MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Additional Questions

In this article, we will share MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Additional Questions Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Additional Questions

MP Board Class 9th Maths Chapter 4 अतिरिक्त परीक्षोपयोगी प्रश्न

MP Board Class 9th Maths Chapter 4 दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
दर्शाइए कि बिन्दु A(1, 2), B(-1,-16) और C(0, – 7) रैखिक समीकरण y = 9x – 7 के आलेख पर स्थित है। (2019)
हल:
बिन्दु A(1, 2) के निर्देशांकों का मान समीकरण में रखने पर,
∴ 9x – 7 = 9 x 1 – 7 = 9 – 7 = 2 = y.
⇒ दायाँ पक्ष = बायाँ पक्ष
बिन्दु B(-1, – 16) के निर्देशांकों का मान समीकरण में रखने पर,
∴ 9x – 7 = 9x (-1) – 7 = – 9 – 7 = – 16 = y
⇒ दायाँ पक्ष = बायाँ पक्ष
बिन्दु C(0, – 7) के निर्देशांकों का मान समीकरण में रखने पर,
∴ 9x – 7 = 9 (0) – 7 = 0 – 7 = – 7 =y
⇒ दायाँ पक्ष = बायाँ पक्ष अतः दिए हुए बिन्दु A, B एवं C समीकरण y = 9x – 7 के आलेख पर स्थित हैं।

प्रश्न 2.
रैखिक समीकरण 3x + 4y = 6 का आलेख खींचिए। यह आलेख X-अक्ष और Y-अक्ष को किन बिन्दुओं पर काटता हैं? (2019)
हल:
समीकरण 3x + 4y = 6 (दिया है)
MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Ex 4.4 4
MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Ex 4.4 4a
अतः संलग्न चित्र 4.18 अभीष्ट आलेख है तथा यह आलेख -अक्ष को बिन्दु (2, 0) पर एवं Y-अक्ष को बिन्दु (0, 1\(\frac { 1 }{ 2 }\)) पर काटता है।
MP Board Solutions

प्रश्न 3.
वह रैखिक समीकरण जो फॉरेनहाइट (F) को सेल्सियस (C) में बदलती है, सम्बन्ध c = \(\frac { 5F – 160 }{ 9 }\) से दी जाती है।
(i) यदि तापमान 86°F है, तो सेल्सियस में तापमान क्या है ?
(ii) यदि तापमान 35°C है, तो फॉरेनहाइट में तापमान क्या है ?
(iii) यदि तापमान 0°C है तो फॉरेनहाइट में तापमान क्या है तथा यदि तापमान 0°F है, तो सेल्सियस में तापमान क्या है ?
(iv) तापमान का वह कौन-सा संख्यात्मक मान है जो दोनों पैमानों (मात्रको) में एक ही है ?
हल:
MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Ex 4.4 5

MP Board Class 9th Maths Chapter 4 लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
उस सरल रेखा से निरूपित समीकरण का आलेख खींचिए जो X-अक्ष के समानान्तर है और उसके नीचे 3 मात्रक की दूरी पर है।
उत्तर:
अभीष्ट चित्र संलग्न है।
MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Ex 4.4 6

प्रश्न 2.
उस रैखिक समीकरण का आलेख खींचिए जिसके हल उन बिन्दुओं से निरूपित हैं जिनके निर्देशांकों का योग 10 इकाई है।
हल:
प्रश्नानुसार, अभीष्ट समीकरण होगा : x + y = 10
यदि x = 0 तो 0 + y = 10 ⇒ y = 10
यदि x = 5 तो 5 + y = 10 ⇒ y = 10 – 5 = 5
यदि x = 10 तो 10 + y = 10 ⇒ y = 10 – 10 = 0
MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Ex 4.4 7
अतः उपर्युक्त चित्र अभीष्ट आलेख है।

प्रश्न 3.
समीकरण y = 2x + 1 का आलेख खींचिए। (2019)
हल:
निर्देशः उपर्युक्त प्रश्न के समीकरण की तरह हल कीजिए।

प्रश्न 4.
रैखिक समीकरण x + 2y = 8 का वह हल ज्ञात कीजिए जो निम्नलिखित पर एक बिन्दु निरूपित करता है:
(i) X-अक्ष
(ii) Y-अक्ष।
हल:
(i) चूँकि X-अक्ष पर बिन्दु की कोटि y = 0. इसलिए x + 2 x 0 = 8 ⇒ x + 0 = 8
⇒ x = 8
अतः समीकरण का अभीष्ट हल : x = 8, y = 0.

(ii) चूँकि Y-अक्ष पर बिन्दु की भुंज x = 0. इसलिए
0 + 2y = 8 ⇒ 2y = 8 ⇒ y = 8/2 = 4
अतः समीकरण का अभीष्ट हल : x = 0, y = 4.

प्रश्न 5.
मान लीजिए.y, x के अनुक्रमानुपाती है। यदि x = 4 होने पर y = 12 हो, तो एक रैखिक समीकरण लिखिए। जब x = 6, तोy का क्या मान है ?
हल:
चूँकि y α x
⇒ y = Cx
जब x = 4 होने पर y = 12 हो, तो
12 = C x 4
⇒ C = 12/4 = 3 C का मान समीकरण y = Cx में रखने पर,
y = 3x अतः अभीष्ट समीकरण : y = 3x.
अब x = 6 का मान समीकरण y = 3x में रखने पर,
y = 3 x 6 = 18
अतः एका अभीष्ट मान = 18.
MP Board Solutions

MP Board Class 9th Maths Chapter 4 अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
निम्नलिखित कथन सत्य हैं या असत्य लिखिए। अपने उत्तरों का औचित्य दीजिए।
(i) बिन्दु (0, 3) रैखिक समीकरण 3x + 4y = 12 के आलेख पर स्थित है।
(ii) रैखिक समीकरण x + 2y = 7 के आलेख बिन्दु (0, 7) से होकर जाता है।
(iii) सारणी :
MP Board Class 9th Maths Solutions Chapter 4 दो चरों वाले रैखिक समीकरण Ex 4.4 8
से प्राप्त बिन्दुओं के निर्देशांक समीकरण x – y + 2 = 0 के कुछ हलों को निरूपित करते हैं।
(iv)दो चरों वाली रैखिक समीकरण के आलेख का प्रत्येक बिन्दु उस समीकरण का एक हल निरूपित नहीं करता है।
(v) दो चरों वाली रैखिक समीकरण के आलेख का एक सरल रेखा में होना आवश्यक नहीं है।
उत्तर:
(i) कथन सत्य है, क्योंकि बिन्दु के निर्देशांक समीकरण को सन्तुष्ट करते हैं।
(ii) कथन असत्य है, क्योंकि बिन्दु के निर्देशांक समीकरण को सन्तुष्ट नहीं करते हैं।
(iii) कथन सत्य है, क्योंकि बिन्दु (3, -5) के निर्देशांक समीकरण को सन्तुष्ट नहीं करते हैं।
(iv) कथन असत्य है, क्योंकि दो चरों वाली रैखिक समीकरण का प्रत्येक बिन्दु उस समीकरण का एक हल निरूपित करता है।
(v) कथन असत्य है, क्योंकि दो चरों वाली रैखिक समीकरण का आलेख सदैव एक सरल रेखा होती है।

प्रश्न 2.
वह रैखिक समीकरण लिखिए जिसकी कोटि उसके भुज से तीन गुनी है। (2019)
उत्तर:
y = 3x.

MP Board Class 9th Maths Chapter 4 वस्तुनिष्ठ प्रश्न

बहु-विकल्पीय प्रश्न

प्रश्न 1.
रैखिक समीकरण 2x – 5y = 7 :
(a) का एक अद्वितीय हल है
(b) के दो हल हैं
(c) के अपरिमित रूप से अनेक हल हैं
(d) का कोई हल नहीं है।
उत्तर:
(c) के अपरिमित रूप से अनेक हल हैं

प्रश्न 2.
यदि (2,0) रैखिक समीकरण 2x + 3y = k का हल है, तो k का मान है :
(a) 4
(b) 6
(c) 5
(d) 2.
उत्तर:
(a) 4

प्रश्न 3.
रैखिक समीकरण 2x + 3y = 6 का आलेख -अक्ष को निम्नलिखित में से किस बिन्दु पर काटता
(a) (2, 0)
(b) (0, 3)
(c) (3, 0)
(d) (0, 2).
उत्तर:
(d) (0, 2).

प्रश्न 4.
X-अक्ष पर स्थित किसी बिन्दु का रूप होता है :
(a) (x, y)
(b) (0, y)
(c) (x, 0)
d) (x, 4).
उत्तर:
(c) (x, 0)
MP Board Solutions

प्रश्न 5.
रेखा y = x पर स्थित किसी बिन्दु का रूप होता है :
(a) (a, a)
(b) (0, a)
(c) (a, 0)
(d) (a, – a).
उत्तर:
(a) (a, a)

प्रश्न 6.
X-अक्ष की समीकरण का रूप है :
(a) x = 0
(b) y = 0
(c) x + y = 0
(d) x = y
उत्तर:
(b) y = 0

प्रश्न 7.
दो चरों वाला रैखिक समीकरण है : (2019)
(a) ax2 + bx + c = 0
(b) ax + b = 0
(c) ax3 + bx2 + c = 0
(d) ax + by + c = 0.
उत्तर:
(d) ax + by + c = 0.

प्रश्न 8.
x = 5, y = 2 निम्नलिखित रैखिक समीकरण का हल है:
(a) x + 2y = 7
(b) 5x + 2y = 7
(c) x + y = 7
(d) 5x + y = 7.
उत्तर:
(c) x + y = 7

प्रश्न 9.
रैखिक समीकरण 2x + 3y = 6 का आलेख एक रेखा है जो X-अक्ष को निम्नलिखित बिन्दु पर मिलती है:
(a) (0, 2)
(b) (2, 0)
(c) (3, 0)
(d) (0, 3).
उत्तर:
(c) (3, 0)
MP Board Solutions

प्रश्न 10.
(a, a) रूप का बिन्दु सदैव स्थित होता है :
(a) X-अक्ष पर
(b) Y-अक्ष पर
(c) रेखा y = x पर
(d) रेखा x + y = 0 पर।
उत्तर:
(c) रेखा y = x पर

प्रश्न 11.
(a,-a) रूप का बिन्दु सदैव रेखा पर स्थित होता है :
(a) x = a
(b) y = -a.
(c)y = x
(d) x + y = 0.
उत्तर:
(d) x + y = 0.

प्रश्न 12.
दो संख्याओं का योग 25 व अन्तर 5 है, तो वे संख्याएँ होंगी : (2018)
(a) 15, 10
(b) 20, 5
(c) 13, 12
(d) 30, 5
उत्तर:
(a) 15, 10

रिक्त स्थानों की पूर्ति
1. एक ऐसा समीकरण जिसका आलेख एक सरल रेखा होता है, …… समीकरण कहलाता है।
2. रैखिक समीकरण ax + by + c = 0 का आलेख एक ……..रेखा है।
3. x और y का मान युग्म (x, y) जो दिए हुए समीकरण ax + by + c = 0 को सन्तुष्ट करता है, उक्त समीकरण का ………. कहलाता है।
4. जब किसी समीकरण निकाय का कोई भी हल नहीं होता, तब निकाय ……….. निकाय कहलाता है।
5. जब किसी समीकरण निकाय का कोई हल होता है, तब निकाय …………. निकाय कहलाता है।
6. दो चरों वाले एक घात समीकरण का ग्राफ ………… को प्रदर्शित करता है। (2018)
7. यदि एक समीकरण x + 2y = 5 में x = 1 है, तब y का मान ……….. है। (2019)
उत्तर:
1. रैखिक,
2. सरल,
3. हल,
4. असंगत,
5. संगत,
6. सरल रेखा,
7. 2 (दो)।

जोड़ी मिलान
स्तम्भ ‘A’                                      स्तम्भ ‘B’
1. रेखाएँ सम्पाती हों                  (a) y का मान शून्य
2. रेखाएँ प्रतिच्छेदी हों               (b) x का मान शून्य
3. रेखाएँ समानान्तर हों             (c) अनन्ततः अनेक हल
4. रेखा X-अक्ष को काटे            (d) अद्वितीय हल
5. रेखा Y-अक्ष को काटे             (e) कोई हल नहीं
उत्तर:
1. → (c),
2. → (d),
3. → e),
4. → (a),
5. → (b)
MP Board Solutions

सत्य/असत्य कथन
1. समीकरण x + 2y = 5 में यदि x = 1 तो y = 2 होगा।
2. रैखिक समीकरण का आलेख एक वृत्त होता है।
3. दो चरों वाले एकघातीय समीकरण रैखिक समीकरण कहलाते हैं।
4. X-अक्ष का समीकरण x = 0 होता है। (2019)
5. Y-अक्ष, के समानान्तर रेखा का समीकरण x = + a होता है।
6. समीकरण x +2y = 3 का एक हल (1, 1) है। (2019)
7. बिन्दु (0, 5) समीकरण y = 5x + 5 का हल है। (2019)
8. मूल-बिन्दु से गुजरने वाली रेखा का आलेख y = kx रूप द्वारा प्रदर्शित होता है। (2019)
9. रैखिक समीकरण 2x -3y = 0 में चर 2 एवं – 3 है। (2019)
उत्तर:
1. सत्य,
2. असत्य,
3. सत्य,
4. असत्य,
5. सत्य,
6. सत्य,
7. सत्य,
8. सत्य,
9. असत्य।

एक शब्द/वाक्य में उत्तर

1. जब किसी समीकरण निकाय के अनन्ततः अनेक हल हों तो उसका आलेख कैसा होगा?
2. जब किसी समीकरण निकाय का अद्वितीय हल हो, तो उसका आलेख कैसा होगा?
3. जब किसी समीकरण निकाय का कोई हल न हो, तो उसका आलेख कैसा होगा?
4. यदि \(\frac { { a }_{ 1 } }{ { a }_{ 2 } } \neq \frac { { b }_{ 1 } }{ { b }_{ 2 } }\), तो निकाय का हल क्या होगा?
5. यदि \(\frac { { a }_{ 1 } }{ { a }_{ 2 } } =\frac { { b }_{ 1 } }{ { b }_{ 2 } }\neq \frac { { c }_{ 1 } }{ { c }_{ 2 } }\) तो निकाय का हल क्या होगा?
6. यदि \(\frac { { a }_{ 1 } }{ { a }_{ 2 } } =\frac { { b }_{ 1 } }{ { b }_{ 2 } }= \frac { { c }_{ 1 } }{ { c }_{ 2 } }\), तो निकाय का हल क्या होगा?
7. रैखिक समीकरण में चर राशि की उच्चतम घात होती है। (2018)
8. दो.चरों वाला एक रैखिक समीकरण लिखिए। (2019)
9. यदि x = 2, y = 1 समीकरण 2x + 3y =k का हल है, तब k का मान क्या होगा? (2019)
उत्तर:
1. सम्पाती रेखाएँ,
2. प्रतिच्छेदी रेखाएँ,
3. समानान्तर रेखाएँ,
4. अद्वितीय हल,
5. कोई हल नहीं,
6. अनन्ततः अनेक हल,
7. एक,
8. ax + by + c = 0,
9. 7 (सात)।

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई

In this article, we will share MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई

MP Board Class 9th Science Chapter 5 पाठ के अन्तर्गत के प्रश्नोत्तर

प्रश्न श्रृंखला-1 # पृष्ठ संख्या 66

प्रश्न 1.
कोशिका की खोज किसने की और इसे किस उपकरण से देखा और कैसे? (2018, 19)
उत्तर:
कोशिका की खोज रॉबर्ट हुक ने की थी। उसने अपने स्वनिर्मित सूक्ष्मदर्शी की सहायता से कॉर्क की पतली काट का अवलोकन करते समय मधुमक्खी के छत्ते के समान संरचना वाले छोटे-छोटे प्रकोष्ठकों को देखा जिन्हें उसने कोशिका कहा।

प्रश्न 2.
कोशिका को जीवन की संरचनात्मक एवं क्रियात्मक इकाई क्यों कहते हैं?
उत्तर:
प्रत्येक जीव की संरचना कोशिकाओं से होती है तथा प्रत्येक कोशिका में उपस्थित विभिन्न कोशिकांग विभिन्न प्रकार के कार्यों को प्रतिपादित करते हैं, इसलिए कोशिका को जीवन की संरचनात्मक एवं क्रियात्मक इकाई कहते हैं।

प्रश्न श्रृंखला-2 # पृष्ठ संख्या 68

प्रश्न 1.
CO2 तथा पानी जैसे पदार्थ कोशिका से कैसे अन्दर तथा बाहर जाते हैं ? इस पर चर्चा करें।
उत्तर:
CO2 तथा पानी जैसे पदार्थ कोशिका के अन्दर तथा बाहर विशिष्ट विसरण के द्वारा जाते हैं जिसे परासरण कहते हैं। इसके लिए प्लाज्मा झिल्ली महत्वपूर्ण योगदान करती है।

प्रश्न 2.
प्लाज्मा झिल्ली को वर्णात्मक पारगम्य झिल्ली क्यों कहते हैं?
उत्तर:
प्लाज्मा झिल्ली कुछ ही पदार्थों को कोशिका के अन्दर या बाहर आने-जाने देती है। इसलिए इसे वर्णात्मक पारगम्य झिल्ली कहते हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न श्रृंखला-3 # पृष्ठ संख्या 70

प्रश्न 1.
क्या अब आप निम्नलिखित तालिका में दिए गए रिक्त स्थानों को भर सकते हैं जिससे कि प्रोकैरियोटी तथा यूकैरियोटी कोशिकाओं में अन्तर स्पष्ट हो सके ?
उत्तर:
प्रोकैरियोटी तथा यूकैरियोटी कोशिकाओं में अन्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 1

प्रश्न श्रृंखला-4# पृष्ठ संख्या 73

प्रश्न 1.
दो ऐसे अंगकों के नाम बताइए जिनमें अपना आनुवंशिक पदार्थ होता है। (2018)
उत्तर:

  1. माइटोकॉण्ड्रिया
  2. प्लास्टिड।

प्रश्न 2.
यदि किसी कोशिका का संगठन किसी भौतिक अथवा रासायनिक प्रभाव के कारण नष्ट हो जाता है तो क्या होगा?
उत्तर:
किसी कोशिका का संगठन नष्ट होने से उसके द्वारा सम्पादित सभी कार्य रुक जायेंगे।

प्रश्न 3.
लाइसोसोम को आत्मघाती थैली (स्वघाती थैली या सुसाइड बैग) क्यों कहा जाता है? (2019)
उत्तर:
कोशिकीय चयापचय में व्यवधान के कारण जब कोशिका क्षतिग्रस्त या मृत हो जाती है तो लाइसोसोम फट जाते हैं और उसके पाचक एन्जाइम अपनी ही कोशिकाओं का पाचन कर देते हैं। इसलिए लाइसोसोम को आत्मघाती थैली अथवा स्वघाती थैली (सुसाइड बैग) कहा जाता है।

प्रश्न 4.
कोशिका के अन्दर प्रोटीन का संश्लेषण कहाँ होता है?
उत्तर:
राइबोसोम्स पर।

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Chapter 5 पाठान्त अभ्यास के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
पादप कोशिकाओं और जन्तु कोशिकाओं में अन्तर लिखिए। (कोई तीन) (2018, 19)
उत्तर:
पादप कोशिकाओं और जन्तु कोशिकाओं में अन्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 2

प्रश्न 2.
प्रोकैरियोटी कोशिकाएँ यूकैरियोटी कोशिकाओं से किस प्रकार भिन्न होती हैं? (2018)
उत्तर:
प्रोकैरियोटिक तथा यूकैरियोटिक कोशिकाओं में अन्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 3

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
यदि प्लाज्मा झिल्ली फट जाये अथवा टूट जाए तो क्या होगा?
उत्तर:
प्लाज्मा झिल्ली कोशिका के घटकों को बाहरी पर्यावरण से अलग रखती है तथा यह परासरण की क्रिया में वर्णात्मक पारगम्य झिल्ली का काम करती है। इसलिए इस झिल्ली के फट जाने या टूट जाने पर परासरण की क्रिया रुक जायेगी तथा कोशिका के घटक बाहरी पर्यावरण के सम्पर्क में आ जाएँगे तथा कोशिका मर जायेगी।

प्रश्न 4.
यदि गॉल्जी उपकरण न हो तो कोशिका के जीवन में क्या होगा?
उत्तर:
गॉल्जी उपकरण के न होने से सभी प्रकार की पुटिकाओं का बनना बन्द हो जायेगा तथा पदार्थों का संचयन, रूपान्तरण तथा कोशिका के अन्दर तथा बाहर विभिन्न क्षेत्रों में प्रेषण नहीं होगा, साथ ही सामान्य शक्कर से जटिल शक्कर नहीं बनेगी।

प्रश्न 5.
कोशिका का कौन-सा अंगक बिजलीघर है? और क्यों? (2019)
उत्तर:
कोशिका का बिजलीघर माइटोकॉण्ड्रिया है क्योंकि यह प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया द्वारा ATP के रूप में ऊर्जा का उत्पादन करता है।

प्रश्न 6.
कोशिका झिल्ली को बनाने वाले लिपिड तथा प्रोटीन का संश्लेषण कहाँ होता है?
उत्तर:
अन्तर्द्रव्यी जालिका में।

प्रश्न 7.
अमीबा अपना भोजन कैसे प्राप्त करता है?
उत्तर:
अमीबा अपना भोजन एण्डोसाइटोसिस प्रक्रिया द्वारा प्राप्त करता है।

प्रश्न 8.
परासरण क्या है?
उत्तर:
परासरण-“एक विशिष्ट प्रकार का विसरण जिसमें वर्णात्मक झिल्ली के द्वारा गति होती है अर्थात् वह प्रक्रिया जिसमें जल के अणु वर्णात्मक पारगम्य झिल्ली द्वारा उच्च जल सान्द्रता से निम्न जल सान्द्रता की ओर गति करते हैं, परासरण कहलाती है।

प्रश्न 9.
निम्नलिखित परासरण प्रयोग करेंछिले हुए आधे-आधे आलू के चार टुकड़े लो, इन चारों को खोखला करें जिससे कि आलू के कप बन जाएँ। इनमें से एक कप को उबले आलू में बनाना है। आलू के प्रत्येक कप को जल वाले बर्तन में रखो। अब –

(a) कप ‘A’ को खाली रखो
(b) कप ‘B’ में एक चम्मच चीनी डालो
(c) कप ‘C’ में एक चम्मच नमक डालो
(d) उबले आलू से बनाए गए कप ‘D’ में एक चम्मच चीनी डालो।

आलू के इन चारों कपों को दो घण्टे तक रखने के पश्चात् उनका अवलोकन करो तथा निम्न प्रश्नों के उत्तर दो –

(i) ‘B’ तथा ‘C’ के खाली भाग में जल क्यों एकत्रित हो गया? इसका वर्णन करो।
(ii) ‘A’ आलू इस प्रयोग के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?
(iii) ‘A’ तथा ‘D’ आलू के खाली भाग में जल एकत्रित क्यों नहीं हुआ? इसका वर्णन करो।
उत्तर:
1. कप ‘B’ तथा ‘C’ की दीवारें कच्चे आलू की हैं जो वर्णात्मक पारगम्य झिल्ली की तरह व्यवहार करती हैं। जल की सान्द्रता कप के बाहर अधिक है इसलिए परासरण द्वारा बाहर से जल ने अन्दर प्रवेश किया। इसलिए इनके खाली भाग में जल एकत्रित हुआ।

2. आलू ‘A’ में अन्दर कोई पदार्थ या विलयन नहीं। यह इसलिए महत्वपूर्ण है कि यह देखना है कि परासरण की क्रिया होगी या नहीं।

3. कप ‘A’ में दूसरा विलयन नहीं है तथा कप ‘D’ की दीवार उबले आलू से बनी होने के कारण वर्णात्मक पारगम्य झिल्ली की तरह व्यवहार नहीं करेगी इसलिए इसके खाली स्थान में जल एकत्रित नहीं हुआ।

MP Board Solutions

प्रश्न 10.
कायिक वृद्धि एवं मरम्मत हेतु किस प्रकार के कोशिका विभाजन की आवश्यकता होती है तथा इसका औचित्य बताइए?
उत्तर:
कायिक वृद्धि एवं मरम्मत हेतु “समसूत्री कोशिका विभाजन” की आवश्यकता होती हैं क्योंकि इस विभाजन में मातृ कोशिका विभाजित होकर दो समरूप संतति कोशिकाओं का निर्माण करती हैं जिनमें गुणसूत्रों की संख्या मातृ कोशिकाओं की संख्या के बराबर होती है। फलस्वरूप जीवों में वृद्धि एवं ऊतकों की मरम्मत में सहायता मिलती है।

प्रश्न 11.
युग्मकों के बनने के लिए किस प्रकार का कोशिका विभाजन होता है ? इस विभाजन का महत्व बताइए।
उत्तर:
युग्मकों के बनने के लिए अर्द्धसूत्री कोशिका विभाजन होता है। अर्द्धसूत्री कोशिका विभाजन का महत्व-इस विभाजन में दो के स्थान पर चार कोशिकाएँ बनती हैं। इन नई कोशिकाओं में गुणसूत्रों की संख्या मातृ कोशिकाओं से आधी रह जाती है। जनन के फलस्वरूप पुत्री कोशिकाएँ बनती हैं जिनमें गुणसूत्रों की संख्याएँ मातृ कोशिकाओं के समान हो जाती हैं। इससे संतति का निर्माण होता है तथा वंश वृद्धि होती है।

MP Board Class 9th Science Chapter 5 परीक्षोपयोगी अतिरिक्त प्रश्नोत्तर

MP Board Class 9th Science Chapter 5 वस्तुनिष्ठ प्रश्न

बहु-विकल्पीय

प्रश्न 1.
निम्नलिखित में किसे क्रिस्टल रूप में बनाया जा सकता है?
(a) जीवाणु
(b) अमीबा
(c) विषाणु
(d) शुक्राणु
उत्तर:
(c) विषाणु

प्रश्न 2.
कोशिका फूल जायेगी यदि –
(a) कोशिका के भीतर जल के अणुओं की सान्द्रता उसके बाहर चारों ओर उपस्थित जल के अणुओं की सान्द्रता से अधिक होगी
(b) कोशिका के बाहर चारों ओर उपस्थित जल के अणुओं की सान्द्रता कोशिका के भीतर जल के अणुओं की सान्द्रता से अधिक हो
(c) कोशिका के भीतर तथा उसके बाहर के जल के अणुओं की सान्द्रता समान हो
(d) जल के अणुओं की सान्द्रता महत्व नहीं रखती।
उत्तर:
(b) कोशिका के बाहर चारों ओर उपस्थित जल के अणुओं की सान्द्रता कोशिका के भीतर जल के अणुओं की सान्द्रता से अधिक हो

प्रश्न 3.
गुणसूत्र बने होते हैं –
(a) डी. एन. ए. से
(b) प्रोटीन से
(c) डी. एन. ए. एवं प्रोटीन से
(d) आर. एन. ए. से
उत्तर:
(c) डी. एन. ए. एवं प्रोटीन से

प्रश्न 4.
इनमें से कौन-सा कार्य राइबोसोम का नहीं है?
(i) यह प्रोटीन अणुओं के निर्माण में सहायता करता है।
(ii) यह एन्जाइमों के निर्माण में सहायता करता है।
(iii) यह हॉर्मोनों के निर्माण में सहायता करता है।
(iv) यह मंड (स्टार्च) अणुओं के निर्माण में सहायता करता है।

(a) (i) और (ii)
(b) (ii) और (iii)
(c) (iii) और (iv)
(d) (i) और (iv)
उत्तर:
(c) (iii) और (iv)

प्रश्न 5.
इनमें से किसका सम्बन्ध अर्न्तद्रव्यी जालिका से नहीं है?
(a) यह केन्द्रक एवं कोशिकाद्रव्य के बीच प्रोटीन के लिए अभिगमन चैनल की तरह कार्य करती है।
(b) यह कोशिकाद्रव्य के विभिन्न क्षेत्रों के बीच पदार्थों को पहुँचाती है
(c) यह ऊर्जा उत्पादन का स्थल हो सकती है।
(d) यह कोशिका भी कुछ जैव-रासायनिक क्रियाओं का स्थल हो सकता है।
उत्तर:
(c) यह ऊर्जा उत्पादन का स्थल हो सकती है।

प्रश्न 6.
परासरण की कुछ परिभाषाएँ नीचे दी गई हैं। इन्हें सावधानी से पढ़िये और सही परिभाषा चुनिए –
(a) अर्धपारगम्य झिल्ली से होकर, जल के अणुओं का अधिक सान्द्रता वाले क्षेत्र की ओर जाना।
(b) विलयन अणुओं का अधिक सान्द्रता से निम्न सान्द्रता की ओर जाना।
(c) पारगम्य झिल्ली से होकर विलायक अणुओं का अधिक सान्द्रता से निम्न सान्द्रता वाले विलयन की ओर जाना।
(d) अर्धपारगम्य झिल्ली से होकर विलेय अणुओं का निम्न सान्द्रता वाले विलयन से अधिक सान्द्रता वाले विलयन की ओर जाना।
उत्तर:
(a) अर्धपारगम्य झिल्ली से होकर, जल के अणुओं का अधिक सान्द्रता वाले क्षेत्र की ओर जाना।

प्रश्न 7.
पादप कोशिकाओं में जीवद्रव्यकुंचन को इस तरह परिभाषित किया जाता है –
(a) अल्प परासारी माध्यम में प्रद्रव्य झिल्ली का टूटना (लयन)
(b) अल्प परासारी माध्यम में कोशिकाद्रव्य का सिकुड़ना
(c) केन्द्रकद्रव्य का सिकुड़ना
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(b) अल्प परासारी माध्यम में कोशिकाद्रव्य का सिकुड़ना

