MP Board Class 7th General English Solutions Chapter 15 Laxmi Bai, The Queen of Jhansi

MP Board Class 7th General English Solutions Chapter 15 Laxmi Bai, The Queen of Jhansi

Laxmi Bai, The Queen of Jhansi Textual Exercises

Read and Learm (पढ़ो और याद करो) :
Students should do themselves.
(छात्र स्वयं करें।)

Comprehension (बोध प्रश्न) :

(A) Answer the following questions :
(अग्रलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए)

Question 1.
When and where was Manu born ?
(व्हेन एण्ड व्हेअर वॉज़ मनु बॉर्न ?)
मनु का जन्म कब और कहाँ हुआ?
Answer:
Manu was born on 19th November, 18-35 in Kashi.
(मनु वॉज़ बॉर्न 19th नवेम्बर, 1835 इन काशी।) मनु का जन्म 19 नवम्बर, 1835 को काशी में हुआ था।

Question 2.
Who was Manu’s father ?
(हू वॉज़ मनुज़ फादर?)
मनु के पिता कौन थे?
Answer:
Manu’s father was Moropant Tambe.
(मनुज़ फादर वॉज़ मोरोपन्त ताम्बे।)
मोरोपन्त ताम्बे मनु के पिता थे।

Question 3.
Who was she married to ?
(हू वॉज़ शी मैरिड टू?)
उनका विवाह किसके साथ हुआ?
Answer:
She was married to Gangadhar Rao, the king of Jhansi.
(शी वॉज़ मैरिड टू गंगाधर राव, द किंग ऑफ झाँसी।)
उनका विवाह झाँसी के राजा, गंगाधर राव से हुआ।

Question 4.
Why did the Britishers not accept Damodar Rao as the heir of Gangadhar Rao ?
(व्हाइ डिड द ब्रिटिशर्स नॉट एक्सेप्ट दामोदर राव एज़ द ऍअर ऑफ गंगाधर राव?)
अंग्रेजों ने दामोदर राव को गंगाधर राव का उत्तराधिकारी क्यों स्वीकार नहीं किया?
Answer:
The Britishers did not accept Damodar Rao as the heir of Gangadhar Rao because he was an adopted son.
(द बिटिशर्स डिड नॉट एक्सेप्ट दामोदर राव द ऍअर ऑफ गंगाधर राव बिकॉज़ ही वॉज़ एन एडॉप्टेड सन।)
अंग्रेजो ने दामोदार राव को गंगाधर राव का उत्तराधिकारी स्वीकार नहीं किया क्योंकि वह गोद लिया हुआ पुत्र था।

Question 5.
What were the last words of Maharani Laxmi Bai?
(व्हॉट वर द लास्ट वर्ड्स ऑफ महारानी लक्ष्मीबाई?)
Answer:
The last words of Maharani Laxmi Bai were, “Let no Britisher touch my body.”
(द लास्ट वर्ड्स ऑफ महारानी लक्ष्मीबाई वर, “लेट नो ब्रिटिशर टच माइ बॉडी।”)
महारानी लक्ष्मीबाई के आखिरी शब्द थे, “किसी अंग्रेज़ को मेरा शरीर न छूने देना।”

(B) Some sentences are given below. Arrange them in the order of Rani Laxmi Bai’s life story.
(कुछ वाक्य नीचे दिए गए हैं। रानी लक्ष्मी बाई की जीवन गाथा के अनुरूप इन्हें व्यवस्थित कीजिए।)

(i) She breathed her last near Gwalior.
(ii) Laxmi Bai adopted a son named Damodar Rao.
(iii) Gangadhar Rao expired.
(iv) Manu was born in Kashi.
(v) She was married to Gangadhar Rao.
(vi) She was reared with Nana Sahab and Tatya Tope.
Ans.
(iv), (vi), (v), (ii), (iii), (i).

(C) Mark True/False.
(सही गलत पर चिह्न लगाओ) :

  1. Manu was not brave from childhood.
  2. Manu was born in Bithoor.
  3. Gangadhar Rao was the King of Jhansi.
  4. The Britishers did not accept Damodar as the heir of Gangadhar Rao.
  5. The last rites of the queen were performed by the Britishers.

