MP Board Class 8th Special English Solutions Chapter 16 To the New Year

In this article, we will share MP Board Class 8th Special English Solutions Chapter 16 To the New Year Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Special English Solutions Chapter 16 To the New Year

To the New Year Textual Exercise

Word Power

(a) Match of words with their meanings.
MP Board Class 8th Special English Chapter 16 To the New Year 1
Answers:
(i) – (d)
(ii) – (e)
(iii) – (b)
(iv) – (a)
(v) – (c)

(b) Read the poem carefully and find out the words which have the following meanings:

  1. It is the bottom of a door way ………………….
  2. A hollow place in a wall ………………….
  3. Hidden corners of a houses where light does not reach ………………….
  4. A guard ………………….
  5. A sugary fluid collected by the bees

Answers:

  1. threshold
  2. niche
  3. nooks
  4. sentinel
  5. honey

MP Board Solutions

(c) Given below is a circle having a few words. The words outside the circle have been used with the words given inside the circle.

Match them:
MP Board Class 8th Special English Chapter 16 To the New Year 2
Answers:

  1. infant-friend
  2. golden- threshold
  3. rose-buds
  4. light of love-darkness
  5. New-year
  6. sacred-sentinel
  7. niches-nooks
  8. windows-doors.

Comprehension

(A) Answer the following questions:

Question 1.
Whom does the poet address in the poem?
Answer:
The poet addresses to the New year in the poem.

Question 2.
What does the poet long to be in the beginning of the poem?
Answer:
The poet longs to be a child in the beginning of the poem.

Question 3.
Why does the poet want to open all windows and doors?
Answer:
The poet wants to open ail windows and doors to allow light in every nook and corner.

(b) Choose the correct alternatives:

(i) The poet wants to drive out the darkness with:
(i) the light of the sun.
(ii) the light of the moon.
(iii) the light of love.
Answer:
(iii) the light of love.

(ii) The poet wants to be the infant friend of the:
(i) rose buds of goodness.
(ii) bright stars.
(iii) Temple of Life.
Answer:
(i) rose buds of goodness

(iii) The poet wants to be …………… at the golden threshold of the Temple of Life:
(i) child like
(ii) a sacred sentinel
(iii) stars.
Answer:
(ii) a sacred sentinel.

MP Board Solutions

Let’s Read

Honourable teachers and dear friends, it is a sad day for me as well as for all of us today, because we have to say goodbye to our senior friends of the school. It is a happy day as well since they will be promoted to the higher class and join the senior school. Though we will miss them very much but we will feel their presence because they have contributed in the development of the school.

We have always seen them working in the garden, cleaning the class room, decorating the building and participating in various activities. How can we forget them? I remember many of them to be helping us-the juniors in our studies also. They have really play their role well and now when they are departing from us I would like to thank them and wish a very bright future for them. Hope they will keep guiding us.

Thank you.

Answer the questions given below:

Question 1.
What was the function in which the above speech was delivered?
Answer:
It was a farewell party.

Question 2.
Why did the speaker say goodbye to his senior friends?
Answer:
The speaker said goodbye to his senior friends because they were leaving the school.

Question 3.
Why did the speaker say that it was a sad as well as a happy day?
Answer:
It was a sad day because the senior students were leaving the school. It was a happy day because they (senior students) would be promoted to the higher class and join the senior school.

Question 4.
What was the contribution of the senior students in the development of the school?
Answer:
The senior students had always worked in the garden, cleaned the class room, decorated the building and participated in various activities.

Question 5.
What did the speaker say in the end ?
Answer:
In the end the speaker said that their senior friends would keep guiding them.

Question 6.
Suggest any other title to the above passage.
Answer:
Goodbye to our Senior Friends.

MP Board Solutions

Let’s Write

(A) “Remove the darkness of hatred with the light of love” This seems like a slogan. Now make your own slogans on the following themes:
MP Board Class 8th Special English Chapter 16 To the New Year 3

(B) Read the poem carefully and write its summary with the help of the
rose buds, the light of love, child, darkness, holy guard, the new year, stars, nook and corner, honey, windows and doors
Answer:
The poet addresses to the new year. He has always longed to be like child. He wants to be a friend of rose buds and gather honey. He wants to look and wonder at stars and open all windows and doors to allow light in every nook and corner. He wishes to drive out the darkness with the light of love, and become holy guard.

To the New Year Word Meanings

Page-147: Long – to wish, to desire – इच्छा करना। Childlike – like a child – बच्चे की तरह। Gather – collect – इकटठा करना illume – shine (literary word for illuminate’) – चमकना,रौशनी,फैलाना Niches – small hollow places in a wall – दीवार के छिद्र Nooks – corners – कोने Sacred – holy – पवित्र। Sentinel – guard – पहरेदार।

MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2

In this article, we will share MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2

Question 1.
If you subtract \(\frac{1}{2}\) from a number and multiply the result by \(\frac{1}{2}\), you get \(\frac{1}{8}\).What is the number?
Solution:
Let the number be x.
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 1

Question 2.
The perimeter of a rectangular swimming pool is 154 m. Its length is 2 m more than twice its breadth. What is the length and the breadth of the pool?
Solution:
Assume that the breadth of the rectangular pool be x m.
∴ Length = 2 + 2x
Perimeter of the rectangular pool = 2(Length + Breadth)
⇒ 154 = 2(2 + 2x + x)
⇒ 154 = 2(2 + 3x)
⇒ 154 = 4 + 6x
Transposing 4 to L.H.S., we get
154 – 4 = 6x ⇒ 150 = 6x
Now, dividing both sides by 6, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 2
∴ The breadth of the pool is 25 m and length of the pool = (2 + 2 × 25) m = (2 + 50) m = 52 m.

Question 3.
The base of an isosceles triangle is \(\frac{4}{3}\) cm. The perimeter of the triangle is 4\frac{2}{15} cm. What is the length of either of the remaining equal sides?
Solution:
The base of an isosceles triangle = \(\frac{4}{3}\) cm
Let x cm be the length of both of the remaining equal sides of the isosceles triangle.
Perimeter of the isosceles ∆ABC = AB + BC + CA
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 3
Transposing \(\frac{4}{3}\) to L.H.S., we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 4
∴ The length of either of the remaining equal sides is 1\(\frac{2}{5}\) cm.

MP Board Solutions

Question 4.
Sum of two numbers is 95. If one exceeds the other by 15, find the numbers.
Solution:
Let one number be x and other number is 15 + x.
Now, x + 15 + x = 95 ⇒ 2x + 15 = 95
Transposing 15 to R.H.S., we get
2x = 95 – 15 ⇒ 2x = 80
Now, dividing both sides by 2, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 5
∴ One number is 40 and other number is 15 + 40 = 55.

Question 5.
Two numbers are in the ratio 5 : 3. If they differ by 18, what are the numbers?
Solution:
Since, two numbers are in the ratio 5 : 3.
Let the two numbers be 5x and 3x.
Now, 5x – 3x = 18 ⇒ 2x = 18
Dividing both sides by 2, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 6
⇒ x = 9
∴ The required numbers are 5x = 5 × 9 = 45 and 3x = 3 × 9 = 27.

MP Board Solutions

Question 6.
Three consecutive integers add up to 51. What are these integers?
Solution:
Let three consecutive integers be x, (x + 1) and (x + 2).
Now, x+x + 1+ x + 2 = 51 ⇒ 3x + 3 = 51
Transposing 3 to R.H.S., we get
3x = 51 – 3
⇒ 3x = 48
Dividing both sides by 3, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 7
Thus, the required three consecutive integers are 16,17 and 18.

MP Board Solutions

Question 7.
The sum of three consecutive multiples of 8 is 888. Find the multiples.
Solution:
Let the three consecutive multiples of 8 be 8x, 8(x + 1) and 8(x + 2).
Now, 8x + 8x + 8 + 8x + 16 = 888
⇒ 24x + 24 = 888
Transposing 24 to R.H.S., we get
24x = 888 – 24 ⇒ 24x = 864
Dividing both sides by 24, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 8
Thus, the required three consecutive multiples of 8 are 8 × 36 = 288, 8 × 37 = 296 and 8 × 38 = 304.

Question 8.
Three consecutive integers are such that when they are taken in increasing order and multiplied by 2, 3 and 4 respectively, they add up to 74. Find these numbers.
Solution:
Let three consecutive integers be x, (x + 1) and (x + 2).
When they are multiplied by 2, 3 and 4, we get 2x, 3(x +1) and 4(x + 2) i.e., 2x, (3x + 3) and (4x + 8) respectively.
Now, 2x + 3x + 3 + 4x + 8 = 74 × 9x + 11 = 74
Transposing 11 to R.H.S., we get
9x = 74 – 11 ⇒ 9x = 63
Now, dividing both sides by 9, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 9
Thus, the required three consecutive integers are 7, 8 and 9.

MP Board Solutions

Question 9.
The ages of Rahul and Haroon are in the ratio 5 : 7. Four years later the sum of their ages will be 56 years. What are their present ages?
Solution:
Since, the ages of Rahul and Haroon are in the ratio 5 : 7.
Let Rahul’s present age be 5x years and Haroon’s present age be 7x years.
After 4 years, we have
Rahul’s age = 5x + 4 and Haroon’s age = 7x + 4
Now, 5x + 4 + 7x + 4 = 56 ⇒ 12x + 8 = 56
Transposing 8 to R.H.S., we get
12x = 56 – 8 ⇒ 12x = 48
Now, dividing both sides by 12, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 10
Thus, Rahul’s present age = 5 × 4 = 20 years and Haroon’s present age = 7 × 4 = 28 years

Question 10.
The number of boys and girls in a class are in the ratio 7 : 5. The number of boys is 8 more than the number of girls. What is the total class strength?
Solution:
We know that the number of boys and girls are in ratio 7 : 5.
Let the number of boys be 7x and the number of girls be 5x.
Now, 7x = 5x + 8
Transposing 5x to L.H.S., we get
7x – 5x = 8 ⇒ 2x = 8
Dividing both sides by 2, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 11
Thus, the required number of boys = 7 × 4 = 28 and the required number of girls = 5 × 4 = 20
Hence, total number of students = 28 + 20 = 48

MP Board Solutions

Question 11.
Baichung’s father is 26 years younger than Baichung’s grandfather and 29 years older than Baichung. The sum of the ages of all the three is 135 years. What is the age of each one of them?
Solution:
Let Baichung’s grandfather’s age be x years.
∴ Baichung’s father’s age = (x – 26) years
Baichung’s age = [(x – 26) – 29] years = (x – 55) years
Since, sum of the ages of all the three is 135 years. So, x + x – 26 + x – 55 = 135
⇒ 3x – 81 = 135
Transposing – 81 to R.H.S., we get
3x = 135 + 81 ⇒ 3x = 216
Dividing both sides by 3, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 12
Thus, Baichung’s grandfather’s age = 72 years
Baichung’s father’s age = (72 – 26) years = 46 years
Baichung’s age = (72 – 55) years = 17 years

MP Board Solutions

Question 12.
Fifteen years from now Ravi’s age will be four times his present age. What is Ravi’s present age?
Solution:
Let the present age of Ravi be x years.
After 15 years, Ravi’s age = (15 + x) years
Now, 15 + x = 4x
Transposing x to R.H.S., we get
15 = 4x – x
⇒ 15 = 3x
Dividing both sides by 3, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 13
Thus, the present age of Ravi is 5 years.

Question 13.
A rational number is such that when you multiply it by \(\frac{5}{2}\) and add \(\frac{2}{3}\) to the product, you get \(-\frac{7}{12}\).What is the number?
Solution:
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 14

MP Board Solutions

Question 14.
Lakshmi is a cashier in a bank. She has currency notes of denominations ₹ 100, ₹ 50 and ₹ 10, respectively. The ratio of the number of these notes is 2 : 3 : 5. The total cash with Lakshmi is ₹ 4,00,000. How many notes of each denomination does she have?
Solution:
Let the number of notes of ₹ 100, ₹ 50 and ₹ 10 be 2x, 3x and 5x, respectively.
∴ The amount Lakshmi has from ₹ 100 notes : ₹ (2x × 100) = ₹ 200x from ₹ 50 notes : ₹ (3x × 50) = ₹ 150x from ₹ 10 notes : ₹ (5x × 10) = ₹ 50x Now, 200x + 150x + 50x = 4,00,000
⇒ 400x = 4,00,000 ⇒ x = 1000
∴ Number of notes of ₹ 100 = 2x
= 2 × 1000 = 2000
Number of notes of ₹ 50 = 3x = 3 × 1000 = 3000
and number of notes of ₹ 10 = 5x = 5 × 1000
= 5000

MP Board Solutions

Question 15.
I have a total of ₹ 300 in coins of denomination ₹ 1, ₹ 2 and ₹ 5. The number of ₹ 2 coins is 3 times the number of ₹ 5 coins. The total number of coins is 160. How many coins of each denomination are with me?
Solution:
Let the number of ₹ 5 coins be x.
Number of ₹ 2 coins = 3x and number of ₹ 1 coins = 160 – x – 3x
The total amount
from ₹ 5 coins : ₹ 5 × x = × 5x
from ₹ 2 coins : ₹ 2 × 3x = ₹ 6x
and from ₹ 1 coins : ₹ 1[160 – x – 3x]
= ₹ [160 – 4x]
Now, 5x + 6x + 160 – 4x = 300
⇒ 7x + 160 = 300
Transposing 160 to R.H.S., we get
7x = 300 – 160
⇒ 7x = 140
Dividing both sides by 7, we get
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 15
⇒ x = 20
The number of ₹ 1 coins = 160 – 20 – 3 × 20 = 160 – 20 – 60 = 80
Number of ₹ 2 coins = 3 × 20 = 60
Number of ₹ 5 coins = 20

MP Board Solutions

Question 16.
The organisers of an essay competition decide that a winner in the competition gets a prize of ₹ 100 and a participant who does not win gets a prize of ₹ 25. The total prize money distributed is ₹ 3,000. Find the number of winners, if the total number of participants is 63.
Solution:
Let the number of winners be x.
Then, the number of losers will be 63 – x.
Since, the winner gets a prize of ₹ 100 and a loser gets a prize of ₹ 25.
Amount got by winners = ₹ 100x
And amount got by losers = ₹ (63 – x) × 25 But total prize money is ₹ 3000.
Therefore, 100x + (63 – x) × 25 = 3000
⇒ 100x + 63 × 25 – 25x = 3000
⇒ 75x + 1575 = 3000
MP Board Class 8th Maths Solutions Chapter 2 Linear Equations in One Variable Ex 2.2 16
So, the number of winners is 19.

