्हाड़ीधारी डर गये और वे भाग गए।

Lesson 4 Trees Our Saviours Question 4.
What did the villagers do when the contractors chose another forest ?
(व्हॉट डिड द विलेजर्स डू व्हेन द कॉन्ट्रेक्टर्स चोज ऐनदर फॉरेस्ट ?)
गाँववासियों ने क्या किया जब ठेकेदारों ने दूसरा जंगल चुन लिया ?
Answer:
When the contractors chose another forest, the villagers began to march in a procession to save the forests.
(व्हेन द कॉण्ट्रैक्टर्स चोज एनदर फॉरेस्ट, द विलेजर्स बिगेन टू मार्च इन अ प्रोसैशन टु सेव द फॉरेस्ट्स।)
जब ठेकेदारों ने दूसरा जंगल चुना तो गाँववासी जुलूस के साथ उसे बचाने निकल पड़े।

MP Board Solutions

Class 8 English Chapter 4 Mp Board Question 5.
What is the work of “Dasohli Gram Swarajya Mandal ?”
(व्हॉट इट द वर्क ऑफ “दसोहली ग्राम स्वराज्य मण्डल’)
“दसोहली ग्राम स्वराज्य मण्डल” का क्या कार्य है ?
Answer:
This organisation works to regenerate the degraded forests.
(दिस ऑर्गेनाइजेशन वर्क्स टु रीजनरेट द डिग्रेडिड फॉरेस्ट्स।)
ये संस्था उन जंगलों को नवजीवन प्रदान करने का कार्य करती है जिनका पतन हो गया है।

(B) Say whether the following statements are true or false:
(निम्नलिखित कथन सत्य हैं या गलत, बतायें:)

  1. Trees were being saved by the contractors.
  2. In 1953, a group of people from a factory arrived at the Village of Gopeshwar.
  3. ‘Chipko’ or ‘Hug the trees’ was a non-violent movement of the mountain people to save their trees.
  4. Dasohli Gram Swarjya Mandal is an organisation to regenerate the degraded forests.
  5. Chipko movement proved very valuable in the conservation of forests.

Answer:

  1. False
  2. False
  3. True
  4. True
  5. True.

MP Board Solutions

Let’s Learn
(आओ याद करें):

(A) Fill in the blanks with suitable pronouns.
(उचित सर्वनाम से रिक्त स्थान भरिए:)
Answer:
Leena was on her annual visit to her uncle’s house. She always enjoyed it because she was allowed to spend most of the day down at the mango grove. Reena’s uncle was a friend of the man who owned the grove and he always gave mangoes at a special rate. This year her aunt joined her, and together they set off across the fields to the grove. The branches of the trees were covered with fruits, and so bowed down with the weight that they almost touched the ground. They spent hours picking the fruit, eating most of them and sleeping in the shade.

(B) Use the words given in the box in the blanks below to make the Past Perfect Tense.
(बॉक्स में दिये शब्दो से Past Perfect Tense बनाने के लिए रिक्त स्थान भरें:)
Answer:

  • Harry had died before the doctor came.
  • The rain had stopped before you arrived.
  • I had reached the school before the bell rang.
  • There was a storm after the plane had landed.
  • The thief had run away before the police came.

MP Board Solutions

Let’s Talk
(आओ बात करों):

Look at the picture given in the book carefully.
(दिये चित्र को ध्यान से देखें।)
Frame the questions related to the answers.
(दिए गए उत्तरों से सम्बन्धित प्रश्न बनाएँ।)

Trees Our Saviours Class 8 Question 1.
Where did you go in the morning?
Answer:
I went for a morning walk.

Class 8th English Chapter 4 Mp Board Question 2.
Who went with you?
Answer:
My mother and sister went with me.

Class 8th English Chapter 4 Trees Our Saviours Question 3.
What did you see there?
Answer:
We saw a large number of people and children there.

MP Board Solutions

Class 8 Chapter 4 English MP Board Question 4.
What were they doing there?
Answer:
Some were walking about, some were reading newspapers. Some were doing exercise, children were playing and some of them were roaming around.

MP Board Class 8th English Chapter 4 Question 5.
When did you come back?
Answer:
We came back at 9 O’clock.

English Chapter 4 Class 8 Mp Board Question  6.
Did you enjoy it?
Answer:
Yes, we enjoyed and returned home full of energy.