Answer:

  1. F
  2. F
  3. T
  4. T
  5. F

MP Board Solutions

Word Power (शब्द समर्थ) :

(A) Given below are some words, look them up in a dictionary and find their meanings.
(कुछ शब्द नीचे दिए गए हैं, उनका अर्थ शब्द-कोष में कोजो)
Answer:
rear to bring up (पालन – पोषण करना)
accpet to take (something offered) (स्वीकार करना)
merge mix, combine (मिलाना)
archery art of shooting with bow (तीरन्दाजी)
expire to die (मरना)
wrestling a sport in which two persons try to press each other down. (कुश्ती)
perform to do, to fulfil (कार्य करना)
veil a curtain (परदा)
arrow a pointed object made to be shot from a bow (तीर)
skilled expert (कुशल)

(B) Given below are some jumbled letters, rearrange them to form words.
(नीचे कुछ अव्यवस्थित शब्द दिए गए हैं. इन्हें व्यवस्थित कर शब्द बनाओ)
Answer:
MP Board Class 7th General English Chapter 15 Laxmi Bai, The Queen of Jhansi 1

Grammar in Use (व्याकरण प्रयोग) :

(A) List the words from the lesson which show the qualities of the queen :
(पाठ से उन शब्दों की एक सूची बनाओ जो रानी के गुणों को दर्शाते हों।)
Answer:
beautiful, sharp, intelligent, brave, courageous, naughty, active, skilled in martial arts, horse rider, shooter, patriot, bold, fearless.

(B) Read the following words and make more words by adding ‘ly’.
(निम्नलिखित शब्दों को पढ़ो और ‘ly’ जोड़कर अधिक शब्द बनाओ)
Answer:
bad – badly
brave – bravely
bold – boldly
intelligent – intelligently
courageous – courageously
close – closely
extreme – extremely
beautiful – beautifully
quick – quickly
fearless – fearlessly
coward – cowardly

MP Board Solutions

Let’s Talk (आओ बात करें) :

(A) What do you know about the following freedom fighters :
1. Mohan Das Karamchand Gandhi
2. Sarojini Naidu
(निम्न दिए गए स्वतन्त्रता सेनानियों के बारे में आप क्या जानते हो?)
1. मोहन दस करमचंद गाँधी
2. सरोजिनी नायुडु
Discuss with your friend and write five sentences about anyone of them describing their qualities and contribution to the freedom struggle.
(अपने मित्रों से चर्चा करो और इनमें से किसी एक के गुण और स्वतन्त्रता संग्राम में इनके योगदान पर पाँच वाक्य लिखो)
Answer:
Mohandas Karamchand Gandhi

  1. Mahatma Gandhi or Mohandas Karamchand Gandhi or ‘Bapu’ was a great leader who fought for India’s independence against the British rule.
  2. He practised non-violence or ahimsa to get freedom and opposed violence.
  3. He always spoke truth and led a very simple life.
  4. He always wore Khadi which he spun himself using Charkha.
  5. He hated untouchability and worked for the upliftment of Harijans and unprivileged.

Sarojini Naidu

  1. Sarojini Naidu was the first Indian woman President of Indian National Congress, 1925.
  2. She also led the Salt Satyagrah Movement in 1930 with Gandhiji.
  3. She was also a great poetess and wrote in English.
  4. She was known as the ‘nightingale of India’.
  5. She became the first woman Governor of an Indian state (U.P.), in free India.

(B) Find answers to these questions :
(इन प्रश्नों के उत्तर खोजिए)

Question 1.
What is Gandhiji lovingly called by Indians ?
Answer:
Bapu.

Question 2.
What is Sarojini Naidu called ?
Answer:
Nightingale of India.

Question 3.
Why is Gandhijis freedom struggle different?
Answer:
Because he practiced non-violence.