MP Board Class 8th Maths Solutions

MP Board Class 8th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 18 दीप से दीप जले

In this article, we will share MP Board Class 8th Hindi Book Solutions Chapter 18 दीप से दीप जले Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 18 दीप से दीप जले

(क) सही जोड़ी बनाइए
MP Board Class 8th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 18 दीप से दीप जले 1
उत्तर
(अ) 4, (ब) 3, (स) 1, (द) 2

(ख) सही शब्द चुनकर रिक्त स्थान की पूर्ति कीजिए
(अ) सूरज ……………….उगल रहा था। (पानी, आग)
(ब) ……………….की थैलियाँ खाकर अब कोई गाय नहीं मरनी चाहिए। (पॉलिथीन, कागज)
(स) अब इस दीप से और ……………….दीप जलाने की जिम्मेदारी हम सभी की है। (सैकड़ों, हजारों)
(द) अनगिनत ………………उसकी आँखों में झिलमिला उठे। (तारे, दीप)
उत्तर
(अ) आग
(ब) पॉलिथीन
(स) सैकड़ों
(द) दीप

MP Board Solutions

अति लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
(अ) नितिन के बैग में क्या भरा था?
(ब) जलाने पर पॉलिथीन से कैसा धुआँ निकलता है?
(स) नितिन दोपहर में ही क्यों गया था?
(द) नितिन ने रमा को क्या सलाह दी?
उत्तर
(अ) नितिन के बैग में कपड़े का सिला हुआ एक झोला था।
(ब) जलाने पर पॉलिथीन से विषैला धुंआ निकलता था।
(स) नितिन दोपहर में गया था। यह इसलिए कि वही समय उसके पास खाली रहता था।
(द) नितिन ने रमा को यह सलाह दी कि अपने घर का रोजमर्रा का सामान कपड़े के झोले में ही लाया करें।

लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
(अ) पॉलिथीन की थैलियाँ पर्यावरण को कैसे प्रभावित करती हैं?
उत्तर
(अ) पॉलिथीन की थैलियाँ पर्यावरण की सुरक्षा की दृष्टि से बहुत घातक हैं। ये जमीन का उपजाऊपन नष्ट करके उसे बंजर बना देती है। जलाने पर इससे निकलने वाला विषैला धुंआ हमारे वायुमण्डल को जहरीला बना देता है।

(ब)
नितिन ने जन्मदिन पर कौन-सा उपहार चाहा और क्यों?
उत्तर
नितिन ने जन्मदिन पर कपड़ों से सिले झोलों को उपहार लेना चाहा। यह इसलिए कि वह इन झोलों को अधिक-से-अधिक घरों में पहुँचायेगा।

(स)
नितिन की बात सुनकर रमा ने कौन-सा संकल्प लिया?
उत्तर
नितिन की बात सुनकर रमा ने यह संकल्प किया कि वह भी उसी की तरह दूसरों में पर्यावरण के चेतना जगाएगी।

(द)
नितिन को पर्यावरण प्रदूषण के विरुद्ध अभियान चलाने की प्रेरणा कैसे मिली?
उत्तर
नितिन को पर्यावरण प्रदूषण के विरुद्ध अभियान चलाने की प्रेरणा हो रहे प्रदूषण के खतरनाक परिणामों को देखकर समझने से मिली।

(इ)
‘दीप से दीप जले’ से लेखिका का क्या आशय है?
उत्तर
दीप से दीप जले’ से लेखिका का आशय है-पर्यावरण की शुद्धता के लिए देशवासियों को प्रेरित करना।

MP Board Solutions

भाषा की बात

प्रश्न 1.
बोलिए और लिखिएविषम, पर्यावरण, वायुमण्डन, विषैला।
उत्तर
विषम, पर्यावरण, वायुमण्डल, विषैला।

प्रश्न 2.
सही वर्तनी वाले शब्दों को कोष्ठक में लिखिए
MP Board Class 8th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 18 दीप से दीप जले 2
उत्तर
अनुरोध, धुआँ, दूषित, ठहरिए।

प्रश्न 3.
निम्नलिखित शब्दों के हिंदी रूप लिखिएप्लीज, पोस्टमैन, होमवर्क, आंटी, प्रिंसीपल । उत्तर
शब्द – हिंदी रूप
प्लीज – कृपया
पोस्टमैन – डाकिया
होमवर्क – आंटी
चाची प्रिंसीपल – प्रधानाध्यापक

MP Board Solutions

प्रश्न 4.
निम्नलिखित शब्दों में से एक शब्द का अर्थ असमान है।
असमान शब्द पर गोला लगाइए
उत्तर
MP Board Class 8th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 18 दीप से दीप जले 3

प्रश्न 5.
विलोम शब्दों को चुनकर जोड़ी बनाइए
उत्तर
विषम – सम
खरीदना – बेचना
प्रशंसा – निंदा
सुरखा – असुरक्षा
सुखद – दुखद

प्रश्न 6.
उदाहरण के अनुसार निम्नलिखत शब्दों में ‘दार’ प्रत्यय लगाकर नए शब्द बनाइए
उत्तर
MP Board Class 8th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 18 दीप से दीप जले 4
MP Board Class 8th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 18 दीप से दीप जले 4a

प्रश्न 7.
निम्नलिखित शब्दों के तत्सम रूप लिखिए
सूरज, धुओं, आग, गर्मी।
उत्तर
शब्द – तत्सम शब्द
सूरज – सूर्य
धुओं – धूम्र
आग – अग्नि
गर्मी – ग्रीष्म

MP Board Solutions

प्रमुख गद्यांशों की संदर्भ-प्रसंग सहित व्याख्याएँ

1. सचमुच में ये पॉलिथीन की थैलियाँ हमारे पर्यावरण की सुरक्षा की दृष्टि से बहुत घातक हैं। जमीन का उपजाऊपन नष्ट करके यह उसे बंजर बना रही है। जलाने पर इनसे निकलने वाला विषेला धुआँ हमारे वायुमण्डल को जहरीला बना | रहा है। ये बैलियों पर की मोरियों और नदी-नाले में जाकर | पानी का बहाव रोकती हैं। जानबर के पेट में जाकर उनके प्राण | ले लेती हैं, फिर भी हम बाजार से सारा सामान इन्हीं थैलियों में लाना पसंद करते हैं। हम अपनी छोटी-सी सुविधा के लिए पर्यावरण को कितना दूषित कर रहे हैं।। |

शब्दार्थ
पर्यावरण-वातावरण। घातक-हानिकारक । बंजर-ऊसर, अनुपजाऊ।

संदर्भ – प्रस्तुत पंक्तियों हमारी पाठ्य-पुस्तक ‘सुगम भारती’ (हिंदी सामान्य) के भाग-8 के पाठ-18 के ‘दीप से दीप जले’ से ली गई है। इसकी लेखिका डॉ उषा यादव हैं।

प्रसंग- प्रस्तुत पंक्तियों में लेखिका ने पॉलिथीन की धैलियों से होने वाली हानियों के बारे में बतलाते हुए कहा है कि

व्याख्या
वास्तव में पॉलिथीन की थैलियों जहाँ हमारे दैनिक जीवन के प्रयोग में सुविधाजनक हैं, वहीं दूसरी ओर वे हमारी जीवन सुरक्षा की दृष्टि से बहुत ही हानिकारक हैं। ये उपजाऊ जमीन की शक्ति को समाप्त करके उसे अनुपजाऊ बना देती हैं। अगर इन्हें जलाया जाता है, इनसे जो धुंआ निकलता है, वह साधारण नहीं होता है, अपितु बहुत ही जहरीला होता है। इससे हमारा वातावररण स्वाभाविक रूप से विषैला बना देता है। पॉलिथीन थैलियों पानी के बहाव को रोक लेती हैं। इस प्रकार घर की मोरियाँ ही नहीं, अपितु नदी-नाले के पानी के बहाव को रोक लेती हैं। अगर इन्हें कोई जानवर खा लेता है तो ये उसकी आँत में रुक जाती है। फलस्वरूप उसकी मौत हो जाती है। ऐसी जानकारी होने के बावजूद भी हम खाने-पीने की चीजें बाहर से इन्हीं पॉलिथीन की थैलियों में लाने में अधिक रुचि दिखाते हैं। लेकिन हम यह भूल जाते हैं कि अपनी इस प्रकार की छोटी-सी इच्छा की पूर्ति करके पर्यावरण को किस प्रकार खराव कर रहे हैं।

विशेष

  • भाषा प्रभावशाली है।
  • यह अंश ज्ञानवर्द्धक है।

MP Board Class 8th Hindi Bhasha Bharti Solutions Chapter 16 पथिक से

In this article, we will share MP Board Class 8th Hindi Solutions Chapter 16 पथिक से Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Hindi Bhasha Bharti Solutions Chapter 16 पथिक से

पथिक से बोध प्रश्न 

प्रश्न 1.
निम्नलिखित शब्दों के अर्थ शब्दकोश से खोजकर लिखिए
उत्तर
पथिक = राहगीर; वापी = बावड़ी; जलकण = जल की बूदें; एकाकीपन = अकेलापन; असमंजस = दुविधा; हवन सामग्री = यज्ञ में आहुति देने की वस्तुएँ; दूर्वादल = दूब घास के कोमल पत्ते; निर्झर = झरने; उन्मन = उदास; कुमकुम थाल = रोली की थाली; आहुति = यज्ञ में डालने की हवन सामग्री।

प्रश्न 2.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर संक्षेप में लिखिए
(क) “पथ में काँटे तो होंगे ही” इस पंक्ति में काँटे शब्द का अर्थ स्पष्ट कीजिए।
उत्तर
काँटे शब्द का अर्थ बाधाओं से है। कर्त्तव्य निर्वाह करना कठिनाइयों से भरा होता है।

(ख) नीचे दो खण्डों में कविता की आंशिक पंक्तियाँ दी गई हैं। खण्ड ‘अ’ और खण्ड ‘ब’ से एक सही पंक्ति लेकर पूरी कीजिए
MP Board Class 8th Hindi Bhasha Bharti Solutions Chapter 16 पथिक से 1
उत्तर
(अ) → (3), (आ) → (4), (इ) + (1), (ई)→(2)

(ग) स्वतन्त्रता की ज्वाला में माँ आहुति की मांग कर रही है। ‘माँ’ शब्द के प्रयोग द्वारा यहाँ किस माँ की ओर संकेत किया गया है?
उत्तर
‘माँ’ शब्द के प्रयोग से ‘भारत माँ’ की ओर संकेत किया गया है।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से लिखिए
(क) जीवन पथ पर चलते हुए पथिक को किन बाधाओं का सामना करना पड़ता है ? कविता के आधार पर कोई तीन बाधाओं को लिखिए।
उत्तर
जीवन रूपी मार्ग पर मनु रूपी राहगीर आगे बढ़ता है तो उसे अनेक बाधाएँ आकर घेर लेती हैं। मनुष्य सोचता है कि वह सफलताएँ ही प्राप्त करता जाएगा, विफलता उसके समक्ष आएँगी ही नहीं, ऐसा सोचना उसकी मूर्खता है। विफलता भी आ सकती है। इन विफलताओं (कठिनाइयों) के समय में अपने भी पराये जैसा (अपरिचितों जैसा) व्यवहार करते हैं। मन में दुविधा आ सकती है, यही दुविधा निराशा को जन्म देती है। आशा को काले बादलों में छिपा लेती है। आपत्तिकाल में अकेला व्यक्ति व्याकुल हो सकता है। कविता में कवि ने तीन बाधाओं को दर्शाया है

  1. निराशा में डूबे हुए व्यक्ति का एकाकीपन।
  2. ध्येय प्राप्ति में उलझन कि कार्य शुरू किया जाय या नहीं।
  3. अपनी क्षमताओं पर अविश्वास-असमंजस (दुविधा) की स्थिति का बन जाना।

(ख) किस स्थिति में कदम-कदम पर मनुष्य अपने आपको घोर निराशा में देखता है?
उत्तर
मनुष्य जब सब प्रकार से अपने प्रयास करने पर विफल हो जाता है, तो उस स्थिति में भी उसे अपने कर्त्तव्य से विमुख नहीं हो जाना चाहिए। उस असफलता की घड़ी में हर एक आदमी पराया-सा लगता है और उसके सामने पूर्णत: विरोधी होकर सामने दीख पड़ते हैं। उसे कदम-कदम पर भारी निराशा होती है। कठिनाइयों के काले बादल छा जाते हैं। उस अवस्था में उसे अकेलापन अनुभव करता है। उस व्यक्ति में निराशा और हताशा दोनों स्थितियाँ उसे क्लेश पहुँचाने वाली होती हैं।

(ग) सुन्दरता की मृगतृष्णा का क्या तात्पर्य है ?
उत्तर
किसी भी उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए आदमी को निश्चित उपायों के माध्यम से अपने लक्ष्य (मंजिल) तक पहुँचना होता है, परन्तु उस व्यक्ति को यह भी ध्यान रखना चाहिए कि उस मार्ग पर काँटों रूपी रुकावटें होंगी। साथ ही, कभी-कभी कोमल घास के दलों से पूर्ण सुखदायी मार्ग होगा, नदियाँ और तालाब तथा झरने भी होंगे। उस सौन्दर्य की मृगतृष्णा उस पथिक को भ्रम में डाल देने वाली होती है। सौन्दर्य की मृगतृष्णा में आनन्द और जीवन की सफलता महसूस करना उसे भ्रमित कर सकता है। इसी भ्रम से पथिक अपने कर्तव्य पथ को छोड़ उत्तरदायित्व के निर्वाह करने से विमुख हो जाता है।

(घ) कवि के अनुसार पथिक के सामने कब असमंजस की स्थिति उत्पन्न हो सकती है? . .
उत्तर
कवि का मत है कि मातृभूमि की आजादी के लिए अनेक राष्ट्र भक्तों ने स्वयं का बलिदान फाँसी के तख्ते पर झूल कर दे दिया। उस आजादी को प्राप्त तो कर लिया परन्तु उसकी रक्षा के लिए मातृभूमि अपने राष्ट्रभक्तों से आहुति की माँग कर रही है। इस स्वतन्त्रता की ज्वाला में अपने महात्याग के पथ पर चलते हुए असमंजस (दुविधा) में स्थिति उत्पन्न मत होने देना। नहीं तो हे पथिक ! तू अपने कर्तव्य पथ को भूल जायेगा।

(ङ) कवि ने इस कविता में प्रकृति के कौन-कौन से अंगों-उपांगों का चित्रण किया है जो पथिक को उसके मार्ग में मिलते हैं?
उत्तर
कवि ने उन प्राकृतिक अंगों-उपांगों का वर्णन किया है जिन्हें पथिक कदम-कदम पर देखता है। पथिक को कभी तो दूबघास के कोमल दल, अपने निर्मल जल से भरकर इठलाती चलती नदियाँ, व तालाब दिखेंगे। इनके अतिरिक्त सुन्दर पर्वत, वन-वाटिकाएँ तथा जल की बावडियाँ तथा सुन्दर-सुन्दर झरने भी दिखेंगे जो अपनी कल-कल की मधुर ध्वनि से आकर्षण के केन्द्र बने हुए होंगे। कर्तव्य पथ के पथिक को प्राकृतिक उपादानों की सुन्दरता मृगतृष्णा के विमोह में फंसा लेने वाली सिद्ध न हो जाए, जिससे वह अपने कर्तव्य पालन में विफल होकर उद्देश्य को प्राप्त नहीं कर सके। कवि तो पथिक को आगाह करता है कि वह अपने कर्तव्य पथ पर अग्रसर होता ही रहे।

पथिक से भाषा-अध्ययन

प्रश्न 1.
निम्नलिखित शब्दों के चार-चार पर्यायवाची शब्द दिए गए हैं। उनमें से एक-एक शब्द गलत है। गलत ‘शब्द पर गोला लगाएँ
उत्तर
(क) पहाड़-(1) गिरि, (2) अचल, (3) पाषाण, (4) पर्वत।
(ख) वन-(1) अरण्य, (2) जम्बुक , (3) कानन , (4) विपिन।
(ग) तालाब-(1) सर, (2) तड़ाग, (3) सरोवर, (4) तटिनी

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
नीचे कुछ शब्द और अके विलोम शब्द दिए गए हैं। दोनों को अलग-अलग लिखिए, प्रथम, सम्मुख, विफलता, अन्तिम, मांग, कठिन, विमुख, सफलता, अनुराग, प्रलय, पुष्ट, जर्जर, विराग, सरल, पूर्ति, सृष्टि।
उत्तर
शब्द – विलोम शब्द
प्रथम – अन्तिम
सम्मुख – विमुख
विफलता – सफलता
माँग – पूर्ति
कठिन – सरल
अनुराग – विराग
प्रलय – सृष्टि
पुष्ट – जर्जर