Let’s Read
(आओ पढ़ें):

Read the given notice which the Cultural Secretary of Vallabh Bhai School put up on his school notice board and answer the questions given below:
(दिये गये नोटिस को पढ़ें जो वल्लभ भाई स्कूल के सांस्कृतिक सचिव ने स्कूल के सूचना-पट्ट पर लगाया है और नीचे दिये प्रश्नों के उत्तर दें:)

(A) Fill in the blanks:
(रिक्त स्थान भरिए:)

(1) Anurag has put up a ………on his school noticeboard.
(2) Anurag is the ……….. secretary of Vallabh Bhai School.
Answer:
(1) notice
(2) cultural.

MP Board Solutions

(B) Answer the following questions:
(निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दें:)

Class 8 MP Board English Chapter 4 Question 1.
Which ceremony was being held at Vallabh Bhai School?
Answer:
Tree Plantation ceremony was being held at Vallabh Bhai School.

MP Board Class 8 English Chapter 4 Question Answer Question 2.
How many plants are to be contributed by each class?
Answer:
A minimum of five plants should be contributed by each class.

MP Board Solutions

Chapter 4 English Class 8 Mp Board Question 3.
Write the name and designation of the student who has written the notice.
Answer:
Anurag has written the notice. He is the Cultural Secretary of the school.

MP Board Class 8 English Chapter 4 Trees Our Saviour Question 4.
Which word in the notice has the meaning complete and enthusiastic?
Answer:
The word ‘wholehearted’ means complete and enthusiastic.

Let’s Write
(आओ लिखो):

Write a letter to the editor of a newspaper complaining against the cutting of trees, with the help of guidelines, given in the box.
(बॉक्स में दिये गये निर्देशों की सहायता से पेड़ों को काटने के विरुद्ध शिकायत करते हुए किसी समाचार-पत्र के सम्पादक को एक पत्र लिखें)
Answer:

403, D. K. Rainbow
Chunna Bhatti,
Bhopal
15th Oct., 20 …….

The Editor,
The Hindustan Times,
Bhopal:
15th Oct., 20.

Sir,
I would like to draw your attention to the cutting of trees prevailing in our area. As we all know that trees are valuable to us. Trees help to bring rain, keep the air clean, we get fruits from them. Trees help to beautify our surroundings. Hence, cutting of trees shall be a thrust to the environment. If the trees are cut then ecology will be disturbed. The floods shall occur and destroy the crops after rains. So the concerned authorities should take immediate steps to stop the cutting. Strick action should be taken against them.

Thanking you,
Yours Truly
Anurag

MP Board Solutions

Let’s do it
(आओ इसे करें):

Draw pictures of at least five trees and write two uses of each in your note book / drawing sheet.
कम से कम पाँच पेड़ों के चित्र बनायें और अपनी नोटबुक/ चित्रकला शीट पर प्रत्येक के दो प्रयोग लिखें।
Answer:
Here are the names of five trees with their uses. Students can draw their pictures themselves in their drawing sheet.

MP Board Class 8th geranal English Chapter 4 Trees Our Saviours

Trees: Our Saviours Word Meanings

Arrive (अराइव) – पहुँचना; Achieve (ऐचीव) – प्राप्त करना; Conservation (कन्सरवेशन) – सुरक्षित रखना; Comforts (कम्फर्ट्स) – सुख साधन; Deforestation (डीफॉरेस्टेशन) – वन कटाई; Destroy (डेस्ट्रॉय) – नष्ट करना; Degrade (डिग्रेड) – दरजा घटाना; Frighten (फ्राइटन) – भयभीत करना; Flood (फ्लड) – बाढ़; Hug (हग) – लिपटना; Huge (ह्यूज) – विशाल; Incident (इन्सिडेन्ट) – घटना, Landslide (लैन्डस्लाइड) – भू-स्खलन; Livelihood (लाइवलिहुड) – आजीविका, रोजी; Neglect ( गलैक्ट)-ध्यान नहीं रखना; Non – violent (नॉन-वाइलेंट) — अहिंसात्मक; Organisation (ऑर्गनाइजेशन) – संगठन; Prevent (प्रिवेन्ट) – नहीं होने देना; Procession (प्रोसेशन) – जलूस; Precious (प्रैशस) – कीमती; Regenerate (रिजेनरेट) – नवजीवन प्रदान करना; Unforgettable (अनफॉरगैटेबल) – अविस्मरणीय; fodder (फॉडर) – चारा; Erosion (ईरोजन) – (भू) क्षरण, नाश।

Trees: Our Saviours Summary, Pronunciation & Translation

1. The forests of the Himalayan region have played an important role in the life of the people of Uttarakhand. They have been supplying fodder for their cattle, wood for fuel, fruits for food and herbs for medical treatment. The forests have also prevented floods and soil erosion in the area during the monsoon season.