MP Board Solutions

Let’s Write (आओ लिखें) :

Write a paragraph about the qualities of Maharani Laxmi Bai.
(महारानी लक्ष्मी बाई के गुणों पर एक अनुच्छेद लिखिए।)
Answer:
Maharani Laxmi Bai was the queen of Jhansi. She was brave, courageous and bold from her early childhood. She was skilled in horse riding, shooting, wrestling and all the martial arts and continued to practise them even after her marriage with Gangadhar Rao, the king of Jhansi.

When Britishers declared to merge Jhansi with British empire, after her husband’s death, she opposed it and bravely fought against them not thinking that she was a woman. She was a great patriot. She tied her son to her back and led her army against the British. She fought courageously till her last breath and did not let any Britisher touch her living or dead.

Let’s Do It (आओ इसे करें):

Question 1.
Collect pictures of the patriots of our country.
(हमारे देश के देशभक्तों के चित्रों का संग्रह करो)
Answer:
Students can collect the pictures of patriots such as Bhagat Singh, Mahat.ma Gandhi, Bal Gangadhar Tilak, Lal Bahadur Shastri etc.

Question 2.
If there is any historical place near your village/town, visit it along with your teacher and write a note about it.
(यदि आपके गाँव/कस्बे के निकट कोई ऐतिहासिक स्थान हो तो अपने शिक्षक के साथ वहाँ भ्रमण कीजिए और उस पर एक लेख लिखिए।)
Answer:
Students can visit any historical place nearby and write a note about it themselves.

MP Board Solutions

Pronunciation & Translation

Manu was born on 19th November 1835 in Kashi. Her father Moropant Tambe was a close friend of. Peshwa Bajirao’s. Manu was only four years old when her mother passed away. Later Moropant came to Bithoor near Kanpur and lived with Peshwa Bajirao.
(मनु वॉज बॉर्न ऑन नाइन्टीन्थ नवम्बर, एट्टीन थर्टी फाइव इन काशी. हर फादर मोरोपंत ताम्बे वॉज अ क्लोज फ्रेन्ड ऑफ पेशवा बाजीराव. मनु वॉज ऑनली फोर ईअर्स ओल्ड व्हेन हर मदर पास्ड अवे. लेटर मोरोपन्त केम टू बिठूर नीअर कानपुर एण्ड लिव्ड विद पेशवा बाजीराव.)
अनुवाद-मनु का जन्म 19 नवम्बर, 1835 में काशी में हुआ था। उनके पिता मोरोपन्त ताम्बे पेशवा बाजीराव के घनिष्ठ मित्र थे। जब मनु केवल चार वर्ष की थी उसकी माँ का देहान्त हो गया। बाद में मोरोपन्त कानपुर के निकट बिठूर आ गये और पेशवा बाजीराव के साथ रहने गले।

At Bithoor Manu lived and played with Nana Saheb Ghondupant (the adopted son of Bajirao Peshwa) and Tantya Toppe. Bajirao reared Manu like a son. She learnt horse riding, shooting, archery,wrestling and other martial arts. She was extremely skilled in those.
(ऐट बिठूर मनु लिव्ड एण्ड प्लेड विद नाना साहेब घोन्डुपन्त (द अडोप्टेड सन ऑफ बाजीराव पेशवा) एण्ड तात्या टोपे. बाजीराव रीअर्ड मनु लाइक अ सन. शी लर्नट् हॉर्स राइडिंग, शूटिंग, आर्चरी, रेसलिंग एण्ड अदर मार्शल आर्ट्स. शी वॉज एक्सट्रीमली स्किल्ड इन दोज.)
अनुवाद-बिठूर में मनु नाना साहेब घोन्डुपन्त (बाजीराव पेशवा के दत्तक पुत्र) और तात्या टोपे के साथ रही और खेली। बाजीराव ने मनु का पालन-पोषण एक पुत्र के समान किया उसने घुड़सवारी, तीरन्दाजी, तलवार चलाना, कुश्ती और अन्य मार्शल कलाएँ सीखीं। इन विधाओं में उसने पूर्ण दक्षता प्राप्त की थी।