प्रश्न 3.
कविता में आए पुनरुक्ति शब्दों (जैसेअपना-अपना) को छाँटकर लिखिए।
उत्तर

  1. सुन्दर-सुन्दर
  2. पग-पग
  3. सुन-सुन
  4. विदा-विदा।

प्रश्न 4.
एकाकीपन शब्द में ‘एकाकी’ में ‘पन’ – प्रत्यय है। इसी प्रकार ‘पन’ प्रत्यय जोड़कर चार शब्द बनाइए।
उत्तर

  1. लड़कपन
  2. बचपन
  3. दुकेलापन
  4. अकेलापन।

प्रश्न 5.
‘सरिता-सर’ में अनुप्रास अलंकार है। अनुप्रास अलंकार के अन्य उदाहरण छाँटकर लिखिए।
उत्तर
वन-वापी, कठिन-कर्म, सैनिक-पुलक।

प्रश्न 6.
निम्नलिखित पंक्तियों को पढ़कर प्रयुक्त अलंकार पहचानकर उनके नाम लिखिए
(क) जब कठिन कर्म पगडंडी पर।
राही का मन उन्मन होगा।
(ख) मानो झूम रहे हैं तरु भी, मन्द पवन के झोंकों से।
उत्तर
(क) अनुप्रास अलंकार
(ख) उत्प्रेक्षा अलंकार।

पथिक से सम्पूर्ण पद्यांशों की व्याख्या

1. पथ भूल न जाना पथिक कहीं
पथ में काँटे तो होंगे ही,
‘दूर्वादल, सरिता, सर होंगे।
.सुन्दर गिरि-वन-वापी होंगे,
सुन्दर-सुन्दर निझर होंगे।
सुन्दरता की मृगतृष्णा में,
पथ भूल न जाना पथिक कहीं।

शब्दार्थ-पथ = मार्ग, राह; पथिक = राहगीर; काँटे = कंटकी रूपी बाधाएँ: दूर्वादल = दूब घास के कोमल पत्ते; सरिता = नदियाँ; सर = तालाब; गिरि = पर्वत; वन = जंगल; वापी = बावड़ियाँ निर्झर = झरने; मृगतृष्णा = (एक प्रकार का भ्रम), रेगिस्तान में रेत पर सूर्य की किरणें पड़ने पर जल का भ्रम होता है।

सन्दर्भ-प्रस्तुत पद्यांश हमारी पाठ्य-पुस्तक ‘भाषा-भारती’ के पाठ ‘पथिक से’ अवतरित है। इसके रचयिता डॉ. शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ हैं।

प्रसंग-कवि बता देना चाहता है कि अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के मार्ग में अनेक बाधाएँ आती हैं परन्तु उस मार्ग में बहुत से सुहावने दृश्य भी होते हैं जो हमें अपनी ओर आकर्षित करते हैं लेकिन हमें उनके सौन्दर्य के भुलावे में नहीं आना चाहिए। हमें तो केवल अपने कर्तव्य पथ पर आगे ही आगे बढ़ते जाना चाहिए।
व्याख्या हे पथिक ! तुम अपने मार्ग को मत भूल जाना। अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के मार्ग में अनेक बाधाएँ (काँट) अवश्य ही होंगी परन्तु इसके विपरीत वहाँ कोमल दूब घास के पत्ते होंगे, नदियों के अच्छे-अच्छे दृश्य भी होंगे। मनोरम तालाब भी होंगे। पर्वतों, वनों और बावड़ियों के अति सुन्दर जंगल होंगे। -वहाँ अति सुन्दर झरने भी होंगे परन्तु हे राहगीर तुझे यह ध्यान – रखना पड़ेगा कि सुन्दरता का भ्रम, तुझे अपने लक्ष्य प्राप्ति के -सही मार्ग से भटका न दे। तू अपने सही मार्ग को भूल मत जाना।

(2) जब कठिन कर्म पगडंडी पर
राही का मन उन्मन होगा।
जब सपने सब मिट जाएँगे,
कर्तव्य मार्ग सम्मख होगा।

तब अपनी प्रथम विफलता में,
पथ भूल न जाना पथिक कहीं।

शब्दार्थ-कर्म पगडंडी पर = कर्म के कम चौड़े मार्ग पर; राही = राह पर चलने वाला उन्मन = उदास. खिन्न: सपने = कल्पनाएँ; मिट जाएंगे = समाप्त हो जाएँगे; कर्त्तव्य मार्ग = उत्तरदायित्व का निर्वाह करने वाला रास्ता; सम्मुख = समक्ष, सामने प्रथम = पहली; विफलता- असफलता।

सन्दर्भ-पूर्व की तरह।

प्रसंग-कवि सलाह देता है कि कर्म के मार्ग पर चलते रहने से कल्पनाएँ अपने आप मिट जाती हैं। वे साकार होने लगती हैं।

व्याख्या-अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर होने में पथिक के मार्ग में अनेक बाधाएँ आती ही हैं, राही का मन कई बार इनमें घिरकर उदास हो उठता है। जब उसकी कल्पनाएँ मात्र कल्पनाएँ लगने लगती हैं। तब उसके सामने केवल कर्त्तव्य मार्ग ही होता है। यदि किसी कारण से पहली बार उसे असफलता मिलती है तो भी
उस कर्तव्य पथ पर आगे बढ़ने वाले राहगीर को अपना मार्ग नहीं भुला देना चाहिए। वह मार्ग से भटक न जाय अर्थात् उसे अपने कर्तव्य को पूरा करने में जुटा रहना चाहिए।

MP Board Solutions

3. अपने भी विमुख पराये बन,
आँखों के सम्मुख आएंगे।
पग-पग पर घोर निराशा के,
काले बादल छा जाएंगे।

तब अपने एकाकीपन में,
पथ भूल न जाना पथिक कहीं।

शब्दार्थ-विमुख = विरुद्ध पराये = दूसरे, अन्य; सम्मुख = सामने; निराशा = नाउम्मीद; काले बादल = विपत्ति, कठिनाइयाँ; छा जाएँगे = घिर आएँगे;
एकाकीपन अकेलापन।

सन्दर्भ-पूर्व की तरह।

प्रसंग-कठिनाइयों के आ जाने पर भी अपने कर्त्तव्य मार्ग से पीछे नहीं हटना चाहिए, इस तरह की सलाह कवि देता है।

व्याख्या-कठिनाइयों के काले बादल जब चारों ओर छा जाते हैं तब कदम-कदम पर भयंकर आशाहीनता आ जाती है। उस समय अपने सगे-सम्बन्धी भी अन्य से (पराये से) बन जाते हैं। वे अपरिचित से हो जाते हैं। उस अकेलेपन में भी, हे राहगीर ! तुम्हें अपने कर्त्तव्य मार्ग से नहीं भटक जाना चाहिए।

4. रणभेरी सुन-सुन विदा-विदा
जब सैनिक पुलक रहे होंगे;
हाथों में कुमकुम थाल लिए,
जल कण कुछ डुलक रहे होंगे।

कर्तव्य प्रेम की उलझन में,
पथ भूल न जाना पथिक कहीं।

शब्दार्थ-रणभेरी = युद्ध शुरू करने की ध्वनि पुलक रहे होंगे – प्रसन्न या पुलकायमान हो रहे होंगे;
जलकण = आँसुओं की बूंदें।

सन्दर्भ-पूर्व की तरह।

प्रसंग-कर्त्तव्य निर्वाह किया जाय अथवा प्रेम का निर्वाह इस उलझी हुई पहेली के सुलझाव के लिए अपने कर्तव्य के मार्ग को मत भूल जाना, ऐसी सलाह देकर कवि राहगीर को अपने कर्त्तव्य पथ पर आगे ही आगे बढ़ते रहने का सदुपदेश देता है।

व्याख्या-युद्ध प्रारम्भ होने की ध्वनि सुनते-सुनते, सैनिक रोमांचित हो रहे होंगे। वे युद्ध क्षेत्र के लिए विदा होने की तैयारी कर रहे होंगे। युद्ध (कर्तव्य पथ पर बढ़ने के लिए) को जाते समय वह (प्रियतमा) कुमकुम से सजा हुआ थाल अपने हाथों में लिए हुए अपने नेत्रों से प्रेमाश्रु बहाती हुई हो सकती है। उन प्रेमाश्रुओं को देखकर तथा समक्ष ही कर्तव्य पूरा करने की घड़ी सामने होने पर पैदा हुई उलझन में, हे राहगीर तुम अपने कर्तव्य मार्ग से इधर-उधर भटक मत जाना।

(5) कुछ मस्तक कम पड़ते होंगे,
जब महाकाल की माला में,
माँ माँग रही होगी आहुति,
जब स्वतन्त्रता की ज्वाला में।
पल भर भी पड़ असमंजस में,
पथ भूल न जाना पथिक कहीं।

शब्दार्थ-मस्तक = माथा; आहुति = यज्ञ में डाली जाने वाली हवन सामग्री; असमंजस- दुविधा।

सन्दर्भ-पूर्व की तरह।

प्रसंग-किसी भी प्रकार की दुविधा में पड़े बिना कर्तव्य | का निर्वाह करते रहना चाहिए।

व्याख्या-युद्ध की देवी उन बहादुर वीरों की संख्या कम होने पर अन्य युद्धवीरों के आने की प्रतीक्षा कर रही होगी क्योंकि महाकाल की माला में आजादी की खातिर अपने मस्तक को काटकर चढ़ाने वाले युद्ध वीरों की संख्या कुछ कम पड़ सकती है। वह युद्ध की देवी, नौजवान युवकों की आहुति आजादी को प्राप्त करने की प्रज्ज्वलित आग में देने के लिए, सभी से माँग कर रही है। कर्त्तव्य पथ पर आगे बढ़ने के लिए, किसी भी असमंजस 1 में नहीं पड़ें। उन्हें तो अपने कर्तव्य मार्ग का ही ध्यान होना चाहिए। कर्त्तव्य मार्ग से हट जाने की भूल न हो जाये।

MP Board Class 8th Social Science Solutions Chapter 21 India and the United Nations

In this article, we will share MP Board Class 8th Social Science Solutions Chapter 21 India and the United Nations Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Social Science Solutions Chapter 21 India and the United Nations

MP Board Class 8th Social Science Chapter 21 Text Book Exercise

Choose the correct option of the following questions

Question 1.
When UN was established?
(a) 24 October 1945
(b) 10 December 1945
(c) 1 May 1945
(d) 3 December 1950
Answer:
(a) 24 October 1945.

Question 2.
Which countries are permanent members of UN Security Council?
(a) US, Russia, France, Britain and China
(b) Russia, France, India, China and Pakistan
(c) Saudi Arab, Bangladesh, Britain, US and Russia
(d) Britain, India, China, France and U.S
Answer:
(a) US, Russia, France, Britain and China.

Fill in the blanks:

  1. The Headquarter of UN are in ………….
  2. At present total number of members in UN ………….

Answer:

  1. New York
  2. 191

MP Board Class 8th Social Science Chapter 21 Very Short Answer Type Questions

Question 1.
Who elects the Non-Permanent members of UN Security Council?
Answer:
The Security Council is the important organ of the United Nations. It after the Security and peace in the World. It 15 members, out of them 5 are permanent members and 10 are non-permanent. These N Permanent members are elected by the General Assembly for a duration of two years.

Question 2.
What is the International Court Justice?
Answer:
The International Court of Justice consists of 15 judges for a period of 9 years, retiring every 5 years. The court decided disappoint among its member nations. It gives advice the different organs of the United Nations.

Question 3.
By which name the administration officer UN is known?
Answer:
Administrative head of UN is known as the Secretary General.

MP Board Class 8th Social Science Chapter 2 Short Answer Type Questions

Question 1.
What are the works of UNICEF?
Answer:
The main function of UNICEF, provide help to children in need regardless their race and religion. It works in the field health, nutrition and education.

Question 2.
Write two objectives of UN?
Answer:
Two objectives of UN are:

  • To maintain international peace security to do joint effort to clearly hurdles in the way of peace.
  • To co-operate in solving international problems of an economic social cultural or humanitarian character in promoting respect for human and fundamental freedom for all.

Question 3.
Write the names of the major of UN?
Answer:
There are six organs of the United Nations:

  • The General Assembly.
  • The Security Council.
  • The Economic and Social Council.
  • The Trusteeship Council.
  • The International Court of Justice, and
  • The Secretariat.

MP Board Class 8th Social Science Chapter 2 Long Answer Type Questions

Question 1.
What efforts have been taken up by UN for world peace?
Answer:
The major objective of the United Nations is to maintain peace in the world. During its existence of more than sixty years the United Nations has been called upon to take action in several disputes. The United Nations was helpful in avoiding several wars.

It reduced tension in many critical situation. UN operated peacekeeping operations by sending peace keeping forces. By sending goodwill mission UN has been successful to reduce tension between tense countries It prevented large scale wars in Kashmir. Congo, West Asia, Cyprus, Yaman etc. ts peace-keeping efforts in Greece, Indonesia, Lebanon, Egypt, Gaza Strip, Congo, Korea, Iran, Iraq are some of its significant achievements.

The united nations has also been making efforts to stop nuclear weapons race. It, is an important effort to keep peace in the world.

Question 2.
Mention India’s role in UN?
Answer:
India is one of the founder members f the United Nations. It has made significant contribution in making the United Nations more meaningful. It is participated in peace-keeping mission whenever required. It has always committed to the principals and working of the United Nations.

India greatly participated in the administration of two most worst systems of partheid and colonialism with the United nations and got success. Apart from this, it undertook various peace-keeping mission in various countries in establishing peace, and maintaining human rights. It also advocated of inducing more and more countries to make it unable. It is India’s effort that made the inclusion

China to the United Nations. It is also supported the United Nations efforts on Nuclear n-proliferation. So we can concluding that india play a vital role in the UN activities to take it successful.

Question 3.
Write about three bodies of UN
Answer:
The three bodies of UN are:.

  1. General Assembly
  2. Security Council
  3. WHO

1. General Assembly:
A General Assembly consists of all members of the United Nations. Every member-state can send a maximum of five representatives to the General Assembly but at the time of voting a state is entitled to cast only one vote. It discuss and makes recommendations on various important issues brought before it.

2. Security Council:
The Security Council is the most important organ of the United Nations. It looks after the security and peace m the world it has 15 members. These members fall in two categories. Five members viz. France and People’s Republic of China, the Russian Federation, the United Kingdom and the United States of America are permanent members. The other ten members are elected by the General Assembly for the duration of two years.

3. WHO:
Who is special agency of the UN that works for the improvement of health and prevention and control diseases.

MP Board Class 8th Special English Revision Exercises 1

In this article, we will share MP Board Class 8th English Solutions Exercises 1 Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Special English Solutions Revision Exercises 1

Word Power

A. Mach the following opposites :

  1. encourage – (a) cheerful
  2. clumsy – (b) deep
  3. success – (c) narrow
  4. even – (d) nervous
  5. gloomy – (e) tame
  6. fertile – (f) sculled
  7. dead – (g) discourage
  8. shallow – (h) infertile
  9. savage – (i) alive
  10. bold – (j) uneven
  11. broad – (k) failure

Answers:

  1. – (g)
  2. – (f)
  3. – (k)
  4. – (j)
  5. – (a)
  6. – (h)
  7. – (i)
  8. – (b)
  9. – (e)
  10. – (d)
  11. – (c)

MP Board Solutions

B. Choose appropriate words from the box and fill in the blanks to complete the sentences :
licence, chairmanship, surgeon, artist, praised, satpura, beneficial, stretched

  1. The doctor who specialises in surgical operations is called a ………………..
  2. Kathakali is a performing art. The expressions of the ……………….. in Kathakali are praiseworthy.
  3. He ……………….. and yawned lazily.
  4. Herbal medicines are of great benefit. Fried food is not ……………….. for health.
  5. You can’t drive without a ………………..
  6. Everybody ……………….. Anu for her achievement.
  7. The Narmada flows between the Vindhyachal and the ……………….. mountains.
  8. The meeting held on a hill top under the ……………….. of Akela, the lone wolf.