द फॉरेस्ट्स ऑफ द हिमालयान रीजन हैव प्लेड ऐन इम्पोर्टेट रोल इन द लाइफ ऑफ द पीपुल ऑफ उत्तराखण्ड. दे हैव बीन सप्लाइंग फोडर फॉर देअर कैटल, वुड फॉर फ्युअल, फ्रूट्स फॉर फूड एण्ड हर्ब्स फॉर मेडिकल ट्रीटमेंट. द फॉरेस्ट्स हैव ऑल्सो प्रीवेन्टिड फ्लड्स एण्ड सॉइल इरोजन इन द एरिया ड्यूरिंग द मानसून सीजन.

अनुवाद:
हिमालय क्षेत्र के जंगलों की उत्तराखण्ड के लोगों के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका रही है। वे उनके जानवरों के लिए चारा, ईंधन के लिए लकड़ी, भोजन के लिए फल और चिकित्सा के लिए जड़ी-बूटियाँ प्रदान करते हैं। वन बरसात के मौसम में बाढ़ और भूमि क्षरण से इस क्षेत्र का बचाव भी करते हैं।

2. During the 1970’s, however deforestation began. Trees were cut down. As a result, there was nothing to hold the soil. The rushing rain water carried away not only the soil, but also huge rocks, causing landslides, filling up the rivers, leading to floods. Further owing to the forest trees being taken away, the people who depended on them for food and fuel, faced great difficulty. They had to walk longer distances to collect firewood for cooking, plants for food and medicines, and to graze their cattle.

ड्यूरिंग द 1970′ (नाइन्टीन सेवन्टीज) हाउएवर डिफॉरेस्टेशन बिगेन. ट्रीज़ वर कट डाउन. ऐज़ अ रिजल्ट, देअर वाज़ नथिंग टु होल्ड द सॉइल. द रशिंग रेन वाटर कैरिड अवे नॉट ऑनली द सॉइल, बट आल्सो ह्यूज रॉक्स, कॉजिंग लैण्डस्लाइड्स, फिलिंग अप द रिवर्स, लीडिंग टु फ्लड्स. फर्दर ओइंग टु द फॉरेस्ट ट्रीज बीइंग टेकन अवे, द पीपुल हूँ डिपेन्डिड ऑन दैम फॉर फूड एण्ड फ्यूअल, फेस्ड ग्रेट डिफीकल्टी. दे हैड टु वॉक लांगर डिस्टेन्सिस टु कलैक्ट फायरवुड फॉर कुकिंग, प्लांट्स फॉर फूड एण्ड मेडीसिन्स, एण्ड टु ग्रेज देअर केटल.

अनुवाद:
उन्नीस सौ सत्तर के दशक में जंगलों की कटाई आरम्भ हुई। वृक्षों को काटा गया था। परिणामस्वरूप मृदा को क्षरण से रोकने को कुछ नहीं था। तेज बहते हुए वर्षा का जल अपने साथ केवल मिट्टी ही नहीं बल्कि विशाल चट्टानें ले जाता था जिससे भूस्खलन होता था और इनसे नदियाँ भर जाने पर बाढ़ आ जाती थी। इसके अतिरिक्त जंगल से पेड़ों को हटाने से, लोग जो भोजन और ईंधन के लिए उन पर निर्भर थे, उन्होंने बड़ी परेशानी का सामना किया। उन्हें खाना पकाने के लिए लकड़ी, भोजन एवं दवाइयों के लिए पौधे इकट्ठा करने और अपने पशुओं को चराने दूर-दूर तक जाना पड़ता था।

MP Board Solutions

3. The people were angry but helpless. They did not know what they, the simple villagers, could do to stop the destruction of their forests. For a long time rich forests had been destroyed by the contractors. One morning in March 1973, a group of people from a factory that made railway goods arrived at the village of Gopeshwar, in Chamoli district of Uttarakhand. They had come to cut the ash trees. The wood was to be used to make sleepers for the railways in the plains. The villagers requested the axe men to go back, but they refused to return. The people decided that they would not let the axes touch the trees, no matter what happened. They said,

द पीपुल वर ऐंग्री बट हैल्पलैस. दे डिड नॉट नो व्हाट दे, द सिम्पल विलेजर्स, कुड डू टु स्टॉप द डिस्ट्रक्शन ऑफ देअर – फॉरेस्ट्स. फॉर अ लांग टाइम रिच फॉरेस्ट्स हैड बीन डेस्ट्रायड बाइ द कॉन्ट्रेक्टर्स. वन मार्निंग इन मार्च 1973, अ ग्रुप ऑफ पीपुल फ्रॉम अ फैक्ट्री दैट मेड रेलवे गुड्स एराइव्ड ऐट द विलेज ऑफ गोपेश्वर, इन चमोली डिस्ट्रिक्ट ऑफ उत्तराखण्ड. दे हैड कम टु कट द एश ट्रीज. द वुड वाज टु बी यूज्ड टु मेक स्लीपर्स फॉर द रेल्वेज इन द प्लेन्स. द विलेजर्स रिक्वेस्टिड द एक्समैन टु गो बैक, बट दे रिफ्यूज्ड टु रिटर्न. द पीपुल डिसाइडिड दैट दे वुड नॉट लैट द एक्सेज टच द ट्रीज, नो मैटर व्हॉट हैपन्ड. दे सैड,.