Manu was very beautiful, sharp and very intelligent. Bajirao called her Chhabili because she was very naughty and active too. She was bi-ave. courageous and bold from her early childhood and was a fearless child.
(मनु वॉज वैरी व्यूटीफुल, शार्प एण्ड वैरी इन्टेलपीजेन्ट. बाजीराव कॉल्ड हर छबीली बिकॉज शी वॉज वैरी नॉट एण्ड एक्टिव ट्र. शी वॉज ब्रेव, करेजियस एण्ड बोल्ड फ्रॉम हर अर्ली चाइल्डहुड एण्ड वॉज अ फीयरलैंस चाइल्ड)
अनुवाद-मनु बहुत सुन्दर, तेज और बुद्धिमान थी। बाजीराव उसे छबीली पुकारते थे क्योंकि वह बड़ी चंचल और फुर्तीली भी थी। वह बचपन से ही बहादुर, साहसी और निडर थी और एक निर्भीक बालिका थी।

Manu was much interested in studying mythical stories and books. She was greatly inspired by the bravery of Arjun, Bhim, Shivaji, Maharana Pratap and other patriots. She read the Ramayan and the Bhagwat Gita with great interest.
(मनु वॉज मच इन्टरेस्टेड इन स्टडिंग मिथीकल स्टोरीज एण्ड बुक्स. शी वॉज ग्रेटली इन्सपार्यड बाइ द ब्रेवरी ऑफ अर्जुन. भीम, शिवाजी, महाराणा प्रताप एण्ड अदर पेट्रियट्स. शी रैड द रामायन एण्ड द भगवत गीता विद ग्रेट इन्टरेस्ट.)
अनुवाद-मनु की पौराणिक कथाओं व पुस्तकों के अध्ययन में विशेष रुचि थी। अर्जुन, भीम, शिवाजी, महाराणा प्रताप और अन्य देश-भक्तों की वीरता से वह अत्यधिक प्रेरित हुई। उसने अत्यधिक रुचि के साथ रामायण और भागवत गीता पढ़ी।

She often discussed serious political matters with her father Moropant. Once she told her father that the Britishers were expanding their empire in India. She also said that they should not be cowards and they should not tolerate the Britishers.
(शी ऑफन डिस्कस्ड सीरियस पोलिटीकल मैटर्स विद हर फादर मोरोपन्त. वन्स शी टोल्ड हर फादर दैट द ब्रिटिशर्स वर एक्सपेंडिंग देअर एम्पायर इन इंडिया. शी आल्सो सैड दैट दे शड नॉट बी कॉवर्ड्स एण्ड दे शुड नॉट टोलरेट द ब्रिटिशर्स.)
अनुवाद-वह अक्सर अपने पिता मोरोपन्त से गम्भीर राजनीतिक मामलों पर चर्चा करती थी। एक बार उसने अपने पिता से कहा कि अंग्रेज भारत में अपने साम्राज्य की वृद्धि कर रहे हैं। उसने यह भी कहा कि हमें कायर नहीं होना चाहिए एवं हमें ब्रिटिश शासन को सहन नहीं करना चाहिए।

When she grew up she was married to Gangadhar Rao, the king of Jhansi. Thus she bacame the queen of Jhansi and was called Maharani Laxmi Bai. It was the time when women wore veils but she continued practicing horse riding, shooting, wrestling and all the martial arts within the fort.
(व्हेन शी ग्रिऊ अप शी वॉज मेरिड टू गंगाधर राव, द किंग ऑफ झाँसी. दस शी बिकेम द क्वीन ऑफ झाँसी एण्ड वॉज़ कॉल्ड महारानी लक्ष्मी बाई. इट वॉज द टाइम व्हेन वुमैन वोर वेल्स बट शी कन्टीन्यूड प्रेक्टिसिंग हॉर्स राइडिंग, शूटिंग, रेसलिंग एण्ड मॉल द मार्शल आर्ट्स विदिन द फोर्ट.)
अनुवाद-जब वह बड़ी हुई, उसका विवाह झाँसी के राजा. गंगाधर राव से हुआ। इस प्रकार वह झाँसी की रानी बन गई और महारानी लक्ष्मी बाई कहलाई। यह वह समय था जब स्त्रियाँ पर्दा करती थीं परन्तु उसने घुड़सवारी, तीरन्दाजी, कुश्ती और अन्य मार्शल कलाओं का किले के भीतर अभ्यास करना जारी रखा।