MP Board Solutions

प्रश्न 8.
निम्नलिखित में से किसके चारों ओर एकल झिल्ली का आवरण होता है?
(a) माइटोकॉण्ड्रिया
(b) रसधानी
(c) लाइसोसोम
(d) लवक
उत्तर:
(b) रसधानी

प्रश्न 9.
कौन-सा कोशिका-अंगक कोशिका के अन्दर विषैले पदार्थ एवं औषधि (ड्रग्स) को आविष रहित करने में मुख्य भूमिका निभाता है?
(a) गॉल्जी उपकरण
(b) लाइसोसोम
(c) चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका
(d) रसधानी
उत्तर:
(c) चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका

प्रश्न 10.
कोशिका झिल्ली निर्माण के लिए आवश्यक प्रोटीनों एवं लिपिडों का उत्पादन निम्नलिखित द्वारा किया जाता है –
(a) रुक्ष अन्तर्द्रव्यी जालिका
(b) गॉल्जी उपकरण
(c) कोशिका झिल्ली
(d) माइटोकॉण्ड्रिया
उत्तर:
(a) रुक्ष अन्तर्द्रव्यी जालिका

प्रश्न 11.
प्रोकैरियोट का अपरिभाषित केन्द्रक क्षेत्र कहलाता है –
(a) केन्द्रक
(b) केन्द्रिका
(c) न्यूक्लिक अम्ल
(d) केन्द्रकाभ
उत्तर:
(d) केन्द्रकाभ

प्रश्न 12.
कोशिका-अंगक जो सरल शर्करा को जटिल शर्करा में बदलने में शामिल है –
(a) अन्तर्द्रव्यी जालिका
(b) राइबोसोम
(c) लवक
(d) गॉल्जी उपकरण
उत्तर:
(d) गॉल्जी उपकरण

प्रश्न 13.
निम्नलिखित में से कौन-सा रसधानी का कार्य नहीं है?
(a) संग्रहण
(b) कोशिका को स्फीति एवं दृढ़ता प्रदान करना
(c) अपशिष्ट उत्सर्जन
(d) गमन
उत्तर:
(d) गमन

प्रश्न 14.
अमीबा जिस प्रक्रिया के द्वारा भोजन प्राप्त करता है, वह कहलाती है –
(a) बहिः कोशिकता
(b) अन्त: कोशिकता
(c) प्रद्रव्यलयन
(d) बहिः कोशिकता एवं अन्त:कोशिकता दोनों
उत्तर:
(b) अन्त: कोशिकता

प्रश्न 15.
निम्न में से किसकी कोशिका भित्ति सेलुलोज से नहीं बनी है?
(a) जीवाणु
(b) हाइड्रिला
(c) आम वृक्ष
(d) कैक्टस
उत्तर:
(a) जीवाणु

प्रश्न 16.
सिल्वर नाइट्रेट का घोल किसी एक के अध्ययन में इस्तेमाल होता है –
(a) अन्तर्द्रव्यी जालिका
(b) गॉल्जी उपकरण
(c) केन्द्रक
(d) माइटोकॉण्ड्रिया
उत्तर:
(b) गॉल्जी उपकरण

प्रश्न 17.
केन्द्रक के अलावा वह अंगक जिसमें डी. एन. ए. होता है –
(a) अन्तर्द्रव्यी जालिका
(b) गॉल्जी उपकरण
(c) माइटोकॉण्ड्रिया
(d) लाइसोसोम
उत्तर:
(c) माइटोकॉण्ड्रिया

प्रश्न 18.
निम्नलिखित में से किसको कोशिका की रसोई कहा जाता है?
(a) माइटोकॉण्ड्रिया
(b) अन्तर्द्रव्यी जालिका
(c) हरितलवक
(d) गॉल्जी उपकरण
उत्तर:
(c) हरितलवक

प्रश्न 19.
कोशिका में लिपिड अणुओं को निम्न के द्वारा संश्लेषित किया जाता है –
(a) चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका
(b) रुक्ष अन्तर्द्रव्यी जालिका
(c) गॉल्जी उपकरण
(d) लवक
उत्तर:
(a) चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका

प्रश्न 20.
नई कोशिका का निर्माण, पूर्व स्थित कोशिका से होने की बात किसने बताई?
(a) हेकेल
(b) विर्चो
(c) हुक
(d) श्लाइडेन
उत्तर:
(b) विर्चो

MP Board Solutions

प्रश्न 21.
कोशिका सिद्धान्त निम्न द्वारा प्रतिपादित किया गया –
(a) श्लाइडेन एवं श्वान
(b) विर्चो
(c) हुक
(d) हेकेल
उत्तर:
(a) श्लाइडेन एवं श्वान

प्रश्न 22.
प्रोकैरियोटिक (प्राककेन्द्रकी) कोशिका में दिखने वाला एकमात्र कोशिकांग है –
(a) माइटोकॉण्ड्रिया
(b) राइबोसोम
(c) लवक
(d) लाइसोसोम
उत्तर:
(b) राइबोसोम

प्रश्न 23.
वह अंगक जिसमें कोशिका भित्ति नहीं होती है –
(a) राइबोसोम
(b) गॉल्जी उपकरण
(c) हरितलवक (क्लोरोप्लास्ट)
(d) केन्द्रक
उत्तर:
(a) राइबोसोम

प्रश्न 24.
लाइसोसोम उत्पन्न होते हैं –
(a) अन्तर्द्रव्यी जालिका से
(b) गॉल्जी उपकरण से
(c) केन्द्रक से
(d) माइटोकॉण्ड्रिया से
उत्तर:
(b) गॉल्जी उपकरण से

प्रश्न 25.
सजीव कोशिकाएँ निम्न के द्वारा खोजी गई हैं –
(a) रॉबर्ट हुक
(b) पुरकिंजे
(c) ल्यूवेनहॉक
(d) रॉबर्ट ब्राउन
उत्तर:
(c) ल्यूवेनहॉक

रिक्त स्थानों की पूर्ति

1. कोशिका के अभिगमन चैनल …………….।
2. कोशिका का पावर हाउस ……………।
3. कोशिका की पैकिंग और प्रेषित इकाई ……….।
4. कोशिका की पाचन थैली ……………..।
5. कोशिका की संग्रह थैली ……………..।
6. कोशिका का किचन ………।
7. कोशिका का नियन्त्रण कक्ष ……………..।
8. गुणसूत्र ……………. के बने होते हैं। (2019)
उत्तर:

  1. अन्तर्द्रव्यी जालिका
  2. माइटोकॉण्ड्रिया
  3. गॉल्जी उपकरण
  4. लाइसोसोम
  5. रसधानी
  6. हरित लवक
  7. केन्द्रक
  8. DNA

सही जोड़ी बनाना
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 4
उत्तर:

  1. → (iv)
  2. → (v)
  3. → (iii)
  4. → (i)
  5. → (ii)

MP Board Solutions

सत्य/असत्य कथन

1. गॉल्जी उपकरण, लाइसोसोम के बनने में शामिल है।
2. केन्द्रक, माइटोकॉण्ड्रिया एवं लवक में डी. एन. ए. होता है। इसलिए ये अपनी संरचनात्मक प्रोटीन बनाने में समर्थ हैं।
3. माइटोकॉण्ड्रिया को कोशिका का पावर हाउस कहा जाता है क्योंकि इनमें ए. टी. पी. का उत्पादन होता है।
4. कोशिकाद्रव्य को प्रद्रव्य भी कहा जाता है।
5. लाइसोसोम में भरे हुए एन्जाइम रुक्ष अन्तर्द्रव्यी जालिका से बने होते हैं।
6. रुक्ष अन्तर्द्रव्यी जालिका एवं चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका क्रमशः लिपिड एवं प्रोटीन की बनी होती है।
7. अन्तर्द्रव्यी जालिका का कोशिका झिल्ली के नष्ट होने से सम्बन्ध है।
8. यूकैरियोटिक केन्द्रक के केन्द्रकद्रव्य में केन्द्रकाभ होता है।
9. अर्द्धपारगम्य झिल्ली में से होकर जाने वाले जल की गति उसमें घुले हुए पदार्थों की मात्रा से प्रभावित होती है।
10. झिल्ली, कार्बनिक अणुओं जैसे प्रोटीन और लिपिड से बनी होती है।
11. कार्बनिक विलायक में घुलनशील अणु झिल्ली में से होकर आसानी से गुजर जाते हैं।
12. पादप में कोशिका झिल्ली में काइटिन शर्करा होती है।
उत्तर:

  1. असत्य
  2. सत्य
  3. सत्य
  4. सत्य
  5. सत्य
  6. असत्य
  7. असत्य
  8. असत्य
  9. सत्य
  10. सत्य
  11. सत्य
  12. असत्य।

एक शब्द/वाक्य में उत्तर

प्रश्न 1.
जीवन की मूलभूत इकाई किसे कहा जाता है? (2018)
उत्तर:
कोशिका को।

प्रश्न 2.
बिना झिल्ली वाले किसी कोशिका अंगक का नाम लिखिए।
उत्तर:
राइबोसोम।

प्रश्न 3.
हम वह भोजन खाते हैं जिसमें सभी पोषक पदार्थ, जैसे कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, विटामिन, खनिज और जल आदि शामिल होते हैं। पाचन के बाद ये सभी ग्लूकोज, अमीनो अम्ल, वसा अम्ल, ग्लिसरॉल के रूप में अवशोषित हो जाते हैं। पचे हुए भोजन एवं जल के अवशोषित होने में कौन-सी प्रक्रिया उत्तरदायी है?
उत्तर:
विसरण एवं परासरण।

प्रश्न 4.
यदि आपको कुछ सब्जियाँ पकाने के लिए दी जाती हैं तो साधारणतया आप सब्जियाँ पकाने के दौरान उनमें नमक मिलाते हैं। नमक के मिलाने पर कुछ देर बाद सब्जियों से जल निकलता है। इसमें कौन-सी प्रक्रिया उत्तरदायी है?
उत्तर:
बहिः परासरण।

प्रश्न 5.
जीवाणुओं में हरित लवक नहीं होता है लेकिन कुछ जीवाणु स्वभाव से प्रकाश-स्वपोषी होते हैं और प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया करते हैं। इस कार्य को जीवाणु कोशिका का कौन-सा भाग करता है?
उत्तर:
लघु रसधानियाँ (प्लाज्मा झिल्ली के साथ लगी हुई)।

प्रश्न 6.
कौन-सा कोशिका अंगक कोशिका की अधिकांश गतिविधियों पर नियन्त्रण रखता है?
उत्तर:
केन्द्रक।

प्रश्न 7.
कोशिका के ऊर्जा गृह का नाम लिखिए। (2019)
उत्तर:
माइटोकॉण्ड्रिया।

प्रश्न 8.
आत्मघाती थैली किसे कहते हैं? (2019)
उत्तर:
लाइसोसोम।

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Chapter 5 अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
क्या आप इससे सहमत हैं कि-“कोशिका जीव की निर्माण इकाई है” यदि हाँ तो क्यों? व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
हाँ, हम सहमत हैं। क्योंकि प्रत्येक जीव का निर्माण कोशिका से ही होता है। कोशिका से ऊतक, ऊतक से अंग, अंग से अंगतन्त्र और अंगतन्त्र से जीव का निर्माण होता है।
कोशिका → ऊतक → अंग → अंगतन्त्र → जीव

प्रश्न 2.
जब आप लम्बे समय तक कपड़े धोते हैं तो आपकी अंगुलियों की त्वचा क्यों सिकुड़ जाती है?
उत्तर:
अधिक सान्द्रण वाला साबुन का घोल अति परासारी होता है, इसलिए परासरण के कारण जल हमारी अंगुलियों की कोशिकाओं से बाहर आ जाता है। इसलिए लम्बे समय तक कपड़े धोने में अंगुलियों की त्वचा सिकुड़ जाती है।

प्रश्न 3.
केवल प्राणियों में ही अन्तःकोशिकता (एण्डोसाइटोसिस) क्यों पाई जाती है?
उत्तर:
प्राणियों में कोशिका भित्ति नहीं होती इसलिए केवल इनमें ही अन्त:कोशिकता पाई जाती है।

प्रश्न 4.
एक व्यक्ति नमक का सान्द्रित घोल पी लेता है और कुछ समय बाद वह उल्टी करना शुरू कर देता है। इस स्थिति के लिए कौन-सा तथ्य उत्तरदायी है ? व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
आँतों में बहिःपरासरण के होने से निर्जलीकरण हो जाता है इसलिए वह व्यक्ति उल्टी करना शुरू कर देता है।

प्रश्न 5.
लाल रुधिर कणिकाएँ (RBC) और प्याज के छिलके की कोशिकाओं को यदि अल्प परासारी विलयन में अलग-अलग रख दें तो उनमें क्या परिवर्तन आयेगा? अपने उत्तर की कारण सहित व्याख्या कीजिए।
(a) दोनों की कोशिकाएँ फूल जायेंगी।
(b) लाल रुधिर कोशिकाएँ आसानी से फट जाएँगी जबकि प्याज के छिलके की कोशिकाएँ एक सीमा तक न फटने की कोशिश करेंगी।
(c) ‘a’ और ‘b’ दोनों सही हैं।
(d) लाल रुधिर कणिकाएँ और प्याज के छिलके की कोशिकाएँ समान व्यवहार करेंगी।
उत्तर:
(b) लाल रुधिर कणिकाएँ आसानी से फट जाएँगी जबकि प्याज की कोशिकाएँ एक सीमा तक न फटने का प्रयास करेंगी क्योंकि प्याज के छिलके की कोशिकाओं में कोशिका भित्ति होती है जबकि RBC में कोशिका भित्ति नहीं होती।

प्रश्न 6.
पादप के उन विभिन्न भागों के नाम लिखिए जिनमें वर्णी लवक (क्रोमोप्लास्ट), हरित लवक (क्लोरोप्लास्ट) और अवर्णी लवक (ल्यूकोप्लास्ट) उपस्थित होते हैं।
उत्तर:

  1. वर्णी लवक (क्रोमोप्लास्ट) – पुष्प एवं फलों में।
  2. हरित लवक (क्लोरोप्लास्ट) – पत्तियों एवं हरे भाग में।
  3. अवर्णी लवक (ल्यूकोप्लास्ट) – जड़ों में।

प्रश्न 7.
प्याज के छिलके की कोशिका से जीवाणु कोशिका कैसे भिन्न है ?
उत्तर:
प्याज के छिलके की कोशिका यूकैरियोटिक होती है जबकि जीवाणु कोशिका प्रोकैरियोटिक (प्राक्केन्द्रकी) होती है।

प्रश्न 8.
अमीबा अपना भोजन कैसे प्राप्त करता है?
उत्तर:
अमीबा अपना भोजन अंत:कोशिकता (एण्डोसाइटोसिस) प्रक्रिया के द्वारा प्राप्त करता है।

प्रश्न 9.
पादप कोशिका के दो ऐसे अंगकों के नाम बताइए जिनमें अपनी आनुवंशिक सामग्री और राइबोसोम विद्यमान होते हैं।
उत्तर:

  1. माइटोकॉण्ड्रिया
  2. लवक।

MP Board Solutions

प्रश्न 10.
लाइसोसोम को “कोशिकाओं का अपमार्जक” क्यों कहा जाता है?
उत्तर:
लाइसोसोम कोशिका में बनने वाले अपशिष्ट पदार्थों (कचरे) को हटाता है इसलिए यह ‘कोशिका का अपमार्जक’ कहलाता है।

प्रश्न 11.
कौन से प्रकार का लवक इनमें सामान्यतया पाया जाता है?
(a) पादप की जड़
(b) पादप की पत्तियाँ
(c) पुष्प एवं फल।
उत्तर:

  1. अवर्णी लवक
  2. हरित लवक
  3. वर्णी लवक।

प्रश्न 12.
पादप कोशिकाओं में बड़े आकार की रसधानी क्यों होती है?
उत्तर:
पादप कोशिकाओं में बड़े आकार की रसधानियाँ होती हैं क्योंकि इनमें कोशिकाद्रव्य भरा रहता है तथा कोशिका के लिए आवश्यक बहुत से पदार्थ, जैसे अमीनो अम्ल, शर्करा, विभिन्न कार्बनिक अम्ल तथा कुछ प्रोटीन आदि स्थित होते हैं।

प्रश्न 13.
क्रोमैटिन, क्रोमैटिड एवं क्रोमोसोम में परस्पर क्या सम्बन्ध है?
उत्तर:
क्रोमैटिन से क्रोमैटिड और क्रोमैटिड से क्रोमोसोम बने होते हैं।

प्रश्न 14.
निम्नलिखित अवस्थाओं की स्थिति से क्या निष्कर्ष निकलता है?
(a) जब बाहरी माध्यम की तुलना में कोशिका के भीतर अधिक सान्द्रता वाला जल होता है।
(b) बाहरी माध्यम की तुलना में कोशिका के भीतर कम सान्द्रता वाला जल होता है।
(c) जब कोशिका के अन्दर एवं बाहरी माध्यम में जल की सान्द्रता समान होती है।
उत्तर:

  1. बहिः परासरण
  2. अन्त: परासरण
  3. कोई परिव्यय नहीं।

प्रश्न 15.
प्याज की झिल्ली की कोशिकाओं का नामांकित चित्र बनाइए।
उत्तर:
प्याज के शल्क-पत्र की झिल्ली की कोशिकाओं का चित्र:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 5
प्रश्न 16. लवक के दो कार्य लिखिए। (2019)
उत्तर:

  1. हरित लवक प्रकाश-संश्लेषण में सहायक होते हैं।
  2. वर्णी लवक पुष्पों को आकर्षक बनाते हैं।

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Chapter 5 लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
अन्तःप्रद्रव्यी जालिका का सचित्र वर्णन कीजिए। (2019)
उत्तर:
अन्तःप्रद्रव्यी जालिका-अन्तःप्रद्रव्यी जालिका में सूक्ष्म आशय (थैलियाँ) एवं नलिकाओं का जालक तन्त्र होता है। यह केन्द्रक झिल्ली से कोशिका झिल्ली तक कोशिकाद्रव्य में फैली रहती हैं।

अन्तःप्रद्रव्यी जालिका जीवाणु, विषाणु, स्तनधारियों की लाल रक्त कणिकाओं तथा हरे-नीले शैवालों को छोड़कर सभी कोशिकाओं में पाई जाती हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 6

प्रश्न 2.
अन्तर्द्रव्यी जालिका के प्रमुख कार्य लिखिए।
उत्तर:
अन्तःप्रद्रव्यी जालिका के कार्य –

  1. यह प्रोटीन संश्लेषण में सहायक होती है।
  2. यह कोशिका विभाजन के समय केन्द्रकीय झिल्ली के निर्माण में भाग लेती है।
  3. यह ग्लाइकोजन के उपापचय में सहायता करती है।
  4. यह केन्द्रक से विभिन्न आनुवंशिक पदार्थों को कोशिकाद्रव्य के विभिन्न अंगों तक पहुँचाती है।

प्रश्न 3.
गॉल्जी उपकरण (गॉल्जी काय) का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
गॉल्जी काय या गॉल्जी उपकरण-गॉल्जी काय दोहरी झिल्ली की बनी संरचनाएँ हैं जो एक खाली स्थान के द्वारा एक-दूसरे 2 से अलग-अलग स्थित होती हैं। इनमें तीन घटक होते हैं –
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 7

  1. चपटे कोष
  2. आशय
  3. रिक्तिकाएँ।

एक जन्तु कोशिका में 3 से 7 एवं पादप कोशिका में 10 से 20 गॉल्जी काय पाये जाते हैं। ये लाल रुधिर कणिकाओं को छोड़कर सभी यूकैरियोटिक कोशिकाओं में समतल इकाई झिल्लियों के गुच्छे के रूप में पायी जाती हैं। कुछ अकशेरुकी जन्तुओं तथा पौधों की कोशिकाओं में अनेक असम्बद्ध इकाइयों के रूप में बिखरी होती हैं जिन्हें डिक्टियोसोम कहते हैं।

प्रश्न 4.
गॉल्जी काय (गॉल्जी उपकरण) के प्रमुख कार्य लिखिए।
अथवा
गॉल्जी काय के कोशिका में कार्य लिखिए। (2019)
उत्तर:
गॉल्जी काय या गॉल्जी उपकरण के कार्य –

  1. ये लाइसोसोम्स का निर्माण करते हैं।
  2. ये अनेक प्रकार के स्रावी पदार्थों का निर्माण करते हैं।
  3. ये सावण द्वारा कोशिका भित्ति का निर्माण करते हैं।
  4. ये अनेक कार्बोहाइड्रेट्स के दीर्घ अणुओं का संश्लेषण करते हैं।
  5. ये शुक्राणुजनन के समय शुक्राणु के ऊपरी भाग (एक्रोसोम) का निर्माण करते हैं।

प्रश्न 5.
लाइसोसोम का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
लाइसोसोम:
लाइसोसोम 0-2 से 0.84 तक व्यास वाली इकाई झिल्ली की बनी गोलाकार या अण्डाकार संरचनाएँ होती हैं। इनमें पाचक प्रकिण्व (Digestive enzyme) पाये जाते हैं। इनमें 24 प्रकार के एन्जाइम पाये जाते हैं।

लाइसोसोम यकृत, प्लीहा, श्वेत रक्त कणिकाएँ, अग्न्याशय, वृक्क, थायरॉइड ग्रन्थि आदि ऊतकों की कोशिकाओं में तथा पादप की विभाजी कोशिकाओं में पाये जाते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 8

प्रश्न 6.
लाइसोसोम के प्रमुख कार्य लिखिए।
उत्तर:
लाइसोसोम के कार्य:

  1. ये कोशिका में पाये जाने वाले प्रकिण्वों (Enzymes) का स्रावण एवं संग्रहण करते हैं।
  2. ये मृत या पुरानी कोशिकाओं का भक्षण करते हैं।
  3. ये कोशिका में प्रवेश करने वाले सूक्ष्म जीवों व कणों का पाचन करते हैं।
  4. ये भोजन की कमी के समय कोशिकाओं तथा कोशिकाद्रव्य में उपस्थित अवयवों का पाचन करते हैं।
  5. ये उपवास या रोग की स्थिति में शरीर को पोषण देते हैं।
  6. शुक्राणु इन्हीं के कारण अण्डाणु में प्रवेश करते हैं।

प्रश्न 7.
माइटोकॉण्ड्रिया का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
माइटोकॉण्ड्यिा -माइटोकॉण्ड्रिया सभी यूकैरियोटिक कोशिकाओं के कोशिकाद्रव्य में पाया जाता है। यह.दोहरी झिल्ली का बना होता है जिसमें एक तरल पदार्थ भरा रहता है। इसे बाह्य कक्ष कहते हैं। माइटोकॉण्ड्रिया की आन्तरिक झिल्ली झिल्ली के बीच की गुहा को आन्तरिक कक्ष मैट्रिक्स कहते हैं। इसमें मैट्रिक्स (आधात्री) भरा होता है। आन्तरिक झिल्ली अन्दर की ओर अंगलियों जैसी संरचनाएँ बनाती हैं जिन्हें क्रिस्टी कहते हैं। क्रिस्टी की सतह पर ऑक्सीसोम (F – कण) नामक संरचनाएँ पाई जाती हैं। मैट्रिक्स में लिपिड्स, प्रोटीन, प्रकिण्व, कुण्डलित दोहरे स्ट्रेण्ड वाले DNA एवं RNA तथा राइबोसोम पाये जाते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 9
प्रश्न 8.
(a) माइटोकॉण्ड्यिा (2019)
तथा
(b) कोशिका झिल्ली के प्रमुख कार्य लिखिए।
उत्तर:
(a) माइटोकॉण्ड्रिया के कार्य:

  1. ये भोज्य पदार्थों का ऑक्सीकरण करके ऊर्जा मुक्त करते हैं तथा इस ऊर्जा को ATP के रूप में संचित करते हैं जो जैविक कार्यों में प्रयुक्त होती है।
  2. ये प्रोटीन का संश्लेषण भी करते हैं।
  3. ये अण्डों का योक तथा शुक्राणुओं के मध्य भाग का निर्माण करते हैं।

(b) कोशिका झिल्ली के प्रमुख कार्य:

  1. यह कोशिका को एक आकार प्रदान करती है।
  2. यह कोशिका के जीवित अंगों की सुरक्षा के लिए एक आवरण प्रदान करने का कार्य भी करती है।
  3. इसका मुख्य कार्य कोशिका के अन्दर और उसके बाहरी माध्यमों के बीच आण्विक आदान-प्रदान को नियन्त्रित करना है।

MP Board Solutions

प्रश्न 9.
रिक्तिकाओं के प्रमुख कार्य लिखिए।
उत्तर:
रिक्तिकाओं के कार्य:

  1. ये भोजन के पाचन, उत्सर्जन आदि क्रियाओं में सहायता करती हैं।
  2. ये कोशाओं में परासरण नियन्त्रण का कार्य करती हैं।
  3. ये भोज्य पदार्थों का संग्रहण करती हैं।
  4. टोनोप्लास्ट के अर्द्ध-पारगम्य होने के कारण, ये कोशा के अन्दर विभिन्न पदार्थों के संवहन का कार्य करती हैं।

प्रश्न 10.
लवक का सचित्र वर्णन कीजिए तथा इनके प्रकार बताइए।
उत्तर:
लवक-लवक अधिकांश पादप तथा कुछ प्रकाश-संश्लेषी एक कोशिकीय जन्तुओं (Protozoa) की कोशिकाओं में पाई जाने वाली छोटी-छोटी बिम्ब के समान, गोल अथवा अण्डाकार दोहरी दीवार युक्त संरचना होती हैं। ये तीन प्रकार के होते हैं –

  1. अवर्णी लवक
  2. हरित लवक
  3. वर्णी लवक।

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 10

प्रश्न 11.
तारककाय का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
तारककाय (Centrosome):
तारककाय जन्तु कोशिकाओं में केन्द्रक के पास पाया जाता है। इसके अतिरिक्त यह शैवाल तथा कवक की कोशिकाओं में भी पाया जाता है। प्रत्येक तारककाय में तारक केन्द्र होते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 11

प्रश्न 12.
राइबोसोम का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
राइबोसोम:
राइबोसोम्स सघन, गोलाकार, कणिकामय संरचनाएँ हैं तथा कोशिका में उपस्थित सबसे छोटे कोशिकांग हैं। इनका व्यास लगभग 250A होता है। ये केवल RNA एवं प्रोटीन से निर्मित होते हैं तथा कलाविहीन कणों के रूप में क्लोरोप्लास्ट, माइटोकॉण्ड्रिया, केन्द्रक के अन्दर या अन्त:प्रद्रव्यी जालिका के ऊपर या कोशिकाद्रव्य में स्वतन्त्र रूप से पाये जाते हैं। ये अपारदर्शी होते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 12

प्रश्न 13.
(a) तारककाय (सेण्ट्रोसोम) एवं
(b) सूक्ष्मकाओं के प्रमुख कार्य लिखिए।
उत्तर:
(a) तारककाय (सेण्ट्रोसोम) के कार्य:

  1. ये जन्तु कोशिकाओं में कोशिका विभाजन के समय तर्कु रूप रेशों का निर्माण करते हैं।
  2. ये शुक्राणु में स्थित दो सेण्ट्रिओल में से कशाभ का अक्षीय तन्तु बनाते हैं।
  3. ये सेण्ट्रिओल पक्ष्मों व कशाभों के काइनेटोसोम या आधारकाय बनाते हैं।

(b) सूक्ष्मकाओं के कार्य:

  1. ये कोशिकाओं के कंकाल का निर्माण करती हैं।
  2. ये कोशिका के आकार, विस्तार को नियमित करती हैं।
  3. ये कोशिकाओं की गति एवं गुणसूत्रों का नियन्त्रण करती हैं।
  4. ये कोशिकाद्रव्य चक्रण में सहायता करती हैं।

प्रश्न 14.
रुक्ष एवं चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका में अन्तर बताइए। अन्तर्द्रव्यी जालिका झिल्ली के जीवात् जनन के लिए किस तरह महत्वपूर्ण है?
उत्तर:
रुक्ष एवं चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका में अन्तर:

रुक्ष अन्तर्द्रव्यी जालिका (RER):

  1. RER की सतह पर राइबोसोमीय कण होते हैं जिसके कारण यह रुक्ष होती है।
  2. इस पर उपस्थित राइबोसोम प्रोटीन संश्लेषण के लिए स्थल उपलब्ध कराते हैं।

चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका (SER):

  1. SER की सतह पर कोई राइबोसोमीय कण नहीं होते इसलिए यह चिकनी दिखाई देती है।
  2. यह लिपिड एवं वसा अणुओं के निर्माण में सहायता करती है।

रुक्ष अन्तर्द्रव्यी जालिका प्रोटीन संश्लेषण के लिए स्थान उपलब्ध कराती हैं एवं चिकनी अन्तर्द्रव्यी जालिका लिपिड एवं वसा अणुओं के निर्माण में सहायक होती है। प्रोटीन, लिपिड एवं वसा से मिलकर कोशिका झिल्ली के जीवात, जनन के लिए सहायता करने के लिए महत्वपूर्ण होती है।

प्रश्न 15.
संक्षिप्त में बताइए कि क्या होता है जबकि –
(a) सूखी खुबानी को कुछ देर के लिए साफ जल में रखा जाय और फिर बाद में इसे शर्करा विलयन में रखा जाय।
(b) लाल रुधिर कोशिकाओं को सान्द्रित लवण विलयन में रखा जाता है।
(c) रियो (Rhoeo) की पत्तियों को पहले जल में उबालते हैं और फिर चीनी की चाशनी की एक बूंद इसके ऊपर रखते हैं।
उत्तर:

  1. अन्तःपरासरण के कारण पहले यह फूलती है तथा बाद में बाह्यपरासरण के कारण सिकुड़ती है।
  2. इसमें से जल निकल जाने से यह सिकुड़ जाती है।
  3. उबालने से कोशिका मर जाती हैं इसलिए जीवद्रव्यकुंचन नहीं होता।