अनुवाद:
लोग क्रुद्ध थे परन्तु असहाय थे। वे नहीं जानते थे कि वे, साधारण ग्रामीण, अपने वनों का विनाश रोकने के लिए क्या करें। एक लम्बे अर्से से समृद्ध वनों को ठेकेदारों द्वारा नष्ट किया जा रहा था। मार्च, 1973 की एक सुबह, उत्तराखण्ड के चमोली जिले के गोपेश्वर गाँव में रेलवे कोच बनाने वाले एक कारखाने के लोगों का एक समूह आया। वे मोहिन वृक्षों को काटने आये थे। लकड़ी का प्रयोग मैदानी क्षेत्रों में रेल्वे के लिए स्लीपर बनाने में किया जाना था। ग्रामीणों ने पेड़ काटने वालों से वापस जाने की प्रार्थना की परन्तु उन्होंने वापस जाने से मना कर दिया। लोगों ने तब यह तय किया कि चाहे जो हो जाए वह कुल्हाड़ियों को उन वृक्षों को छूने नहीं देंगे। उन्होंने कहा,

4. “Let us save our precious trees. Let us hug them so that no one can reach them.” And they all rushed forward shouting, “Chipko Chipko.” The axe men were frightened by the turn the situation had taken and they ran away. The people had succeeded in saving their trees Thus began the movement called “Chipko” or. “Hug the Trees”. It was a non-violent movement of the mountain people to save their trees by hugging them.

“लैट अस सेव अवर प्रैशस ट्रीज. लैट अस हग दैम सो दैट नो वन कैन रीच दैम.” एण्ड दे ऑल रश्ड फॉरवर्ड शाउटिंग, “चिपको चिपको”. द एक्समैन वर फ्राइटन्ड बाइ द टर्न द सिचुएशन हैड टेकन एण्ड दे रैन अवे. द पीपुल हैड सक्सीडिड इन सेविंग देअर ट्रीज ! दस बिगेन द मूवमेंट कॉल्ड “चिपको” और “हग द ट्रीज”. इट वाज़ अ नॉन-वायलेण्ट मूवमेंट ऑफ द माउन्टेन पीपुल टु सेव देअर ट्रीज बाइ हगिंग दैम.

अनुवाद:
आओ, अपने मूल्यवान पेड़ों को बचाएँ। आओ उनसे लिपट जाएँ जिससे कोई उन तक नहीं पहुँच सके। . . .. और वे सभी ‘चिपको-चिपको’ चिल्लाते हुए आगे की ओर दौड़े। स्थिति को बदलता देख वृक्षों को काटने आये लोग भयभीत हो गए और वे भाग गए। लोग अपने वृक्षों को बचाने में सफल हो गए। इस प्रकार ‘चिपको’ या वृक्षों को गले लगाओ’ आन्दोलन आरम्भ हो गया। यह पहाड़ी लोगों का अपने वृक्षों को गले लगाकर उन्हें बचाने के लिए एक अहिंसावादी आन्दोलन था।

5. The villagers of Gopeshwar had saved its trees but the contractors were not going to give up easily. They chose another forest which was about 60 kilometers away from Gopeshwar. News of this reached Gopeshwar. So the entire village men and women, old and young, began to march in a procession. They carried drums and trumpets and banners with messages like –

“Chop me – not the tree.”
and
“Kill us first, before you cut a single tree.”

द विलेजर्स ऑफ गोपेश्वर हैड सेव्ड इट्स ट्रीज बट द कॉन्ट्रेक्टर्स वर नॉट गोइंग टु गिव अप ईजिली. दे चोज अनअदर फॉरेस्ट विच वाज अबाउट 60 किलोमीटर्स अवे फ्रॉम गोपेश्वर. न्यूज ऑफ दिस रीच्ड गोपेश्वर. सो द एन्टायर विलेज मैन एण्ड वुमैन, ओल्ड एण्ड यंग, बिगेन टु मार्च इन अ प्रोसेशन. दे कैरिड ड्रम्स, एण्ड ट्रम्पेट्स एण्ड बैनर्स विद मेसेजिज लाइक-

“चॉप मी-नॉट द ट्री.”
एण्ड
“किल अस फर्स्ट, बिफोर यू कट अ सिंगल ट्री.”