Answers:

  1. surgeon
  2. artist
  3. stretched
  4. beneficial
  5. licence
  6. praised
  7. satpura
  8. chairmanship.

Comprehension

Question 1.
What should we do when things seem worst?
Answer:
When things seem worst, we have to stick to them. We must not quit.

Question 2.
What was the plan of Shekh Chilli?
Answer:
Shekh Chilli’s plan was to buy a cow when I got some money.

Question 3.
What did Abdul Kalam’s family do for their living?
Answer:
Abdul Kalam’s family was engaged in ferrying pilgrims between Dhanushkhodi and Rameshwaram in Tamil Nadu.

Question 4.
What is Maheshwar famous for?
Answer:
The humble palace of Devi Ahilya Bai is located at the ghat of Maheshwar.

Question 5.
What is the meaning of Narmada?
Answer:
The word ‘Narmada’ means one who soothes and gives pleasures to all.

Question 6.
What did the law of the jungle forbid? Why?
Answer:
The ‘Law of the Jungle’ forbade the animals to change their quarters without due warning

Question 7.
What was the price at which the cub was bought to the wolves pack?
Answer:
The cub was bought to the Wolves Pack for the price of a newly killed bull.

Question 8.
What brought a change in Sharad’s view of his disability?
Answer:
Sharad had a talk with some disabled athletes in the train. He got impressed to learn that those disabled athletes had positive attitude towards life. They had not hidden their disability with a shawl like him. This left a deep impact on Sharad’s mind. Now his view changed completely.

Question 9.
When and where were the first International Abilympics held?
Answer:
The first International Abilympics was held in Tokyo in 1981.

Question 10.
What was the name of the girl who had the face of an angel?
Answer:
Her name was Angel.

Question 11.
What is never to be treated as a mock and why?
Answer:
Do yourself.

Question 12.
How did Abdul Kalam learn that perseverance maked miracles?
Answer:
Once Kalam was invited his teacher Mr. Subramania Iyer. Iyer’s wife was an orthodox Hindu lady. So she refused to serve food to Kalam. Iyer, without showing any adverse reaction, served the food himself. It was his patience and gravity that prompted his wife another time to serve food to Kalam. This taught Kalam the lesson of perseverance.

MP Board Solutions

Word Power

A. Match the column A with Column B.
MP Board Class 8th Special English Revision Exercises 1 1
Answers:

  1. – c
  2. – f
  3. – a
  4. – g
  5. – b
  6. – d

Lets Learn

A. Fill in the blanks with the appro-priate prepositions.
(among, in, at, on, to, between, into, from, for, with, of)

  1. The books are …………. the table.
  2. He was rewarded …………. a medal.
  3. He died …………. fever.
  4. She lives close …………. my house.
  5. They distributed the bananas …………. the students.
  6. he jumped …………. the river.
  7. He has applied …………. a job.
  8. Ramu lives …………. a village.
  9. Mohan borrowed money ………….
  10. They laughed …………. him.
  11. Raju was sitting …………. Mohan and Sohan.
  12. We can’t see the sun …………. night.

Answers:

  1. – on
  2. – with
  3. – of
  4. – to
  5. – among
  6. – into
  7. – for
  8. – in
  9. – from
  10. – at
  11. – between
  12. – at

B. Insert the articles (a, an, the) wherever necessary.

  1. Rich are not always happy.
  2. Apple is fruit.
  3. Earth moves round sun.
  4. Elephant is biggest animal on earth.
  5. Sunday is first day of week.
  6. Give me hundred rupees.
  7. Raju is honest boy.
  8. Ramayana is holy book of Hindus.
  9. Taj Mahal is in Agra.
  10. This is table.

Answers:

  1. The rich are not always happy.
  2. An apple is a fruit.
  3. The earth moves round the sun.
  4. The elephant is the biggest animal on the earth.
  5. Sunday is the first day of the week.
  6. Give me a hundred rupees.
  7. Raju is an honest boy.
  8. The Ramayana is a holy book of the Hindus.
  9. The Taj Mahal is in Agra.
  10. This is a table.

MP Board Solutions

Let’s read

A. Read the poem and answer the questions given below:
A lily of a day
Is fairer far in May,
Although it falls and dies that night.
It was the plant and flower of light
In small proportions we just beauties see. .
And in short measures life may perfect be.

Question 1.
Who is fairer in May?
Answer:
A lily of a day in farmer in May.

Question 2.
Write the rhyming words of the poem.
Answer:
day – may, might – light, see – be.

Question 3.
What happens to a lily in one night.
Answer:
It falls and dies in one night.

Question 4.
What do we see in small proportions?
Answer:
We see beauties in small proportions.

Question 5.
Give a suitable title for the poem.
Answer:
The beauty of a Lily.

B. Read the passage carefully and answer the questions given below it.

Once upon a time a lion decided to go to war. He summoned his ministers and commanded all the animals in the forest to come before him.

The lion’s subjects all presented them-selves and the lion issued the orders : ‘El-ephant you’re the largest.’ You’ll carry the guns and all supplies. You, fox, are very sly, so you’ll help me draw up the plans for the battle. You monkey, nimble jind good at climbing trees, will act as look out. Bear, you’re strong and agile, so you’ll’climb the fortress walls and scare the enemy.

Amongst those present were also a rabbit and a donkey. When the king’s min-isters saw them, they shook their heads, and then one of them, said, “Sir, I don’t think the donkey will make a good soldier. He’s easily frightened.” The lion Looked at the donkey and remarked “He brays louder than I roar. He’ll be the trumpet that will rally the troops.”

The ministers then pointed to the rabbit and said, “He’s even more nervous than the donkey.” The lion went over to the rabbit and said, “You’ve learned to be faster than the others to survive so you’ll act as my messenger.”

Then, turning to the crowd, he said, “Everyone can help the common cause as best he is able!”.

Question 1.
Who called his ministers?
Answer:
A lion called his ministers.

Question 2.
What do you mean by ‘subjects’ in this passage?
Answer:
‘Subjects’ means all the other animals of the jungle.

Question 3.
What word was alloted to the monkey?
Answer:
The monkey was allotted to act as look out.

Question 4.
Who carried messages?
Answer:
The rabbit carried messages.

Question 5.
Who used his voice as a trumpet . for the troops?
Answer:
The donkey used his voice as a trumpet for the troops.

Question 6.
What was the task allotted to the fox? Why?
Answer:
The fox was told to help the lion in drawing up the plans for the battle. She was given such a taste beccause she was sly.

Question 7.
Write the adjectives which have been used for the following animals-
monkey ……………….
bear ……………….
elephant ……………….
rabbit ……………….
Answer:
monkey – nimble and good
bear – agile
elephant – largest
rabbit – faster.

MP Board Solutions

Lets Write

A. Write a paragraph based on the village scene by using the words given below.

Mountain-top, peak, valley, foot of the mountain, river-bank, graze, small houses, trees, bridge, clouds, birds in the sky etc.
MP Board Class 8th Special English Revision Exercises 1 2
Answer:
There is a flag at the peak. From this mountain peak, nature looks very beau¬tiful. There is a valley underlying the two mountain peaks. Some small houses are there down hills, Near the bridge there are also some houses beside the trees. There is a big grazing ground along with the river. Some birds are seen in the sky which a covered with clouds.

B. Imagine you are a guest in your friend’s house. Write a paragraph in your own words about your stay there. You may use the hints given below. ,

  1. The house and its surroundings.
  2. your room
  3. electricity
  4. food-its cooking-who did it?
  5. What you and your friend did in the evening
  6. any unusual happening
  7. would you like to go their again- reason for this.

Answer:
In this vacation. I have come to a friend in Delhi. His house in located in a posh locality of Preet Vihar. It is surrounded by many big apartments. The room is big. Twenty-four-hour electricity back-up has been provided by the apartment managers. My friend’s mother cooks very well. During evening we go to nearby market and Temples. I enjoy life here. I wish to come here-again.

C. You are Anand Sharma, a student of class VIII. write an application to the Headmaster of your school requesting him to change your section.
Answer:
See grammer part.

D. You are Anusha, writa a letter to your friend Rita inviting her to spend the summer vacation with you.
Answer:
See grammer part.

E. Write the summary of the poem ‘Don’t Quit’.
or
Trees are the Kindest things I Know.
Answer:
See ‘summary in English’ of the given poems in the guide.

MP Board Class 8th Social Science Solutions Chapter 20 Foreign Policy of India and it’s Relations with the Neighbouring Countries

In this article, we will share MP Board Class 8th Social Science Solutions Chapter 20 Foreign Policy of India and it’s Relations with the Neighbouring Countries Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Social Science Solutions Chapter 20 Foreign Policy of India and it’s Relations with the Neighbouring Countries

MP Board Class 8th Social Science Chapter 20 Text Book Exercise

Choose the correct option of the following

Question 1.
Winch two countries signed Panchsheel:
(a) India and Pakistan
(b) India and China
(c) China and Pakistan
(d) India and Nepal
Answer:
(b) India and China

Question 2.
In which country India had sent Peace Keeping Forces:
(a) China
(b) Pakistan
(c) Sri Lanka
(d) Bangladesh
Answer:
(c) Sri Lanka

MP Board Solutions

MP Board Class 8th Social Science Chapter 20 Very Short Answer Type Questions

Question 1.
What do you mean by nonalignment?
Answer:
The non-alignment means keeping away oneself from aligning with any other powerful groups.

Question 2.
Why India opposes Colonialism?
Answer:
India has bitter experience of Slavery under British imperialism. It was natural for India to oppose Colonialism. India has been raising voice against Colonialism in the U.N. Even today India has been opposing imperialism. Indonesia, Libya and Namibia are the Countries suffering from Imperialism.

Question 3.
By what name Bangladesh was Known before its freedom?
Answer:
Before getting freedom Bangladesh was known as ‘East Pakistan’.

MP Board Solutions

MP Board Class 8th Social Science Chapter 20 Short Answer Type Questions

Question 1.
Why India wants ban on Atomic arms?
Answer:
Atomic arms are fatal to the whole humanity. They can destroy people and property on the earth. The whole world has seen the worst effects of atomic bombs dropped by America on Hiroshima in Japan, Only disarmament of atomic arms can establish peace in the world. Therefore India wants ban on Atomic arms.

Question 2.
What are the principles of Panchsheel?
Answer:
Panchsheel is an important basis of Indian Foreign Policy. It means five principles. It was coined by our very first Prime Minister Pt. Jawaharlal Nehru on 29 April 1954. These are set of principles advocating the world peace. They are:

  1. Mutual respect for each others territorial integrity and sovereignty.
  2. Mutual non-aggression.
  3. Mutual non-interference in each other’s internal affair.
  4. Equality and Mutual benefit.
  5. Peaceful co-existence.

Question 3.
What help India gave in Bangladesh  Freedom Movement?
Answer:
The erstwhile Pakistan consisted of East Pakistan now Bangladesh and West Pakistan now Pakistan. In the General election of Dec. 1970, the Awami League part won election by securing majority. But the military ruler in West Pakistan did not accept the leadership from East Pakistan.

A civil war broke out in Bangladesh. India raised its voice against the ongoing massacre and murder of democracy in neighbourhood. In retaliation Pakistan attacked India in 1971. The Indian armed forces fought against the Pakistan force.

About one lakh Pakistani soldiers surrendered before the Indian forces. This India gave military assistance to Bangladesh in getting freedom from Pakistan’s Rule.

MP Board Solutions

MP Board Class 8th Social Science Chapter 20 Long Answer Type Questions

Question 1.
What are the causes of dispute between India and Pakistan?
Answer:

These are main causes of dispute ween India and Pakistan:

(a) Kashmir remains the main cause of agreement between the two countries.

(b) Cross-border terrorism:
Pakistan is II sponsoring cross-border terrorism. It is providing financial and material assistance terrorists. Even it had opened military camp for se terrorists. In return these terrorists kill large number of people. They kill mostly non musilims.

These terrorists compell Hindu to flee. providing an elected government in the state, the possibility of the return of these Kashmiri credits are bleak. They are feared. Tourism is backbone of the state economy, deeply selected.

Crops are destroyed every now and then. So we cannot say the situation is very healthy. Terrorism is a great threat to world’s ice. It can occurred within any geographical area. But when it is sponsored by any other country to create disturbance in other country it cross border terrorism.

It is a kind of declared war. Pakistan sponsored terrorism Indian territory is cross border terrorism. fight from the independence of India and pakistan, Pakistan has been trying to deestablish india.

Pakistan had backed tribesman to capture kashmir but failed. Thereafter Pakistan had declared two wars against India but defeated, please China, Pakistan gave a portion of occupied Kashmir to China to fursted India further it is aiding cross-border terrorism.

ISI of pakistan helped militancy in Punjab and later in kashmir. It also helping the insurgency in North eastern states.

Question 2.
What are aims of India’s foreign policy?
Answer:
The foreign policy of India is based peace and independence. Indian Foreign policy always gives stresses on meaningful cooperation with neighbours as well as other countries of the world. The roots of its foreign policy is greatly influenced with the Gandhian principles and non-aligned movement advocated Pt. Jawaharlal Nehru. Earlier its foreign policy was shaped by Indian National Congress.

It evolved the policy of non-alignment for the maintenance of peace and security in the world. Its foreign policy strongly opposed the principles of colonialism, imperialism and racialism. Had always been sympathetic and supportive to the struggling nations.

Indian Foreign Policy has strongly been in favour of total disarmament. It never falls in the arms race. Conclusively we can say that the Indian Foreign Policy is based in mutual cooperation, co-existence, peace harmony and brotherhood principles.

Question 3.
Write a note on the relations between India and China.
Answer:
For centuries, India and China have lived as friendly neighbours. There have been economic, religious and cultural relations between the two. India became free in 1947 and China had its revolution in 1949. For some years, thereafter, India and China had friendly relations.

In fact, Indian welcomed the Chinese revolution which brought the communists into power. In 1954, there was a historic agreement between India and China in which the Panchsheel Pact emerged as the guidelines not only between India and China, but also among the countries of the world.

But the relations between India and China deteriorated. The reason for the deterioration of these relations was the border issue. This even led China to attack on India. Though the border issue remains unsolved, yet the two countries are coming closer.

MP Board Solutions

MP Board Class 8th Hindi Bhasha Bharti Solutions Chapter 12 याचक और दाता

In this article, we will share MP Board Class 8th Hindi Solutions Chapter 12 याचक और दाता Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Hindi Bhasha Bharti Solutions Chapter 12 याचक और दाता

याचक और दाता पाठ का अभ्यास

याचक और दाता बोध प्रश्न

प्रश्न 1.
निम्नलिखित शब्दों के अर्थ शब्दकोश से खोजकर लिखिए।
उत्तर
याचक-माँगने वाला; धरोहर = वह वस्तु या द्रव्य जो कुछ समय के लिए दूसरे के पास इस विश्वास से रखी जाए कि माँगने पर उसी रूप में मिल जाए;  वात्सल्य = बच्चों के प्रति प्रेम हतप्रभ = निस्तेज, शिथिल, आश्चर्यचकित; गुहार = पुकार; शंका= सन्देह जिजीविषा-जीवित रहने की इच्छा; निस्तब्ध + बिना हिले-डुले; सानुभूति = हमदर्दी, संवेदना।

प्रश्न 2.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर संक्षेप में लिखिए.