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Chapter 5 दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी द्वारा देखी गई पादप कोशिका का नामांकित चित्र बनाइए।
अथवा
पादप कोशिका का स्वच्छ एवं नामांकित चित्र बनाइए। (2019)
उत्तर:
इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी द्वारा प्रदर्शित पादप कोशिका की आन्तरिक संरचना का नामांकित चित्र –
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 13

प्रश्न 2.
एक पादप कोशिका का चित्र बनाइए और उन भागों को चिह्नित कीजिए जो –
(a) कोशिका के विकास एवं कार्यों का निर्धारण करता है।
(b) अन्तर्द्रव्यी जालिका से निकलने वाली सामग्री को पैक करता है।
(c) सूक्ष्म-जीवों में ऐसा प्रतिरोध पैदा करता है जिससे वे बाह्य अल्पपरासारी माध्यम में फूटे बगैर अप्रभावित बने रहें।
(d) जो जीवन को बनाए रखने के लिए आवश्यक बहुत-सी जैव-रासायनिक अभिक्रियाओं के लिए स्थल उपलब्ध कराता है।
(e) एक ऐसा द्रव जो केन्द्रक के अन्दर होता है।
उत्तर:
निर्देश-पादप कोशिका का उपर्युक्त की तरह चित्र बनाएँ तथा उसमें निम्न भागों को चिन्हित करें –

  1. केन्द्रक
  2. गॉल्जी उपकरण
  3. कोशिका भित्ति
  4. कोशिकाद्रव्य
  5. केन्द्रकद्रव्य।

प्रश्न 3.
पादप कोशिका का स्वच्छ चित्र बनाइए और इसके किन्हीं तीन भागों को चिह्नित कीजिए जो इसे प्राणी कोशिका से विभेदित करते हैं।
उत्तर:
निर्देश-पादप कोशिका का उपर्युक्त की तरह चित्र बनाइए तथा उसमें निम्न भागों को चिह्नित कीजिए –

  1. हरित लवक
  2. कोशिका भित्ति
  3. रिक्तिका (रसधानी)।

प्रश्न 4.
किसी प्राणी कोशिका का एक स्वच्छ आरेख बनाइए तथा उसके भागों के नाम लिखिए। (2019)
उत्तर:
इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी द्वारा प्रदर्शित प्राणी (जन्तु) कोशिका की संरचना का नामांकित:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 5 जीवन की मौलिक इकाई image 14

MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 5 सर्वदमनः भरतः

In this article, we will share MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 5 सर्वदमनः भरतः Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Durva Chapter 5 सर्वदमनः भरतः (नाट्यांशः)

MP Board Class 9th Sanskrit Chapter 5 पाठ्य पुस्तक के प्रश्न

प्रश्न 1.
एकपदेन उत्तरं लिख-(एक शब्द में उत्तर दीजिए)
(क) ऋषि जनेन बालस्य नाम किं कृतम्? (ऋषिगणों के द्वारा बालक का नाम क्या रखा गया?)
उत्तर:
सर्वदमनः। (सर्वदमन)

(ख) उटजे कस्य मृत्तिकामयूरः तिष्ठति? (कुटिया में किसका मिट्टी का मयूर था?)
उत्तर:
मार्कण्डेयस्य ऋषिकुमारस्य वर्णचित्रितो। (कुटिया में मार्कण्डेय का मिट्टी का मयूर था।)

MP Board Solutions

(ग) राजा बालस्य हस्ते के लक्षणम् अपश्यत्? (राजा बालक के हाथ में क्या लक्षण देखता है?)
उत्तर:
चक्रवर्ती। (चक्रवर्ती)।

(घ) रक्षा करण्डकं केन दत्तम्? (रक्षा ताबीज किसके द्वारा दिया गया?)
उत्तर:
भगवता मरीचेन् (ऋषि मरीच के द्वारा ताबीज दिया गया।)

(ङ) एकां वेणी का धृतवती? (एक चोटी किसने धारण की थी?)
उत्तर:
शकुन्तला। (शकुन्तला)

प्रश्न 2.
एक वाक्येन उत्तर लिखत (एक वाक्य में उत्तर लिखो)
(क) बालः सिंहशावकं किम् उक्तवान? (बालक ने सिंह के बच्चे से क्याकहा?)
उत्तर:
जिम्भस्व दंताम् ते गणिष्यामि। (बालक सिंह के बच्चे से बोला रे सिंह जभाई ले, मैं तेरे दांत गिनूंगा।)

(ख) द्वितीया तापसी सवर्दमनं किमर्थ क्रीडनकं दातुमिच्छति? (दूसरी तापसी सर्वदमन को किसलिए खिलौना देने की इच्छा करती है?)
उत्तर:
सिंहशावकम् त्यक्तुम्। (सिंह के बच्चे को छोड़ने के लिए दूसरा खिलौना देना चाहती है)

(ग) तापसी किमर्थम् आश्चर्ये निमग्नाना? (तापसी किसलिए आश्चर्यचकित हो गई?)
उत्तर:
रक्षाकरण्डकम्। (ताबीज के कारण तापसी आश्चर्य-चकित हो गई।)

(घ) राजा स्मृतिः कथम् उपलब्धा? (राजा की मृति किस प्रकार वापस आई।)
उत्तर:
अभिज्ञान दर्शनन (राजा की स्मृति विशेष चिह्न को देखकर आई)।

प्रश्न 3.
अधोलिखत प्रश्नानाम् उत्तराणि लिखत(क) औषधेः विषये तापसी राजानं किं कथयति? (औषधि के संबंध में तापसी को क्या कहती है?)
उत्तर:
पितरौ परित्यज्य सर्पिणी भूत्वा दशति (माता-पिता को छोड़कर यह औषधि सांप बनकर डंसती है।)

(ख) राजा बालस्य स्पर्श कृत्वा कीदृशमऽनुभवति? (राजा पुत्र का स्पर्श करके किस तरह का अनुभव किया?)
उत्तर:
स्वपुत्र मेवा। (राजा बालक का स्पर्श करके अपने पुत्र के समान खुशी का अनुभव किया।)

MP Board Solutions

(ग) शकुन्तला वीक्ष्य राजा किम् अवोचत्? (शकुन्तला को देखकर राजा ने क्या कहा?)
उत्तर:
मम्-स्मृतिरूपलब्धा शकुन्तलां वीक्ष्य राजा अवोचत्। (शकुन्तला को देखकर राजा ने बस स्मृति की रूपवती मुझे सब कुछ याद आ गया ऐसा कहा।)

प्रश्न 4.
उचितेः शब्दैः रिक्तस्थान पूर्तिं कुरुत
(क) रे सिंहशावक जृम्भस्व दन्तान् ते गणयिष्याभि। (नखान्/दन्ताम्)
(ख) वत्स! मुञ्च बालमृगेन्द्रकम्। (बालमृगेन्द्रकम/क्रीडनकम्)
(ग) रक्षाकरण्डकमस्य मणिबंधे न दृश्यते। (अनुबन्धे/मणिबन्धे)
(घ) कोऽपि पुरुषः मां पुत्रइति आलिङ्गति। (भ्राताइति/पुत्रइति)
(ङ) आर्यपुत्र इदं ते अङ्गलीयकम्। (अङ्गुलीयकम्/वस्त्रम्)

प्रश्न 5.
युग्ममेलनं कुरुत?
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 5 सर्वदमनः भरत img-1

प्रश्न 6.
शुद्धवाक्यानां समक्षम “आम” अशुद्धवाक्यानां समक्ष ‘न’ इति लिखत
यथा :
तेजसः बीजं बालः प्रतिभाति। – (आम्)
बाले चक्रवर्ति लक्षणं नास्ति। – (न)
(क) बालः सिंहशावकेन सह क्रीडति।
(ख) राजा बालं न लालयति।।
(ग) राज्ञः बालस्य च आकृतिः समाना वर्तते।
(घ) अपराजिता औषधिः भगवता कण्वेन दत्ता।
उत्तर:
(क) (आम्)
(ख) (न)
(ग) (न)
(घ) (आम्)

प्रश्न 7.
निम्नलिखित शब्दानां मूलशब्दं विभक्तिं वचनं च लिखत
उदाहरण, यथा
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 5 सर्वदमनः भरत img-2

प्रश्न 8.
निम्नलिखित शिगपदानां धातु पुरुषं वचनं लकारं च लिखत
उदाहरणः यथा
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 5 सर्वदमनः भरत img-3

प्रश्न 9.
निम्नलिखितानां प्रकृति प्रत्ययं च पृथक कुरुत
उदाहरण, यथा
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 5 सर्वदमनः भरत img-4

सर्वदमनः भरतः पाठ-सन्दर्भ/प्रतिपाद्य

कालिदास सर्वश्रेष्ठ कवि कहे जाते हैं। इनकी उपमा सर्वोत्तम कही जाती है। इनके रघुवंशम् और कुमारसंभवम् दो महाकाव्य, ऋतुसंहार एवं मेघदूत दो खंडकाव्य, विक्रमोर्वशीय, मालविकाग्नि मित्रम् और अभिज्ञानशाकुन्तलम् नामक इनकी तीन नाटक कृतियाँ हैं। उसमें अभिज्ञानशाकुन्तलम् नाटक सबसे अच्छा है। उसी नाटक से प्रस्तुत पाठ उद्धृत है।

सर्वदमनः भरतः पाठ का हिन्दी अर्थ

1. (ततः प्रविशति तापसीभ्यः सह बालः)
बालः :
जृम्भस्व रे सिंहशावकः! जृम्भस्व, दन्तान् ते गणयिष्यामि।

प्रथमाः :
अविनीत! किं नु अपत्यनिर्विशेषाणि सत्त्वानि विप्रकरोषि। हन्त! वर्धत इव ते संरम्भः। स्थाने खलु ऋषिजनेन ‘सर्वदमन’ इति कृतनामधेयोऽसि ।

राजाः :
किं नु खलु बालेऽस्मिन्नौरस इव पुत्रे स्निह्यति मे हृदयम्। (विचिन्त्य) नूनमनपत्यता मां वत्सलयति।

द्वितीयाः :
एषा त्वां केशरिणी लङ्घयिष्यति, यद्यस्याः पुत्रकं न मोक्ष्यसि।

बालः :
(सस्मितम्) अहो! बलीयः खलु भीतोऽस्मि। (इत्यधरं दर्शयति)

राजाः :
(सविस्मयम्)
महतस्तेजसो बीजं बालोऽयं प्रतिभाति मे।
स्फुलिङ्गावस्थया वह्निरेधापेक्ष इव स्थितः॥

प्रथमा-वत्स! मुञ्च बालमृगेन्द्रकम्, अपरं ते क्रीडनकं दास्यामि।

MP Board Solutions

शब्दार्थ :
जृम्भस्व-जंभाई ले-yawn; गणयिष्यामि-गिनूंगा-will count;जम्भव-जॅम्हाई लो-take yawn; अविनीत-उद्दण्ड-undiciple; संभव-उद्वेग, वेग प्रयास-forcely; उटजे-कुटिया में-in hut; स्निहयति-स्नेह करता है-loves; वत्सलयति-स्नेह पैदा करती है-growing the love; केशरिणी-सिंहनी-lioness; लपयिष्यति-आक्रमण कर देगी-will attack; यद्यस्याः -यदि तु इसके-ifyouit; न मोक्ष्यसि-नहीं छोड़ेगा-not left; भीतोऽस्मि-मैं डर गया हूँ-I am affraid of; महतस्तेजसो-महान व्यक्ति का तेज-Great persons ardour; प्रतिभाति-दिखाई देता है-looks; अपरं-दूसरा-other.

हिन्दी अर्थ :
(फिर दो तपस्विनियों के साथ बालक प्रवेश करता है।)

बालक :
जम्भाई ले, अरे सिंहशावक जम्माई ले। मैं तेरे दाँत गिनूँगा।

पहली तपस्विनी :
हे धृष्ट! हमारे द्वारा पुत्रों सदृश पालित इन जीवों को इस तरह क्यों परेशान करता है? हाय! तुम्हारी उद्दण्डता तो दिन-प्रतिदिन बढ़ती-सी जा रही है। ऋषि लोगों ने तुम्हारा नाम ‘सर्वदमन’ ठीक ही रखा है। तू तो किसी से भी भयभीत नहीं होता।

राजा :
(स्वगत) न जाने क्यों मेरे हृदय में इस बालक के प्रति पुत्रवत स्नेह हो रहा है। ठीक ही है, मेरा निःसन्तान होना ही मुझे दूसरे बच्चों में स्नेह उत्पन्न कर रहा है।

दूसरी तपस्विनी :
(बालक से) देख, यदि तू इस सिंह शावक को नहीं छोड़ेगा तो सिंहिनी तुम्हारे ऊपर आक्रमण कर देगी।

बालक :
(मुस्कुराता हुआ) (व्यंग्य रूप से) अहो! तुम्हारे कहने से तो मैं बहुत डर गया हूँ। मुँह बनाता हुआ हँसता है।

राजा :
(विस्मयपूर्वक) यह बालक तो मुझे किसी महान तेजस्वी पुरुष का अंश प्रतीत होता है। यह तो उसी प्रकार है जैसे चिनगारी के रूप में अग्नि। (जिस प्रकार एक चिनगारी काष्ठ के सान्निध्य में आते ही प्रचण्ड रूप धर लेती है, उसी प्रकार यह बालक भी समय पाकर प्रतापी, तेजस्वी एवं महान वीर होगा-ऐसा प्रतीत होता है।)

पहली तापसी :
हे बेटा! तुम सिंह शावक को छोड़ दो। मैं तुम्हें दूसरा खिलौना दूंगा।

2. बालः :
कुत्र! देहिंतत्। (इति हस्तं प्रसारयति)

राजा :
(बालस्य हस्तं दृष्ट्वा) कथं चक्रवर्तिलक्षणमप्यनेन धार्यते?

द्वितीया :
सुव्रते! मुञ्चैननैष शक्यो वाङ्मात्रेण शमयितुम्। तद् गच्छ मदीये उटजे सङ्कोचनस्य ऋषिकुमारस्य वर्णचित्रितो मृत्तिकामयूरतिष्ठति, तमस्योपहर।

प्रथमा :
तथा। (इति निष्क्रान्ता)

बाल :
तावदनेवैव क्रीडिष्यामि। (इति तापसी लोक्य हसति)

राजा :
स्पृह्यामि खलु दुर्ललितायास्मै। (निःश्वस्य)-
आलक्ष्यदन्तमुकुलाननिमित्तहासै
रव्यक्तवर्णरमणीयवचः प्रवृत्तीन।
अङ्काश्रयप्रणयिनस्तनयान् वहन्तो
धन्यास्तदङ्गरजसा कलुषी भवन्ति।।

तापसी-(साङ्गलितर्जनम्) भोः! न मां गणयसिः (पार्श्वमवलोक्य) कोऽत्र ऋषिकुमाराणाम (राजानं दृष्ट्वा) भद्रमुख! एहि तावन्मोचय अनेन दुर्मोक्षहस्तग्रहेण डिम्भकेन बाध्यमानं बालमृगेन्द्रम्।।

राजा :
तथा (इत्युपगम्य सस्मितम्)
अनेन कस्यापि कलाङ्करेण स्पृष्टस्य गात्रे सुखिता ममैवम्।
कां निवृतिं चेतसि तस्य कुर्याद् यस्यायमङ्गात् कृतिनः प्रसूतः॥
तापसी-(उभौं निर्वय) आश्चर्यमाश्चर्यम्।

MP Board Solutions

शब्दार्थ :
कुत्र-कहां-where; हस्तं-हाथ को-to hand; दृष्ट्वा -देखकर-to look; धार्यते-धारण करता है-put on; सुव्रते-सुव्रत-Subrath namely; मुञ्चै नैष-इसे छोड़ दो-left it; वाङ्मात्रेण-वाणि मात्र से-only by tongue/voice; तमस्योपहर-इसे लेकर दे दो-come with that thing; निष्क्रान्ता-निकल जाते हैं-go out; विलोक्य-देखकर-to look;खलु-निश्चित ही-certainly; दुर्ललितायास्मै-प्यार करने के लिए ललक-for loving; कीडिष्यामि-खेलूंगा-will play; स्पृह्यामि-छूता हूँ-to tuch; प्रवृत्तीन्-प्रवृत्ति-Habit; आलक्ष्य-बिना कारण-without reason; गणयसि-गिनते हो-do count; कोऽत्र-यहां कौन है-who is here?

हिन्दी अर्थ :
बालक :
कहाँ है, मुझे दो-(ऐसा कहकर हाथ फैलाता है)।

राजा :
(बालक के हाथ को देखकर) क्या यह चक्रवर्ती के लक्षणों से युक्त है?

दूसरी तापसी :
सुव्रते! इसे छोड़ दो। यह देखने मात्र से मानने वाला नहीं है। इसलिए मेरी कुटी में रखा हुआ ऋषि कुमार मार्कण्डेय द्वारा बनाया गया मिट्टी का जो मोर है वही लाकर इसे दे दो।
प्रथम तापसी-अच्छा! लाती हूँ। (यह कहकर वह चली जाती है) बालक-तब तक मैं इसी से खेलूँगा। (तापसी की ओर देखकर हँसता है)

राजा :
इस हठीले बालक को देख इससे प्यार करने को मन ललचा रहा है। (निःश्वास लेकर) अकारण ही हँसने से जिसकी दंत पंक्तियाँ दिखाई पड़ रही हैं, तोतली बातें मन को मोह ले रही हैं, जिसे अपने अंक में ले लेने के लिए मन लालायित हो रहा है ऐसे प्राणी भाग्यवान व पुण्यात्मा ही होते हैं जिनके गाद में धूल-धूसरित एवं मलिन ऐसा बालक आकर उनकी गोद को धूत धूसरित करते हैं। (अर्थात् मिट्टी-धूल में खेलते हुए बालक भाग्यवानों की ही गोद में जाकर बैठते हैं और उन्हें भी धूल धूसरित करते हैं।)

तापसी :
(अपनी अंगुलियों से धमकाते हुए) अच्छा! यह मुझे कुछ भी नहीं समझ रहा है। (पीछे की ओर देखकर) यहाँ कौन ऋषि कुमार है? (राजा को देखकर) हे महानुभाव! अपनी बाल-क्रीड़ा द्वारा परेशान किए जाते हुए इस सिंह शावक को इस बालक से छुड़ा दीजिए। मेरे द्वारा यह नहीं छुड़ाया जा सकता क्यों कि इसने शावक को जोर से पकड़ रखा है।

राजा :
अच्छा (ऐसा कहकर हँसते हुए जाते हैं) अन्य किसी के भी कुल का यह अंकुर (दीपक) स्पर्श करने मात्र से जब मेरे हृदय में सुख का संचार करता है तब यह अपने माता-पिता को (जिसने इसे पाला-पोसा है) कितना सुख प्रदान करता होगा? तापसी-(दोनों अवाक् होकर) आश्चर्य है, आश्चर्य है।

3. राजा-आर्ये किमिव।
राजा-आर्ये किमिव।

तापसी :
अस्य बालकस्य असम्बद्धेऽपि भद्रमुखे संवादिनी आकृतिरिति विस्मितास्मि। अपि च धामशीलोऽपि भूत्वा अपरिचितस्यापि ते वचनेन प्रकृतिस्थः संवृत्त।

राजा :
(बालकमुपलालयन्) आर्य! न चेन्मुनिकुमारोऽयम् तत् कोऽस्य व्यपदेशः?

तापसी :
पौरव इति।

राजा :
(स्वगतम्) कथमेकान्वयोऽयमस्माकम्।

तापसी :
(प्रविश्य मयूरहस्ता) सर्वदमन शकुन्तलावण्यं प्रेक्षस्व।

बालः :
(सदृष्टिक्षेपम्) कुत्र वा मम माता?

उभे :
नामसादृश्येन वञ्चितो मातृवत्सलः।

द्वितीया :
वत्स अस्य मृत्तिकामयूरस्य रम्यत्वम् पश्येति भणितोऽसि।

MP Board Solutions

राजा :
(आत्मगतम्) किंवा शकुन्तलेत्यस्य मातुराख्या। सन्ति पुनर्नामधेयसादृश्यानि।

बालः :
मातः रोचते में एष भद्रमयूरः। (इति क्रीडनकमादत्ते)

प्रथमा :
(विलोक्य सोद्वेगम) अहो रक्षाकरण्डकमस्य मणिबन्धे न दृश्यते।

शब्दार्थ :
आर्ये-आदरणीया-respected; भद्रमुखे-अच्छे मुख वाली-beautiful; आकृतिरिति-ऐसी आकृति-this type of shape; भूत्वा-होकर-done; संवृत्तः-होये-happened; अस्य-इसका-its; कोस्य-यह कौन है-who is this? मयूर हस्ता-हाथ में मोर-peacock in hand;शकुन्तलावण्यं-पक्षी का सुदूर-bird’s beautiful; कुत्र-कहाँ-where; रोचते-अच्छा लगता है-to seems good.

हिन्दी अर्थ :
राजा :
आर्ये! कैसा आश्चर्य!

तापसी :
इस बालक का आप से संबंध न होने पर भी इसका चेहरा आप से बहुत मिलता-जुलता है इसलिए मैं आश्चर्यचकित हो रही हूँ। और भी, यह हठी बालक आप से अपरिचित होने पर भी आपको देख शान्त हो गया।

राजा :
(उस बालक को प्यार करते हैं) यदि यह मुनिकुमार नहीं है तो यह किस कुल-गोत्र का है?

तापसी :
पौरव वंश। राजा-(अपने मन ही मन) क्या यह मेरे वंश का है?

तापसी :
(हाथ में मिट्टी के बने मोर के साथ प्रवेश) सर्वदमन! इस शकुन्त के लावण्य को देख।

बालक :
(इधर-उधर देखकर) मेरी माता कहाँ है?

दोनों :
नाम एक समान होने के कारण बेचारा ठगा गया।

दूसरी तापसी :
पुत्र! इस मिट्टी से बने शकुन्त (मोर) पक्षी की सुंदरता देखो।

राजा :
(मन-ही-मन) क्या इसकी माँ का नाम शकुन्तला है? किन्तु नाम की समानता तो बहुत मिलती है।

बालक :
माँ! यह मोर मुझे अच्छा लग रहा है (ऐसा कह खिलौने को हाथ में ले लेता है।)

पहली तापसी :
(देखते ही उद्वेगपूर्वक) इसके मणिबन्ध में रक्षा-सूत्र नहीं दिखाई दे रहा है? (आर्ये!)

MP Board Solutions

4. राजाः :
अलमलमावेगने। नन्विदमस्य सिंहशावविमर्दात्परिभ्रष्टम्। (इत्यादातुमिच्छति)

प्रथमाः :
शृणोतु महाराजः एषाऽपराजिता नामौषधिरस्य जातकर्मसमये भगवता मारीचेन दत्ता। एतां किल मातापितरावात्मानं च वर्जयित्वापरो भूमिपतितां न गृह्णाति।

राजाः :
अथ गृह्णाति।

प्रथमाः :
ततस्तं सर्पो भूत्वा दशति।

राजाः :
(सहर्षम् आत्मगतम्) कथमिव सम्पूर्णमपि मे मनोरथंनाभिनन्दामि। (इति। बालं परिष्वजते)

(ततः प्रविशत्येकवेणीधरा शकुन्तला)
राजाः-(शकुन्तलां विलोक्य) अये सेयमत्रभवती शकुन्तला।

बालः :
(मातरमुपेत्य) मातः एष कोऽपि पुरुषो मां पुत्र इत्यालिङ्गति।

राजाः :
प्रिये क्रौर्यमपि मे त्वयि प्रयुक्तमनुकूलपरिणामं संवृत्तम् यदहमिदानीं त्वया प्रत्यभिज्ञातमात्मानं पश्यामि।

शकुन्तलाः :
(नाममुद्रां दृष्ट्वा) आर्यपुत्रं इदं तेऽङ्गलीयकम्।।

राजाः :
अस्मादङ्गलीयोपलम्भात्खलु स्मृतिरूपलब्धा।
(इति निष्क्रान्तः)

शब्दार्थ :
दातुमिच्छति-देने की इच्छा करता है-wish to give;जातकर्मसमये-जात कर्म के समय-ceremonyperformed at the birthofachild; दाता-दिया गया है-given; वर्जयितापरो-छोड़कर दूसरा-expect other; भूमिपतिता-भूमि पर गिरे हुए को-to fallen on the ground; न ग्रहणाति-ग्रहण नहीं करता-does not take; ततस्तं-तब उसे-then it; भूत्वा-होकर -across; सहर्षम्-हर्ष के साथ-with cheer; आत्मगतम्-मन में-in mind; विलोक्य-देखकर-looking; इत्यालिङ्गति-ऐसा आलिंगन करता है-armes; पश्यामि-देखता हूँ-look; त्वया-तुझसे-your.

MP Board Solutions

हिन्दी अर्थ :
राजा :
घबराएं नहीं, सिंह शावक के साथ खेलते समय रगड़ से हाथ में बंधा रक्षा-सूत्र नीचे गिर गया (यह कह राजा उसे उठाना चाहता है।)

पहली तपस्विनी :
महाराज! सुनिए। यह अपराजिता नामक दिव्य औषधि (ताबीज) इस बालक के जात कर्म के समय पूज्य कश्यप ऋषि ने इसके हाथ में बाँध दी थी। इसके भूमि पर गिर जाने पर इस बालक के माता-पिता के अलावा किसी दूसरे द्वारा उठाया जाना वर्जित है (अर्थात् इसके माता-पिता के सिवा कोई दूसरा नहीं उठा सकता)।

राजा :
यदि कोई दूसरा उठा ले तो?

पहली तपस्विनी :
तो साँप बनकर यह डस लेता है।

राजा :
(मन में प्रसन्न होते हुए) तब तो मेरा मनोरथ पूर्ण हुआ (बालक को छाती से लगाता है) (तब एक वेणी धारण किए शकुन्तला प्रवेश करती है)।

राजा :
(शकुन्तला को देखकर) अरे, यह तो शकुन्तला ही है।

बालक :
(अपनी माँ के पास जाकर) माँ! ये कौन है जो मुझे बड़े स्नेह से पुत्र कहते हुए गले लगा रहे हैं।

राजा :
प्रिये! मैंने तुम्हारे साथ जो भी प्रतिकूल व्यवहार किया था, उसका परिणाम है कि अब तुम भी मुझे नहीं पहचान रही हो।

शकुन्तला :
आर्य पुत्र! क्या यह वही अंगूठी है?

राजा:
यह वही अँगूठी है जिससे हम स्मृति को उपलब्ध हुए हैं। (ऐसा कह निकल जाते हैं)।

MP Board Class 9th General English Essay Writing

In this article, we will share MP Board Class 9th English Solutions Essay Writing Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th General English Essay Writing

1. My Hobby

Introduction :
Hobby means some work done in free time. When a man gets time after doing his r routine work, he wants to enjoy. At this time if he does some different work, it is called his hobby. Hobbies are many such as painting, playing on some instruments, photography, stamp-collecting, gardening etc.

My Hobby—My hobby is gardening. I think it is the best hobby. Plants and trees are very useful for our life. They not only provide us food to eat, but also serve us in many ways. They make the air fresh and cool for us. They check the air pollution also. Plants give us flowers. Trees give-us fruits to eat and wood to bum. So I like trees and plants very much.

My Garden—There is no ground around our house. So I have planted several kinds of flowers in flower pots. I love flowers very much. I water the plants and care for them. I bring small plants from the nursery. I prepare the flower pots and then cultivate the plants. I give fertilizer to them. When buds appear, it gives me great pleasure. I wait for their blossoming into beautiful flowers. Sometimes when I get up in the morning and see the flowers my joy knows no bounds. My parents and other family members too become very happy to see them. Guests coming to our home appreciate my hobby.

Conclusion—Sometimes we sit in our small garden and do our home work or take tea and breakfast. It gives us great joy. My mind becomes sharp and my memory is increased in the company of flowers. Sometimes I see flowers in my dream and my
heart is filled with pleasure.

MP Board Solutions

2. An Indian Festival
Or
Diwali

Introduction—Diwali is an important festival of the Hindus. It often comes in the month of October or November every year. It is celebrated in the memory of Lord Ram’s return to Ayodhya after 14 years of exile. The people of Ayodhya welcomed Lord Ram graciously. They decorated their homes with flowers and lighted earthen lamps before their houses. Diwali is a remembrance of that day.

Preparations—Several days before people start preparing for this festival. They clean their houses and whitewash them. The merchants paint their shops and set them. The market gets a new look.

How Celebrated—People buy new clothes and new dresses. They buy many things for this festival. Children buy crackers. Ladies buy sarees and material for preparing sweets. People give presents to friends and relatives. Main days of celebration of Diwali are three—‘Dhan Teras’, ‘Roop Chaudas’ and ‘Diwali’ on Amavasya day. In the evening ladies and children bum candle and lamps. Many electric bulbs of several colours are also lighted.

Worship of Goddess Laxmi—On Diwali day people worship goddess Laxmi. They pray her for health, wealth and happiness for the whole year. The rich and the poor enjoy Diwali. Diwali also marks the end of the year.

Importance—Diwali is an all India festival. People of all parts of India and all communities celebrate’it. It is a festival of national importance. It promotes national unity also.

For AH People—All age groups of people enjoy celebration of Diwali. The rich and the poor all celebrate it as per their capacity.

Conclusion—Some people gamble and drink wine. Some are injured at the time of bursting crackers due to carelessness. However, Diwali brings happiness to every home in India.

3. Importance of Newspapers
Newspapers are the world’s mirrors.

—James Ellis

Introduction—The word News is made up of four letters N, E, W and S. Each letter symbolises one direction. N stands for North, E for East; W for West and S for South. Hence, a newspaper is a paper that contains news of all directions—North, South, East and West.