अनुवाद:
गोपेश्वर के ग्रामीणों ने अपने वृक्षों को बचा लिया था परन्तु ठेकेदार भी आसानी से छोड़ने वाले नहीं थे। उन्होंने दूसरा जंगल चुन लिया जो गोपेश्वर से लगभग 60 किमी. दूर था। यह समाचार गोपेश्वर पहुँचा। तब सम्पूर्ण गाँववासी-पुरुष एवं स्त्रियाँ, वृद्ध एवं युवा एक जुलूस में आगे बढ़ने लगे। वे ढोल और तुरही बजाते हुए चल रहे थे तथा हाथों से इसमें सन्देश की । तख्ख्यिाँ लिए हुए थे –
“मुझे काटो-पेड़ को नहीं”
और
“हमें पहले मारो, इससे पहले कि तुम एक भी पेड़ काटो।”

MP Board Solutions

6. The axe men could not raise their axes. They fled. The “Chipko” idea had once again won. Trees had been saved. The message began to sweep through the region. The people knew that if they could save their forest, the forest would save for them their soil, their water and their livelihood. Many such incidents took place. Over the years the people’s movement became well known all over India and abroad. Thus, people have come together to work to protect their forests.

द एक्समैन कुड नॉट रेज देअर एक्सिस. दे फ्लैड. द “चिपको” आइडिया हैड वन्स अगेन वन. ट्रीज हैंड बीन सेव्ड. द मेसेज बिगेन टु स्वीप श्रू द रीजन. द पीपुल निऊ दैट इफ.दे कुड सेव देअर फॉरेस्ट, द फॉरेस्ट वुड सेव फॉर दैम देअर सॉइल, देअर वाटर एण्ड देअर लाइवलीहुड. मैनी सच इन्सीडेन्ट्स एक प्लेस. ओवर द ईयर्स द पीपुल्स मूवमेंट बिकेम वैल नोन ऑल ओवर इण्डिया एण्ड एब्रोड. दस, पीपुल हैव कम टुगेदर टु वर्क टु प्रोटेक्ट देअर फारेस्ट्स.

अनुवाद:
कुल्हाड़ी लिए लोग अपनी कुल्हाड़ी को नहीं उठा सके। वे भाग गए। ‘चिपको’ विचार ने एक बार पुनः विजय प्राप्त की। वृक्षों को बचा लिया गया। पूरे क्षेत्र में सन्देश फैल गया। लोगों को समझ आ गया कि यदि वे अपने वनों को बचा सके तो वन उनके लिए उनकी मिट्टी, जल और जीविका को बचाएँगे। ऐसी कई घटनाएँ घटित हुईं। कालान्तर में यह जनान्दोलन पूरे भारत और विश्व में प्रसिद्ध हो गया। इस प्रकार लोग अपने जंगलों की रक्षा करने के लिए काम करने को एक साथ आ गये।

7. They have organised themselves especially the women through organisations such as the Dasohli. Gram Swarajya Mandal to regenerate the degraded forests. This is how the Chipko movement has proved very valuable in the conservation of forests. It has taught an important lesson to the people in the conservation of the forests.

दे हैव ऑर्गनाइज्ड दैमसेल्व्स एस्पेशियली द वुमैन श्रू ऑर्गनाइजेशन्स सच ऐज़ द दसोहली ग्राम स्वराज्य मण्डल टु रिजनरेट द डिग्रेडिड फॉरेस्ट्स.दिस इज हाउ द चिपको मूवमेंट हैज प्रूव्ड वैरी वेल्यूएबल इन द कन्जर्वेशन ऑफ फॉरेस्ट्स. इट हैज टॉट एन इम्पॉर्टेट लैसन टु द पीपुल इन द कन्जर्वेशन ऑफ द फॉरेस्ट्स.

अनुवाद:
उन्होंने मृत वनों को पुनर्जीवित करने के लिए दसोहली ग्राम स्वराज्य मण्डल जैसे, कई संगठनों के माध्यम से – स्वयं को संगठित किया, विशेष रूप से महिलाओं से। इस प्रकार चिपको आन्दोलन वनों के संरक्षण में बहुत मूल्यवान सिद्ध हुआ है। इसने वनों के संरक्षण में लोगों को एक . महत्वपूर्ण सबक सिखाया है।

Leave a Comment