(क) वृद्धा मन्दिर के पास क्या काम करती थी?
उत्तर
वह बूढ़ी औरत मन्दिर के पास उसके दरवाजे पर फूलों की माला बेचा करती थी।

(ख) सेठ बनारसीदास के यहाँ किन लोगों की भीड़ लगी रहती थी?
उत्तर
सेठ बनारसीदास के यहाँ जरूरतमन्दों की भीड़ लगी रहती थी।

(ग) वृद्धा सेठजी से क्या माँगने गई थी?
उत्तर
वृद्धा सेठजी से अपनी जमा की गई हौड़ी से कुछ रुपये मांगने के लिए गई थी। वह अपने बीमार बच्चे का इलाज डॉक्टर को दिखाकर करा लेना चाहती थी।

(घ) सेठजी ने अपने बच्चे की पहचान कैसे की?
उत्तर
वृद्धा ने बच्चे को बहुत गम्भीर दशा में देखा। उसने पता नहीं, क्या सोचा ? अचानक वह उठी और बच्चे को अपनी गोद में उठाकर सेठ के घर की ओर चल पड़ी। बच्चे का शरीर ज्वर से तप रहा था। उधर वृद्धा का कलेजा भी क्रोध से जल रहा था। वह बच्चे को लेकर सेठजी के घर पहुँची और धरना देकर बैठ गई। नौकर ने सेठजी के आदेश पर भगा देना चाहा। लेकिन, वह टस-से-मस नहीं हुई। सेठजी स्वयं आए, उन्हें क्रोध आ रहा था लेकिन जैसे ही बच्चे को देखा तो उनका चेहरा निस्तेज हो गया। बच्चे का चेहरा, उनके पुत्र मोहन से मिलता-जुलता था। मोहन खो गया था। सात वर्ष पहले खोये हुए मोहन की जाँघ पर लाल चिन्ह को देखकर सेठजी ने अपने पुत्र मोहन को पहचान लिया।

(ङ) बच्चा फिर से बीमार क्यों पड़ गया ?
उत्तर
वृद्धा उस बच्चे को सेठजी को न चाहते हुए देकर अपनी झोपड़ी में आकर शान्त लेटी हुई थी। उसके आँसू बह रहे थे। उधर वह बच्चा दवाओं के प्रभाव से होश में आने लगा। उसने अपनी आँखें खोली और बोला-‘मौ’। माँ, उसके पास नहीं थी। वह रोने लगा। उसकी हालत फिर से बिगड़ने लगी। ममतामयी वृद्धा माँ के बिना वह बच्चा फिर से बीमार पड़ गया।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
उपयुक्त शब्दों का चयन कर रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए
जिजीविषा, ममत्व, निस्तब्ध, हतप्रभ, मकरन्द
(क) वृद्धा …………… टाट पर लेटी हुई आँसू बहा रही थी।
(ख) असहाय बच्चे को देख माँ का ………..जाग उया।
(ग) आँसुओं में फूलों का …………… और ममता की गंध थी।
(घ) सेठजी बच्चे को देखकर …………….. रह गए।
(ङ) वात्सल्य की तड़प ने वृद्धा की …………….. बढ़ा दी थी।
उत्तर
(क) निस्तब्ध
(ख) ममत्व
(ग) मकरन्द
(घ) हतभ
(छ) जिजीविषा।

प्रश्न 4.
सही जोड़ी बनाइए.
MP Board Class 8th Hindi Bhasha Bharti Solutions Chapter 12 याचक और दाता 1
उत्तर
(क) + (3), (ख) → (1), (ग) + (2), (घ) → (5), (छ)→ (4).

प्रश्न 5.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से लिखिए
(क) वृद्धा को उसकी मंजिल किस तरह मिल गई थी?
उत्तर
कोई बच्चा अपने माता-पिता से भटक गया। उसने देखा कि वह बच्चा असहाय था और रो रहा था। उस वृद्धा ने उस बच्चे को अपनी गोद में बिठाया और उस रोते बच्चे को शान्त करने की कोशिश करने लगी। बच्चे को माँ की ममता मिल गई। उसे माँ का आँचल मिला, वह अब सब कुछ भूल चुका था। वह वृद्धा के पास रहने लगा। उस वृद्धा में वात्सल्य की तड़प बढ़ने लगी। इस तरह वह चाहने लगी कि वह काफी लम्बे समय तक जीवित रहे। अब वह पहले से अधिक मेहनत करती थी। बच्चे की वजह से वह अपने घर शीघ्र लौटने लगी। बच्चा माँ के प्यार को प्राप्त करके बहुत ही प्रसन्न था। वृद्धा अपनी झोपड़ी में गाड़कर रखी हाँडी में दिनभर की मेहनत से कमाये पैसे बचत करके रखती थी, क्योंकि उसे उस बच्चे के भविष्य की चिन्ता थी। उसकी चिन्ता में एक सुखद भविष्य की चिन्ता छिपी थी। वह उस बच्चे को अच्छे-से-अच्छा खिलाती, पिलाती और पहनाती थी। वह उसे हर तरह खुश रखना चाहती थी। इससे उसे लग रहा था कि मानो उसे उसकी मंजिल मिल गई हो। दिन भर मन्दिर के दरवाजे पर फूल बेचती और शाम को घर आकर बच्चे को अपने हृदय से लगा लेती थी। यह बच्चा मानो उसकी फुलवारी थी जिसे पोषित करके प्रेम के जल से सींचकर सेवा कर रही थी।

(ख) मोहन कौन था ? वह वृद्धा के पास कैसे आया?
उत्तर
मोहन किसी नगर के सेठ बनारसीदास का बेटा था। वह छोटी उम्र में ही अपने घर से बिछुड़ गया। उसे वृद्धा ने अपने पास रख लिया। वृद्धा का सहारा पाकर, दुलार से वह रहने लगा। माँ की ममता पाकर वह अपने माता-पिता को भूल गया। उस वृद्धा ने बड़े वात्सल्य से उसका पालन-पोषण और परवरिश की। वृद्धा भी अब बच्चे के बिना एक क्षण नहीं रह पाती थी। इस तरह वृद्धा के पास वह बच्चा आया और रहने लगा।

(ग) मोहन ज्वर से कैसे मुक्त हुआ?
उत्तर
मोहन को एक दिन ज्वर ने आ दबोचा। उसके बढ़ते प्यर को भौंपकर वृद्धा बेचैन हो गई। वृद्धा माँ ने वैध को दिखाया। उसकी दवा से कोई लाभ नहीं हुआ। वह वृद्धा सेठ बनारसीदास के पास अपनी हांडी में से कुछ धन माँगने के लिए गयी जिससे वह बच्चे का इलाज किसी डॉक्टर से करा सके, लेकिन सेठजी ने उसे यह कहते हुए लौटा दिया कि उसके पास उसने कोई धन जमा नहीं कराया है। क्रोधित वृद्धा लौट आई। बच्चे का ज्वर तेज होता देखकर वह एक दिन जाने क्या सोचते हुए. बच्चे को गोद में उठाकर सेठजी के पास पहुँची। उसने कुछ धन फिर से मांगा। मुनीम ने उसे फटकार दिया। सेठजी स्वयं उसके पास आये और उस बच्चे के पैर पर लाल चिह्न देखकर पहचाना कि वह बच्चा तो उसी का है जो आज से सात वर्ष पहले खो गया था। वृद्धा ने उस बच्चे को देने से ना-नुकर किया लेकिन सेठजी ने बच्चे को प्राप्त कर लिया। वृद्धा वहाँ से चली गई। उसका अच्छे डॉक्टर से इलाज कराया। दवा के प्रभाव से कुछ होश आने पर बच्चे ने ‘माँ’ को पुकारा। बच्चे की हालत फिर से खराब हो गई। सेठजी वृद्धा के घर पहुँचे, वृद्धा को अनुनय-विनय से लाये। माँ के ममता भरे हाथ का स्पर्श पाकर बालक सचेत हुआ और उस बालक को ज्वर से मुक्ति मिली।

(घ) ‘सेठ याचक था और वह दाता’, इस वाक्य का आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर
वृद्धा ने सेठजी के घर जाकर मोहन के माथे पर हाथ फेरा। मोहन ने हाथ को पहचान लिया; उसने अपनी आँखें तुरन्त खोल दी। कहने लगा,’माँ’, तुम आ गई। वृद्धा कहने लगी, “हाँ बेटा, तुम्हें छोड़कर कहाँ जा सकती हूँ। उसने मोहन का सिर गोद में रखा, थपथपाया। मोहन की नींद आ गईं। कुछ दिन बाद मोहन
स्वस्थ हो गया। जो काम दवाइयाँ, डॉक्टर और हकीम नहीं कर सके, वह काम वृद्धा माँ की ममता ने कर दिखाया।” – अब वह वृद्धा माँ वापस लौटने लगी तो सेठजी ने उससे कहा कि वे मोहन के ही पास रुक जाएँ, लेकिन वे नहीं मानी। सेठजी हाँडी के रुपये न देने के लिए क्षमा माँगने लगे और वह हाँडी लौटाने लगे तो वृद्धा ने कहा कि यह तो मैंने मोहन के लिए जमा किये थे। उसी को दे देना।

वृद्धा ने सेठजी की धरोहर (मोहन) ईमानदारी से लौटा दो। अब वह उसे यहाँ छोड़कर अपनी लाठी का सहारा लेकर चलती हुई अपनी झोपड़ी में लौट गई। उसके नेत्रों से आँसू बह रहे थे, परन्तु यह आँसू फूलों के पराग से, ममता की महक से महक रहे थे। वृद्धा माँ का ममत्व सेठ बनारसीदास के धन से अधिक गरिमावान सिद्ध हुआ। इस तरह सेठजी याचक थे और वृद्धा माँ दाता के रूप में महान और उदारता की साक्षात् मूर्ति सिद्ध हुई।

MP Board Solutions

(छ) सेठजी और वृद्धा के चरित्र में से किसका चरित्र आपको अच्छा लगा ? उसकी कोई तीन विशेषताएँ लिखिए।
उत्तर
सेठजी और वृद्धा के चरित्र में से वृद्धा का चरित्र प्रशंसनीय है, महान् है। वृद्धा के चरित्र में जो गम्भीरता, ममता का भाव, किसी भी भेदभाव से रहित दीखता है, उसका सेठजी के चरित्र में पूर्णतः अभाव ही है। वृद्धा बच्चे का पालन-पोषण बिना किसी स्वार्थ से करती है, वह बच्चे में अपनी ममता उड़ेल देती है। उसे अपने आँचल की छाया प्रदान करती है। वह उस बच्चे के पालन-पोषण के लिए जीवित रहने की इच्छा करती है। वृद्धा के चरित्र की तीन विशेषताएँ निम्नलिखित हैं जो सभी पाठकों को प्रभावित करती हैं। उनमें उत्साह और त्याग का भाव भर देती हैं।

  1. वात्सल्यमयी माँ का ममत्व-वृद्धा में बच्चे के प्रति प्रेम और उसकी ममता भरी हुई है।
  2. सेवा परायणता-वृद्धा बच्चे की हर तरह से परवरिश करती है। विपरीत परिस्थिति में भी अपने ध्येय में लीन होकर उत्तरदायित्व को निभाती है।
  3. त्याग और भेदभाव से रहित-वृद्धा त्याग की साक्षात् मूर्ति है। इकट्ठे किये गये हौड़ी के धन को सेठ को ही सौंपकर धन्य होती है। सेठजी के बच्चे का पालन-पोषण अपने-तेरे को भावना से ऊपर उठकर करती है।

याचक और दाता भाषा-अध्ययन

प्रश्न 1.
इस कहानी में ऐसे पाँच वाक्य लिखिए जहाँ अवतरण चिह्न का प्रयोग किया गया है।
उत्तर

  1. दर्शन करने वालों को वृद्धा पुकारती, और कहती-“ये फूल चढ़ावा तो लेते जाओ।”
  2. वृद्धा ने हाँडी सेठजी को सरकाते हुए कहा-“सेठजी, इसे जमा कर लें। मैं इसे कहाँ रखती फिरूंगी।”
  3. सेठजी ने मुनीम से कहा-“इसे बहीखाते में इसके नाम में जमा कर लो।”
  4. वृद्धा ने विनम्र भाव से कहा-“मेरा बच्चा बहुत बीमार है। मेरी जमा हाँडी से मुझे कुछ रुपये मिल जाएँ तो मैं डॉक्टर को दिखाकर उसका इलाज करा लूँ।”
  5. वृद्धा ने कहा-“सेठजी अभी दो वर्ष पहले ही तो मैंने हाँडी में जमा पूँजी आपके यहाँ जमा की थी।”

प्रश्न 2.
निम्नलिखित मुहावरों के अर्थ स्पष्ट करते हुए वाक्यों में प्रयोग कीजिए
टस से मस न होना, हाथ-पाँव फूल जाना, चंगुल में दबाना, ताँता बाँधना, जान में जान आना।
उत्तर

  1. टस-से-मस न होना-एक स्थान से न हटना।
    वाक्य-प्रयोग-धरने पर बैठे शिक्षक, धरना स्थल से टस से मस नहीं हुए। .
  2. हाथ-पांव फूल जाना-घबरा जाना।
    वाक्य-प्रयोग-पिताजी के मूलित हो जाने पर, हमारे हाथ-पाँव फूल गये।
  3. चंगुल में दबाना-वश में (कब्जे में) कर लेना।
    वाक्य-प्रयोग-शत्रु सैनिकों को चंगुल में दबाने के लिए। पूरा-पूरा जोर लगाना पड़ा।
  4. तांता बाँधना-लगातार बढ़ते जाना।
    वाक्य-प्रयोग-शत्रुओं पर आक्रमण करने के लिए। भारतीय सैनिक ताँता बाँधकर आगे ही आगे बढ़ते गये।
  5. जान में जान आना-चैन पड़ना।
    वाक्य-प्रयोग-ऑपरेशन के बाद मरीज जैसे ही होश में आया तो उसके घर वालों की जान में जान आई।

प्रश्न 3.
‘याचक’ एवं ‘दाता’ शब्दों के क्रिया रूप लिखकर संज्ञा और क्रिया रूपों के वाक्य बनाइए।
उत्तर
याचक और दाता शब्दों के क्रिया रूप याचना तथा दान देना होता है।
संज्ञा रूप में वाक्य प्रयोग –

  1. याचकों का तांता लग जाता है।
  2. याचक याचना करते हैं।
  3. दाता याचकों में भेद नहीं करता।
  4. दानी लोग प्रतिदिन दान देते हैं।

प्रश्न 4.
‘दुखिया’ शब्द के दुख शब्द में ‘इया’ प्रत्यय लगा है-दुख + इया = दुखिया। इसी प्रकार ‘इया’ एवं ‘वाला’ प्रत्यय लगाकर शब्द बनाइए।
उत्तर

  1. दुख + इया-दुखिया सुख+इया – सुखिया; बन + इया – बनिया; लख + इया – लखिया; लिख + इया – लिखिया, धन + इया – धनिया।
  2. दूध + वाला-दूधवाला, फल + वाला – फलवाला, पान + वाला = पानवाला, दुकान + वाला = दुकानवाला, घर + वाला-घरवाला।

प्रश्न 5.
‘अ’ और ‘वि’ उपसर्ग लगाकर शब्द बनाइए।
उत्तर

  1. अ+शुभ-अशुभ;अ+शुद्ध-अशुद्ध;अ+ पवित्र = अपवित्र अ + पावन = अपावन अ+ चल-अचल।
  2. वि+कार-विकार; वि+नाश = विनाश वि+लीन -विलीन; वि+लाप – विलाप; वि + लेप- विलेप।