A newspaper collects information about happenings in the world through news agencies and prints them on a paper.

Contents of a Newspaper—A newspaper contains political, social, economical, religious and several other kinds of news. Everybody finds something of his/her interest in it. Children, young persons as well as old persons find newspaper interesting. There is a column for market report exhibiting wholesale prices of a lot of articles of daily use and quoting market value of shares and stocks of leading concerns. So a man of business is also interested in it. Art, music, entertainment, games, general knowledge and all such things are there in a newspaper.

There are advertisements of various kinds in the newspapers. They inform us about new and useful inventions. They are a source of income for the newspaper. Advertisements concerning matrimonial alliance provide immense relief to parents in choosing consorts for their sons or daughters. Assorted advertisements provide an unfathomable relief to people of different sorts. Only because of these advertisements we get a newspaper within our reach price.

Importance of Newspapers—Newspapers guide and teach us. They try to educate and shape public opinion. They are necessary for a democratic society. They express the views of the public in a free and fearless manner. Most of us are too busy to think of the great problems of our country, so we rely upon- the newspaper and accept the view they present to us. We can also express our views under the column ‘Letters to the Editor’.

MP Board Solutions

Conclusion—Newspaper is a powerful weapon. It is a measuring rod to determine the length of democracy in a country. And as such it should be handled carefully. Rumours and sensational news create a nasty atmosphere. Newspapers must present constructive and objective matter before their readers. They should not misuse freedom given to the press. Their criticism should not be biased. They should be impartial in their news and views.

4. Wonders of Science Or
Science is a Good Servant but a Bad Master

Introduction—It is the age of science. Science plays an important role in our life. It has made our life easier and comfortable. Science is a systematic way of knowledge and living.

Scientific Wonders—Science has given us many wonderful gifts. The various inventions of science are its wonders. We cannot imagine our life without them.

Various Inventions—Electricity is the most useful gift of science. It gives us light. Heaters, fans, coolers, refrigerators, computers etc., all work by electricity. It also runs machines and trains.

Medicine and Surgery—Science has given wonderful medicines. Vaccination helps us in preventing diseases like polio, cholera, small pox etc. It has brought down the death rate. Modem surgical equipment have made operations less painful.

Means of Communication—Today we amuse ourselves by watching television and listening to music on radio and tape recorder. Television has become a powerful medium of education and knowledge. U.G.C. and IGNOU lessons on television are very useful. Fast means of transport and communication help us to reach distant places in a short time.

Computers—Scientists have invented computers. These are wonderful inventions. Computers can do complex calculations and work quickly. They have solved a lot of problems of man.

Disadvantages of Science—-Everything has two sides. Science too has a dark side. The invention and production of atom bombs and other dangerous weapons are a great threat to the existence of humanity. They can destroy the world in seconds. Secondly, big factories, mills and other machines have polluted the atmosphere.

Conclusion—Science is a great help to modem man. If properly used it can make the life of man healthier and happier.

5. My Best Friend

Introduction— ‘No man is an island entire of itself’. We need someone to share our sorrows and joys. I have several friends but Pinki is my best friend. She studies in my class and is my neighbor.

Details—Pinki’s father is a businessman. He is a simple man. Her mother is a teacher. She is a virtuous lady. Qualities of her parents are present in Pinki also.

Her qualities—Pinki is an intelligent girl. She always stands first in class. But she is not proud. She is kind and cooperative. She helps her classmates. She is a ‘friend in need’ and thus ‘a friend indeed’. We go to school together and come home together.

Her love for games—She is good at sports and games too. Last year she won the badminton championship.

Why I like her—I like her because she has a very good nature. She is cheerful, kind, honest and truthful. She faces problems boldly. She always helps me. Everybody praises her. She bears a good moral character. She believes in simple living and high thinking.

Conclusion—A good person inspires others to be good. There is a saying that a person is known by the company he keeps. Thus her company inspires me to be good and become like her. I am proud of my friend.

6. My Mother

Introduction—‘A hand that rocks the cradle rules the world1. The above saying holds true as a child is only a mother’s reflection. ‘Mother, or mama’ the first word spoken by a child holds in itself the essence of love and care.

We can’t compare the relation of a mother with any other relation. Mother not only gives us birth but she brings us up as well, looks after us and gives all her attention to our well-being. She does many sacrifices for us.

My mother—My mother Mrs. Pramila Devi is an ideal mother. She is a symbol of love and sacrifice. She gets up early in the morning and works late till night. She keeps the home neat and clean. When I get up she gives me warm water to wash my mouth. She gives me hot tea to drink. She prepares food with keen interest. The food is tasty to eat. She pays attention to all my needs.

MP Board Solutions

Education and other qualities—My mother is B.A. She has a good knowledge of several subjects especially of Hindi and English. She possesses a great experience of many arts. She knows knitting and sewing well. She instructs us in other fields too. My mother is religious minded. She worships God daily without fail.

Social side of my mother—My mother has good relations with our neighbours. She helps them at the time of their troubles. My mother helps the poor and the needy. She takes part in various social activities. She is a member of the Woman Organisation for helping the weaker sections of the society.

7. An Ideal Teacher

Introduction—I study in Modem Public School, Bhopal. It is a very good school. It has forty teachers. All the teachers are good but Mr. S. K. Gupta is my favorite teacher.

His personality and qualities—He is about thirty-five years old. He teaches us English. He is our class teacher too. He is smart and handsome.

He believes in ‘simple living and high thinking’. He works hard with his students. He takes extra classes on his student’s demand. He helps weak students. Mr. Gupta loves us as his younger brothers. We also respect him as our elder brother.

His method of teaching—He is very punctual. His teaching method is very good. He uses simple language in teaching, so we easily understand his lessons. His examination results are always very good. He’is both strict and kind. We obey him.

His love for sports—He is good at games. He plays cricket well. He is a good sportsman. He has created an interest for cricket among the boys.

Conclusion—Mr. Gupta, therefore, possesses all the qualities of an ideal teacher. I have great respect for him in my heart. I like him a lot.

8. The Books I Like Most

Introduction—Books are our best friends. They are treasures of knowledge. No one can feel lonely in their company. They also act as our guide and teacher.

My favorite book—My favorite book is the Ramayana written by the great poet Tulsidas. The book is full of conceptions of Indian philosophy. The greatest secrets of divine knowledge are explained in simple verse. Doubts shatter, pride melts away, evil thoughts escape and greed gallops away after its study.

About the theme—The story is too well-known to be narrated in details. The deep knowledge of Hindu culture over the book is quite clear. Ram represents all that is good. Ravan stands for the evil. Ram’s victory over Ravan means the victory of truth over falsehood, or good over evil.

Conclusion—The biggest number of commentaries have been written over it. It has been translated in more than 100 languages of the world and foreigners know India through it. When they read Ramayana, they know about India’s glory. They bow their heads in honor to India.

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक

In this article, we will share MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक

MP Board Class 9th Science Chapter 6 पाठ के अन्तर्गत के प्रश्नोत्तर

प्रश्न श्रृंखला-1 # पृष्ठ संख्या 77

प्रश्न 1.
ऊतक क्या है?
उत्तर:
ऊतक-“उन कोशिकाओं का समूह जो आकृति में समान होता है तथा किसी कार्य को एक साथ सम्पन्न करता है, ऊतक कहलाता है।”.

प्रश्न 2.
बहुकोशिक जीवों में ऊतकों का क्या उपयोग है?
उत्तर:
बहुकोशिक जीवों में ऊतकों का उपयोग- बहुकोशिकीय जीवों में श्रम विभाजन होता है जिसमें विभिन्न क्रियाकलापों का सम्पादन एवं संचालन विभिन्न ऊतकों द्वारा किया जाता है इसलिए बहुकोशिक जीवों में ऊतकों का महत्वपूर्ण उपयोग होता है।

प्रश्न शृंखला-2 # पृष्ठ संख्या 81

प्रश्न 1.
प्रकाश-संश्लेषण के लिए किस गैस की आवश्यकता होती है?
उत्तर:
कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) गैस की।

प्रश्न 2.
पौधों में वाष्पोत्सर्जन के कार्यों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
वाष्पोत्सर्जन के द्वारा पौधों में जल का नियमन होता है।

प्रश्न श्रृंखला-3 # पृष्ठ संख्या 83

MP Board Solutions

प्रश्न 1.
सरल ऊतकों के कितने प्रकार हैं?
उत्तर:
तीन:

  1. पैरेनकाइमा
  2. कॉलेनकाइमा
  3. स्क्ले रेनकाइमा।

प्रशन 2.
प्ररोह का शीर्षस्थ विभंज्योतक कहाँ पाया जाता है?
उत्तर:
जड़ों एवं तनों की वृद्धि वाले भाग में।

प्रश्न 3.
नारियल का रेशा किस ऊतक का बना होता है?
उत्तर:
स्क्लेरेनकाइमा ऊतक का।

प्रश्न 4.
फ्लोएम के संघटक कौन-कौन से हैं?
उत्तर:
फ्लोएम के संघटक, निम्न चार होते हैं –

  1. चालनी नलिका
  2. साथी कोशिकाएँ
  3. फ्लोएम पैरेनकाइमा
  4. फ्लोएम रेशा।

प्रश्न शृंखला-4# पृष्ठ संख्या 87

प्रश्न 1.
उस ऊतक का नाम बताएँ जो हमारे शरीर में गति के लिए उत्तरदायी है।
उत्तर:
पेशीय ऊतक।

प्रश्न 2.
न्यूरॉन देखने में कैसा लगता है?
उत्तर:
न्यूरॉन देखने में धागों जैसी संरचना होती है जिससे पतले लम्बे बालों जैसी संरचना निकली होती है।

प्रश्न 3.
हृदय पेशी के तीन लक्षणों को बताएँ।
उत्तर:
हृदय पेशी के लक्षण:

  1. हृदय पेशी अनैच्छिक पेशी होती है।
  2. यह जीवन भर लयबद्ध होकर प्रसार एवं संकुचन करती रहती है।
  3. इन पेशियों की कोशिकाएँ बेलनाकार, शाखाओं वाली और एककेन्द्रकीय होती हैं।

प्रश्न 4.
एरिओलर ऊतक के क्या कार्य हैं?
उत्तर:
एरिओलर ऊतक के कार्य:

  1. अंगों के भीतर की खाली जगह को भरता है।
  2. आन्तरिक भागों को सहारा प्रदान करता है।
  3. ऊतकों की मरम्मत में सहायता प्रदान करता है।

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Chapter 6 पाठान्त अभ्यास के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
ऊतक को परिभाषित कीजिए।
उत्तर:
ऊतक की परिभाषा:
“उन कोशिकाओं का समूह जो आकृति में समान होती हैं तथा किसी कार्य को एक साथ सम्पन्न करती हैं, ऊतक कहलाता है।”

प्रश्न 2.
कितने प्रकार के तत्व मिलकर जाइलम ऊतक का निर्माण करते हैं?
उत्तर:
जाइलम ऊतक निम्न चार प्रकार के तत्वों से मिलकर निर्मित होता है –

  1. ट्रेकीड (वाहिनिका)
  2. वाहिका
  3. जाइलम पैरेनकाइमा
  4. जाइलम फाइबर (रेशे)।

प्रश्न 3.
पौधों में सरल ऊतक जटिल ऊतक से किस प्रकार भिन्न होते हैं?
उत्तर:
सरल स्थायी ऊतक पतली कोशिका भित्ति वाली जीवित तथा बन्धन मुक्त सरल कोशिकाओं से मिलकर बनता है जबकि जटिल स्थायी ऊतक एक से अधिक प्रकार की कोशिकाओं से मिलकर बना होता है जो परस्पर मिलकर एक इकाई के रूप में कार्य करते हैं।

प्रश्न 4.
कोशिका भित्ति के आधार पर पैरेनकाइमा, कॉलेनकाइमा और स्क्लेरेनकाइमा के बीच भेद स्पष्ट करें।
उत्तर:
पैरेनकाइमा की कोशिका भित्ति बहुत पतली होती है, कॉलेनकाइमा की कोशिका भित्ति लचीली होती है जबकि स्क्लेरेनकाइमा की कोशिका भित्ति लिग्निन के कारण मोटी और दृढ़ होती है।

प्रश्न 5.
रन्ध्र के क्या कार्य हैं?
उत्तर:
रन्ध्र के कार्य:

  1. वायुमण्डल से गैसों का आदान-प्रदान करना।
  2. वाष्पोत्सर्जन द्वारा पौधों में जल का नियमन करना।

प्रश्न 6.
तीनों प्रकार के पेशीय रेशों में चित्र बनाकर अन्तर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
पेशीय ऊतकों के तीन प्रकार (रेखित, अरेखित एवं कार्डियक) में अन्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 1
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 2
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 3
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 4

प्रश्न 7.
कार्डियक (हृदयक) पेशी का विशेष कार्य क्या है?
उत्तर:
हृदय का लयबद्ध होकर निरन्तर स्पन्दन कराना।

प्रश्न 8.
रेखित, अरेखित तथा कार्डियक (हृदयक) पेशियों में शरीर में स्थिति, कार्य और स्थान के आधार पर अन्तर स्पष्ट करें।
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 5

MP Board Solutions

प्रश्न 9.
न्यूरॉन का नामांकित चित्र बनाइए। (2018)
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 6

प्रश्न 10.
निम्नलिखित के नाम लिखें –
(a) ऊतक जो मुँह के भीतरी अस्तर का निर्माण करता है।
(b) ऊतक जो मनुष्य में पेशियों को अस्थि से जोड़ता है।
(c) ऊतक जो पौधों में भोजन का संवहन करता है।
(d) ऊतक जो हमारे शरीर में वसा का संचय करता है।
(e) तरल आधात्री सहित संयोजी ऊतक।
(f) मस्तिष्क में स्थित ऊतक।
उत्तर:
(a) एपिथीलियमी ऊतक
(b) कण्डरा
(c) फ्लोएम
(d) वसामय ऊतक
(e) रक्त
(f) तन्त्रिका ऊतक (न्यूरॉन)।

प्रश्न 11.
निम्नलिखित में ऊतक के प्रकार की पहचान करें-त्वचा, पौधे का वल्क, अस्थि, वक्कीय नलिका का अस्तर, संवहन बण्डल।
उत्तर:
त्वचा-एपिथीलियमी ऊतक, पौधे का वल्क-स्क्लेरेनकाइमा सरल स्थायी ऊतक। अस्थि-संयोजी ऊतक, वृक्कीय नलिका का अस्तर-घनाकार एपिथीलियम। संवहन बण्डल-जटिल स्थायी ऊतक।

प्रश्न 12.
पैरेनकाइमा ऊतक किस क्षेत्र में पाया जाता है?
उत्तर:
पत्तियों, जड़ों एवं तनों में।

प्रश्न 13.
पौधों में एपीडर्मिस की क्या भूमिका है ?
उत्तर:
पौधों में एपीडर्मिस की भूमिका-एपीडर्मिस पौधों के सभी भागों की रक्षा करती है तथा पानी की हानि को रोकती है।

प्रश्न 14.
छाल (कॉक) किस प्रकार सुरक्षा ऊतक के रूप में कार्य करता है?
उत्तर:
छाल (कॉर्क) पौधों की जल हानि को रोकती है। यह पौधों की यान्त्रिक आघातों एवं परजीवी कवक के प्रवेश से रक्षा करती है तथा सुरक्षा आवरण बनाती है।

प्रश्न 15.
निम्न दी गई तालिका को पूर्ण करें –
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 7
उत्तर:

  1. पैरेनकाइमा
  2. स्क्लेरेनकाइमा
  3. फ्लोएम।

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Chapter 6 परीक्षोपयोगी अतिरिक्त प्रश्नोत्तर

MP Board Class 9th Science Chapter 6 वस्तुनिष्ठ प्रश्न

बहु-विकल्पीय प्रश्न

प्रश्न 1.
निम्नलिखित में से कौन-से ऊतक में मृत कोशिकाएँ पायी जाती हैं?
(a) मृदूतक
(b) दृढ़ोतक
(c) स्थूलकोण ऊतक
(d) उपकला ऊतक
उत्तर:
(b) दृढ़ोतक

प्रश्न 2.
तने की परिधि निम्नलिखित के कारण बढ़ती है –
(a) शीर्षस्थ विभज्योतक
(b) पार्श्व विभज्योतक
(c) अन्तर्विष्ट विभज्योतक
(d) ऊर्ध्व विभज्योतक।
उत्तर:
(b) पार्श्व विभज्योतक

प्रश्न 3.
कौन-सी कोशिका में छिद्रिल कोशिका भित्ति नहीं होती?
(a) वाहिनिकाएँ
(b) सहचर कोशिकाएँ
(c) चालनी कोशिकाएँ
(d) वाहिकाएँ।
उत्तर:
(b) सहचर कोशिकाएँ

प्रश्न 4.
आँत्र पचे हुए भोजन को अवशोषित करती है। उपकला कोशिकाओं का कौन-सा प्रकार इसके लिए उत्तरदायी है?
(a) स्तरित शल्की उपकला
(b) स्तम्भाकार उपकला
(c) तओ रेशे उपकला
(d) घनाकार उपकला।
उत्तर:
(b) स्तम्भाकार उपकला

प्रश्न 5.
किसी व्यक्ति की दुर्घटना में हाथ की दोनों बड़ी हड्डियाँ (अस्थियाँ) अपने स्थान से हट गईं। निम्नलिखित में से कौन-सा सम्भावित कारण हो सकता है ?
(a) कण्डरा का टूटना
(b) कंकाल पेशी का टूटना
(c) स्नायु का टूटना
(d) एरिओलर (गर्तिका) ऊतक का टूटना।
उत्तर:
(c) स्नायु का टूटना

प्रश्न 6.
काम करते समय एवं दौड़ते समय आप अपने हाथ-पैर आदि अंगों को हिलाते हैं। निम्नलिखित में कौन-सा कथन सही है?
(a) चिकनी पेशियाँ संकुचित होकर अस्थियों को चलायमान करने के लिए स्नायु को खींचती हैं।
(b) चिकनी पेशियाँ संकुचित होकर अस्थियों को चलायमान करने के लिए कण्डराओं को खींचती हैं।
(c) कंकाल पेशियाँ संकुचित होकर अस्थियों को चलायमान करने के लिए स्नायु को खींचती हैं।
(d) कंकाल पेशियाँ संकुचित होकर अस्थियों को चलायमान करने के लिए कण्डराओं को खींचती
उत्तर:
(d) कंकाल पेशियाँ संकुचित होकर अस्थियों को चलायमान करने के लिए कण्डराओं को खींचती

प्रश्न 7.
कौन-सा पेशी-युग्म अनैच्छिक पेशियों के रूप में कार्य करता है?
(i) स्तरित पेशियाँ
(ii) चिकनी पेशियाँ
(iii) हृद पेशियाँ
(iv) कंकाल पेशियाँ।

(a) (i) तथा (ii)
(b) (ii) तथा (iii)
(c) (iii) तथा (iv)
(d) (i) तथा (iv)
उत्तर:
(b) (ii) तथा (iii)

प्रश्न 8.
पादपों में विभज्योतक ऊतक
(a) स्थानीकृत एवं स्थायी होते हैं।
(b) कुछ भागों तक वे सीमित नहीं होते।
(c) स्थानीकृत एवं विभाजनकारी कोशिकाओं के बने होते हैं।
(d) परिमाण में बढ़ते रहते हैं।
उत्तर:
(c) स्थानीकृत एवं विभाजनकारी कोशिकाओं के बने होते हैं।

प्रश्न 9.
निम्नलिखित में से बाह्यत्वचा (एपीडर्मिस) का कौन-सा कार्य नहीं है?
(a) प्रतिकूल परिस्थितियों में बचाव
(b) गैसीय विनिमय
(c) जल संवहन
(d) वाष्पोत्सर्जन
उत्तर:
(c) जल संवहन

MP Board Solutions

प्रश्न 10.
निम्न में से किसमें उपास्थि नहीं पायी जाती?
(a) नाक में
(b) कान में
(c) वृक्क में
(d) कंठ में
उत्तर:
(c) वृक्क में

प्रश्न 11.
मानव शरीर में वसा निम्नलिखित में भण्डारित होती है –
(a) घनाकार उपकला में
(b) वसा ऊतक में
(c) अस्थियों में
(d) उपास्थि में
उत्तर:
(b) वसा ऊतक में

प्रश्न 12.
अस्थि आधात्री में किसकी अधिक मात्रा होती है?
(a) फ्लुओराइड एवं कैल्सियम की
(b) कैल्सियम एवं फॉस्फोरस की
(c) कैल्सियम एवं पोटैशियम की
(d) फॉस्फोरस एवं पोटैशियम की
उत्तर:
(b) कैल्सियम एवं फॉस्फोरस की

प्रश्न 13.
संकुचनशील प्रोटीन पाई जाती है –
(a) अस्थियों में
(b) रुधिर में
(c) पेशियों में
(d) उपास्थि में
उत्तर:
(c) पेशियों में

प्रश्न 14.
ऐच्छिक पेशी पाई जाती है –
(a) आहार नाल में
(b) पाद में
(c) आँख की परितारिका (आइरिस) में
(d) फेफड़ों (फुफ्फुस) की श्वसनी में
उत्तर:
(b) पाद में

प्रश्न 15.
तन्त्रिका ऊतक कहाँ नहीं पाये जाते?
(a) मस्तिष्क में
(b) मेरुरज्जु में
(c) कण्डराओं में
(d) तन्त्रिका में।
उत्तर:
(c) कण्डराओं में

प्रश्न 16.
तन्त्रिका कोशिका में कौन नहीं होता?
(a) तंत्रिकाक्ष
(b) तंत्रिका के अन्तिम सिरे
(c) कण्डराएँ
(d) द्रुमिकाएँ (डेण्ड्राइट)
उत्तर:
(c) कण्डराएँ

प्रश्न 17.
निम्नलिखित में से कौन-सी संरचना ऊतकों की मरम्मत तथा अंगों के खाली स्थान को भरने में सहायता करती है?
(a) कण्डरा
(b) वसा ऊतक
(c) गर्तिका (एरिओलर)
(d) उपास्थि
उत्तर:
(c) गर्तिका (एरिओलर)

प्रश्न 18.
निम्नलिखित में कौन-सा पेशीय ऊतक है जो बिना थके जीवन भर लगातार कार्य करता रहता है?
(a) कंकाल पेशी
(b) हृद पेशी
(c) चिकनी पेशी
(d) ऐच्छिक पेशी
उत्तर:
(b) हृद पेशी

प्रश्न 19.
निम्नलिखित में से कौन-सी कोशिकाएँ शरीर के उपास्थिमय ऊतकों में पाई जाती हैं?
(a) मास्ट कोशिकाएँ
(b) क्षारकरंजी (बेसोफिल)
(c) ऑस्टियोसाइट
(d) उपास्थि अणु
उत्तर:
(d) उपास्थि अणु

MP Board Solutions

प्रश्न 20.
फ्लोएम में पाए जाने वाले निर्जीव पदार्थ हैं –
(a) सहचर कोशिकाएँ
(b) फ्लोएम तन्तु
(c) फ्लोएम मृदूतक
(d) चालनी नलिकाएँ
उत्तर:
(b) फ्लोएम तन्तु

प्रश्न 21.
निम्नलिखित में से किसमें परिपक्वता के समय केन्द्रक लोप नहीं होता है?
(a) सहचर कोशिकाएँ
(b) लाल रुधिर कणिकाएँ
(c) वाहिकाएँ
(d) चालनी नलिका कोशिकाएँ।
उत्तर:
(a) सहचर कोशिकाएँ

प्रश्न 22.
मरुस्थली पादपों में जल ह्रास की दर में निम्नलिखित में से किसके कारण कमी आती है?
(a) उपत्वचा (क्यूटिकल)
(b) स्टोमेटा
(c) लिग्निन
(d) सुबेरिन
उत्तर:
(a) उपत्वचा (क्यूटिकल)

प्रश्न 23.
एक लम्बे वृक्ष में अनेक शाखाएँ होती हैं। इन सभी शाखाओं में जल के पाश्र्वीय संवहन में सहायता करने वाले ऊतक हैं –
(a) स्थूलकोण ऊतक
(b) जाइलम मृदूतक
(c) मृदूतक (पैरेनकाइमा)
(d) जाइलम वाहिकाएँ
उत्तर:
(d) जाइलम वाहिकाएँ

प्रश्न 24.
खेत में उगे गन्ने के पौधे के अग्रभाग को यदि काटकर हटा दिया जाए तो भी वह पौधा लम्बाई में बढ़ता रहता है। ऐसा निम्नलिखित में से किस कारण होता है?
(a) ऐधा (कैम्बियम)
(b) शीर्षस्थ विभज्योतक
(c) पाीय विभज्योतक
(d) अंतर्वेशी विभज्योतक
उत्तर:
(d) अंतर्वेशी विभज्योतक

प्रश्न 25.
एक कील को वृक्ष के तने में भूमि सतह से एक मीटर की ऊँचाई पर ठोंक दिया गया है। तीन वर्ष के पश्चात् यह कील –
(a) निचले स्तर पर आ जायेगी
(b) उच्चतर स्तर पर आ जायेगी
(c) उसी स्थान पर बनी रहेगी
(d) पार्श्व में पहुँच जायेगी।
उत्तर:
(c) उसी स्थान पर बनी रहेगी

प्रश्न 26.
मृदूतक कोशिकाएँ होती हैं –
(a) अपेक्षाकृत अविशिष्टीकृत एवं पतली भित्ति वाली
(b) मोटी भित्ति युक्त एवं विशिष्टीकृत
(c) लिग्निन युक्त
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर:
(a) अपेक्षाकृत अविशिष्टीकृत एवं पतली भित्ति वाली

प्रश्न 27.
पादपों में लचीलापन निम्नलिखित में से किसके कारण होता है?
(a) स्थूलकोण ऊतक
(b) दृढ़ोतक
(c) मृदूतक
(d) हरित ऊतक।
उत्तर:
(a) स्थूलकोण ऊतक

प्रश्न 28.
कॉर्क कोशिकाओं में निम्नलिखित में से किसकी उपस्थिति होने से उनकी जल तथा गैसों के लिए पारगम्यता समाप्त हो जाती है?
(a) सेलुलोज
(b) लिपिड
(c) सुबेरिन
(d) लिग्निन
उत्तर:
(c) सुबेरिन

प्रश्न 29.
स्थलीय पर्यावरण में पादपों की उत्तरजीविता उनमें निम्नलिखित में से किसकी उपस्थिति के कारण सम्भव होती है?
(a) अन्तर्विष्ट विभज्योतक
(b) संवहन ऊतक
(c) शीर्षस्थ विभज्योतक
(d) मृदूतक।
उत्तर:
(b) संवहन ऊतक

प्रश्न 30.
जिम्नोस्पर्म (अनावृतबीजी पौधों) में जल संवहन ऊतक सामान्यतया निम्नलिखित में से किसमें पाये जाते हैं?
(a) वाहिकाएँ
(b) चालनी नलिकाएँ
(c) वाहिनिकाएँ
(d) जाइलम तन्तु
उत्तर:
(c) वाहिनिकाएँ

MP Board Solutions

प्रश्न 31.
पौधों में जल तथा खनिज का संवहन होता है – (2019)
(a) फ्लोएम द्वारा
(b) मृदूतक द्वारा
(c) जाइलम द्वारा
(d) इन सभी के द्वारा।
उत्तर:
(c) जाइलम द्वारा

रिक्त स्थानों की पूर्ति

1. रुधिर कणिकाओं का अस्तर ……………. से बना होता है।
2. छोटी अथवा क्षुद्रान्त का अस्तर ……………. से बना होता है।
3. वृक्क नलिकाओं का अस्तर ……………. से बना होता है।
4. पक्ष्माभिका उपकला कोशिकाएँ हमारे शरीर के ……………. में पाई जाती हैं।
5. कॉर्क की भित्तियों पर …………….. होता है, जिसके कारण ये गैस एवं जल के लिए अपारगम्य होती है।
6. …………….. में छिद्रित भित्तियों वाली नलिकाकार कोशिकाएँ होती हैं और ये सजीव होती हैं।
7. अस्थियों में कठोर आधात्री होता है जो …………. एवं ………….. से बना होता है।
8. ……………. जटिल ऊतक के प्रकार हैं।
9. …………….. में द्वार कोशिकाएँ होती हैं।
10. कॉर्क की कोशिकाओं में पाए जाने वाले रसायन को …………….. कहते हैं।
11. नारियल का छिलका ………….. ऊतकों का बना होता है।
12. ……………. पादपों को लचीलापन प्रदान करता है।
13. ……………. एवं …………….. दोनों संवहनी ऊतक है।
14. जाइलम के द्वारा मृदा से …………… एवं …………… का अभिगमन होता है।
15. फ्लोएम …………….. से ……………. को पौधे के दूसरे अंगों में पहुँचाने का कार्य करता है।
उत्तर:

  1. शल्की उपकला
  2. स्तम्भाकार उपकला
  3. घनाकार उपकला
  4. श्वसन पथ
  5. सुबेरिन
  6. चालनी नलिकाओं
  7. कैल्सियम, फॉस्फोरस
  8. जाइलम, फ्लोएम
  9. रन्ध्र
  10. सुबेरिन
  11. दृढ़
  12. स्थूलकोण ऊतक
  13. जाइलम, फ्लोएम
  14. जल, खनिज लवण
  15. पत्ती, भोजन।

सही जोड़ी बनाना
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 8
उत्तर:

  1. → (v)
  2. → (iv)
  3. → (iii)
  4. → (i)
  5. → (ii)
  6. → (vi)

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 9
उत्तर:

  1. → (i)
  2. → (ii)
  3. → (iv)
  4. → (iii)
  5. → (v)