The queen gave birth to a son who died after three months. Both the king and the queen were deeply distressed. Laier they adopted a son who was called Damodar Rao. But fortune was still not in favour of the queen. Soon after this, her husband Gangadhar Rao expired. This was a great shock to Laxmi Bai.
(द क्वीन गेव बर्थ टू अ सन हू डाइड आफ्टर थ्री मन्थ्स. बोथ द किंग एण्ड द क्वीन वर डीपली डिस्ट्रेस्ड. लेटर दे एडॉप्टेड अ सन हू वॉज कॉल्ड दामोदर राव. बट फोर्चन वॉज स्टिल नॉट इन फेवर ऑफ द क्वीन.सून आफ्टर दिस, हर हस्बेंड गंगाधर राव एक्सपायर्ड. दिस वॉज अ ग्रेट शॉक ट्र लक्ष्मी बाई.)
अनुवाद-रानी ने एक पुत्र को जन्म दिया जिसकी मृत्यु तीन माह बाद ही हो गई। राजा और रानी बड़े निराश हुए। बाद में उन्होंने एक दत्तक पुत्र को गोद लिया जो दामोदर राव कहलाया। लेकिन अभी भी भाग्य रानी के पक्ष में नहीं था। जल्दी ही इसके बाद, उसके पति गंगाधर राव की मृत्यु हो गई। यह लक्ष्मी बाई के लिए एक बड़ा आघात था।

The Britishers did not accept the adopted son of Laxmi Bai as the heir of Gangadhar Rao. They declared that Jhansi should be merged with the British empire. Laxmi Bai opposed the Britishers and said, “I will not give my Jhansi.”
(द ब्रिटिशर्स डिड नॉट ऐसेप्ट द एडॉप्टेड सन ऑफ लक्ष्मी बाई ऐज द ऍअर ऑफ गंगाधर राव. दे डिक्लेयर्ड दैट झाँसी शुड बी मडि विद द ब्रिटिश एम्पायर. लक्ष्मी बाई अपोज्ड द ब्रिटिशर्स एण्ड सैड, “आइ विल नॉट गिव माइ झाँसी.”)
अनुवाद-अंग्रेजों ने लक्ष्मी बाई के दत्तक पुत्र को गंगाधर राव का उत्तराधिकारी मानने से मना कर दिया। उन्होंने घोषणा की कि झाँसी को ब्रिटिश साम्राज्य में विलय कर लिया जाएगा लक्ष्मी बाई ने अंग्रेजों का विरोध किया और कहा, “मैं अपनी झाँसी नहीं दूंगी।

The First war of Independence was fought in 1857. As the British army advanced towards Jhansi, Rani Laxmi Bai organized her army. She dressed up like a soldier, tied Damodar, her son, to her back and led her army against the Britishers. Nana Saheb, Tantya Toppe and others helped her.
(द फर्स्ट वॉर ऑफ इन्डिपेंडेंस वाज फॉट इन 1857. ऐज द ब्रिटिश आर्मी एडवान्स्ड टूवर्ड्स झाँसी, रानी लक्ष्मी बाई ऑर्गनाइज्ड हर आर्मी. शी ड्रेस्ड अप लाइक अ सोल्जर, टाइड दामोदर. हर सन, टू हर बैक एण्ड-लेड हर आर्मी अगेन्स्ट द ब्रिटिशर्स. नाना साहेब, तात्या टोपे एण्ड अदर्स हैल्पड हर.)
अनवाद-1857 में पहला स्वाधीनता संग्राम लड़ा गया। जैसे ही ब्रिटिश सेना झाँसी की ओर बढ़ी, रानी लक्ष्मीबाई ने अपनी सेना को संगठित किया। उसने एक सैनिक का वेश धारण किया, अपनी पीठ पर अपने पुत्र दामोदर को बाँध लिया, और अंग्रेजों के विरुद्ध अपनी सेना का नेतृत्व किया। नाना साहेब, तात्या टोपे और अन्य ने उसकी सहायता की।