प्रश्न 6.
निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर लिखिए
एक दिन सिद्धार्थ बगीचे में बैठे हुए थे। अचानक उनके सामने एक घायल, एक तीर से बिंधा हुआ हंस आ गिरा। सिद्धार्थ ने उसे प्यार से उठाया, घाव पर मलहम लगाया। तभी उनका चचेरा भाई देवदत्त आ पहुँचा। उसने हंस मांगा। सिद्धार्थ ने हंस देने से मना कर दिया। विवाद राजा के दरबार तक जा पहुंचा। देवदत्त का कहना था कि उसने हंस का शिकार किया है, इसलिए हंस उसका है। सिद्धार्थ ने कहा कि मैंने हंस के प्राणों की रक्षा की है, इसलिए हंस पर मेरा अधिकार है। राजा ने न्याय करते हुए कहा कि मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है। अतः हंस पर सिद्धार्थ का अधिकार बनता है। राजा ने सिद्धार्थ को हंस दे दिया।
(अ) इस गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक दीजिए
(आ) घायल हंस को किसने उठा लिया था ?
(क) देवदत्त हंस को क्यों मांग रहा था?
(ई) राजा ने क्या कहते हुए हंस सिद्धार्थ को सौंप दिया ?
(उ) राजा, दिन, तीर, प्यार के दो-दो समानार्थी शब्द लिखिए।
उत्तर
(अ) उपयुक्त शीर्षक-‘हंस और सिद्धार्थ
(आ) घायल हंस को सिद्धार्थ ने उठा लिया था।
(इ) देवदत्त हंस को इसलिए मांग रहा था क्योंकि उसने हंस को तीर से घायल कर दिया था। उसका कहना था कि घायल किये जाने से हंस पर उसका अधिकार है।
(ड) राजा ने हंस सिद्धार्थ को सौंप दिया। राजा का कहना था कि मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है।
(ज) समानार्थी

  1. राजा = नृप, भूप।
  2. दिन = दिवस, वासर।
  3. तीर = बाण, सायक।
  4. प्यार = प्रेम, स्नेह।

याचक और दाता परीक्षोपयोगी गद्यांशों की व्याख्या 

(1) सुबह से शाम तक वह उसी तरह सबका जीवन महकाती
और रात्रि को मन ही मन भगवान को प्रणाम कर लाठी टेकती, झोंपड़ी की राह पकड़ती। झोंपड़ी के समीप आते ही दस वर्षीय बालक उछलता-कूदता उससे लिपट जाता। वृद्धा उसे टटोलती, दुलारती और माथे को चूमकर जैसे पूरा प्यार उड़ेलने का प्रयास करती।

शब्दार्थ-महकाती = सुगन्ध से भर देती; राह = मार्ग, रास्ता; पकड़ती = चली जाती; समीप = पास; वर्षीय = वर्ष का; वृद्धा – बूढ़ी औरत; दुलारती = प्रेम करती; चूमकर = पुचकारते हुए।

सन्दर्भ-प्रस्तुत गद्यांश हमारी पाठ्य-पुस्तक भाषा-भारती” के पाठ ‘याचक और दाता से अवतरित है। इसके लेखक रवीन्द्रनाथ ठकुर है।

प्रसंग-एक बूढ़ी औरत की ममता और उसके प्रतिदिन के कार्य का वर्णन किया गया है।

व्याख्या-वह बूढ़ी औरत रोजाना सन्दिर के दरवाजे पर प्रात:काल से लेकर सायंकाल तक आने वाले दर्शनार्थी लोगों के जीवन को खुशबू से भर देती थी। रात्रि होने पर मन ही मन भगवान को नमस्कार करके मन्दिर के दरवाजे से लौट पड़ती। उसके हाथ में लाठी होती थी। उसका सहारा लिए हुए, अपने निवास, उस झोंपड़ी की ओर जाने वाले मार्ग पर लौट पड़ती। जैसे ही वह अपनी झोपड़ी के पास आती, तो एक दस वर्ष का बालक उछल-कूद करता हुआ उसके पास आता और प्रेमपूर्वक उससे लिपट पड़ता था। उस समय वह बूढ़ी औरत उस बालक के शरीर पर हाथ फेरती हुई उसके पूरे अंगों को टटोलती, देखती कि कहीं कुछ कमजोरी तो नहीं आ गई है। इस प्रकार, वह उससे बहुत-सा प्यार करती। उसके मस्तक पर बार-बार चुम्बन लेती। इस तरह वह उसके ऊपर अपने अन्दर के असीम अतौल प्यार को उड़ेल देती थी।

(2) असहाय और रोते बच्चे को वृद्धा ने अपनी गोद में बिठाया और उसे चुप कराने का प्रयास करने लगी। ममता का आँचल पाकर बच्चा सब कुछ भूल गया था। इस तरह वह वृद्धा के पास रहने लगा। वात्सल्य की तड़प ने वृद्धा की जिजीविषा बढ़ा दी। अब वह पहले से ज्यादा श्रम करती और शीघ्र लौटने की कोशिश करती। बच्चा माँ के स्नेह को पाकर प्रसन्न था।

शब्दार्थ-असहाय =बिना सहारे वाला; वृद्धा = बढ़ी औरत ने; चुप कराने का शान्त कराने का प्रयास = कोशिश; ममता का आँचल = प्यार और लगाव की शरण या आश्रय; वात्सल्य = सन्तान के प्रति प्रेम तड़प = खिंचाव, आकर्षण; जिजीविषा = जीवित रहने की इच्छा; श्रम = मेहनत; स्नेहप्रेम प्रसन्न = खुश।

सन्दर्भ-पूर्व की तरह।

प्रसंग-बालक उस बूढ़ी औरत के प्रेम को प्राप्त करके बहुत खुश था।

व्याख्या-यह बालक अपने माता-पिता से बिछुड़ा हुआ बालक था। उस बालक से सभी अपरिचित थे। सन्ध्या का समय था। उस बूढी औरत ने उस बिछुड़े बालक को अपनी गोद में बिछाया। उस रोते बालक को शान्त कराने की, उस बूढ़ी औरत ने बड़ी कोशिश की। बच्चा रोने से शान्त हुआ। उसे प्यार और माँ के प्रेम का आँचल (छाया, शरण) मिल चुकी थी। वह, अब, अपने वास्तविक माता-पिता को भूल गया था। यह सब उस बूढ़ी औरत के प्यार और आकर्षण के कारण ही सम्भव हो सका। वह बूढ़ी औरत ही उसके लिए सब कुछ थी। उसके पास रहकर सब कुछ भूल गया। इधर, उस बूढ़ी औरत के अन्दर सन्तान के प्रति प्रेम के खिचाव ने जीवित रहने की इच्छा प्रबल कर दी। वह यह समय था जब उसे पहले से भी अधिक मेहनत करनी पड़ रही थी क्योंकि उसे पाये हुए उस बालक के पालन का उत्तरदायित्व निभाना था। अब वह मन्दिर के दरवाजे से पहले की अपेक्षा जल्दी लौटकर आने की कोशिश करती थी। माँ का प्यार इस बच्चे को मिला, इस कारण वह बहुत ही खुश था।

MP Board Solutions

(3) सेठजी वृद्धा के पाँवों में गिरकर बच्चे की जान बचाने वी याचना करने लगे। वे बोले-“ममता की लाज रख लो।” माँ का ममाव जाग उठा। वह बीता हुआ सब कुछ भूल गई और सेठजी के साथ चल पड़ी। घर पहुँचते ही वृद्धा ने मोहन के माथे पर हाथ फेरा । हाश्व पहचानते ही मोहन ने तुरन्स आँखें खोल दीं। माँ, तुम आ गई। वृद्धा ने कहा, “हाँ बेटा, तुम्हें छोड़कर कहाँ जा सकती हूँ।” उसने मोहन का सिर अपनी गोद में रखकर थपथपाया और मोहन को नींद आ गई। कुछ दिन बाद मोहन बिल्कुल स्वस्थ हो गया। जो बाम दवाइयों, डॉक्टरों और हकीमों से न हो पाया वह वृद्धा माँ की ममता ने ममता- माँ के प्यार की; ममत्व-माँ के प्यार की भावना; बीता हुआ-जो घटना घटी उस सबको; बिल्कुल- पूर्ण रूप

सन्दर्भ-पूर्व की तरह।

प्रसंग-माँ की ममता के महत्त्व को बताया गया है।

व्याख्या-सेठजी वृद्धा की झोंपड़ी पर आये। उसके पैरों पर गिर गये, वे प्रार्थना करने लगे कि उसके पुत्र के प्राणों की रक्षा तुम ही कर सकती हो। सेठ ने आगे कहा कि तुम्हें एक माँ के प्यार की, ममता की लाज रखनी है। माँ की ममता जागृत हो उठी। वह यूढ़ी औरत अब वह सब कुछ भूल गई,जो भी कुछ अभी तक घटित हुआ। वह तुरन्त ही सेठजी के साथ चल पड़ी। वह बूढ़ी औरत सेठजी के घर पहुँच गई। वहाँ पहुँचते ही मोहन के सिर और माथे पर अपना हाथ फेरने लगी। मोहन ने उसके (बड़ी औरत के) हाथ को पहचान लिया और एकदम से अपनी आँखें खोल दी। मोहन ने पुकारते हुए कहा कि माँ, तुम आ गई। उस | बूढ़ी औरत ने कहा-बेटा, मैं आ गयी हूँ। मैं तुम्हें छेड़कर कहाँ । जा सकती हूँ। अर्थात् मैं तुम्हें नहीं छोड़ सकती। उस बूढ़ी औरत ने मोहन के सिर को अपनी गोद में रख लिया। उसे धपकियाँ देने लगी, इस प्रकार मोहन सो गया। अब धीरे-धीरे मोहन के स्वास्थ्य में सुधार होने लगा। किसी भी डॉक्टर और हकीम की दवाइयों ने । कोई भी लाभ उसे नहीं पहुँचाया परन्तु बूढी माँ के प्यार ने, उसकी – ममता ने इसे पूर्णतः स्वस्थ कर दिया।

(4) “वृद्धा, सेठजी की धरोहर ‘मोहन’ को सेठजी के यहाँ छोड़कर, लाठी टेकती हुई, झोंपड़ी में लौट आई। उसके नेत्रों से आँसू बह रहे थे, पर आज इन आँसुओं में फूलों का मकरन्द और ममता की गंध थी। वह आज सेठ बनारसीदास से महान् हो गई थी। सेठ याचक था और वह दाता।”

शब्दार्थ-धरोहर = वह वस्तु या द्रव्य जो कुछ समय के लिए दूसरे के पास इस विश्वास से रखी जाए कि मांगने पर उसी रूप में वापस मिल जायेगी; मकरन्द = पराग; गंध-महक; महान् = बड़ी हो गई थी बन गई थी; याचक-भिखारी दाता= दान देने वाली।

सन्दर्भ-पूर्व की तरह। प्रसंग-बूढ़ी औरत की विशेषताओं का उल्लेख किया गया

व्याख्या-उस ममता भरौ बूढ़ी औरत ने सेठ बनारसीदास के पुत्र मोहन को उसके वास्तविक माता-पिता के पास छोड़ दिया। मोहन वास्तव में सेठजी की धरोहर थी, उसे तो लौटाना ही था। वह अपनी लाठी के सहारे, वहाँ से (सेठजी के घर से) लाठी टेकते-टेकते अपनी झोपड़ी में लौटकर आ गई। उसकी आँखों में फूलों का पराग था। उन आँसुओं में माँ के गहरे प्रेम की महक थी। आज वह अपने ममत्व और सेवाभाव के साथ त्याग की महिमामयी मूर्ति थी। सेठ बनारसीदास को भी अपने महान् व्यक्तित्व से पीछे छोड़ दिया। उस दशा में सेठ बनारसीदास एक भिखारी थे जबकि वह एक उदार दानदाता के समान थी।

MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Chapter 16 कूटश्लोकाः

In this article, we will share MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Chapter 16 कूटश्लोकाः Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Surbhi Chapter 16 कूटश्लोकाः

MP Board Class 8th Sanskrit Chapter 16 अभ्यासः

प्रश्न 1.
एकपदेन उत्तरं लिखत(एक शब्द में उत्तर लिखो-)
(क) प्रथमायाः प्रहेलिकायाः उत्तरं किम्? (प्रथम पहेली का उत्तर क्या है?)
उत्तर:
सूची। (सूई)

(ख) वयं कया लिखामः? (हम किससे लिखते हैं?)
उत्तर:
लेखन्या। (पेन से)

(ग) कंसं कः सञ्जघान? (कंस को किसने मारा?)
उत्तर:
कृष्णः। (कृष्ण ने)

MP Board Solutions

(घ) कम्बलवन्तं किंन बाधते? (कम्बल वाले को क्या परेशान नहीं करती?)
उत्तर:
शीतम्। (ठण्ड)

(ङ) कति स्त्रियः स्नानार्थ नर्मदां गताः? (कितनी स्त्रियाँ स्नान के लिए नर्मदा नदी पर गी?)
उत्तर:
विंशतिः। (बीस)

(च) करिणां कुलं को हन्ति? (हाथियों के समूह को कौन मारता है?)
उत्तर:
सिंहः। (शेर)

प्रश्न 2.
एकवाक्येन उत्तरं लिखत (एक वाक्य में उत्तर लिखो-)
(क) लेखन्याः स्वरूपं किम्? (पेन का स्वरूप कैसा है?)
उत्तर:
कृष्णमुखी द्विजिह्वा पञ्चभी च इति लेखन्याः स्वरूपम्। (मुंह काला, दो जीभ और पाँच अंगुलियों से चलना ऐसा पेन का स्वरूप है।)

(ख) सूच्याः किं लक्षणम्? (सूई का लक्षण क्या है?)
उत्तर:
एकचक्षुः बिलम् इच्छति क्षीयते वर्धते च इति सूच्याः लक्षणम्। (एक आँख होती है, बिल को खोजती है और घटती-बढ़ती है यह सूई का लक्षण है।)

(ग) काशीतलवाहिनी का? (काशी की सतह पर बहने वाली कौन है?)
उत्तर:
काशीतलवाहिनी गङ्गा। (काशी की सतह पर बहने वाली गंगा है।)

(घ) शीतं कं न बाधते? (ठण्ड किसको परेशान नहीं करती?)
उत्तर:
शीतं कम्बलवन्तम् न बाधते। (कम्बल जिसके पास हो ठण्ड उसे परेशान नहीं करती।)

(ङ) नर्मदायाः कति स्त्रियः पुनरायाता:? (नर्मदा से कितनी स्त्रियाँ वापस आयीं?)
उत्तर:
नर्मदायाः विंशतिः स्त्रियः पुनरायाताः। (नर्मदा से बीस स्त्रियाँ वापस आयीं।)

(च) शङ्करम् पतितं दृष्ट्वा पार्वती कीदशी भवति? (शंकर को गिरा हुआ देखकर पार्वती कैसी होती है?)
उत्तर:
शङ्करम् पतितं दृष्ट्वा पार्वती हषनिर्भरा भवति। (शंकर को गिरा हुआ देखकर पार्वती प्रसन्न होती है।)

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
युग्मेलनं कुरुत(जोड़े बनाओ-)
MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Chapter 16 कूटश्लोकाः 1
उत्तर:
(क) → (iii)
(ख) → (vi)
(ग) → (i)
(घ) → (vii)
(ङ) → (ii)
(च) → (v)
(छ) → (iv)

प्रश्न 4.
रिक्त स्थानानि पूरयत(रिक्त स्थान भरो-)
(क) कंसं जघान ………….
(ख) कं बलवन्तं ………… शीतम्।
(ग) तत्पुरुष …………. येनाहं स्याम बहुब्रीहिः।
(घ) ………… पतितं दृष्टवा पन्नगाः रूरुदुः।
(ङ) मद्गेहे नित्यम् ………..।
उत्तर:
(क) कृष्णः
(ख) न बाधते
(ग) कर्मधारय
(घ) शङ्करम्
(ङ) अव्ययीभावः।

प्रश्न 5.
द्वयर्थंकशब्दानाम् अर्थं लिखत(दो अर्थ वाले शब्दों के अर्थ लिखो-)
उत्तर:
MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Chapter 16 कूटश्लोकाः 2

कूटश्लोकाः हिन्दी अनुवाद

कूटश्लोको
एकचक्षुः न काकोऽयं बिलमिच्छन्नपन्नगः।
क्षीयते वर्धते चैव न समुद्रो न चन्द्रमाः॥1॥

एकं चक्षुः अस्ति परन्तु काकः नास्ति बिलम् अन्विष्यति परन्तु पन्नगः नास्ति क्षयः भवति वृद्धिरपि भवति परन्तु समुद्रः नास्ति चन्द्रोऽपि नास्ति। तर्हि एतत् किम्?