सत्य/असत्य कथन

1. मृदूतक ऊतकों में अन्तराकोशिक स्थान होता है।
2. स्थूलकोण ऊतकों की कोशिकाओं के कोने अनियमित रूप से मोटे हो जाते हैं।
3. शीर्षस्थ एवं अन्तर्विष्ट विभज्योतक स्थायी ऊतक होते हैं।
4. विभज्योतकी कोशिकाओं की प्रारम्भिक अवस्था में रसधानियाँ नहीं होती हैं।
5. रुधिर के आधात्री (मैट्रिक्स) में प्रोटीन, लवण एवं हॉर्मोन होते हैं।
6. दो अस्थियाँ, स्नायु की वजह से जुड़ी होती हैं।
7. कण्डरा रेशेहीन एवं कमजोर (फ्रेजाइल) ऊतक होते हैं।
8. उपास्थि संयोजी ऊतक का एक प्रकार है।
9. मैट्रिक्स का स्वरूप ऊतकों के कार्यों के अनुसार भिन्न-भिन्न प्रकार का होता है।
10. वसा का संग्रह त्वचा के नीचे एवं आन्तरिक अंगों के मध्य होता है।
11. उपकला ऊतकों के मध्य अन्तरकोशिकीय स्थान होते हैं।
12. रेखित पेशियों की कोशिकाएँ बहुकेन्द्रकीय एवं अशाखित होती हैं।
13. प्राणी शरीर का रक्षक ऊतक उपकला ऊतक होता है।
14. रुधिर वाहिकाओं, फुफ्फुस कूपिकाओं एवं वृक्क नलिकाओं का अस्तर (lining) उपकला ऊतकों का बना होता है।
15. उपकला स्तर, पारगम्य स्तर की तरह कार्य करता है।
16. उपकला स्तर बाहरी वातावरण तथा शरीर के मध्य पदार्थों के नियमन को नहीं होने देता।
उत्तर:

  1. सत्य
  2. सत्य
  3. असत्य
  4. सत्य
  5. सत्य
  6. सत्य
  7. असत्य
  8. सत्य
  9. सत्य
  10. सत्य
  11. असत्य
  12. सत्य
  13. सत्य
  14. सत्य
  15. सत्य
  16. असत्य।

MP Board Solutions

एक शब्द/वाक्य में उत्तर

प्रश्न 1.
‘ऊतक’ शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग किसने किया?
उत्तर:
बिचैट ने।

प्रश्न 2.
जड़ों द्वारा अवशोषित जल एवं खनिज लवणों के संवहन के लिए कौन-सा ऊतक उत्तरदायी है?
उत्तर:
जाइलम।

प्रश्न 3.
पत्तियों द्वारा निर्मित भोजन के संवहन के लिए कौन-सा ऊतक उत्तरदायी है?
उत्तर:
फ्लोएम।

प्रश्न 4.
पेशियों को अस्थियों से जोड़ने वाले ऊतक का नाम लिखिए।
उत्तर:
कण्डराएँ (टेण्डन्स)।

प्रश्न 5.
हड्डियों को हड्डियों से जोड़ने वाले ऊतक का नाम लिखिए।
उत्तर:
स्नायुः (लिगामेण्ट)।

प्रश्न 6.
आहार नाल, पित्ताशय एवं मूत्राशय में किस प्रकार का पेशी ऊतक पाया जाता है?
उत्तर:
अरेखित पेशी ऊतक।

प्रश्न 7.
हाथ एवं पैरों में किस प्रकार का पेशी ऊतक पाया जाता है?
उत्तर:
रेखित पेशी ऊतक।

प्रश्न 8.
द्रव संयोजी ऊतक का नाम लिखिए।
उत्तर:
रक्त।

प्रश्न 9.
मस्तिष्क में पाये जाने वाले ऊतक का नाम क्या है?
उत्तर:
तन्त्रिका ऊतक।

प्रश्न 10.
परजीवी के आक्रमण से पादप शरीर की कौन-सी संरचना रक्षा करती है?
उत्तर:
मोम वाले पदार्थ युक्त मोटी उपत्वचा (क्यूटिकल)।

MP Board Class 9th Science Chapter 6 अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
शीत क्षेत्रों के प्राणी एवं ठण्डे जल में रहने वाली मछलियों में उपत्वचीय वसा की अधिक मोटी परत पाई जाती है। क्यों ? वर्णन कीजिए।
उत्तर:
शीत क्षेत्रों के प्राणी एवं ठण्डे जल में रहने वाली मछलियों में उपत्वचीय वसा की अधिक मोटी परत पाई जाती है क्योंकि यह ताप नियमन के लिए उपत्वचीय रोधन की तरह कार्य करती है।

प्रश्न 2.
यदि एक पौधा युक्त गमले को एक काँच के जार से ढक देते हैं तो जार की दीवार पर पानी की बूंदें दिखाई देने लगती हैं। ऐसा क्यों ? व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
वाष्पोत्सर्जन के द्वारा पेड़-पौधे जलवाष्प उत्सर्जित करते हैं जो काँच के जार की ठंडी दीवारों से संघनित होकर पानी की बूंदों में परिवर्तित हो जाती है। इस कारण दीवारों पर पानी की बूंदें दिखाई देती हैं।

प्रश्न 3.
ऐच्छिक एवं अनैच्छिक पेशी के आधार पर निम्न क्रियाकलापों में भेद कीजिए –
(a) मेंढक का कूदना
(b) हृदय का पम्पिंग करना
(c) हाथ से लिखना
(d) आपकी आँतों में चॉकलेट की गति।
उत्तर:

(a) ऐच्छिक पेशी
(b) अनैच्छिक पेशी
(c) ऐच्छिक पेशी
(d) अनैच्छिक पेशी।

प्रश्न 4.
जलकुम्भी पानी की सतह पर तैरती रहती है। व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
फूले हुए पर्णवृन्तों में वायूतकों के होने के कारण इसकी पत्तियाँ जल से हल्की हो जाती हैं इसलिए तैरती रहती हैं।

प्रश्न 5.
जाइलम ऊतक के कार्य लिखिए। (2019)
उत्तर:
जाइलम ऊतक का कार्य है जड़ों द्वारा अवशोषित जल एवं खनिज लवणों को पत्तियों तक पहुँचाना।

MP Board Class 9th Science Chapter 6 लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
मृदूतक या पैरेनकाइमा का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
मृदूतक या पैरेनकाइमा (Parenchyma)-मृदूतक पौधों में जड़, तना, पत्ती, फूल एवं फलों में प्रमुखता में पाये जाते हैं। इनकी कोशिकाएँ जीवित और पतली भित्ति वाली होती हैं। ये गोल, अण्डाकार या बहुतलीय (बहुकोणीय) होती हैं। इनके बीच में बड़ी रसधानी होती है तथा इनका कोशिकाद्रव्य सघन होता है। ये सामान्यतः समव्यासी होती हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 10

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
मृदूतकों या पैरेनकाइमा के प्रमुख कार्य लिखिए।
उत्तर:
मृदूतकों या पैरेनकाइमा के प्रमुख कार्य –

  1. ये भोजन का संचय करते हैं।
  2. ये पौधों को दृढ़ता प्रदान करते हैं।
  3. ये अकार्बनिक पदार्थ रेजिन, टेनिन, गोंद कण आदि को संचित करते हैं।
  4. पेरेनकाइमा कोशिकाओं में जब क्लोरोफिल उपस्थित रहता है, तो इन्हें क्लोरेनकाइमा कहते हैं। ये ऊतक प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया द्वारा भोजन निर्माण का कार्य करते हैं।

प्रश्न 3.
स्थूलकोण ऊतक या कॉलेनकाइमा का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
स्थूलकोण ऊतक या कॉलेनकाइमा (Collenchyma):
इनकी कोशिकाएँ जीवित, अवकाश रहित होती हैं तथा आकार लगभग बहुतलीय, सामान्यतः समव्यासी तथा अन्तरकोशिकीय मृदूतकों या पैरेनकाइमा की तरह होता है। इनकी भित्तियाँ सेल्यूलोज द्वारा स्थूलित होती हैं। यह स्थूलन इनके कोणों पर अधिक होता है। ये मजबूत एवं लचीली होती हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 11

प्रश्न 4.
दृढ़ोतक या स्क्लेरेनकाइमा का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
दृढ़ोतक या स्क्ले रेनकाइमा (Sclerenchyma)इस प्रकार के ऊतकों की कोशिकाएँ प्रायः मृत, लम्बी तथा पतली होती हैं। इनकी भित्तियाँ लिग्निन द्वारा स्थूलित होती हैं। इनमें अन्तरकोशिकीय अवकाश नहीं होते हैं। कभी-कभी ये बहुत लम्बी और दोनों सिरों पर नुकीली होती हैं। दो कोशिकाओं के मध्य में सुस्पष्ट मध्य पटलिका होती है। कभी-कभी इनमें विशेष प्रकार की कोशिकाएँ होती हैं जिन्हें स्क्लेरिड्स कहते हैं। ये ऊतक पौधों के कॉर्टेक्स, पिथ एवं कठोर बीज आदि में उपस्थित होते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 12

MP Board Solutions

प्रश्न 5.
दारू या जाइलम का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
दारू या जाइलम (Xylem):
यह पौधे का काष्ठीय भाग है जो निम्नांकित चार प्रकार की कोशिकाएँ से बना होता है –

1. वाहिनिकाएँ या ट्रेकीड्स (Tracheids):
ये दोनों सिरों पर नुकीली नली के आकार की होती हैं।

2. वाहिकाएँ या वैसल्स (Tracheae or Vessels):
ये कई कोशिकाओं में बनी नली के आकार की होती हैं।

3. काष्ठ मृदूतक (Wood Parenchyma) या जाइलम पैरेनकाइमा (Xylem Parenchyma):
ये साधारण पैरेनकाइमा की तरह होती हैं।

4. काष्ठ तन्तु (Wood Fibres) या जाइलम तन्तु (Xylem Fibres) या जाइलम स्क्ले रेनकाइमा (Xylem Sclerenchyma):
ये लम्बे नुकीले तथा लिग्निन से स्थूलित तथा दृढ़ होते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 13

प्रश्न 6.
अधोवाही या फ्लोएम का सचित्र वर्णन – मृदूतकी कीजिए।
उत्तर:
अधोवाही या फ्लोएम (Phloem):
यह जीवित संवहनी ऊतक है जो निम्न चार प्रकार की कोशिकाओं से मिलकर बना होता है –

1. चालनी नलिका (Sieve Tubes):
ये सहकोशिका नलिकाओं की तरह होती है जिनमें स्थान-स्थान पर चालनी पट्टिकाएँ होती हैं।

2. सहकोशिकाएँ (Companion Cells):
सदैव चालनी नलिकाओं के साथ पाई जाने वाली तथा आकार में लम्बी होती हैं। इसमें बड़ा केन्द्रक तथा अधिक मात्रा में जीवद्रव्य होता है।

3. अधोवाही मृदूतक या फ्लोएम पैरेनकाइमा चालनी नलिका (Phloem Parenchyma)
साधारण मृदूतक की तरह जीवित कोशिकाएँ होती हैं।

4. अधोवाही रेशे या बास्ट रेशे (Bast Fibres):
ये लम्बी, नुकीली तथा लिग्निन युक्त होती हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 14

प्रश्न 7.
विशिष्ट स्त्रावी ऊतकों का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
विशिष्ट स्रावी ऊतक-ये ऊतक दो प्रकार के होते हैं –

1. ग्रन्थिल स्त्रावी ऊतक (Glandular Secretory Tissues):
ये ग्रन्थि युक्त होते हैं तथा गोंद, रेजिन, तेल, सुगन्धित तेल एवं मकरन्द आदि का स्रावण करते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 15
2. आक्षीरी स्रावी ऊतक (Latex Secretory Tissues):
ये नलिका युक्त होते हैं तथा आक्षीर या दूध जैसे पदार्थ का स्रावण करते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 16

MP Board Solutions

प्रश्न 8.
जाइलम एवं फ्लोएम में अन्तर स्पष्ट कीजिए। ये जटिल ऊतक क्यों कहलाते हैं ?
उत्तर:
जाइलम एवं फ्लोएम में अन्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 17
जाइलम एवं फ्लोएम दोनों में एक से अधिक प्रकार की कोशिकाएँ होती हैं जो सामान्य कार्यों का समन्वयन करती हैं इसलिए इन्हें जटिल ऊतक कहते हैं।

प्रश्न 9.
रेखित पेशी का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
रेखित पेशी (Striated muscles):
सूक्ष्मदर्शी से देखने पर ये पेशियाँ हल्के तथा गहरे रंग की एक के बाद एक रेखाओं या धारियों की तरह दिखाई देती हैं। इसलिए इन्हें रेखित पेशी कहते हैं। इन पेशियों को हम अपनी इच्छानुसार गति करा सकते हैं इसलिए ये ऐच्छिक पेशियाँ कहलाती हैं। ये पेशियाँ प्रायः हड्डियों से जुड़ी होती हैं। इसलिए इन्हें कंकाल पेशी भी कहते हैं। ये शरीर को गति कराने में सहायक होती हैं। इनकी कोशिकाएँ लम्बी, बेलनाकार, शाखारहित एवं बहुनाभीय (बहुकेन्द्रकीय) होती हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 18

प्रश्न 10.
अरेखित पेशी का सचित्र वर्णन कीजिए। (2019)
उत्तर:
अरेखित पेशी (Unstriated muscles):
ये पेशियाँ उन अगों जो अनैच्छिक रूप से गति करते हैं, में पाई जाती हैं। ये आहार नाल, पित्ताशय, मूत्राशय, श्वासनली, रुधिर वाहिनियों आदि में पाई जाती हैं। इन्हें अनैच्छिक पेशियाँ भी कहते हैं। ये पेशी तर्कुरूप में होती हैं। इसमें द्रव्य भरा होता है जिसे सारकोप्लाज्म कहते हैं। कोशिकाद्रव्य में असंख्य पतले-पतले तन्तु रहते हैं, जिन्हें पेशी तन्तुक (Myofibrils) कहते हैं। इन्हीं तन्तुओं के कारण पेशियों का संकुचन व शिथिलन होता है। इनमें धारियाँ या रेखाएँ नहीं होती इसलिए ये अरेखित पेशी या चिकनी पेशी भी कहलाती हैं। इनकी कोशिकाएँ लम्बी तर्कुरूप एवं एकनाभिकीय (एककेन्द्रकीय) होती हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 19

प्रश्न 11.
हृदय पेशी का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
हृदय पेशियाँ (कार्डियक पेशी) अनैच्छिक पेशी होती हैं। इसकी कोशिकाएँ बेलनाकार शाखाओं वाली तथा एककेन्द्रकीय होती हैं। ये पेशियाँ जीवनभर लयबद्ध होकर प्रसार एवं संकुचन करती रहती हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 20

प्रश्न 12.
जाइलम के विभिन्न घटकों के नाम लिखिए तथा एक सजीव घटक का नामांकित चित्र बनाइए।
उत्तर:
जाइलम के विभिन्न घटक:

  1. जाइलम वाहिनिका (ट्रैकीड)
  2. वाहिका
  3. जाइलम मृदूतक (जाइलम पैरेनकाइमा)
  4. जाइलम तन्तु (फाइबर)

सजीव घटक:
जाइलम मृदूतक (पैरेनकाइमा) का चित्र।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 21

प्रश्न 13.
फ्लोएम के विभिन्न अवयवों के चित्र बनाइए।
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 22

MP Board Solutions

प्रश्न 14.
ऐच्छिक एवं अनैच्छिक पेशी के बीच भेद कीजिए तथा प्रत्येक प्रकार का एक-एक उदाहरण दीजिए।
अथवा
रेखित तथा अरेखित पेशियों में अन्तर स्पष्ट कीजिए। (2019)
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 23
उदाहरण:

  1. ऐच्छिक पेशी-हाथ-पैरों की माँसपेशियाँ।
  2. अनैच्छिक पेशी-आमाशय की पेशियाँ।

प्रश्न 15.
वसीय ऊतक एवं रंगा ऊतक का नामांकित चित्र बनाइए।
उत्तर:
वसीय ऊतक एवं रंगा ऊतक का नामांकित चित्र निम्नांकित है –
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 24

प्रश्न 16.
न्यूरॉन (तन्त्रिका कोशिका) का नामांकित चित्र बनाइए। (2019)
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 25

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Solution Chapter 6 दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
तन्त्रिका कोशिका या तन्त्रिका ऊतक (न्यूरॉन) का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
तन्त्रिका कोशिका या तन्त्रिका ऊतक का सचित्र वर्णन:

तन्त्रिकीय ऊतक (Nervous Tissue):
यह ऊतक सोचने, समझने, संवेदनाओं, उद्दीपन या बाह्य परिवर्तनों को ग्रहण करने की क्षमता रखता है। यह दो विशिष्ट प्रकार की कोशिकाओं का बना होता है –

1. तन्त्रिका कोशिका (Neurons):
ये तन्त्रिका तन्त्र का निर्माण करती हैं व 4 से 135 u या अधिक व्यास की कोशिकाएँ हैं। ये दो भागों की बनी होती हैं –

(अ) कोशिकाकाय या सायटॉन (Cell Body or Cyton):
यह तन्त्रिका का मुख्य भाग है, इसके कोशिकाद्रव्य में छोटे-छोटे निसिल्स कण (Nissils granules) पाये जाते हैं।

(ब) कोशिका प्रवर्ध (Cell Processes):
कोशिकाकाय से एक या एक से अधिक छोटे-बड़े कोशिकाद्रव्यीय प्रवर्ध निकले रहते हैं। ये दो प्रकार के होते हैं –

  • डेण्ड्राइट्स (Dendrites)
  • एक्सॉन (Axon)।

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 26
2. न्यूरोग्लिया (Neurogloea):
ये एक्सॉन रहित कोशिकाएँ हैं जो तन्त्रिकाओं में आवरण बनाती हैं।

प्रश्न 2.
जालिकावत् एवं रेशेदार संयोजी ऊतकों के नामांकित चित्र बनाइए।
उत्तर:
जालिकावत् एवं रेशेदार संयोजी ऊतकों के नामांकित चित्र:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 27

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
उपकला ऊतकों के विभिन्न प्रकारों की संरचना एवं कार्यों का वर्णन कीजिए। उपकला ऊतक के कई तरह के चित्र भी बनाइए।
अथवा
उपकला ऊतक के प्रकारों का सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
उपकला ऊतक के प्रकार-उपकला ऊतक के निम्न प्रकार होते हैं:

1. सरल घनाकार उपकला ऊतक (Simple Cuboidal Epithelial Tissue):
ये घनाकार होते हैं इनकी लम्बाई, चौड़ाई, ऊँचाई बराबर होती है। यह स्वेद ग्रन्थियाँ, थायरॉइड ग्रन्थियाँ, यकृत, वृक्क नलिकाओं व जनदों में पाया जाता है।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 28
2. सरल स्तम्भाकार ऊतक (Simple Columnar Epithelial Tissue)-इस ऊतक की कोशिकाएँ एक-दूसरे से सटी हुई व समान दिखाई देती हैं। इनके स्वतन्त्र सिरों पर सूक्ष्मांकुर (Microvilli) पाये जाते हैं। ये अवशोषण तल को बढ़ाते हैं व संवेदी अंगों से संवदेना ग्रहण करते हैं। पित्ताशय व पित्तवाहिनी की दीवार इसी ऊतक की बनी होती है।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 29
3. स्तरित उपकला ऊतक (Stratified Epithelial Tissue):
इसमें कोशिकाएँ कई स्तरों में व्यवस्थित रहती हैं एवं स्तम्भाकार एवं जीवित होती हैं। इसमें जीवनपर्यन्त विभाजन की क्षमता पाई जाती है। विभाजन की क्षमता होने के कारण इसे जनन स्तर कहते हैं। यह ऊतक घर्षण करने वाले स्थानों, मुखगुहा, त्वचा, एपिडर्मिस, ईसोफेगस, नासा गुहा की म्यूकोसा, योनि आदि में पाया जाता है।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 30
4. ग्रन्थिल उपकला ऊतक (Glandular Epithelial Tissue):
हमारे शरीर में कई प्रकार की ग्रन्थियाँ पाई जाती हैं। इन ग्रन्थियों की स्वतन्त्र आन्तरिक सतह पर पाये जाने वाले ऊतक को ग्रन्थिल उपकला ऊतक कहते हैं। ये ग्रन्थियाँ एककोशिकीय व बहुकोशिकीय होती हैं। ये ग्रन्थियाँ त्वचा, स्वेद ग्रन्थि, स्तन ग्रन्थि, तेल ग्रन्थि, लार ग्रन्थि, जठर ग्रन्थि, अग्न्याशयी ग्रन्थि में होती हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 31
5. सरल पक्ष्माभी उपकला ऊतक (Simple Ciliated Epithelial Tissue):
इस ऊतक की कोशिकाएँ स्तम्भाकार या घनाकार होती हैं। इसके सिरों पर छोटी-छोटी महीन धागों के समान रचनाएँ पायी जाती हैं, जिन्हें सिलिया (Cilia) कहते हैं। ये ऊतक अण्डवाहिनी (Oviduct), मूत्रवाहिनी (Ureter), मुखगुहा की श्लेष्मिका (Mucous membrane), टिम्पैनिक गुहा, मस्तिष्क एवं मेरुरज्जु की केन्द्रीय नाल (Central canal) तथा श्वास नली की भीतरी सतह पर पाये जाते हैं। इस ऊतक के पक्ष्माभ अन्य पदार्थों को धकेलने में मदद करते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 32
6. सरल शल्की उपकला ऊतक (Simple Squamous Epithelial Tissue):
यह ऊतक शरीर की सतह का सुरक्षात्मक आवरण बनाता है। मूत्र नलिका, देहगुहा, हृदय के चारों ओर रक्षात्मक आवरण बनाता है।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 33
7. संवेदी उपकला ऊतक (Sensory Epithelial Tissue):
ये स्तम्भी उपकला ऊतक का रूपान्तरण है। इनके सिरे पर संवेदी रोम (Sensory hair) पाये जाते हैं। ये रोम तन्त्रिका तन्तु से जुड़े रहते हैं। यह ऊतक घ्राण कोष, आँख की रेटिना तथा मुखगुहा की म्यूकस झिल्ली में पाया जाता है।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 34

प्रश्न 4.
मानव शरीर में पायी जाने वाली विभिन्न प्रकार की पेशियों के नामांकित चित्र बनाइए।
उत्तर:
मानव शरीर में निम्न तीन प्रकार की पेशियाँ पाई जाती हैं –

  1. रेखित पेशी
  2. अरेखित पेशी
  3. हृदयक पेशी (2018)।

1. रेखित पेशी का नामांकित चित्र:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 35
2. अरेखित पेशी का नामांकित चित्र:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 36
3. हृदयक पेशी का नामांकित चित्र:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 37

प्रश्न 5.
उपास्थि एवं अस्थि में अन्तर बताइए।
उत्तर:
उपास्थि एवं अस्थि में अन्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 38

MP Board Solutions

प्रश्न 6.
मृदूतक एवं दृढ़ोतक में भेद कीजिए। इनके सभी भागों के नाम स्पष्ट रूप से लिखिए।
उत्तर:
मृदूतक एवं दृढ़ोतक में भेद:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 6 ऊतक image 39
1. मृदूतकों के भाग:
कोशिकाद्रव्य, केन्द्रक, मध्य पटलिका, हरित लवक, रसधानी, अन्तरकोशिकीय स्थान, प्राथमिक कोशिका भित्ति।

2. दृढ़ोतकों के भाग:
सँकरी अवकोशिका (ल्यूमेन), लिग्निनयुक्त मोटी भित्ति, साधारण गर्त युग्म।

प्रश्न 7.
कॉर्क की विशिष्टताएँ लिखिए। ये कैसे बनती हैं? इनकी भूमिका का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
कॉर्क की विशेषताएँ:

  1. कॉर्क कोशिकाएँ परिपक्व होने पर मर जाती हैं।
  2. ये कोशिकाएँ सघन रूप से व्यवस्थित होती हैं।
  3. कोशिकाओं में अन्तरकोशिकीय स्थान नहीं होते।
  4. कोशिकाओं की भित्तियों में एक रासायनिक पदार्थ सुबेरिन होता है।
  5. इनमें कोशिकाएँ अनेक स्तरों में व्यवस्थित होती हैं।

कॉर्क का बनना:
जैसे ही पादप वृद्धि करते हुए काफी समय का हो जाता है तो द्वितीय विभज्योतक की एक पट्टी तने की बाह्यत्वचा (एपीडर्मिस) का स्थान ले लेती है। इस विभज्योतक के कारण बाहरी सतह पर कटी कोशिकाओं का निर्माण होता है जिन्हें कॉर्क कहते हैं।

कॉर्क की भूमिका:
यह गैस व जल के लिए अपारगम्य होती है। यह तने एवं उनकी टहनियों (शाखाओं) को सुरक्षा प्रदान करती है।

प्रश्न 8.
निम्नलिखित के उत्तर दीजिए –
1. पादपों में विभज्योतक एवं स्थायी ऊतकों में भेद कीजिए।
2. विभेदन की प्रक्रिया को परिभाषित कीजिए।
3. पादपों के किन्हीं दो सरल एवं दो जटिल स्थायी ऊतकों के नाम लिखिए।
उत्तर:
1. विभज्योतकों की कोशिकाएँ अत्यधिक क्रियाशील होती हैं। इनके पास बहुत अधिक कोशिकाद्रव्य, पतली कोशिका भित्ति और स्पष्ट केन्द्रक होता है लेकिन रसधानी का अभाव होता है। ये ऊतक विभाजित होते रहते हैं इसी कारण पौधों के विभिन्न भागों में वृद्धि होती है। जबकि स्थायी ऊतक स्वयं विभज्योतकों से बनी नई कोशिकाओं से बनता है जो विभाजित होने की शक्ति खो देती हैं तथा ये विशिष्ट कार्य करती हैं।

2. विभेदन की परिभाषा:
“निश्चित आकार, माप एवं प्रकार्यों के कारण ऊतकों की कोशिकाओं में विभाजित होने की सामर्थ्य समाप्त हो जाती है तथा ये विशिष्ट कार्य करने के लिए स्थायी रूप एवं आकार ग्रहण कर लेती हैं। इस प्रक्रिया को विभेदन कहते हैं।”

3. दो सरल ऊतकों के नाम:
मृदूतक एवं दृढ़ोतक। दो जटिल ऊतकों के नाम-जाइलम एवं फ्लोएम।

प्रश्न 9.
निम्नलिखित के बारे में कारण बताइए –
1. मृदूतक कोशिकाओं में सुस्पष्ट केन्द्रक एवं सघन कोशिकाद्रव्य होता है लेकिन इनमें रसधानियों का अभाव होता है।
2. दृढ़ोतकों में अन्तराकोशिकीय अवकाश नहीं होते।
3. जब हम नाशपाती फल को चबाते हैं तो हमें एक दानेदार एवं कुरकुरे का-सा अहसास होता है।
4. नारियल वृक्ष से छिलके को उतारना बहुत कठिन होता है।
उत्तर:

  1. मृदूतक कोशिकाओं को जल या अन्य पदार्थों के संग्रहण की आवश्यकता नहीं होती बल्कि इनका कार्य विभाजन करके नई कोशिकाएँ बनाना है इसलिए इनमें सुस्पष्ट केन्द्रक एवं सघन कोशिकाद्रव्य होता है और रसधानियों का अभाव होता है।
  2. लिग्निन युक्त होने के कारण दृढ़ोतकों में अन्तराकोशिकीय अवकाश का अभाव होता है।
  3. दृढ़ोतक कोशिकाओं की उपस्थिति के कारण नाशपाती खाते समय हमको दानेदार एवं कुरकुरे कासा अहसास होता है।
  4. नारियल वृक्ष के तने में स्थूलकोण ऊतक की उपस्थिति के कारण ये पर्याप्त कठोर एवं सुदृढ़ होते हैं इसलिए इसके छिलके को उतारना बहुत कठिन होता है।

MP Board Class 9th Hindi Navneet Solutions एकांकी Chapter 2 बहू की विदा

In this article, we will share MP Board Class 9th Hindi Solutions एकांकी Chapter 2 बहू की विदा Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Hindi Navneet Solutions एकांकी Chapter 2 बहू की विदा (एकांकी, विनोद रस्तोगी)

बहू की विदा अभ्यास

बोध प्रश्न

बहू की विदा अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
‘बहू की विदा’ एकांकी किस समस्या पर आधारित है?
उत्तर:
‘बहू की विदा’ एकांकी समाज में फैली दहेज की समस्या पर आधारित है।

प्रश्न 2.
प्रमोद अपनी बहिन की विदा क्यों कराना चाहता था?
उत्तर:
प्रमोद अपनी बहिन की विदा इसलिए कराना चाहता था जिससे वह अपनी शादी के पश्चात् पड़ने वाले पहले सावन को अपने मायके में बिता सके।

प्रश्न 3.
जीवनलाल ने कमला को विदा करने से क्यों मना कर दिया?
उत्तर:
जीवनलाल ने कमला को विदा करने से इसलिए मना कर दिया था क्योंकि कमला के पिता ने शादी में उनके स्तर के अनुरूप दहेज दिया था।

MP Board Solutions

बहू की विदा लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
“बेटी वाले होकर हमारी मूंछे ऊँची हैं।” इस कथन का क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
इस कथन का अभिप्राय यह है कि हमने अर्थात् जीवनलाल ने तो अपनी बेटी की शादी में भरपूर दहेज दिया था अतः हमें ससुराल वालों के सामने झुकने की कोई आवश्यकता नहीं है अर्थात् हमारी मूंछ ऊँची है हम उनसे दबकर नहीं रह सकते।

प्रश्न 2.
प्रमोद अपना घर क्यों बेचना चाहता था?
उत्तर:
प्रमोद अपना घर जीवनलाल की इच्छा पूर्ति अर्थात् दहेज के लिए पाँच हजार रुपये जटाने के लिए बेचना चाहता था।