She fought courageously till her last breath. She was badly wounded and when she was dying, she said, “Let no Britishers touch my body.” She breathed her last near Gwalior Fort. Her companions performed her last rites.
(शी फॉट करेजिअसली टिल हर लास्ट ब्रेद. शी वॉज बेडली वून्डिड एण्ड व्हेन शी वॉज डाइंग, शी सैड, “लैट नो ब्रिटिशर्स टचं माइ बॉडी.” शी ब्रेड हर लास्ट नियर ग्वालियर फोर्ट. हर कम्पेनियन्स परफॉर्मेड हर लास्ट राइट्स.)

No Britisher could touch her living or dead.
(नो ब्रिटिशर कुड टच हर लिविंग ऑर डेड.)
अनुवाद-वह अपनी अंतिम श्वांस तक बहादुरी से लड़ी। वह बुरी तरह से घायल हो गई थी और जब वह मर रही थी उसने कहा, “कोई भी अंग्रेज मेरे शरीर को न छुए।” उसने ग्वालियर किले के निकट अपनी अंतिम श्वांस ली। उसके साथियों ने उसका अंतिम क्रिया कर्म किया।

कोई भी अंग्रेज उसको जीवित या मृत छू नहीं पाया।

MP Board Solutions

Laxmi Bai, The Queen of Jhansi Word Meanings

Accept(एक्सैप्ट)-स्वीकार करना;Active(एक्टिव) सक्रिय; Adopted son (एडॉप्टेड सन)-दत्तक पुत्र; Advanced (एडवांस्ड्)-बढ़ी; Birth (बर्थ)-जन्म; Bold (बोल्ड)-निर्भीक; Brave (ब्रेव)-वीर, बहादुर; Bravely (ब्रेवली)-वीरतापूर्वक; Breathed her last (ब्रीदड् हर लास्ट)-अंतिम साँस ली; Companion (कम्पैनियन)-साथी; Courageous (करेजियस)-साहसी; Courageously (करेजियसली)-साहसपूर्वक; Close (क्लोज)- घनिष्ठ; Coward (कावर्ड)-कायर; Distressed (डिस्ट्रेस्ड)व्यथित; Empire (एम्पायर)-साम्राज्य; Political (पॉलिटिकल)-राजनीतिक; Event (ईवेन्ट)-घटना; Expand(एक्सपैन्ड)-विस्तार करना;Expire(एक्सपायर)निधन होना; Extremely (एक्सट्रीमली)-अत्यधिक; Fearless (फीयरलैस) निडर; Fort (फोर्ट)-किला; Horse riding (हॉर्स राइडिंग)-घुड़सवारी; In favour of (इन फेवर ऑफ)-पक्ष में; Inside (इन्साइड)-अंदर;Inspired (इन्स्पायर्ड-प्रेरित; Last rites (लास्ट राइट्स) अंतिम संस्कार; Later (लेटर)-बाद; Merger (मर्जर)विलय; Mythical (मिथिकल)-पौराणिक; Naughty (नॉटी)- नटखट; Pass away (पास अवे)-निधन हो जाना; Patriot (पेट्रिअट्)-देशभक्त; Perform (परफॉर्म)पूरा करना; Rear (रीअर)-पालन. पोषण करना; Grew up (ग्रिऊ अप)-बड़ी हुई; Skilled (स्किल्ड)-कुशल; Swordsmanship (स्वॉर्डस्मैनशिप)-तलवारबाजी; Tolerate (टॉटेट)-सहन करना; Touch (टच)-छूना; Declared (डिक्लेअर्ड)-घोषणा की;Towards (टूवर्ड्स)तरफ, ओर; Shock (शॉक)-आघात; Trouble (ट्रब्ल्)मुसीबत; Organised (आर्गनाइज्ड)-संगठित की; Veil (वेल)-पर्दा; War (वॉर)-युद्ध; Wounded (वून्डिड)घायल; Oppose (अपोज)-विरोध करना; Wrestling (रैसलिंग)-कुश्ती।

MP Board Class 7th English Solutions

Leave a Comment