अनुवाद :
जटिलश्लोक- एक आँख है परन्तु कौआ नहीं है, बिल खोजता है परन्तु साँप नहीं है, कम होता है और ज्यादा भी होता है परन्तु समुद्र नहीं है और चन्द्रमा भी नहीं है। तो यह क्या है?

उत्तर :
सूई।

स्पष्टीकरण :
सूई में एक छेद होता है, इसलिए उसे एक आँख वाली कहा जाता है। सूई कपड़े के अन्दर जाती है, इसलिए वह बिल को खोजने वाली कही गई है। सूई में लगा धागा छोड़ा-बड़ा होता है इसलिए उसे घटने-बढ़ने वाली कहा गया है।

कृष्णमुखी न मार्जारी द्विजिह्वा न च सर्पिणी।
पञ्चभी न पाञ्चाली यो जानाति स पण्डितः॥2॥

मुखभागः कृष्णवर्णः वर्तते किन्तु कृष्णवर्णा मार्जारी नास्ति, द्वे, जिह्वे भवतः किन्तु सर्पिणी नास्ति, पञ्च पतयः सन्ति किन्तु पाञ्चाली नास्ति। तर्हि किम् अस्ति ? यः जानाति सः पण्डित एव।

MP Board Solutions

अनुवाद :
मुँह काले रंग का है किन्तु काले रंग की बिल्ली नहीं है, दो जीभ होती हैं किन्तु सर्पिणी नहीं है, पाँच पति (अंगुलियों से पकड़ते हैं इसलिए) हैं किन्तु पांचाली (द्रोपदी) नहीं है। तो क्या है? जो जानता है वह पण्डित ही है।

उत्तर :
लेखनी।

स्पष्टीकरण :
पहले समय में प्रायः पेन काली स्याही वाले होते थे इसलिए उसे काले मुँह वाला कहा जाता है। पहले पेन में दो निब या जीभ होती थी इसलिए उसे दो जीभ वाली कहा गया हैं। पेन को चलाने में हाथ की पाँचों अंगुलियों का प्रयोग होता है। इसलिए इसके पाँच भर्ता या स्वामी कहे गये हैं।

कूटश्लोकः (प्रश्नोत्तरम्) –
कं सञ्जघान कृष्णः का शीतलवाहिनी गङ्गा।
केदारपोषणरताः कम् बलवन्तं न बाधते शीतम्॥3॥

कृष्णः कं जघान? ……… कंसम्
शीतलवाहिनी का? ……… काशीतलवाहिनीगङ्गा
दारपोषणरताः के? ……… केदारपोषणरताः
शीतं कम् न बाधते? ……… कम्बलवन्तम् बलवन्तम्
(जटिल श्लोक (प्रश्न और उत्तर सहित)

अनुवाद :
श्रीकृष्ण ने किसको मारा? – कंस को।
कौन शीतल जल वाली गंगा है? – काशी की सतह पर बहने वाली।
कौन पत्नी के पोषण में रत है? – केदार (खेत) संवारने में संलग्न (कृषक)
किस बलवान् को ठण्ड परेशान नहीं करती? – कम्बल जिसके पास हो उसको।

संख्याकूटश्लोकः
एकोनाविंशतिः स्त्रीणां स्नानार्थं नर्मदां गता विंशतिः पुनरायाता एको व्याघ्रण भक्षितः॥4॥
स्त्रीणाम् एकोनाविंशतिः (१९) स्नानार्थं नर्मदां गता व्याघ्रण एको भक्षितः (१९-१ = १८) विंशतिः (२०) पुनरायाता!…….? एकः ना स्त्रीणां विंशतिः (१ + २० = २१) स्नानार्थ नर्मदां गता। व्याघ्रण एकः भक्षितः विंशतिः पुनः आयाता (२१ -१ = २०) संख्या वाले जटिल श्लोक

अनुवाद :
उन्नीस (एकोनाविंशतिः) स्त्रियाँ स्नान के लिए नर्मदा नदी पर गयीं। उनमें से बीस (विंशतिः) वापस आ गयीं, जबकि एक को बाघ खा गया?

स्पष्टीकरण :
इस पहेली में ‘एको न विंशतिः स्त्रीणां स्नानार्थं नर्मदां गता’ इस पंक्ति के दो अर्थ होंगे-
(1) एको ना विंशतिः स्त्रीणां = उन्नीस स्त्रियाँ।
(2) एको ना विंशतिः स्त्रीणां = एक नर या पुरुष (नर) और बीस (विंशतिः) स्त्रियाँ।

दूसरा अर्थ करने पर :
एक पुरुष और बीस स्त्रियाँ (1 + 20 = 21) स्नान के लिए नर्मदा नदी पर गयीं। उनमें से बीस वापस आ गयीं, एक को बाघ खा गया (21 -1 = 20)

MP Board Solutions

समासकूटेन चमत्कारः
अहं च त्वं च राजेन्द्र लोकनाथावुभावपि।
बहुब्रीहिरहं राजन् षष्ठी तत्पुरुषो भवान्॥5॥

(एकः भिक्षुकः दरिद्रः/निर्धनः महाराजम् उद्दिश्य ब्रूते)
हे राजेन्द्र! अहं त्वं च उभौ अपि लोकनाथौ (स्व:) अहम् बहुव्रीहिः भवान् षष्ठीतत्पुरुषः। लोकः नाथः यस्य सः (भिक्षुकः) लोकस्य नाथः (राजा)। समास की जटिलता से चमत्कार

अनुवाद :
(एक भिक्षुक निर्धन है वह महाराज को उद्देश्य करके कहता है)

हे महाराज! मैं और तुम दोनों लोकनाथ हैं, मैं बहुब्रीहि और आप षष्ठी तत्पुरुष हैं।

स्पष्टीकरण :
इस समास पर आधारित पहेली को समझने के लिए बहुब्रीहि और षष्ठी तत्पुरुष समास को समझना आवश्यक है।

यहाँ ‘लोकनाथ’ इस समस्त पद का बहुब्रीहि और षष्ठी तत्पुरुष समास के आधार पर विग्रह करना होगा।

बहुब्रीहि-लोक नाथः यस्य सः (शिक्षकः)
(संसार ही सहारा है जिसका वह-भिक्षुक)

षष्ठी तत्पुरुष-लोकस्य नाथः
(राजा) (संसार का स्वामी-राजा)

इस आधार पर अर्थ करने पर-हे महाराज! मैं और तुम दोनों लोकनाथ (अर्थात् मैं भिक्षुक और तुम राजा हो) हैं।

द्वन्द्वो द्विगुरपि चाहम् मद्गृहे नित्यम् अव्ययीभावः।
तत्पुरुषः कर्मधारय येनाहं स्याम बहुब्रीहिः॥6॥

द्वन्द्व :
द्विगु-अव्ययीभाव-तत्पुरुष-कर्मधार बहुब्रीहिसमासभेदान् आश्रित्य अत्र कूटश्लोके निर्धनस्य धनप्राप्यै पत्न्याः प्रार्थनायाः अद्भुत: सामाजिकः भावः निबद्धः। अत्र पत्नी धनार्जनाय अकर्मण्य प्रारं प्रेरयति।

द्वन्द्व :
अहं भवता सह कलहं करोमि किल? किमर्थम्?

द्विगुः :
अहं भवतः भार्या अस्मि। मम पालन पोषणं भवतः कर्त्तव्यम् अस्ति किन्तु (मद्गृहे नित्यम्)

अव्ययीभाव: :
प्रतिदिनं पले भोजनार्थम् किमपि नास्ति।

MP Board Solutions

तत्पुरुष :
अतः हे पतिदेव कामपि उद्योगं कुरु।

कर्म + धारय :
धनधास्वादिल गृहमानय येन कारणेन (येनाहं स्याम)

बहुब्रीहिः :
अहमशिनायान्यसपना भवेयम्।

अनुवाद :
द्वन्द्व, द्विगु, अव्ययीभाव, तत्पुरुष, कर्मधारयं और बहुब्रीहि समास के भेदों पर आधारित इस कूट श्लोक में निर्धन की धन प्राप्ति के लिए पत्नी की प्रार्थना का अद्भुत सामाजिक भाव निबद्ध है। यहाँ पत्नी धन कमाने के लिए आलसी पति को प्रेरित कर रही है

(द्वन्द-मैं आपके साथ कलह अवश्य करता हूँ। किसलिए? द्विगु-मैं आपकी पत्नी हूँ। मेरा पालन-पोषण आपका कर्तव्य है। किन्तु (मेरे घर में नित्य)

अव्ययीभाव :
प्रतिदिन घर में भोजन के लिए कुछ भी नहीं है।

तत्पुरुष :
इसलिए हे पतिदेव! कोई भी धन्धा करो।

कर्मधारय :
धन-धान्य आदि को घर लाओ जिसके कारण से हम ऐसे हैं। बहुब्रीहि-मुझे भी धन-धान्य से सम्पन्न होना चाहिए।)

स्पष्टीकरण :
मेरे घर में द्वन्द्व (लड़ाई-झगड़ा) है, द्विगु। दम्पत्ति (पति-पत्नी)] हैं, अव्ययी भाव (धन का अभाव) है। तत्पुरुष (पति) कर्मधारय (आलस्य को छोड़कर कर्म करो) जिससे मैं बहुब्रीहि (धनयुक्त) हो जाऊँ।

शङ्करम् पतितं दृष्ट्वा पार्वती हर्षनिर्भरा।
रूरुदुः पन्नगाः सर्वे हा हा शङ्कर शङ्कर॥7॥

अत्रापि श्लेष द्वारा अर्थः बोध्यः। शङ्करम् पतितं दृष्ट्वा पार्वती प्रसन्ना भवति, सर्वाः दुःखिताः जाताः। अत्र शङ्करशब्दे पार्वतीशब्दे च श्लेषः। सर्पाः शीतलं चन्दनवृक्षं आलिङ्य मिलन्ति सः चन्दनवृक्षः प्रकृतिविकोपेन पतितः अतः निराश्रिताः पन्नगाः रुदन्ति तथा भिल्लस्त्री (मलयपर्वते) चन्दनवृक्षबाहुल्यात् चन्दनवृक्षकाष्ठम् इन्धनाय-उपयुक्ते।

भिल्लस्त्री (पार्वती) पतितं चन्दनवृक्षं दृष्टवा इन्धनं लब्धमिति हर्षनिर्भरा जाता।

शङ्करः शिवः चन्दनवृक्षः च, पार्वती: गौरी भिल्लस्त्री च।

अनुवाद :
शंकर को गिरा हुआ देखकर पार्वती प्रसन्न होती हैं। सर्प रोने लगे और सभी हाय शंकर हाय शंकर करने लगे।

MP Board Solutions

यहाँ भी श्लेष द्वारा अर्थ समझने योग्य है। शंकर को गिरा हुआ देखकर पार्वती प्रसन्न होती हैं, सभी दुःखी हो जाते हैं। यहाँ शंकर शब्द में और पार्वती शब्द में श्लेष है। सर्प शीतल चन्दन वृक्ष से लिपटकर मिलते हैं, वह चन्दन वृक्ष प्रकृति के प्रकोप से गिर जाता है, इसलिए निराश्रित होकर सर्प रोते हैं तथा मलय पर्वत पर रहने वाली भीलनी चन्दन वृक्ष से चन्दन लकड़ी को ईंधन के लिए प्राप्त कर लेती हैं।

भीलनी (पार्वती) चन्दन के वृक्ष को गिरा हुआ देखकर, ईंधन पाकर प्रसन्न होती हैं।

यहाँ शंकर शिव और चन्दन वृक्ष हैं, पार्वती गौरी और भीलनी हैं।

स्पष्टीकरण :
इस पहेली को समझने के लिए श्लेष अलंकार को समझना आवश्यक है। ‘श्लेष’ का अर्थ है जहाँ एक ही शब्द के दो या दो से अधिक भिन्न-भिन्न अर्थ होते हैं। यहाँ ‘शंकर’ और ‘पार्वती’ शब्दों के दो-दो अर्थ हैं। ‘शंकर’ का एक अर्थ भगवान शंकर है और दूसरा अर्थ चन्दन का पेड़ है। इसी प्रकार ‘पार्वती’ का एक अर्थ भगवान शंकर की पत्नी पार्वती है और दूसरा अर्थ पर्वत पर निवास करने वाली भीलनी है। श्लेष के अनुसार अर्थ करने पर इस श्लोक का भाव होगा-चन्दन के पेड़ को गिरा हुआ देखकर पर्वत पर निवास करने वाली भीलनी प्रसन्न होती है। सर्प रोने लगे और हाय चन्दन के पेड़, हाय चन्दन के पेड़ करने लगे।

कस्तूरी जायते कस्मात् को हन्ति करिणां कुलम्।
किं कुर्यात् कातरो युद्धे मृगात् सिंहः पलायनम्॥8॥

अत्र चरणत्रये त्रयः प्रश्नाः चतुर्थे चरणे त्रयाणाम् एवं उत्तरं वर्तते। कस्तूरी कस्मात् जायते इति प्रथमः प्रश्नः ‘करिणां कुलं कः हन्ति’ इति द्वितीयप्रश्नः कातरः युद्धे किं कुर्यात् इति तृतीयः प्रश्नः।

अनुवाद :
कस्तूरी किससे उत्पन्न होती है? कौन हाथियों के कुल (समूह) को मारता है? दुःखी युद्ध में क्या करे, मृग से, सिंह, पलायन।

यहाँ तीन चरणों में तीन प्रश्न हैं और चौथे चरण में तीनों के ही उत्तर हैं। कस्तूरी किससे उत्पन्न होती है? यह पहला प्रश्न है। हाथियों के कुल (समूह) को कौन मारता है? यह दूसरा प्रश्न है। दुःखी युद्ध में क्या करे? यह तीसरा प्रश्न है।

MP Board Solutions

स्पष्टीकरण :
प्रश्न 1.
कस्तूरी किससे उत्पन्न होती है?
उत्तर:
मृग से।

2. हाथियों के कुल (समूह) को कौन मारता है?
उत्तर:
सिंह

3. दुःखी युद्ध में क्या करे?
उत्तर:
पलायन (भागे)।

कूटश्लोकाः शब्दार्थाः

चक्षुः= नेत्र। पन्नगः सर्प। बिलम् = छेद। जिह्वा=जीभ। पञ्चभी = पाँच पतियों वाली। पाञ्चाली = द्रोपदी। जघान = मारा। शीतलवाहिनी = शीतल जल वाली। दारपोषणरताः = पत्नी के पोषण में तत्पर। केदारपोषणरताः = खेत सँवारने में संलग्न (कृषक)। कम्बलवन्तम् = किस बलवान् को। ना= पुरुष:/नरः। एकोनाविंशति= 19। विंशतिः =20। लोकनाथः = भिक्षुक/राजा। लोकानाथः यस्य सः = अन्यपदार्थप्रधानो बहुब्रीहिः। लोकः सर्वोऽपि भिक्षुकस्य नाथः-लोकस्य दासःभिक्षुकः। लोकस्यनाथः = षष्ठीतत्पुरुषसमासे कृते राजा इत्यर्थः। द्वन्द्वः= द्वन्द्व समास, कलह। द्विगुः= द्विगुसमास, दम्पत्ति (पति-पत्नी)। अव्ययीभावः = समास, धनाभाव (निर्धनता)। तत्पुरुषः = समास, पति। कर्मधारयः = समास, अकर्मण्यता छोड़कर कर्म करो। बहुब्रीहिः = समास, धनधान्ययुक्त। शङ्करम् = शङ्कर भगवान को/चन्दन के पेड़ को। पतितम् = गिरते हुए। पार्वती = पार्वती शिवपत्नी/पर्वतनिवासिनी भीलनी। पन्नगाः = सर्प। कस्तूरी = कस्तूरी (गन्धविशेष)। जायते = उत्पन्न होती है। हन्ति = मारता है। करिणां कुलम् = हाथियों के समूह को। . कातरः = दुःखी। युद्धे = युद्ध में।