प्रश्न 3.
राजेश्वरी ने बहू की विदा करवाने के लिए क्या उपाय किया?
उत्तर:
राजेश्वरी को जब यह बात ज्ञात हुई कि उसका पति कमला की विदाई के बदले में पाँच हजार रुपये माँग रहा है तो वह अपने पास से पाँच हजार रुपये देकर जीवनलाल के मुँह पर मारने की बात कहती है।

बहू की विदा बहू की विदा

प्रश्न 1.
‘बहू की विदा’ एकांकी की कथावस्तु अपने शब्दों में लिखिए।
उत्तर:
इसके लिए पाठ के प्रथम भाग ‘पाठ का सारांश’ देखें।

प्रश्न 2.
जीवनलाल का चरित्र-चित्रण कीजिए।
उत्तर:
बहू की विदा’ एकांकी के रचनाकार श्री विनोद रस्तोगी हैं। इस एकांकी का प्रधान पात्र जीवनलाल है। यह व्यक्ति अहंकारी एवं लालची है। उसके चरित्र में निम्नलिखित विशेषताएँ देखी जा सकती हैं
(i) दहेज लोभी :
जीवनलाल दहेज का लोभी व्यक्ति है। तभी तो वह पाँच हजार रुपये पाये बिना प्रमोद के संग कमला को भेजने को तैयार नहीं होता है।

(ii) अहंकारी :
जीवनलाल एक अहंकारी व्यक्ति है। कम दहेज मिलने पर वह प्रमोद का अपमान करता है और अपनी बेटी की शादी में दिए गए दहेज की डींगें मारता है और वह यहाँ तक कह देता है कि मैं बेटी वाला होकर भी अपनी मूंछे ऊँची रखता हूँ।

(iii) हृदयहीन :
जीवनलाल एक हृदयहीन व्यक्ति है। प्रमोद के बार-बार विनती करने का भी उस पर कोई असर नहीं होता है और वह स्पष्ट कर देता है कि जब तक उसे पाँच हजार रूपये नहीं मिलेंगे वह कमला की विदा नहीं करेगा।

(iv) हृदय परिवर्तन :
जीवनलाल की लड़की को भी जब उसका ससुर विदा नहीं करता है और अधिक दहेज की माँग करता है तब जीवनलाल को पता चलता है कि उसका व्यवहार कितना गलत था लेकिन उसकी पत्नी की भलमनसाहत से उसका हृदय बदल जाता है और वह कमला की विदा कर देता है।

प्रश्न 3.
किस घटना ने जीवनलाल का हृदय परिवर्तित कर दिया। स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
जीवनलाल एक धनलोभी व्यक्ति है। वह अपनी बहू कमला की विदा इसलिए नहीं करता है कि उसे पाँच हजार रुपये दहेज के रूप में और मिलने चाहिए। कमला के भाई प्रमोद की विनती का उस पर कोई असर नहीं होता है। लेकिन थोड़ी ही देर बाद जब उसका बेटा रमेश उसकी बेटी गौरी को ससुराल से लाये बिना अकंला लौटता है तथा वह यह भी बताता है कि दहेज पूरा न मिलने के कारण उसके ससुराल वालों ने गौरी को नहीं भेजा है तो जीवनलाल को इससे धक्का लगता है। इसी समय उसकी पत्नी राजेश्वरी उसे फटकारती हुई कहती है कि जो व्यवहार तुम्हें कष्ट दे रहा है वही व्यवहार तुम अपनी बहू कमला के साथ कर रहे हो। इससे जीवनलाल का हृदय परिवर्तित हो जाता है और वह कमला को विदा कर देता है।

प्रश्न 4.
राजेश्वरी के चरित्र की विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।
उत्तर:
राजेश्वरी ‘बहू की विदा’ एकांकी के प्रधान पात्र जीवनलाल की पत्नी है। पर वह अपने व्यवहार में सभ्य एवं उदार महिला है। उसके चरित्र की निम्नलिखित विशेषताएँ हैं
(i) ममतामयी :
राजेश्वरी ममतामयी माँ है। उसके हृदय में ममता की भावना कूट-कूटकर भरी है। वह अपने पुत्र रमेश के समान ही अपनी बहू कमला के भाई प्रमोद को समझती है, उसे ढाँढ़स बँधाती है। तभी तो वह प्रमोद से कहती है-“मेरे लिए जैसा रमेश, वैसे तुम ! बोलो कितना रूपया चाहते हैं वे! वह मैं अभी तुम्हें लाकर देती हूँ। वह अपनी बहू के साथ भी पुत्री के तुल्य व्यवहार करती है। वह प्रमोद से कहती है कि माँ होने के नाते वह समझ सकती है कि उसकी माँ भी अपनी पुत्री कमला का वैसे ही आँखें बिछाये इंतजार कर रही होगी, जैसा मैं अपनी पुत्री गौरी की प्रतीक्षा कर रही हूँ।

(ii) दहेज विरोधी :
राजेश्वरी प्रारम्भ से ही दहेज विरोधी है। उसकी मान्यता है कि बेटी वाला कितना भी दहेज दे पर बेटे वाले कभी सन्तुष्ट नहीं होते। बेटी गौरी के विदा न होने पर जब जीवनलाल को गहरा आघात पहुँचता है तब भी वह यही कहती है-“बेटी वाले चाहे अपना घर-द्वार बेचकर दे दें पर बेटे वालों की नाक-भौंह सिकुड़ी रहती है।” इस समस्या के समाधान के लिए वह कहती है कि यदि सब बेटे वाले यह ध्यान रखें कि वे बेटी वाले भी हैं तो सब उलझनें दूर हो जाएँ।

(ii) मानवता से पूर्ण :
राजेश्वरी मानवता से पूर्ण है। वह अपनी भावनाओं के समान ही दूसरों की भावनाओं को भी समझती है। वह अपने पति जीवनलाल से कहती है-“जो व्यवहार अपनी बेटी के लिए तुम दूसरों से चाहते हो, वह दूसरे की बेटी को भी दो।”

MP Board Solutions

बहू की विदा भाषा अध्ययन

प्रश्न 1.
निम्नलिखित शब्दों की शुद्ध वर्तनी कीजिएदरद, हां, विनति, व्यरथ, किमत, सूहाग, भय्या, आंचल।
उत्तर:
MP Board Class 9th Hindi Navneet Solutions एकांकी Chapter 2 बहू की विदा 1

प्रश्न 2.
निम्नलिखित शब्दों के हिन्दी मानक रूप लिखिए
ख्याल, बेवकूफ, ज्यादा, तबियत, नजर, शराफत, इंसानियत, जिद, खून।
उत्तर:
MP Board Class 9th Hindi Navneet Solutions एकांकी Chapter 2 बहू की विदा 2

प्रश्न 3.
निम्नलिखित मुहावरों एवं लोकोक्तियों को अपने वाक्यों में प्रयोग कीजिए।
उत्तर:

  1. हृदय टूटना-परीक्षा में असफल होने पर गोपाल का हृदय टूट गया।
  2. नाक-भौं सिकोड़ना-बहू कमला के घर का पूरा काम निबटा देने पर भी ससुर जीवनलाल की नाक-भौं सिकुड़ी रहती थी।
  3. ठेस पहुँचान-उधार के रुपये न लौटाने पर हरीश ने अपने मित्र के हृदय को ठेस पहुंचाई।
  4. दाँतों तले उँगली दबाना-रानी लक्ष्मीबाई की वीरता के आगे अंग्रेज सेना दाँतों तले उँगली दबा लेती थी।
  5. राह देखना-उर्मिला ने अपने पति लक्ष्मण के वन से लौटकर आने के लिए चौदह वर्ष तक उनकी राह देखी।
  6. नाक वाले होना-जीवनलाल अपने को बहुत ही नाक वाला मानता था।
  7. बाल धूप में सफेद होना-बुजुर्गों के बाल धूप में सफेद नहीं होते हैं।
  8. झोंपड़ी में रहकर महलों से नाता जोड़ना-झोपड़ी में रहने वालों को जीवन में कभी भी महलों से नाता नहीं जोड़ना चाहिए।
  9. मूंछ ऊँची होना-केवल थोथी शान बघारने से किसी की मूंछ ऊँची नहीं होती है। उसे कुछ ठोस काम करके दिखाना चाहिए।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित शब्द-युग्मों से-पूर्ण पुनरुक्त, अपूर्ण, पुनरुक्त, प्रतिध्वन्यात्मक और भिन्नार्थक शब्द अलग-अलग कीजिए।
उत्तर:
पूर्ण पुनरुक्त – समझाते-समझाते, हँसती-हँसाती।
अपूर्ण पुनरुक्त – भोली-भाली, रंग-बिरंगे, इधर-उधर।
प्रतिध्वन्यात्मक – सखी-सहेलियाँ, हँस-खेलकर। सुखसुहाग।।
भिन्नार्थक शब्द – माँ-बहन, सात-आठ, भाई-बहन, घर-द्वार।

प्रश्न 5.
निम्नलिखित शब्दों के विलोम शब्द लिखिए।
उत्तर:
शब्द        विलोम
आशा       अपना
पराया      अन्याय
न्याय        सुन्दर
कुरूप      निराशा

MP Board Solutions

बहू की विदा पाठका सारांश

इस एकांकी की कथावस्तु उच्चवर्ग के परिवार से सम्बन्ध रखती है। हिन्दू रीति-रिवाज के अनुसार सावन के महीने में सावन से पूर्व विवाहिता स्त्री पहला सावन अपने घर पर ही मनाती है। प्रमोद भी अपनी बहिन कमला को ससुराल से ले आने के लिए उसकी ससुराल जाता है। कमला के ससुर जीवनलाल अहंकारी व्यक्ति हैं तथा अपने पैसे के आगे किसी को कुछ भी नहीं समझते हैं। जब प्रमोद जीवनलाल से अपनी बहिन की विदा की बात छेड़ता है तो जीवनलाल यह बहाने बनाते हैं कि तुम्हारे पिता ने उनकी हैसियत के हिसाब से दहेज नहीं दिया है। प्रमोद द्वारा अपनी मजबूरी बताने पर भी जीवनलाल टस से मस नहीं होते हैं और वे अपना अन्तिम निर्णय प्रमोद को सुनाते हुए कहते हैं कि जब तक तुम पाँच हजार रुपये लेकर नहीं आओगे तब तक कमला को यहाँ से विदा नहीं किया जाएगा। प्रमोद मन मसोसकर रह जाता है और जीवनलाल से कहता है कि बेटी वाला होने के कारण आपने मेरा अपमान किया है। लेकिन याद रखिए आप भी बेटी वाले हैं। इस बात का उत्तर देते हुए जीवनलाल कहता है कि मेरी बेटी तो पहला सावन अपने मायके में ही मनायेगी क्योंकि मैने पूरा दहेज दिया है।

कमला जब कमरे में आती है तो अपने भाई से गले मिलकर बहुत रोती है। तभी प्रमोद कमला को बताता है कि तुम्हारे श्वसुर ने पाँच हजार रुपये की हमसे माँग की है, अतः वह रुपये का प्रबंध करने वापस लौटकर जा रहा है। इसी समय कमला की सास राजेश्वरी आ जाती है। जब राजेश्वरी को अपने पति की जिद्द का पता चलता है तो वह अपने पति से छिपाकर पाँच हजार रुपये प्रमोद को देने को तैयार हो जाती है। कमला अपनी सास की इस ममता को देखकर उनसे लिपट जाती है तभी उसके श्वसुर जीवनलाल का प्रवेश होता है। जीवनलाल अपनी बेटी के ससुराल से आने की आतुरता से प्रतीक्षा कर रहे हैं।

तभी उनका पुत्र रमेश आकर बताता है कि गौरी को उसके ससुराल वालों ने भेजने से मना कर दिया है। यह सुनकर जीवनलाल के हृदय को चोट पहुँचती है और वे कहते हैं कि मैंने तो उनको भरपूर दहेज दिया था अब वे किस दहेज की बातें कर रहे हैं। तभी उनकी पत्नी राजेश्वरी कहती है कि दूसरों के साथ हमें वैसा ही व्यवहार करना चाहिए जैसा कि हम अपने लिए चाहते हैं। बहू और बेटी को समान समझना चाहिए तभी घर में सुख-समृद्धि एवं शान्ति आ सकती है। अपनी पत्नी के इन वचनों को सुनकर जीवनलाल की आँखें खुल जाती हैं और वे खुशी-खुशी कमला की विदा कर देते हैं। यहीं एकांकी समाप्त हो जाती है।

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना

In this article, we will share MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना

MP Board Class 9th Science Chapter 4 पाठ के अन्तर्गत के प्रश्नोत्तर

प्रश्न शृंखला-1 # पृष्ठ संख्या 53

प्रश्न 1.
कैनाल किरणें क्या हैं ?
उत्तर:
कैनाल किरणें:
गोल्डस्टीन ने विशिष्ट धनावेशित विकिरण की खोज की, जिसे कैनाल किरणें कहा जाता है।

प्रश्न 2.
यदि किसी परमाणु में एक इलेक्ट्रॉन और एक प्रोटॉन है, तो इसमें कोई आवेश होगा या नहीं ?
उत्तर:
नहीं। इसमें धनावेश एवं ऋणावेश समान है।

प्रश्न शृंखला-2 # पृष्ठ संख्या 56

प्रश्न 1.
परमाणु उदासीन है, इस तथ्य को टॉमसन के मॉडल के आधार पर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
टॉमसन के मॉडल के अनुसार परमाणु धनावेशित गोला है जिसमें इलेक्ट्रॉन (ऋणावेश) फँसे होते हैं। चूँकि दोनों प्रकार के आवेशों की संख्या समान होती है अतः परमाणु विद्युतीय रूप से उदासीन है।

प्रश्न 2.
रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल के अनुसार परमाणु के नाभिक में कौन-सा अवपरमाणुक कण विद्यमान है ?
उत्तर:
प्रोटॉन।

प्रश्न 3.
तीन कक्षाओं वाले बोर के परमाणु मॉडल का चित्र बनाइए।(2019)
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 1

MP Board Solutions

प्रश्न 4.
क्या अल्फा कणों का प्रकीर्णन प्रयोग सोने के अतिरिक्त दूसरी धातु की पन्नी से सम्भव होगा?
उत्तर:
नहीं।

प्रश्न श्रृंखला-3 # पृष्ठ संख्या 56

प्रश्न 1.
परमाणु के तीन अवपरमाणुक कणों के नाम लिखें।
उत्तर:

  1. इलेक्ट्रॉन
  2. प्रोटॉन
  3. न्यूट्रॉन।

प्रश्न 2.
हीलियम परमाणु का परमाणु द्रव्यमान 4u और उसके नाभिक में 2 प्रोटॉन होते हैं। इसमें कितने न्यूट्रॉन होंगे ?
उत्तर:
किसी तत्व का परमाणु द्रव्यमान उसकी द्रव्यमान संख्या के (संख्यात्मक रूप से) बराबर होता है।
∵ A =p + n ⇒ 4 = 2 + n ⇒ n = 4-2 = 2
अतः न्यूट्रॉनों की अभीष्ट संख्या = 2

प्रश्न श्रृंखला-4 # पृष्ठ संख्या 57

प्रश्न 1.
कार्बन और सोडियम के परमाणुओं के लिए इलेक्ट्रॉन वितरण लिखिए।(2019)
उत्तर:
कार्बन – 6e = 2, 4
सोडियम – 11e = 2, 8, 1

प्रश्न 2.
यदि किसी परमाणु का K और L कोश भरा है, तो उस परमाणु में इलेक्ट्रॉनों की संख्या क्या होगी?
उत्तर:
2 + 8 = 10

प्रश्न श्रृंखला-5 # पृष्ठ संख्या 58

MP Board Solutions

प्रश्न 1.
क्लोरीन, सल्फर और मैग्नीशियम की परमाणु संख्या से इसकी संयोजकता कैसे प्राप्त करेंगे?
उत्तर:
क्लोरीन की परमाणु संख्या = 17 = 2, 8, 7
बाह्य (संयोजकता) कोश में 7 इलेक्ट्रॉन हैं। इसलिये इसकी संयोजकता (8-7) = 1 होगी।
सल्फर की परमाणु संख्या = 16 = 2, 8, 6
बाह्य कोश में 6 इलेक्ट्रॉन हैं। इसलिए इसकी संयोजकता (8 – 6) = 2 होगी।

क्लोरीन एवं सल्फर की परमाणु संख्या क्रमश:
17 एवं 16 है। इनके इलेक्ट्रॉन वितरण 2, 8, 7 एवं 2, 8, 6 में बाह्यतम (संयोजकता) कोश में क्रमश: 7 एवं 6 इलेक्ट्रॉन हैं जो 4 से अधिक हैं। इसलिए इनको अष्टक (8) में से घटाकर इनकी संयोजकता ज्ञात करेंगे।

मैग्नीशियम की परमाणु संख्या 12 है जिसका वितरण 2, 8, 2 है। अतः बाह्य कोश के इलेक्ट्रॉन ही इसकी संयोजकता होगी।

प्रश्न श्रृंखला-6 # पृष्ठ संख्या 59

प्रश्न 1.
यदि किसी परमाणु में इलेक्ट्रॉनों की संख्या 8 है और प्रोटॉनों की संख्या भी 8 है, तब – (2019)

  1. परमाणु की परमाणुक संख्या क्या है?
  2. परमाणु का क्या आवेश है?

उत्तर:

  1. परमाणु की परमाणुक संख्या = 8
  2. परमाणु का आवेश = 0 (शून्य)

प्रश्न 2.
सारणी की सहायता से ऑक्सीजन और सल्फर परमाणु की द्रव्यमान संख्या ज्ञात कीजिए।
हल:
सारणी के अनुसार ऑक्सीजन में प्रोटॉनों की संख्या 8 तथा न्यूट्रॉनों की संख्या भी 8 है।
इसलिए
ऑक्सीजन की द्रव्यमान संख्या = 8 + 8 = 16
सारणी के अनुसार सल्फर में प्रोटॉनों की संख्या 16 एवं न्यूट्रॉनों की संख्या 16 है।
इसलिए
सल्फर की द्रव्यमान संख्या = 16 + 16 = 32
अतः ऑक्सीजन एवं सल्फर की अभीष्ट द्रव्यमान संख्या क्रमश: 16 एवं 32 है।

प्रश्न श्रृंखला-7 # पृष्ठ संख्या 60

प्रश्न 1.
चिह्न H, D एवं T के लिए प्रत्येक में पाए जाने वाले तीन अवपरमाणुक कणों को सारणीबद्ध कीजिए।
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 2

प्रश्न 2.
समस्थानिक और समभारिक के किसी एक युग्म का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए।
उत्तर:
समस्थानिक युग्म – 1735Cl एवं 1735Cl है।
इलेक्ट्रॉनिक विन्यास क्रमश: 2,8,7 एवं 2, 8,7
समभारिक युग्म – 1840Ar एवं 2040Ca है।
इलेक्ट्रॉनिक विन्यास क्रमश – 2, 8, 8 एवं 2, 8,8, 2

MP Board Class 9th Science Chapter 4 पाठान्त अभ्यास के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन, न्यूट्रॉन के गुणों की तुलना कीजिए।
उत्तर:
इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन एवं न्यूट्रॉन के गुणों की तुलना:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 3

प्रश्न 2.
जे. जे. टॉमसन के परमाणु मॉडल की क्या सीमाएँ हैं?
उत्तर:
जे. जे. टॉमसन के परमाणु मॉडल की सीमाएँ:
जे. जे. टॉमसन के परमाणु मॉडल से केवल परमाणु में उदासीन होने की व्याख्या हो सकी। बाकी वैज्ञानिकों द्वारा किए गए प्रयोगों के परिणामों की व्याख्या इसके द्वारा नहीं की जा सकी।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल की क्या सीमाएँ (कमियाँ) हैं?
उत्तर:
रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल की सीमाएँ (कमियाँ)-वर्तुलाकार मार्ग में चक्रण करता हुआ इलेक्ट्रॉन (आवेशित कण) त्वरित होगा और त्वरण के समय आवेशित कणों से ऊर्जा विकरित होगी। इस प्रकार स्थायी कक्षा में घूमता हुआ इलेक्ट्रॉन अपनी ऊर्जा विकरित करते हुए केन्द्रक से टकरा जाता और परमाणु अस्थिर होता, लेकिन ऐसा नहीं है।

प्रश्न 4.
बोर के परमाणु मॉडल की व्याख्या कीजिए। (2018)
उत्तर:
बोर का परमाणु मॉडल-बोर के परमाणु मॉडल की निम्निलिखित अवधारणाएँ हैं –

  1. इलेक्ट्रॉन केवल कुछ निश्चित कक्षाओं में ही चक्कर लगा सकते हैं जिन्हें इलेक्ट्रॉन की विविक्त कक्षा कहते हैं। इन कक्षाओं (कोशों) को ऊर्जा स्तर कहते हैं।
  2. जब इलेक्ट्रॉन इस विविक्त कक्षा (ऊर्जा स्तर) में चक्कर लगाते हैं, तो उनकी ऊर्जा का विकिरण नहीं होता है।

प्रश्न 5.
इस अध्याय में दिए गए सभी परमाणु मॉडलों की तुलना कीजिए।
उत्तर:
जे. जे. टॉमसन, रदरफोर्ड एवं बोर के परमाणु मॉडलों की तुलना-जे. जे. टॉमसन का मॉडल केवल परमाणु की उदासीनता की व्याख्या कर पाता है लेकिन विभिन्न प्रायोगिक परिणामों की व्याख्या करने में सर्वथा असफल रहता है। रदरफोर्ड के मॉडल के अनुसार परमाणु अस्थिर होना चाहिए परन्तु ऐसा वास्तव में नहीं है। बोर का मॉडल सर्वमान्य मॉडल है। इससे परमाणु की स्थिरता की भी व्याख्या होती है।

प्रश्न 6.
पहले अट्ठारह तत्वों के विभिन्न कक्षों में इलेक्ट्रॉन वितरण के नियम को लिखिए।
उत्तर:
इलेक्ट्रॉन वितरण के नियम:

  1. किसी कक्षा में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की अधिकतम संख्या 2n2 सूत्र से दर्शायी जा सकती है जहाँ n कक्षा की संख्या या ऊर्जा स्तर का क्रमांक है जिसका आकलन हम केन्द्रक से बाहर की ओर करते हैं।
  2. सबसे बाहरी कोश में इलेक्ट्रॉनों की अधिकतम संख्या 8 होती है।

प्रश्न 7.
सिलिकॉन और ऑक्सीजन का उदाहरण देते हुए संयोजकता की परिभाषा दीजिए।
उत्तर:
संयोजकता-“किसी परमाणु द्वारा अपनी बाह्यतम कक्ष को पूर्णरूप से भरने के लिए इलेक्ट्रॉनों का परस्पर साझा करने या उनको ग्रहण करने अथवा उन्हें त्यागने की आवश्यकता होती है। इस प्रकार अष्टक बनाने के लिए साझा किए गये या ग्रहण किए गए या त्यागे गए इलेक्ट्रॉनों की संख्या उस परमाणु की संयोजकता कहलाती है।”

उदाहरण:

  1. ऑक्सीजन (o) – 8 = 2, 6 के बाह्यतम कोश में 6 इलेक्ट्रॉन हैं। यह अष्टक बनाने के लिए 2 इलेक्ट्रॉन ग्रहण करेगा। अत: इसकी संयोजकता 2 हुई।
  2. सिलिकॉन (Si) – 14 = 2, 8, 4 के बाह्यतम कोश में 4 इलेक्ट्रॉन हैं। यह अष्टक पूर्ण करने के लिए यह 4 इलेक्ट्रॉन त्यागेगा या 4 इलेक्ट्रॉन ग्रहण करेगा। इस प्रकार इसकी संयोजकता 4 हुई।

MP Board Solutions

प्रश्न 8.
उदाहरण के साथ व्याख्या कीजिए-परमाणु संख्या (2018, 19), द्रव्यमान संख्या (2018, 19), समस्थानिक (2018, 19) और समभारिक (2019)। समस्थानिकों के कोई तीन उपयोग लिखिए (2018)।
उत्तर:
1. परमाणु संख्या:
“किसी तत्व के परमाणु के केन्द्रक में उपस्थित धनावेशित प्रोटॉनों की संख्या उस तत्व की परमाणु संख्या कहलाती है।”

2. द्रव्यमान संख्या:
“किसी तत्व के परमाणु के केन्द्रक में उपस्थित न्यूक्लियॉनों (प्रोटॉन एवं न्यूट्रॉनों) की संख्या को उस तत्व की द्रव्यमान संख्या कहते हैं।”

3. समस्थानिक:
“एक ही तत्व के परमाणु जिनकी परमाणु संख्या समान होती है परन्तु द्रव्यमान संख्या पृथक् होती है, समस्थानिक कहलाते हैं।”

उदाहरण:
1735Cl एवं 1735Cl समस्थानिक हैं।

समभारिक:
“दो भिन्न तत्वों के युग्म को जिनकी परमाणु संख्या तो भिन्न होती है लेकिन द्रव्यमान संख्या समान हो, समभारिक कहते हैं।”
उदाहरण:
1840Ar एवं 2040Ca समभारिक हैं।

समस्थानिकों के उपयोग:

  1. कैंसर के उपचार में कोबाल्ट के समस्थानिक का उपयोग होता है।
  2. घेघा रोग के उपचार में आयोडीन के समस्थानिक का उपयोग होता है।
  3. रक्त संचरण के अध्ययन में सोडियम के समस्थानिक का उपयोग होता है।

प्रश्न 9.
“Na के पूरी तरह से भरे हुए K व L कोश होते हैं।” व्याख्या दीजिए।
उत्तर:
Na में 10 इलेक्ट्रॉन होते हैं जिनका विन्यास 2, 8 है और प्रथम कोश K में अधिकतम 2 एवं L में अधिकतम 8 इलेक्ट्रॉन रह सकते हैं। इस प्रकार Na+ के कोश K एवं L पूरी तरह भरे हुए होते हैं।

प्रश्न 10.
अगर ब्रोमीन परमाणु दो समस्थानिकों [7935Br (49.7%)] तथा [8135Br (50-3%)] के रूप में है, तो ब्रोमीन परमाणु के औसत परमाणु द्रव्यमान की गणना कीजिए।
हल:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 4
अतः ब्रोमीन का अभीष्ट औसत परमाणु द्रव्यमान = 40.006

प्रश्न 11.
एक तत्व X का परमाणु द्रव्यमान 16.2u है तो इसके किसी एक नमूने में समस्थानिक x और x का प्रतिशत क्या होगा?
हल:
माना 816x का प्रतिशत a % है तो 818x का प्रतिशत (100 – a)% होगा।
औसत परमाण भार 16.2 = \(\frac{16 \times a+18(100-a)}{100}\)

⇒ 1620 = 16a + 1800 – 18a
⇒ 18a – 16a = 1800 – 1620
⇒ 2a = 180 ⇒ a = 90%
एवं (100 – a) = 100 – 90 = 10%
अतः समस्थानिकों के अभीष्ट प्रतिशत क्रमशः 90% एवं 10% हैं।

प्रश्न 12.
यदि तत्व का Z = 3 हो, तो तत्व की संयोजकता क्या होगी? तत्व का नाम भी लिखिए।
हल:
तत्व का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 3 = 2, 1
अतः तत्व की अभीष्ट संयोजकता = 1 एवं नाम लीथियम है।

प्रश्न 13.
दो परमाणु स्पीशीज के केन्द्रकों का संघटन नीचे दिया है –
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 5
x और y की द्रव्यमान संख्या ज्ञात कीजिए। इन दोनों स्पीशीज में क्या सम्बन्ध है?
हल:
x की द्रव्यमान संख्या = 6 + 6 = 12
y की द्रव्यमान संख्या = 6 + 8 = 14
अतः अभीष्ट द्रव्यमान संख्या x = 12 तथा y = 14 है और ये दोनों स्पीशीज समस्थानिक हैं।

प्रश्न 14.
निम्नलिखित वक्तव्यों में गलत के लिए F और सही के लिए T लिखिए –
(a) जे. जे. टॉमसन ने यह प्रतिपादित किया था कि परमाणु के केन्द्रक में केवल न्यूक्लिऑन होते हैं।
(b) एक इलेक्ट्रॉन और एक प्रोटॉन मिलकर न्यूट्रॉन का निर्माण करते हैं। इसलिए यह धनावेशित होता है।
(c) इलेक्ट्रॉन का द्रव्यमान प्रोटॉन से लगभग \(\frac{1}{2000}\) गुना होता है।
(d) आयोडीन के समस्थानिक का इस्तेमाल टिंचर आयोडीन बनाने में होता है। इसका उपयोग दवा के रूप में होता है।
उत्तर:
(a) F, (b) F, (c) T, (d) E.

प्रश्न 15.
रदरफोर्ड का अल्फा कण प्रकीर्णन प्रयोग किसकी खोज के लिए उत्तरदायी था?
(a) परमाणु केन्द्रक
(b) इलेक्ट्रॉन
(c) प्रोटॉन
(d) न्यूट्रॉन
उत्तर:
(a) परमाणु केन्द्रक।

MP Board Solutions

प्रश्न 16.
एक तत्व के समस्थानिक में होते हैं –
(a) समान भौतिक गुण
(b) भिन्न रासायनिक गुण
(c) न्यूट्रॉनों की अलग-अलग संख्या
(d) भिन्न परमाणु संख्या
उत्तर:
(c) न्यूट्रॉनों की अलग-अलग संख्या।

प्रश्न 17.
Cl आयन में संयोजकता इलेक्ट्रॉन की संख्या है –
(a) 16
(b) 8
(c) 17
(d) 18
उत्तर:
(b) 8

प्रश्न 18.
सोडियम का सही इलेक्ट्रॉनिक विन्यास निम्न में कौन-सा है?
(a) 2, 8
(b) 8, 2, 1
(c) 2, 1, 8
(d) 2, 8, 1
उत्तर:
(d) 2, 8, 1

प्रश्न 19.
निम्नलिखित सारणी को पूरा कीजिए –
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 6
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 7

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Chapter 4 परीक्षोपयोगी अतिरिक्त प्रश्नोत्तर

MP Board Class 9th Science Chapter 4 वस्तुनिष्ठ प्रश्न

बहु-विकल्पीय प्रश्न

प्रश्न 1.
निम्नलिखित में कौन-सा Mg परमाणु में इलेक्ट्रॉनिक वितरण को सही प्रदर्शित करता है?
(a) 3, 8, 1
(b) 2, 8, 2
(c) 1, 8, 3
(d) 8, 2, 2
उत्तर:
(b) 2, 8, 2

प्रश्न 2.
रदरफोर्ड के अल्फा (α) कण प्रकीर्णन प्रयोग के परिणामस्वरूप खोज किया गया –
(a) इलेक्ट्रॉन
(b) प्रोटॉन
(c) परमाणु में नाभिक
(d) परमाण्वीय द्रव्यमान
उत्तर:
(c) परमाणु में नाभिक

प्रश्न 3.
एक तत्व X में इलेक्ट्रॉनों की संख्या 15 और न्यूट्रॉनों की संख्या 16 है। निम्नलिखित में से कौन-सा तत्व का सही प्रदर्शन है?
(a) 1531x
(b) 1631x
(c) 1615x
(d) 1615x
उत्तर:
(a) 1531x

प्रश्न 4.
डाल्टन के परमाणु सिद्धान्त ने सफलतापूर्वक समझाया –
(i) द्रव्यमान संरक्षण का नियम
(ii) स्थिर अनुपात का नियम
(iii) रेडियोएक्टिवता का नियम
(iv) गुणित अनुपात का नियम

(a) (i), (ii) और (iii)
(b) (i), (iii) और (iv)
(c) (ii), (iii) और (iv)
(d) (i), (ii) और (iv)
उत्तर:
(d) (i), (ii) और (iv)

प्रश्न 5.
रदरफोर्ड के नाभिकीय प्रतिरूप के सम्बन्ध में कौन – से कथन सही हैं?
(i) नाभिक को धन आवेशित माना।
(ii) प्रमाणित किया कि a-कण हाइड्रोजन परमाणु से चार गुना भारी है।
(iii) सौर परिवार से तुलना की जा सकती है।
(iv) टॉमसन मॉडल से सहमति दर्शाता है।

(a) (i) और (iii)
(b) (ii) और (iii)
(c) (i) और (iv)
(d) केवल (i)
उत्तर:
(a) (i) और (iii)

प्रश्न 6.
एक तत्व के लिए निम्नलिखित में से कौन से विकल्प सही हैं?
(i) परमाणु संख्या = प्रोटॉनों की संख्या + इलेक्ट्रॉनों की संख्या
(ii) द्रव्यमान संख्या = प्रोटॉनों की संख्या + न्यूट्रॉनों की संख्या
(iii) परमाणु द्रव्यमान = प्रोटॉनों की संख्या + न्यूट्रॉनों की संख्या
(iv) परमाणु संख्या = प्रोटॉनों की संख्या + न्यूट्रॉनों की संख्या

(a) (i) और (ii)
(b) (i) और (iii)
(c) (ii) और (iii)
(d) (ii) और (iv)
उत्तर:
(c) (ii) और (iii)

प्रश्न 7.
टॉमसन के परमाणु मॉडल हेतु निम्नलिखित में से कौन से कथन सत्य हैं?
(i) यह परमाणु में परमाणु द्रव्यमान को समान रूप से वितरित मानता है।
(ii) परमाणु में धनावेश समान रूप से वितरित माना गया।
(iii) धनावेशित गोले में इलेक्ट्रॉनों का वितरण समान रूप से होता है।
(iv) परमाणु के स्थायित्व के लिए इलेक्ट्रॉन परस्पर एक – दूसरे को आकर्षित करते हैं।

(a) (i), (ii) और (iii)
(b) (i) और (iii)
(c) (i) और (iv)
(d) (i), (iii) और (iv)
उत्तर:
(a) (i), (ii) और (iii)

प्रश्न 8.
रदरफोर्ड के 4 – कण प्रकीर्णन प्रयोग ने दर्शाया कि –
(i) इलेक्ट्रॉन ऋणावेशित होते हैं।
(ii) नाभिक में परमाणु का द्रव्यमान और धनावेश केन्द्रित रहता है।
(iii) नाभिक में न्यूट्रॉन होते हैं।
(iv) परमाणु का अधिकांश स्थान रिक्त होता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन से सही हैं?
(a) (i) और (iii)
(b) (ii) और (iv)
(c) (i) और (iv)
(d) (iii) और (iv)
उत्तर:
(b) (ii) और (iv)

प्रश्न 9.
एक तत्व के आयन पर 3 धनावेश हैं। परमाणु की द्रव्यमान संख्या 27 और न्यूट्रॉनों की संख्या 14 है। आयन में कितने इलेक्ट्रॉन उपस्थित हैं?
(a) 13
(b) 10
(c) 14
(d) 16
उत्तर:
(b) 10

प्रश्न 10.
निम्न चित्र में Mg2+ आयन को पहचानिए जहाँ n और p क्रमशः न्यूट्रॉनों और प्रोटॉनों की संख्या प्रदर्शित करते हैं –
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 8
उत्तर:
(d)

MP Board Solutions

प्रश्न 11.
एथिल एथेनॉइट (CHCOOC2H5) के एक नमूने में दो ऑक्सीजन परमाणुओं में इलेक्ट्रॉनों की संख्या समान है परन्तु न्यूट्रॉनों की संख्या भिन्न है। इसके लिए निम्नलिखित में से कौन-सा कारण है?
(a) इनमें से एक ऑक्सीजन परमाणु ने इलेक्ट्रॉन प्राप्त किए हैं।
(b) इनमें से एक ऑक्सीजन परमाणु ने दो न्यूट्रॉन प्राप्त किए हैं।
(c) दोनों ऑक्सीजन परमाणु समस्थानिक हैं।
(d) दोनों ऑक्सीजन परमाणु समभारिक हैं।
उत्तर:
(c) दोनों ऑक्सीजन परमाणु समस्थानिक हैं।

प्रश्न 12.
1 संयोजकता वाले तत्व होते हैं –
(a) सदैव धातु
(b) सदैव उपधातु
(c) धातु या अधातु
(d) सदैव अधातु
उत्तर:
(c) धातु या अधातु

प्रश्न 13.
परमाणु का प्रथम मॉडल देने वाले का नाम है –
(a) एन बोर
(b) ई. गोल्डस्टीन
(c) रदरफोर्ड
(d) जे. जे. टॉमसन
उत्तर:
(d) जे. जे. टॉमसन

प्रश्न 14.
3 प्रोटॉन और 4 न्यूट्रॉन युक्त परमाणु की संयोजकता होगी –
(a) 3
(b) 7
(c) 1
(d) 4
उत्तर:
(c) 1

प्रश्न 15.
ऐलुमिनियम के एक परमाणु में इलेक्ट्रॉनों का वितरण होता है –
(a) 2, 8, 3
(b) 2, 8, 2
(c) 8, 2,3
(d) 2, 3, 8
उत्तर:
(a) 2, 8, 3

प्रश्न 16.
निम्न चित्र में कौन-सा परमाणु के बोर मॉडल का सही प्रदर्शन नहीं करता –
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 9
(a) (i) और (ii)
(b) (ii) और (iii)
(c) (ii) और (iv)
(d) (i) और (iv)
उत्तर:
(c) (ii) और (iv)

प्रश्न 17.
निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सर्वदा सही है?
(a) एक परमाणु में इलेक्ट्रॉनों और प्रोटॉनों की संख्या समान होती है।
(b) एक परमाणु में इलेक्ट्रॉनों और न्यूट्रॉनों की संख्या समान होती है।
(c) एक परमाणु में प्रोटॉनों और न्यूट्रॉनों की संख्या समान होती है।
(d) एक परमाणु में इलेक्ट्रॉनों, प्रोटॉनों और न्यूट्रॉनों की संख्या समान होती है।
उत्तर:
(a) एक परमाणु में इलेक्ट्रॉनों और प्रोटॉनों की संख्या समान होती है।

प्रश्न 18.
परमाणु मॉडलों का समय के साथ सुधार होता रहा है। निम्नलिखित परमाणु मॉडलों को उनके कालानुक्रमानुसार व्यवस्थित कीजिए –
(i) रदरफोर्ड का परमाणु मॉडल
(ii) टॉमसन का परमाणु मॉडल
(iii) बोर का परमाणु मॉडल।

(a) (i), (ii) और (iii)
(b) (ii), (iii) और (i)
(c) (ii), (i) और (iii)
(d) (iii), (ii) और (i)
उत्तर:
(c) (ii), (i) और (iii)

MP Board Solutions

रिक्त स्थानों की पूर्ति

1. रदरफोर्ड के 4-कण प्रकीर्णन प्रयोग से ………….. की खोज हुई।
2. समस्थानिकों में समान …………….. परन्तु भिन्न …………… होते हैं।
3. निऑन और क्लोरीन के परमाणु क्रमांक क्रमशः 10 और 17 हैं। इनकी संयोजकताएँ क्रमशः …………. और …………. होंगी।
4. सिलिकॉन का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास ……………’ है और सल्फर का …………… है।
उत्तर:

  1. परमाण्वीय नाभिक
  2. परमाणु क्रमांक परमाणु भार,
  3. 0, 1,
  4. (2, 8, 4), (2, 8, 6).

सही जोड़ी बनाना
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 10
उत्तर:

  1. → (iii)
  2. → (iv)
  3. → (i)
  4. → (ii)
  5. → (vi)
  6. → (vii)
  7.  → (v)

सत्य/असत्य कथन

1. समस्थानिकों में न्यूट्रॉनों की संख्या समान होती है।
2. समभारिकों में द्रव्यमान संख्या समान होती है तथा परमाणु संख्या भिन्न।
3. समस्थानिकों के रासायनिक गुण भिन्न होते हैं।
4. समभारिकों के रासायनिक गुण भिन्न होते हैं।
5. समस्थानिकों में परमाणु संख्या असमान होती है।
उत्तर:

  1. असत्य
  2. सत्य
  3. असत्य
  4. सत्य
  5. असत्य

एक शब्द/वाक्य में उत्तर

प्रश्न 1.
इलेक्ट्रॉन का आवेश कितना होता है?
– 1.6 x 10-19 कूलॉम।

प्रश्न 2.
एक तत्व X के बाह्यतम कोश में एक इलेक्ट्रॉन उपस्थित है। यदि बाह्यतम कोश से वह इलेक्ट्रॉन हटा दिया जाय तो बनने वाले आयन पर कितना आवेश होगा?
1+.

प्रश्न 3.
एक तत्व X के बाह्यतम कोश में 6 इलेक्ट्रॉन उपस्थित हैं। यदि यह आवश्यक इलेक्ट्रॉन ग्रहण कर उत्कृष्ट गैस का विन्यास प्राप्त करता है तो इस प्रकार बने आयन पर कितना आवेश होगा?
2.

प्रश्न 4.
एक तत्व X की द्रव्यमान संख्या 4 और परमाणु क्रमांक 2 है। इस तत्व की संयोजकता लिखिए।
0 शून्य।

प्रश्न 5.
कैल्सियम और आर्गन के परमाणु क्रमांक क्रमशः 20 और 18 हैं। परन्तु दोनों तत्वों की द्रव्यमान संख्या 40 है। इस प्रकार के तत्वों के युगल को क्या नाम दिया जाता है?
उत्तर:
समभारिक।

MP Board Solutions

MP Board Class 9th Science Chapter 4 अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
क्या यह सम्भव है कि किसी तत्व के एक परमाणु में एक इलेक्ट्रॉन, एक प्रोटॉन हो और कोई भी न्यूट्रॉन न हो? यदि ऐसा है तो उस तत्व का नाम बताइए।
उत्तर:
हाँ, सम्भव है। तत्व का नाम-हाइड्रोजन (प्रोटोनियम)।

प्रश्न 2.
क्या 35Cl एवं 37Cl की संयोजकताएँ भिन्न होंगी? अपने उत्तर का औचित्य बताइए।
उत्तर:
नहीं, क्योंकि ये एक ही तत्व के समस्थानिक हैं।

प्रश्न 3.
रदरफोर्ड ने अपने -किरण प्रकीर्णन प्रयोग में सोने की पन्नी का चयन क्यों किया?
उत्तर:
रदरफोर्ड ने अपने -किरण प्रकीर्णन प्रयोग में सोने की पन्नी इसलिए चुनी क्योंकि वे बहुत पतली परत चाहते थे। सोने की यह पन्नी 1000 परमाणुओं के बराबर मोटी थी।

प्रश्न 4.
क्लोरीन परमाणु के लिए इलेक्ट्रॉनिक वितरण लिखें। इसके L कोश में कितने इलेक्ट्रॉन हैं? (क्लोरीन का परमाणु क्रमांक 17 है।)
उत्तर:
इलेक्ट्रॉन वितरण: 17 = 2, 8,7
इसके L कोश में 8 इलेक्ट्रॉन हैं।

प्रश्न 5.
एक प्रश्न के उत्तर में एक विद्यार्थी ने कहा कि एक परमाणु में प्रोटॉनों की संख्या न्यूट्रॉनों की संख्या से अधिक है और इसी प्रकार न्यूट्रॉनों की संख्या इलेक्ट्रॉनों की संख्या से अधिक है। क्या आप इस कथन से सहमत हैं ? अपने उत्तर का औचित्य दीजिए।
उत्तर:
हम सहमत नहीं हैं क्योंकि किसी भी परमाणु में प्रोटॉनों और इलेक्ट्रॉनों की संख्या समान होती है जबकि उक्त कथन में प्रोटॉनों की संख्या इलेक्ट्रॉनों की संख्या से अधिक बतायी गई है।

प्रश्न 6.
एक तत्व X है, जिसे 1531x द्वारा प्रदर्शित किया गया है, के नाभिक में न्यूट्रॉनों की संख्या को परिकलित कीजिए।
हल:
न्यूट्रॉनों की संख्या = A – Z = 31 – 15 = 16
अतः न्यूट्रॉनों की अभीष्ट संख्या = 16

प्रश्न 7.
हीलियम के संयोजकता कोश में 2 इलेक्ट्रॉन हैं परन्तु इसकी संयोजकता 2 नहीं है। समझाइए।
उत्तर:
हीलियम की संयोजकता कोश प्रथम कोश K है जिसकी अधिकतम इलेक्ट्रॉन धारिता 2 है इसलिए यह कोश पूर्ण है इसलिए इसकी संयोजकता 2 नहीं, 0 (शून्य) है।

प्रश्न 8.
हीलियम, निऑन और आर्गन की संयोजकता शून्य क्यों होती है?
उत्तर:
हीलियम का संयोजकता कोश K का द्विक् पूर्ण है तथा निऑन एवं आर्गन के संयोजकता कोश के अष्टक पूर्ण हैं, इसलिए इनकी संयोजकता शून्य (0) होती है।

प्रश्न 9.
निम्न चित्रों द्वारा प्रदर्शित परमाणुओं की संयोजकता ज्ञात कीजिए।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 11
हल:
परमाणु (a) के संयोजकता कोश में अष्टक पूर्ण है, अतः
इसकी संयोजकता = 0 (शून्य)
परमाणु (b) के संयोजकता कोश में 7 इलेक्ट्रॉन हैं।
इसलिए
इसकी संयोजकता = 8 – 7 = 1 है।
अतः अभीष्ट संयोजकताएँ (a) = 0 (शून्य), (b) = 1.

MP Board Solutions

प्रश्न 10.
समस्थानिक किसे कहते हैं ? हाइड्रोजन के तीन समस्थानिकों के नाम लिखिए।
उत्तर:
समस्थानिक:
“एक ही तत्व के वे परमाणु जिनकी परमाणु संख्या समान होती है परन्तु द्रव्यमान संख्या पृथक् होती है, समस्थानिक कहलाते हैं।”

हाइड्रोजन के समस्थानिकों के नाम:

  1. प्रोटोनियम
  2. ड्यूटीरियम
  3. ट्राइटियम।

प्रश्न 11.
कैथोड किरणों के कोई दो प्रमुख गुण लिखिए। (2019)
उत्तर:
कैथोड किरणों के प्रमुख गुण:

  1. ये किरणें ऋणावेशित होती हैं जो सीधी रेखा में ऋणाग्र से धनान की ओर चलती हैं।
  2. इनमें अत्यधिक गतिज ऊर्जा होती है।

प्रश्न 12.
1. क्लोरीन, एवं
2. सोडियम तत्वों की परमाणु संख्या एवं द्रव्यमान संख्या लिखिए। (2019)
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 12

MP Board Class 9th Science Chapter 4 लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
टॉमसन के परमाणु मॉडल को समझाइए।
उत्तर:
टॉमसन का परमाणु मॉडल-टॉमसन ने अपने परमाणु मॉडल में प्रस्तावित किया कि –

  1. परमाणु धन आवेशित गोले का बना होता है और इलेक्ट्रॉन उसमें फँसे होते हैं।
  2. ऋणात्मक और धनात्मक आवेश परिमाण में समान होते हैं। इसलिए परमाणु वैद्युतीय रूप से उदासीन होते हैं।

प्रश्न 2.
रदरफोर्ड के अल्फा कण प्रकीर्णन प्रयोग से क्या प्रेक्षण मिले?
उत्तर:
रदरफोर्ड के अल्फा कण प्रकीर्णन प्रयोग से प्राप्त प्रेक्षण:

  1. तेज गति से चल रहे अधिकतर अल्फा कण सोने की पन्नी से सीधे निकल गए।
  2. कुछ अल्फा कण पन्नी के द्वारा बहुत छोटे कोण से विक्षेपित हुए।
  3. आश्चर्यजनक रूप से प्रत्येक 12000 कणों में से एक कण वापस गया।

प्रश्न 3.
रदरफोर्ड ने अपने अल्फा कण प्रकीर्णन प्रयोग से क्या निष्कर्ष निकाले?
अथवा
रदरफोर्ड के अल्फा कण (a-विकिरण) प्रकीर्णन प्रयोग से निकाले गए निष्कर्षों की सूची बनाइए।
उत्तर:
रदरफोर्ड के अल्फा कण प्रकीर्णन प्रयोग के निष्कर्ष:

  1. परमाणु के भीतर का अधिकतर भाग खाली है क्योंकि अधिकतर अल्फा कण बिना विक्षेपित हुए बाहर निकल गए।
  2. बहुत कम कण अपने मार्ग से विक्षेपित होते हैं जिससे यह ज्ञात होता है कि परमाणु में धनावेशित भाग बहुत कम है।
  3. बहुत कम अल्फा कण 180° पर विक्षेपित हुए थे जिससे यह संकेत मिलता है कि सोने के परमाणु का पूर्ण धनावेशित भाग और द्रव्यमान परमाणु के भीतर बहुत कम आयतन में सीमित है।

प्रश्न 4.
रदरफोर्ड द्वारा प्रस्तुत परमाणु के नाभिकीय मॉडल की व्याख्या कीजिए। (2019)
अथवा
रदरफोर्ड के “परमाणु के नाभिकीय मॉडलं” के लक्षण लिखिए। (2019)
उत्तर:
रदरफोर्ड द्वारा प्रस्तुत परमाणु का नाभिकीय मॉडल-रदरफोर्ड ने परमाणु का नाभिकीय मॉडल प्रस्तुत किया, जिसके लक्षण निम्न हैं –

  1. परमाणु का केन्द्र धनावेशित होता है जिसे नाभिक (केन्द्रक) कहा जाता है। एक परमाणु का लगभग सम्पूर्ण द्रव्यमान इस नाभिक में होता है।
  2. इलेक्ट्रॉन नाभिक के चारों ओर वर्तुलाकार मार्ग में चक्कर लगाते हैं।
  3. नाभिक का आकार परमाणु के आकार की तुलना में काफी कम होता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 5.
रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल में क्या कमियाँ/सीमाएँ थीं ?
उत्तर:
रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल की सीमाएँ (कमियाँ):
वर्तुलाकार मार्ग में चक्रण करता हुआ इलेक्ट्रॉन (आवेशित कण) त्वरित होगा और त्वरण के समय आवेशित कणों से ऊर्जा विकरित होगी। इस प्रकार स्थायी कक्षा में घूमता हुआ इलेक्ट्रॉन अपनी ऊर्जा विकरित करते हुए केन्द्रक से टकरा जाता और परमाणु अस्थिर होता, लेकिन ऐसा नहीं है।

प्रश्न 6.
बोर के परमाणु मॉडल के अभिग्रहीत क्या हैं?
अथवा
बोर के परमाणु मॉडल की व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
बोर का परमाणु मॉडल:
बोर के परमाणु मॉडल की निम्निलिखित अवधारणाएँ हैं –

  1. इलेक्ट्रॉन केवल कुछ निश्चित कक्षाओं में ही चक्कर लगा सकते हैं जिन्हें इलेक्ट्रॉन की विविक्त कक्षा कहते हैं। इन कक्षाओं (कोशों) को ऊर्जा स्तर कहते हैं।
  2. जब इलेक्ट्रॉन इस विविक्त कक्षा (ऊर्जा स्तर) में चक्कर लगाते हैं, तो उनकी ऊर्जा का विकिरण नहीं होता है।

प्रश्न 7.
निम्न चित्र से आप x,y और z परमाणुओं के परमाणु क्रमांक, द्रव्यमान संख्या और संयोजकता सम्बन्धी क्या जानकारी प्राप्त करते हैं? अपना उत्तर एक सारणी के रूप में दीजिए।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 13
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 14
प्रश्न 8.
नीचे दिए गए प्रतीकों में उपलब्ध सूचना के आधार पर निम्न सारणी को पूर्ण कीजिए –
(a) 1735Cl
(b) 612C
(c) 1835Br
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 15
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 16

प्रश्न 9.
किस प्रकार रदरफोर्ड का परमाणु मॉडल, टॉमसन के परमाणु मॉडल से भिन्न है?
उत्तर:
रदरफोर्ड परमाणु मॉडल एवं टॉमसन परमाणु मॉडल में भिन्नता:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 17

प्रश्न 10.
सोडियम परमाणु एवं सोडियम आयन के इलेक्ट्रॉन वितरण को चित्र द्वारा दर्शाइए और उनके परमाणु क्रमांक (परमाणु संख्या) भी दीजिए।
उत्तर:

  1. सोडियम परमाणु
  2. सोडियम आयन।

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 18
दोनों में परमाणु क्रमांक समान अर्थात् प्रत्येक का 11 है।

प्रश्न 11.
गीगार और मार्सडेन के सोने की पन्नी वाले प्रयोग में, जिसने रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल की राह दिखाई ~ 1:00% अल्फा कण 50° से अधिक कोणों पर विक्षेपित होते पाये गए। यदि सोने की पन्नी पर एक मोल अल्फा कणों की बौछार की गई तो 50° से कम के कोणों पर विक्षेपित हुए अल्फा कणों की संख्या परिकलित कीजिए।
हल:
∵ 50° से अधिक कोण पर विक्षेपित अल्फा कण = 1% अल्फा कण
∵ 50° से कम पर विक्षेपित अल्फा कण = 100 – 1 = 99% अल्फा कण
बौछार किए गए अल्फा कणों की संख्या = 1 मोल = 6.022 x 1023 कण
50° से कम पर विक्षेपित कणों की संख्या = 1 मोल का 99%
\(=\frac{99}{100} \times 6 \cdot 022 \times 10^{23}\)
\(=\frac{596 \cdot 178 \times 10^{23}}{100}\)
अतः = 5.96 x 1023 कण
अभीष्ट कणों की संख्या = 5.96 x 1023 कण

MP Board Class 9th Science Chapter 4 दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
समस्थानिक एवं समभारिक में अन्तर स्पष्ट कीजिए। (2019)
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 19

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
हाइड्रोजन परमाणु और उसकी नाभिक की त्रिज्याओं का अनुपात ~105 है। परमाणु और , नाभिक को गोलाकार मानते हुए –

  1. उनके आकारों का अनुपात क्या होगा?
  2. यदि परमाणु को पृथ्वी ग्रह (R, = 64 x 10 m) से दर्शाया जाता है तो नाभिक के आकार की गणना कीजिए।

हल:
मान लीजिए कि हाइड्रोजन परमाणु की त्रिज्या = R मात्रक
एवं उसके केन्द्रक (नाभिक) की त्रिज्या = r मात्रक है।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 20
(i) हाइड्रोजन परमाणु के आकार (आयतन) एवं उसके नाभिक के आकार (आयतन) का अनुपात
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 21
[समीकरण (i) एवं (ii) से]
अत: परमाणु एवं नाभिक के आकारों का अभीष्ट अनुपात = 1015
(ii) पृथ्वी की त्रिज्या R. = 6.4 x 106 m से परमाणु को दर्शाया जाता है। अर्थात्
R = Re = 6.4 x 106 m …(iv)
समीकरण (i) एवं (iv) से
\(r=\frac{\mathrm{R}_{e}}{10^{5}}\)
\(=\frac{6 \cdot 4 \times 10^{6}}{10^{5}} \mathrm{m}\)
= 64m
अतः नाभिक की अभीष्ट त्रिज्या = 64 m

प्रश्न 3.
दिए गए तत्वों के इलेक्ट्रॉन विन्यास को पूर्ण कीजिए – (2019)
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 22
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 4 परमाणु की संरचना image 23

MP Board Class 9th Science Solutions

MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप

In this article, we will share MP Board Class 9th Sanskrit Solutions व्याकरण शब्द रूप Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप

संस्कृत में तीन लिंग होते हैं-पुल्लिंग, स्त्रीलिंग और नपुंसकलिंग। ये लिंग सदा अर्थ के अनुसार नहीं होते अपितु पहले से ही निश्चिय हैं।

उदाहरणार्थ-
पत्नी, अर्थ में ‘भार्या’ शब्द स्त्रीलिंग है तो उसी अर्थ में ‘दार’ शब्द पुल्लिंग और ‘कलत्र’ शब्द नपुंसकलिंग है। यद्यपि तीनों का अर्थ एक ही है तो भी उनके लिंग भिन्न हैं। ऐसे ही ‘काय’ और ‘देह’ शब्द पुल्लिंग हैं किन्तु ‘शरीर’ शब्द नपुंसकलिंग है।

संस्कृत में सात विभक्तियां होती हैं। (प्रथमा से सप्तमी तक)। प्रत्येक विभक्ति में तीन वचन होने के कारण प्रत्येक शब्द के इक्कीस रूप बनते हैं। इसके अतिरिक्त एक वचन में सम्बोधन के रूप भिन्न होते हैं। तीनों वचनों में मूल शब्द से चिह्न जोड़े जाते हैं। विभक्ति चिह्रों को सुप् भी कहते हैं। जिस शब्द के आगे कोई विभक्ति चिह्न लगा रहता है उसे सुबन्त या पद कहते हैं। नीचे कुछ महत्त्वपूर्ण शब्दों के रूप दिए जाते हैं।

अकारान्त पुल्लिंग शब्द
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-1
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-2

टिप्पणी-जिन शब्दों का उच्चारण करने पर अन्त में ‘अ’ की ध्वनि आती है। वे आकारान्त शब्द कहलाते हैं।

MP Board Solutions

अकारान्त पुल्लिंग शब्दों जैसे देव, नर, नृप, बालक, विद्यालय आदि के रूप राम शब्द की तरह चलते हैं।

इकारान्त पुल्लिंग शब्द
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-3
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-4

टिप्पणी-जिन शब्दों का उच्चारण करने पर अन्त में ‘इ’ की ध्वनि आती है, उन्हें इकारान्त शब्द कहते हैं। इकारान्त पुल्लिंग शब्दों, जैसे-कवि, कपि, गिरि, आदि के रूप रवि शब्द की तरह चलेंगे।

MP Board Solutions

उकारान्त पुल्लिंग शब्द
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-5

टिप्पणी-जिन शब्दों के अन्त में ‘उ’ की ध्वनि आती है वे उकारान्त शब्द कहलाते हैं। उकारान्त पुल्लिंग शब्दों जैसे-साधु, शिशु आदि के रूप भानु शब्द की तरह चलते हैं।

ऋकारान्त पुल्लिंग शब्द
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-6
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-7

नकारान्त पुल्लिंग शब्द
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-8
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-9
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-10

MP Board Solutions

स्त्रीलिंग शब्द
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-11
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-12

टिप्पणी-इसी प्रकार रमा, बालिका, प्रभा आदि आकारान्त स्त्रीलिंग शब्दों के रूप चलेंगे।
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-13
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-14

इलन्त स्त्रीलिंग वाच = वाणी
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-15
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-16

MP Board Solutions

दिश = दिशा
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-17

ऋकारान्त मातृ (माता)
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-18

नपुंसकलिंग शब्द
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-19

इकारान्त नपुंसकलिंग
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-20

उकारान्त नपुंसकलिंग
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-21

सकारान्त नपुंसकलिंग
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-22

MP Board Solutions

तकारान्त नपुंसकलिंग
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-23
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-24

सर्वनाम शब्द रूप
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-25
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-26
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-27
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-28
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-29
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-30
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-31

MP Board Solutions

संख्यावाचक शब्दों के रूप
‘एक’ (केवल एकवचन में)
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-32

द्वि (दो) (द्वि शब्दों के रूप केवल द्विवचन में तीनों लिंगों में होते हैं। नंपुसकलिंग तथा स्त्रीलिंग के रूप एक से ही होते हैं।)
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-33
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-34

पञ्चन शब्द के आगे के संख्यावाचक शब्दों के रूप तीनों लिंगों में समान होते हैं।
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-35

MP Board Solutions

संख्यावाचक शब्द
MP Board Class 9th Sanskrit व्याकरण शब्द रूप img-36

इनमें एक केवल एकवचन में वि द्विचन में तथा शेष अष्टादशन तक बहुवचन में होते हैं। उसके बाद की संख्याएं में आती हैं। यदि द्विवचन में आई तो उनके दूने का बोध होगा और बहुवचन में कई गुने का।
यथा-शते = दो सौ। शतानि = कई सौ।