MP Board Class 8th Sanskrit Solutions

MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Chapter 18 सत्कर्म एव धर्मः

In this article, we will share MP Board Class 10th Sanskrit Solutions Chapter 13 महाभारते विज्ञानम् Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Surbhi Chapter 18 सत्कर्म एव धर्मः

MP Board Class 8th Sanskrit Chapter 18 अभ्यासः

प्रश्न 1.
एकपदेन उत्तरं लिखत(एक शब्द में उत्तर लिखो-)
(क) विक्रमादित्यः नगरभ्रमणसमये किं दृष्टवान्? (विक्रमादित्य ने नगर भ्रमण के समय क्या देखा?)
उत्तर:
रुग्णम्। (रोगी को)

(ख) विक्रमादित्यः महामन्त्रिणि राज्यभारं समर्प्य कुत्र अगच्छत्? (विक्रमादित्य महामन्त्री पर राज्यभार को समर्पित करके कहाँ गये?)
उत्तर:
वनम्। (वन में)

(ग) महात्मा कस्य समीपे तपस्यारतः आसीत्? (महात्मा किसके पास तपस्यारत थे?)
उत्तर:
विक्रमादित्यस्य। (विक्रमादित्य के)

(घ) महात्मा योगबलेन तत्र कस्य दृश्यं दर्शितवान्? (महात्मा ने योग के बल से वहाँ किसका दृश्य दिखाया?)
उत्तर:
यमलोकस्य। (यमलोक का)

(ङ) कर्मणां लेखनं कस्य पार्वे अस्ति? (कर्मों का लेखा किसके पास है?)
उत्तर:
चित्रगुप्तस्य। (चित्रगुप्त के)

(च) श्रेष्ठाचरणस्य प्रतिज्ञां कृत्वा विक्रमादित्यः कुत्रः आगतवान्? (श्रेष्ठ आचरण की प्रतिज्ञा करके विक्रमादित्य कहाँ आये?)
उत्तर:
उज्जयिनीम्। (उज्जयिनी में)

प्रश्न 2.
एकवाक्येन उत्तरं लिखत(एक वाक्य में उत्तर लिखो-)
(क) महात्मा विक्रमादित्यं किम् उपदिष्टवान्? (महात्मा ने विक्रमादित्य को क्या उपदेश दिया?)
उत्तर:
महात्मा विक्रमादित्यं उपदिष्टवान् यत्-“राजन्! भवान् तु यथानीति राजधर्मस्य पालनं करोतु। धर्मानुकूलं शासनम् अपि धर्म एव भवति” इति। (महात्मा ने विक्रमादित्य को उपदेश दिया कि-“हे राजन्! आप तो नीति के अनुसार राजधर्म का पालन करो। धर्म के अनुसार शासन भी धर्म ही होता है।)

(ख) कर्म-तपस्योः कः भेदः? (कर्म और तपस्या में क्या भेद है?)
उत्तर:
कर्मणः स्थानम् भिन्नम् परं तपस्या स्वर्गप्राप्तेः साधनम्।” इति कर्म-तपस्ययोः भेदः। (“कर्म का स्थान भिन्न है परन्तु तपस्या स्वर्ग प्राप्ति का साधन है।” ऐसा कर्म और तपस्या का भेद है।)

(ग) विक्रमादित्यः अन्ते किं ज्ञातवान्? (विक्रमादित्य ने अन्त में क्या जाना?)
उत्तर:
विक्रमादित्यः अन्ते ज्ञातवान् यद्-‘सदाचारः एव तपस्या, सत्कर्म एव धर्म’ इति। (विक्रमादित्य ने अन्त में यह जाना कि-“सदाचार ही तपस्या है, सत्कर्म ही धर्म है”।)

(घ) विक्रमादित्यः लोके कथं प्रसिद्धः? (विक्रमादित्य संसार में कैसे प्रसिद्ध हैं?)
उत्तर:
विक्रमादित्यः लोके सत्कर्मणा एव प्रसिद्धः। (विक्रमादित्य संसार में सत्कर्म से ही प्रसिद्धः हैं।)

(ङ) विक्रमादित्यस्य ध्येयवाक्यं किम् आसीत्? (विक्रमादित्य का ध्येय वाक्य क्या था?)
उत्तर:
विक्रमादित्यस्य ध्येयवाक्यं ‘सत्कर्म एव धर्मः’ इति आसीत्। (विक्रमादित्य का ध्येय वाक्य ‘सत्कर्म ही धर्म है’ यह था।)

(च) विक्रमादित्यस्य मनसि केन वैराग्यम् उद्भूतम्? (विक्रमादित्य के मन में किससे वैराग्य उत्पन्न हुआ?)
उत्तर:
विक्रमादित्यस्य मनसि रुग्णदर्शनेन वैराग्यम् उद्भूतम्। (विक्रमादित्य के मन में रोगी को देखने से वैराग्य उत्पन्न हुआ।)

(छ) “सत्कर्म एव धर्मः” कथायाः सारः कः? (“सत्कर्म ही धर्म है” कथा का सारांश क्या है?)
उत्तर:
अस्याः कथायाः सारः यत् ‘मनुष्यः उत्तमानि कर्माणि कृत्वा अपि परलोकं साधयितुम् शक्नोति’ इति। (इस कथा का सारांश है कि ‘मनुष्य अच्छे कार्य करके भी परलोक सिद्ध कर सकता है।)

प्रश्न 3.
रिक्तस्थानानि पूरयत(रिक्त स्थान भरो-)
(क) विक्रमादित्यस्य समीपे एकः ……….. तपस्यारतः आसीत्। (महात्मा/दुरात्मा)
(ख) तपस्या ……… साधनम्। (स्वर्गप्राप्ते/राज्यप्राप्तेः)
(ग)यमराजः …………. आदिष्टवान्। (विक्रमादित्यम्/दूतेभ्यः)
(घ) वने सः कठिनां …………. आरब्धवान्। (दिनचर्यां/तपस्याम्)
(ङ) प्रजापालनं धर्म …….. अस्ति। (तपस्वीनाम्/राज्ञाम्)
उत्तर:
(क) महात्मा
(ख) स्वर्गप्राप्तेः
(ग) दूतेभ्यः
(घ) तपस्याम्
(ङ) राज्ञाम्।।

प्रश्न 4.
उचितं मेलयत(उचित को मिलाओ-)
MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Chapter 18 सत्कर्म एव धर्मः 1
उत्तर:
(क) → (v)
(ख) → (iv)
(ग) → (ii)
(घ) → (iii)
(ङ) → (i)

प्रश्न 5.
नामोल्लेखपूर्वकं समासविग्रहं कुरुत(नाम का उल्लेख करते हुए समास विग्रह करो-)
(क) ध्येयवाक्यम्
(ख) तपस्यारतः
(ग) प्रजापालनम्
(घ) योगबलेन
(ङ) श्रेष्ठाचरणेन।
उत्तर:
MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Chapter 18 सत्कर्म एव धर्मः 2

प्रश्न 6.
नामोल्लेखपूर्वकं सन्धिविच्छेदं कुरुत(नामे का उल्लेख करते हुए सन्धि विच्छेद करो-)
(क) धर्मानुकूलम्
(ख) नेति
(ग) सदाचारः
(घ) अद्यापि
(ङ) विक्रमादित्यः।
उत्तर:
MP Board Class 8th Sanskrit Solutions Chapter 18 सत्कर्म एव धर्मः 3

प्रश्न 7.
रेखाङ्कितशब्दानाम् आधारेण प्रश्ननिर्माणं कुरुत (रेखांकित शब्दों के आधार पर प्रश्न निर्माण करो-)
(क) विक्रमः अवदत्। (विक्रम बोला।)
उत्तर:
कः अवदत्? (कौन बोला?)

(ख) तपस्या तु महात्मनां कर्म इति। (तपस्या तो महात्माओं का काम है।)
उत्तर:
तपस्या तु केषाम् कर्म इति? (तपस्या तो किनका काम है?

(ग) तत्रैव यमलोकस्य दृश्यं दर्शितवान्। (वहीं यमलोक का दृश्य दिखाया?)
उत्तर:
कुत्र यमलोकस्य दृश्यं दर्शितवान्? (कहाँ यमलोक का दृश्य दिखाया?)

(घ) यमराजः दूतान् पृच्छति? (यमराज दूतों से पूछते हैं।)
उत्तर:
यमराजः कान् पृच्छति? (यमराज ने किनसे पूछा?)

(ङ) राज्ञः धर्म प्रजापालनम्। (राजा का धर्म प्रजा का पालन है।)
उत्तर:
कस्य धर्मः प्रजापालनम्? (किसका धर्म प्रजा का पालन है?)

सत्कर्म एव धर्मः हिन्दी अनुवाद

एकदा विक्रमादित्यः नगरभ्रमणसमये एकम् मरणासन्नं रुग्णं दृष्टवान्। तस्य दर्शनेन मनसि उद्भूतम्। अतः मायामोहमयं संसारं ज्ञात्वा सः महामन्त्रिणि राज्यभारं समर्प्य वनम् अगच्छत्।

अनुवाद :
एक बार विक्रमादित्य ने नगर में भ्रमण के समय एक मरणासन्न (मरने के निकट) रोगी को देखा। उसको देखने से मन में वैराग्य उत्पन्न हुआ। इसलिए माया मोह से भरे संसार को जानकर वह महामन्त्री को राज्यभार सौंपकर वन चले गये।

वने सः कठिना तपस्याम् आरब्धवान्। तस्य समीपे एव एकः महात्मा अपि तपस्यारतः आसीत्। महात्मा तम् अवदत्, “राजन्! भवान् तु यथानीति राजधर्मस्य पालनं करोतु। धर्मानुकूलं शासनम् अपि धर्म एव भवति” इति स महात्मा विक्रमादित्यम् उपदिष्टवान्। विक्रमः अवदत्-“नहि महात्मन्! तपसा एव परलोकः साध्यते, कर्मणा नेति।” महात्मा अवदत्, “राजन! राज्ञः धर्मः प्रजापालनं, शासनम् एव अस्ति तपस्या तु महात्मानां कर्म इति।” इत्युक्त्वा महात्मा राजानाम् पृष्टवन्-कर्म-तपस्ययोः कः भेदः?

अनुवाद :
वन में उन्होंने कठिन तपस्या आरम्भ कर दी। उनके पास में एक महात्मा भी तपस्यारत (तपस्या में लगे) थे। महात्मा ने उनसे कहा, “हे राजन्! आप तो नीति के अनुसार राजधर्म का पालन करो। धर्म के अनुकूल शासन भी धर्म ही होता है।” इस प्रकार उस महात्मा ने विक्रमादित्य को उपदेश दिया। विक्रम ने कहा-“नहीं महात्मन्! तपस्या से ही परलोक प्राप्त होता है, कर्म से नहीं।” महात्मा ने कहा, “हे राजन्! राजा का धर्म प्रजा का पालन और शासन ही है, तपस्या तो महात्माओं का काम है।” ऐसा कहकर महात्मा ने राजा से पूछा-कर्म और तपस्या में क्या भेद है?

राजा अवदत्-कर्मणः स्थानम् भिन्नम् परं तपस्या स्वर्गप्राप्तेः साधनम्। एतच्छ्रुत्वा महात्मा हसन् अवदत्-“राजन् ! मनुष्यः उत्तमानि कर्माणि कृत्वा अपि परलोकं साधयितुम् शक्नोति।” अनन्तरम् महात्मा योगबलेन तत्रैव यमलोकस्य दृश्यं विक्रमं दर्शितवान्। दृश्ये यमराजः दूतान् पृच्छति-“एतस्य कर्म कीदृशम् ?” एकः दूतः अवदत्-“कर्मणां लेखनं तु चित्रगुप्तस्य पार्वे अस्ति।” क्षणं विचार्य यमराजः दूतान् आदिष्टवान् यत्-“यदि एतस्य कर्माणि उत्तमानि सन्ति तर्हि स्वर्गस्य द्वारम् उद्घाटयतु यदि कर्माणि अधमानि, तदा बलात् नरके पातयतु।”

अनुवाद :
राजा ने कहा-कर्म का स्थान भिन्न है परन्तु तपस्या स्वर्ग प्राप्ति का साधन है। ऐसा सुनकर महात्मा हँसते हुए बोले-“हे राजन्! मनुष्य अच्छे कर्म करके भी परलोक सिद्ध कर सकता है।” इसके बाद महात्मा ने योग के बल से वहीं यमलोक का दृश्य विक्रम को दिखाया। दृश्य में यमराज दूतों से पूछ रहे हैं-“इसका कर्म कैसा है? एक दूत ने कहा-“कर्मों का लेखा तो चित्रगुप्त के पास है।” कुछ देर विचार करके यमराज ने दूतों को आदेश दिया कि-यदि इसके कर्म अच्छे हैं तो स्वर्ग का द्वार खोल दो यदि कर्म बुरे हैं तो जबरदस्ती नरक में डाल दो।”

इदं दृश्यं दृष्ट्वा विक्रमः ज्ञातवान् यद्-‘सदाचारः एव तपस्या, सत्कर्म एव धर्म’ इति। अनन्तरं सः तम् महात्मानम् प्रणम्य, श्रेष्ठाचरणस्य प्रतिज्ञां कृत्वा राजधानीम् उज्जयिनीम् आगतवान्। आगत्य धर्मानुकूलंनीतिपूर्वकम् प्रजापालनपुरस्सरं शासनं कृतवान्। सः अद्यापि लोके सत्कर्मणा एव प्रसिद्धः। तस्य जीवनस्य ध्येयवाक्यम् आसीत्-‘सत्कर्म एव धर्मः।’

अनुवाद :
इस दृश्य को देखकर विक्रम जान गये कि-“सदाचार (अच्छा व्यवहार) ही तपस्या है और सत्कर्म (अच्छे कर्म) ही धर्म।” इसके बाद वह उन महात्मा को प्रणाम करके, श्रेष्ठ आचरण की प्रतिज्ञा करके राजधानी उज्जयिनी आ गये। आकर धर्म के अनुसार नीतिपूर्वक प्रजा पालन को प्रमुखता देते हुए शासन किया। वह आज भी संसार में अच्छे कर्म से ही प्रसिद्ध हैं। उनके जीवन का ध्येय वाक्य था-‘सत्कर्म ही धर्म है।’

सत्कर्म एव धर्मः शब्दार्थाः

बलात् = बलपूर्वक। साधयितुम् = सिद्ध करने लिए। पार्वे = पास में। प्रजापालनपुरस्सरम् = प्रजापालन को प्रमुखता देते हुए। मरणासन्न = मरने के निकट। उद्भूतम् = उत्पन्न हुआ। पातयतु = गिराओ। एतच्छ्रुत्वा = ऐसा सुनकर।