MP Board Class 9th Sanskrit Solutions

MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 2 अलसस्य स्वप्नः

In this article, we will share MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 2 अलसस्य स्वप्नः Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Durva Chapter 2 अलसस्य स्वप्नः (कथा)

MP Board Class 9th Sanskrit Chapter 2 पाठ्य पुस्तक के प्रश्न

प्रश्न 1.
एकपदेन उत्तरं लिखत (एक शब्द में उत्तर लिखो)।
(क) विप्रपुत्रस्य नाम किम् आसीत्? (विप्र पुत्र का नाम क्या था?)
उत्तर:
विप्रपुत्रस्य नाम सोम शर्मा आसीत्। (विप्र पुत्र का नाम सोम शर्मा था।)

MP Board Solutions

(ख) सक्तुभिः कति रुप्यकाणि उत्पत्स्यन्ते? (सत्तू से कितने रुपये हुये?)
उत्तर:
सक्तुभिः शतम् रुप्यकाणि उत्पस्यन्ते (सत्तू से सौ रुपये हुए।)

(ग) विप्रः कं सततम् अवलोकयति? (विप्र किसे एकटक देख रहा था?)
उत्तर:
विप्रः सक्तुम सततम् अवलोकयति। (विप्र सत्तू को एकटक देख रहा था।)

(घ) अश्वानां विक्रयात् किं भविष्यति? (घोड़ों को बेचने से क्या होगा?)
उत्तर:
अश्वानां विक्रयात् सुवर्णम् भविष्यति। (घोड़ों को बेचने से स्वर्ण मुद्रा आयेगी।)

(ङ) विप्रस्य प्रहारेण कः भग्नः? (विप्र के प्रहार से क्या टूट गया?)
उत्तर:
विप्रस्य प्रहारेण घटः भग्नः। (विप्र के प्रहार से घड़ा टूट गया।)

प्रश्न 2.
एक वाक्येन उत्तर लिखत् (एक वाक्य में उत्तर लिखो)
(क) विप्रः स्वपत्नी किम् अभिधारयति? (ब्राह्मण अपनी पत्नी से क्या बोलेगा?)
उत्तर:
गृहाण तावद् बालकम्। (अपने बच्चे को पकड़ो।)

(ख) घट कैः सम्पूरितः? (घड़े में क्या भरा था?)
उत्तर:
सक्तुभिः। (सत्तू)।

(ग) सुवर्णेन किं सम्मत्स्यत्? (स्वर्ण मुद्रा से क्या बनेगा?)
उत्तर:
चतुः शालम् गृहम्। (चौकोर घर)।

(घ) सोम शर्मा कुतः विप्रसमीपम् आगच्छति? (सोम शर्मा ब्राह्मण के पास कहां आयेगा?)
उत्तर:
अश्वखुरासन्नवर्ती। (घुड़साल में मेरे समीप)।।

(ङ) विप्रः पुत्रम् कुतः अवधारयिष्यति? (ब्राह्मण पुत्र को कहां ग्रहण करेगा?)
उत्तर:
अश्वशालयः पृष्ठदेशे। (घुड़साल के पीछे)।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
अधोलिखित प्रश्नानाम् उत्तराणि लिखत् (नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर लिखो)
(क) सोम शर्मा पितरं दृष्ट्वा किं करिष्यति? (सोम शर्मा पिता को देखकर क्या करेगा?)
उत्तर:
ितु समीपम् आगमिष्यति। (पिता को देखकर उसके पास जायेगा।)

(ख) विप्रः रात्रो सुप्तः किं चिन्तयामास? (ब्राह्मण रात में सोते हुए क्या विचार किया?)
उत्तर:
अयं घटः सक्तुभि परिपूर्णः वर्तते। (इस घेड़े में सत्तू भरा हुआ है।)

(ग) विप्रः कं कदा कुतश्च अवधारिष्यति? (ब्राह्मण किसको कहा और कब धारण करेगा?)
उत्तर:
पुत्रम् अश्वशालायाः पृष्ठ देशे। (पुत्र को अश्वशाला के पीछे के भाग में ब्राह्मण ग्रहण करेगा।)

(घ) यदा दुर्भिक्षं भविष्यति तदा सक्तुभिः किंकिंभविष्यति? (जब अकाल होगा तब सत्तू के द्वारा क्या-क्या होगा?)
उत्तर:
स्वकणाम् सतम्। (अकाल के समय सैकड़ों रुपये सत्तू से प्राप्त होंगे)

(ङ) अस्याः कथायाः आशयः कः? (इस कथा का सार क्या है?)
उत्तर:
अविचार्यं न कर्तव्यम्। (बिना विचारे कोई कार्य नहीं करना चाहिए।) यही इस कथा का सार है।)

प्रश्न 4.
उदाहरणानुसारं शब्दानां धातु प्रत्यय च पृथक कुरुत
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 2 अलसस्य स्वप्न img-1

प्रश्न 5.
अव्ययः वाक्यनिर्माणं कुरुत
यथा- सः अत्र अस्ति।
(क) च – रमेश सुरेशश्च आपणं गच्छति।
(ख) अपि – अहं अपि भोपालम् गमिष्यामि।
(ग) तावत् – तावत् वर्षा वभूव।
(घ) न – अहं न गमिष्यामि।
(ङ) ततः – ततः पुत्रः आगतः।

प्रश्न 6.
उदाहरणानुसारं शब्दानां विभक्तिं, वचनं च लिखत्
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 2 अलसस्य स्वप्न img-2

प्रश्न 7.
संधिविच्छेदं कृत्वा संधिः नाम लिखत्
(क) तद्यदि
उत्तर:
तत् + यदि = व्यंजन

(ख) कदाचिद्रात्रो
उत्तर:
कदाचित् + रात्रो = व्यंजन

(ग) तदनेन
उत्तर:
तत + अनेन = व्यंजन

MP Board Solutions

(घ) कश्चित
उत्तर:
कः + चित = विसर्ग

(ङ) तथैव
उत्तर:
तथा + ऐव = वृद्धि स्वर

प्रश्न 8.
क्रियापदानां धातु लकारम्, पुरुषं च लिखत्क्रियापदम्
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 2 अलसस्य स्वप्न img-3

प्रश्न 9.
शुद्धवाक्यानां समक्षम् “आम्” अशुद्ध वाक्यानां समक्षं “न” इति लिखत्
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 2 अलसस्य स्वप्न img-4
उत्तर:
(क) न
(ख) आम्
(ग) आम्
(घ) आम्
(ङ) आम्

प्रश्न 10.
रिक्तस्थानानि पूरयत् (खाली स्थान भरो)
(क) स एव पाण्डुरः शेते सोम शर्मा पिता यथा।
(ख) सुवर्णेन चतुः शालम् गृहं सम्पत्स्ये।
(ग) अजाभिः प्रभूता गा गृहीष्यामि।
(घ) तस्य अहम सोम शर्मा इति नाम करिष्यामि।
(ङ) वऽवा प्रसवतः प्रभूता अस्वाः भविष्यति

प्रश्न 11.
यथायोग्यं योजयत् (सही जोड़ी बनाओ)
MP Board Class 9th Sanskrit Solutions Chapter 2 अलसस्य स्वप्न img-5

अलसस्य स्वप्नः पाठ-सन्दर्भ प्रतिपाद्य

यह कथा विष्णु शर्मा द्वारा रचित सुप्रसिद्ध कथा ग्रंथ ‘पंचतंत्र’ के ‘अपरीक्षित कारक’ नामक कृति से बालकों के ज्ञान-वृद्धि के उद्देश्य से ली गई है।

अलसस्य स्वप्नः पाठ का हिन्दी अर्थ

1. कस्मिंश्चिन्नगरे कश्चित् स्वभाव कृपणः विप्रः प्रतिवसति स्म। तेन भिक्षार्जितैः
भुक्तशेषैः सक्तुभिः कलशः सम्पूरितः। तं च घटं नागदन्ते अवलम्ब्य तस्याधस्तात् खट्वां निधाय सततम् एकदृष्ट्या तम् अवलोकयति।

शब्दार्थ :
कस्मिं-किसी-any; स्वभावकृपणा-स्वभाव से कँजूस-miser by nature; विप्रः-ब्राह्मण-Pandit, Wiseman; प्रतिवाति-रहता-Lives; भिक्षार्जितः-भिाक्षा के द्वारा अर्जित-Collection begging: भुक्तशेषैः-खाने से बचे हुए-Remaining food; सक्तुभिः-सत्तू-Power of Gram; तं-उसे-Complet, full, finish; च-और-him/ her/its; अवलम्ब्य-अवलंबित-Support; खटवां-खूटी-Nails; अवलोकयति-देखता था-Looks.

हिन्दी अर्थ :
किसी नगर में स्वभाव से कंजूस (कृपण) एक ब्राह्मण रहता था। वह भिक्षा से प्राप्त भोजन के बाद बचे हुए सत्तू को एक घड़े में भरता जाता। तब उस घड़े को एक खूटी से लटका कर उसके नीचे चारपाई पर बैठ घड़े को निरंतर देखता जाता।

2. अथ कदाचिद्रात्रौ सुप्तश्चिन्तयामास-यत् अयं घटः सक्तुभि परिपूर्णः वर्तते। तद्यदि दुर्भिक्षं भवति, तदनेन रुप्यकाणां शतमुत्पत्स्यते। ततस्तेन मया अजाद्वयं ग्रहीतव्यम्। ततः षाण्मासिकात् आप्रसववशात् ताभ्यां यूथंभविष्यति। ततोऽजाभिः प्रभूता गा गृहीष्यामि। गोभिर्महिषीः। महिषीभिर्वडवा। वडवाप्रसवतः प्रभूता अश्वा भविष्यन्ति। तेषां विक्रयात् प्रभूतां सुवर्णं भविष्यति। सुवर्णेन चतुः शालं गृहे सम्पत्स्यते।

शब्दार्थ :
अथ-इस प्रकार-This type; कदाचित-किसी-Anybody; सुप्त-सोते हुए-With sleeping; अयं-इस-This; सक्तुभि-सत्तू-Powder of gram; परिपूर्णः-परिपूर्ण-fulfill, over; शतमुत्पत्स्यते-सौहो जायेंगे-Hundred will be; तेन-उससे-Its; अजदूयं-दो बकरी-Two she goat; गृहीत्यम्-खरीदी जायेगी-Will have purchased; दुर्भिक्षम-अकाल-Starving; षाण्मासिकात्-छः महीने में होने वाली-Six monthly/Half yearly; ताभ्याम्-उससे-His; यूथम्-झुण्ड (समूह)-Group; गृहीष्यामि-ग्रहण करना-Will recieve; तेषां-उनके-Them; विक्रयात्-विक्रय से-From sell; प्रभूतं-बहुत अधिक-Very much; सुवर्ण-सोना-Gold; चतुःशालं-चौकोर-Square; गृहम्-घर-Home, House, Residence; सम्पत्स्यते-निर्मित करूँगा-Will build;

MP Board Solutions

हिन्दी अर्थ :
तत्पश्चात् रात्रि में शयन करते समय मन में यह विचार करता कि सत्तू से यह कलश पूरी तरह भरा हुआ है। यदि अकाल पड़ जाता तो इसके द्वारा सैकड़ों रुपये प्राप्त हो जाएँगे। फिर उन रुपयों से वह दो बकरियाँ खरीदेगा। पुनः उन बकरियों से छः माह बाद पैदा होने वाले बच्चों का एक बहुत बड़ा समूह ही जाएगा। फिर वह इन बकरियों के बेचने से होने वाली आय से गायें, भैसें, भैसों से होने वाली आय से थोड़ी, उस घोड़ी से (अच्छे) किस्म के घोड़े होंगे। उन घोड़ों के बेचने से बहुत अधिक स्वर्ण प्राप्त होगा। उन स्वर्ण मुद्राओं से एक अच्छा घर निर्मित करूँगा।

3. ततः कश्चिद विप्रः मम गृहम् आगत्य रूपाढ्यां कन्यां मह्यं दास्यति। तत्सकाशात् पुत्रो मे भविष्यति। तस्य अहं “सोमशा” इति नाम करिष्यामि। ततः तस्मिञ्जानुचलन-योग्ये सजाते अहं पुस्तकंगृहीत्वा अश्वशालायाः पृष्ठदेशे उपविष्टस्तदवधारयिष्यामि। अत्रान्तरे सोमशर्मा मां दृष्ट्वा जनन्युत्सङ्गात् जानुचलनपरः अश्वखुरासन्नवर्ती मत्समीपमा गमिष्यति। ततोऽहं स्वपत्नी कोपाविष्टोऽभिधास्यामि ‘गृहाण तावद बालकम्। सा अपि गृहकर्म व्यग्रतयाऽस्मद्वचनं न श्रोष्यति। ततोऽहं समुत्थाय तं ताडयिष्यामि।

शब्दार्थ :
कश्चिद-कोई-Anybody; आगत्य-आकर-After coming; रूपाढ्यां रूपमति-Beautiful; दास्यति-देगा-Will give; तस्य-उससे-Her/Him; भविष्यति-होगा-Will/Shall; करिष्यामि-करूंगा-Will do/shall do; गृहीत्वा-ग्रहण करके-Except; जानुचलनयोग्ये-घुटने से चलने योग्य होने पर-Walking with knee, With fulfill of qualification; उत्सङ्गात्-गोद से-by lap; भग्नः-टूट गया-broke; षाण्डुरताम्-पीले रंग का-The colour of yellow; असम्भव्याम-असम्भव-Impossible; पृष्ठदेशे-पृष्ठ देश में-Behind of the stable; धारयिष्यामि-धारण करूँगा-Keep,except; तावद् बालकम-तुम्हारे बालक का-To your son; श्रोष्यति-सुना जाता है-Is listen; ताडयिस्यामि-पिटाई करूँगा-Will beating;

हिन्दी अर्थ :
तत्पश्चात् कोई ब्राह्मण मेरे घर आकर अपनी रूपवती कन्या मुझे देगा। उससे मेरा पुत्र होगा। उसका नाम मैं सोम शर्मा रलूँगा। तत्पश्चात् बालक के चलने योग्य हो जाने पर मैं पुस्तक लेकर घुड़साल के पीछे बैठकर अध्ययन करूँगा और बालक सोम शर्मा मुझे देखकर घुटने के बल घोड़े के खुरों के पास से होता हुआ घुड़साल में मेरे पास आ जाएगा। तब मैं अपनी पत्नी को गुस्से में डाँटते हुए पकड़ने को कहूँगा। वह भी गृहकार्य में व्यस्त होने के कारण मेरे वचन नहीं सुनेगी तो मैं उसकी पिटाई करूँगा।

4. एवं तेन ध्यानस्थितेन प्रहारो दत्तो यथा स घटो भग्नः स्वयं च पाण्डुरतां गतः अतोऽहं ब्रवीमि –
अनागतवती चिंताम असम्भाव्यां करोति यः।
स एव पाण्डुरः शेते सोमशर्मपिता यथा ॥

शब्दार्थ :
अनागतवतीम्-न आयी हुई को-Unreachable/miss call; ध्यानस्थितेन-ध्यान करते हुए-With meditate; ततैव-इसी प्रकार-This type; प्रहारो-प्रहार किया-Stroke.
हिन्दी अर्थ-इस प्रकार वह ब्राह्मण मन में ध्यान करते हुए उसी प्रकार प्रहार किया जिससे वह घड़ा फूट गया और ब्राह्मण (सत्तू के गिरने से) पीला पड़ गया। अतः मैं कहता हूँ –

“न आई हुई की चिंता करते हुए असंभावित कार्य की जो कल्पना करता है वह सोम शर्मा के पिता की तरह पीले रंग का हो जाता है।

MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं

In this article, we will share MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 9th Science solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं

MP Board Class 9th Science Chapter 2  पाठ के अन्तर्गत के प्रश्नोत्तर

प्रश्न श्रृंखला – 1 # पृष्ठ संख्या 16

प्रश्न 1.
पदार्थ से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर:
पदार्थ-“विश्व की प्रत्येक वस्तु जिस सामग्री से बनी होती है तथा जिसमें द्रव्यमान एवं आयतन होता है, उसे पदार्थ कहते हैं।”

प्रश्न 2.
समांगी और विषमांगी मिश्रणों में अन्तर बताएँ।
उत्तर:
समांगी मिश्रणों की बनावट समान होती है जबकि विषमांगी मिश्रणों के अंश भौतिक दृष्टि से पृथक् होते हैं।

प्रश्न श्रृंखला – 2 # पृष्ठ संख्या 20

प्रश्न 1.
उदाहरण सहित समांगी एवं विषमांगी मिश्रणों में विभेद कीजिए।
उत्तर:
समांगी एवं विषमांगी मिश्रणों में विभेद
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 1

प्रश्न 2.
विलयन, निलम्बन और कोलॉइड एक-दूसरे से किस प्रकार भिन्न है?
उत्तर:
विलयन, निलम्बन एवं कोलॉइड में भिन्नताएँ
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 2

प्रश्न 3.
एक संतृप्त विलयन बनाने के लिए 36g सोडियम क्लोराइड को 100 g जल में 293 K पर घोला जाता है। इस तापमान पर इसकी सान्द्रता प्राप्त कीजिए।
हल:
चूँकि सोडियम क्लोराइड (विलेय) का द्रव्यमान = 36 g (दिया है)
एवं जल (विलायक) का द्रव्यमान = 100 g (दिया है)
विलयन का द्रव्यमान = विलेय का द्रव्यमान + विलायक का द्रव्यमान
= 36g + 100 g = 136g
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 3
अतः विलयन की 293 K पर अभीष्ट सान्द्रता = 26.47%

प्रश्न श्रृंखला – 3 # पृष्ठ संख्या 26

MP Board Solutions

प्रश्न 1.
पेट्रोल और मिट्टी का तेल (Kerosene oil) जो कि आपस में घुलनशील हैं, के मिश्रण को आप कैसे पृथक् करेंगे ? पेट्रोल तथा मिट्टी के तेल के क्वथनांकों में 25°C से अधिक का अन्तराल है।
उत्तर:
पेट्रोल और मिट्टी के तेल के मिश्रण को पृथक् करना
पेट्रोल एवं मिट्टी के तेल के मिश्रण को हम आसवन विधि से पृथक् करेंगे क्योंकि इनके क्वथनांकों में 25°C से अधिक का अन्तराल है।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 4

विधि –

  1. पेट्रोल एवं मिट्टी के तेल के मिश्रण को एक आसवन फ्लास्क में लेते हैं। इसमें एक थर्मामीटर (तापमापी) लगाते हैं।
  2. दिए गए चित्र 2.1 के अनुसार उपकरण को व्यवस्थित करते हैं।
  3. मिश्रण को धीरे-धीरे सावधानीपूर्वक गर्म करते हैं और थर्मामीटर के पाठ्यांक का अवलोकन करते हैं।
  4. पेट्रोल वाष्पीकृत होता है तथा संघनन द्वारा संघनित होकर बाहर एक बर्तन में एकत्रित हो जाता है।
  5. थर्मामीटर का तापमान तब तक स्थिर रहता है जब तक कि सम्पूर्ण पेट्रोल पृथक् नहीं हो जाता।
  6. ग्राहक बर्तन को अलग कर देते हैं और मिश्रण को गर्म करना बन्द कर देते हैं।
  7. शेष मिट्टी का तेल फ्लास्क में रह जाता है। इस प्रकार मिश्रण के घटक पृथक् हो जाते हैं।

प्रश्न 2.
पृथक करने की सामान्य विधियों के नाम दीजिए
(i) दही से मक्खन,
(ii) समुद्री जल से नमक,
(iii) नमक से कपूर।
उत्तर:
(i) अपकेन्द्रण (मथना),
(ii) वाष्पन,
(iii) ऊर्ध्वपातन।

प्रश्न 3.
क्रिस्टलीकरण विधि से किस प्रकार के मिश्रणों को पृथक् किया जा सकता है ?
उत्तर:
क्रिस्टलीय एवं अक्रिस्टलीय पदार्थों के मिश्रण।

प्रश्न श्रृंखला – 4 # पृष्ठ संख्या 27

प्रश्न 1.
निम्न को रासायनिक और भौतिक परिवर्तनों में वर्गीकृत करें
1. पेड़ों का काटना
2. मक्खन का एक बर्तन में पिघलना
3. अलमारी में जंग लगना
4. जल का उबलकर वाष्प बनना
5. विद्युत तरंग का जल में प्रवाहित होना तथा उसका हाइड्रोजन एवं ऑक्सीजन गैसों में विघटित होना
6. जल में साधारण नमक का घुलना
7. फलों से सलाद बनाना
8. लकड़ी और कागज का जलना।
उत्तर:
भौतिक परिवर्तन

1. पेड़ों का काटना
2. मक्खन का एक बर्तन में पिघलना
4. जल का उबलकर वाष्प बनना
6. जल में साधारण नमक का घुलना
7. फलों से सलाद बनाना।

रासायनिक परिवर्तन-

3. अलमारी में जंग लगना
5. विद्युत तरंग का जल में प्रवाहित होना तथा इसका हाइड्रोजन एवं ऑक्सीजन गैसों में विघटित होना
8. लकड़ी और कागज का जलना।

प्रश्न 2.
अपने आसपास की चीजों को शुद्ध पदार्थों या मिश्रण से अलग करने का प्रयत्न करें।
उत्तर:
(निर्देश- छात्र इस क्रिया-कलाप को स्वयं अपने घर पर करें।)

MP Board Class 9th Science Chapter 2  पाठान्त अभ्यास के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
निम्नलिखित को पृथक् करने के लिए आप किन विधियों को अपनाएँगे?
(a) सोडियम क्लोराइड को जल के विलयन से पृथक् करने में।
(b) अमोनियम क्लोराइड को सोडियम क्लोराइड तथा अमोनियम क्लोराइड के मिश्रण से पृथक् करने में।
(c) धातु के छोटे टुकड़े को कार के इंजन आयल से पृथक् करने में।
(d) दही से मक्खन निकालने के लिए।
(e) जल से तेल निकालने के लिए।
(f) चाय से चाय की पत्तियों को पृथक् करने में।
(g) बालू से लोहे की पिनों को पृथक् करने में।
(h) भूसे से गेहूँ के दानों को पृथक् करने में।
(i) पानी में तैरते हुए महीन मिट्टी के कणों को पानी से अलग करने के लिए।
(j) पुष्प की पंखुड़ियों के निचोड़ से विभिन्न रंजकों को पृथक् करने में।
उत्तर:
(a) वाष्पीकरण द्वारा अथवा क्रिस्टलीकरण द्वारा
(b) ऊर्ध्वपातन विधि
(c) छलनी से छानकर
(d) मंथन विधि या अपकेन्द्रण विधि
(e) पृथक्कारी कीप द्वारा
(f) छननी द्वारा छानकर
(g) चुम्बक द्वारा
(h) मिश्रण को हवा में ऊपर से गिराकर
(i) छानक द्वारा
(i) क्रोमेटोग्राफी विधि।

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
चाय तैयार करने के लिए आप किन-किन चरणों का प्रयोग करोगे ? विलयन, विलायक, विलेय, घुलना, घुलनशील, अघुलनशील, घुलेय (फिल्ट्रेट) तथा अवशेष शब्दों का प्रयोग करें।
उत्तर:
चाय तैयार करने के विभिन्न चरण

  1. चाय बनाने वाले बर्तन (चायदान) में आवश्यक मात्रा में जल (विलायक) लेकर उसे चूल्हे पर रखकर गर्म करते हैं।
  2. इसमें आवश्यकतानुसार चाय की पत्ती डालते हैं जो अघुलनशील होती है तथा गर्म करने पर इसका अर्क एवं रंग जल में मिल जाता है।
  3. इसमें आवश्यकतानुसार दूध (विलेय) मिलाते हैं।
  4. इसके बाद आवश्यकतानुसार शक्कर डालते हैं जो घुलनशील होने के कारण मिश्रण में घुल जाती
  5. चाय के मिश्रण को अच्छी तरह खौलाते हैं।
  6. चाय के मिश्रण को एक छननी द्वारा छान लेते हैं जिससे घुलेय (फिल्ट्रेट) बर्तन में छनकर आ जाता है तथा अवशेष चाय की पत्ती छननी के अन्दर रह जाती है।
  7. इस प्रकार प्राप्त चाय जल में चीनी, दूध एवं चाय की पत्ती के अर्क का विलयन होता है।

प्रश्न 3.
प्रज्ञा ने चार अलग-अलग पदार्थों की घुलनशीलताओं को विभिन्न तापमान पर जाँचा तथा आगे दिए गए आँकड़ों को प्राप्त किया। प्राप्त हुए परिणामों को 100g जल में विलेय पदार्थ की मात्रा, जो संतृप्त विलयन बनाने हेतु पर्याप्त है, अग्रलिखित तालिका में दर्शाया गया है-
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 4
(a) 50g जल में 313 K पर पोटैशियम नाइट्रेट के संतृप्त विलयन को प्राप्त करने हेतु कितने ग्राम पोटैशियम नाइट्रेट की आवश्यकता होगी ?
(b) प्रज्ञा 353 K पर पोटैशियम क्लोराइड का संतृप्त विलयन तैयार करती है और विलयन को कमरे के तापमान पर ठण्डा होने के लिए छोड़ देती है। जब विलयन ठण्डा होगा तो वह क्या अवलोकित करेगी ? स्पष्ट करें।
(c) 293 K पर प्रत्येक लवण की घुलनशीलता का परिकलन करें। इस तापमान पर कौन-सा लवण सबसे अधिक घुलनशील होगा ?
(d) तापमान में परिवर्तन से लवण की घुलनशीलता पर क्या प्रभाव पड़ता है ?
हल:
(a) चूँकि तालिका के अनुसार 313 K पर 100 g को संतृप्त विलयन बनाने के लिए आवश्यक पोटैशियम नाइट्रेट की मात्रा = 62 g
इसलिए उक्त तापमान पर 50 g जल में संतृप्त विलयन बनाने के लिए पोटैशियम नाइट्रेट की आवश्यक मात्रा = \(\frac { 62 }{ 100 }\) x 50 = 31g
अतः पोटैशियम नाइट्रेट की अभीष्ट मात्रा = 31 g

(b) चूँकि 353 K पर पोटैशियम क्लोराइड की विलेयता (घुलनशीलता) कमरे के ताप की अपेक्षा अधिक है अतः पोटैशियम क्लोराइड के 353 K पर बने संतृप्त विलयन को कमरे के तापमान पर ठण्डा करने पर पोटैशियम क्लोराइड की अतिरिक्त मात्रा विलयन में नीचे बैठ जाएगी।

(c) 293 K पर पोटैशियम नाइट्रेट की घुलनशीलता
\(=\frac{32 \times 100}{(100+32)}=\frac{3200}{132}=24 \cdot 24 \%\)
293 K पर सोडियम क्लोराइड की घुलनशीलता
\(=\frac{36 \times 100}{(100+36)}=\frac{3600}{132}=26 \cdot 47 \%\)
293 K पर पोटैशियम क्लोराइड की घुलनशीलता
\(=\frac{35 \times 100}{(100+35)}=\frac{3500}{132}=25 \cdot 92\%\)
293 K पर अमोनियम क्लोराइड की घुलनशीलता
\(=\frac{37 \times 100}{(100+37)}=\frac{3700}{132}=27 \cdot 01 \%\)
अत: 293 K तापमान पर अमोनियम क्लोराइड सबसे अधिक घुलनशील होगा।
(d) तापमान बढ़ाने पर प्रायः लवणों की घुलनशीलता बढ़ जाती है।

प्रश्न 4.
निम्न की उदाहरण सहित व्याख्या करें
(a) संतृप्त विलयन, (2019)
(b) शुद्ध पदार्थ,
(c) कोलॉइड, (2019)
(d) निलम्बन। (2019)
उत्तर:
(a) संतप्त विलयन – “जब किसी तापमान पर किसी विलायक में किसी विलेय को घोला जाता है तो एक स्थिति ऐसी आती है कि उस विलायक में विलेय की और मात्रा नहीं घोली जा सकती है। इस प्रकार प्राप्त विलयन संतृप्त विलयन कहलाता है।”

(b) शुद्ध पदार्थ – “वे पदार्थ जो एक ही प्रकार के कणों से मिलकर बने होते हैं,शुद्ध पदार्थ कहलाते हैं।” उदाहरण-ताँबा, सोना, कार्बन, ऑक्सीजन, अमोनियम क्लोराइड, कॉपर सल्फेट आदि।

(c) कोलॉइड – “जब किसी विलयन में विलेय के कण निलम्बन की अपेक्षा इतने छोटे होते हैं कि साधारण आँखों से दिखाई नहीं देते लेकिन ये प्रकाश की किरणों को आसानी से फैला देते हैं, ऐसे विलयन को कोलॉइडी विलयन या कोलॉइड कहते हैं।”
उदाहरण – दूध, मक्खन, पनीर, जेली, धुआँ आदि।

(d) निलम्बन – “वह विषमांगी विलयन जिसमें विलेय के कण आसानी से आँखों से देखे जा सकते हैं तथा ये माध्यम की समष्टि में निलम्बित रहते हैं, निलम्बन कहलाता है।”
उदाहरण – मिट्टी युक्त गंदा पानी, चॉक का घोल आदि।

प्रश्न 5.
निम्नलिखित में से प्रत्येक को समांगी और विषमांगी मिश्रणों में वर्गीकृत करें सोडा जल, लकड़ी, बर्फ, वायु, मिट्टी, सिरका, छनी हुई चाय।
उत्तर:
समांगी मिश्रण-सोडा जल, वायु, छनी हुई चाय, सिरका। विषमांगी मिश्रण-लकड़ी, मिट्टी।

प्रश्न 6.
आप किस प्रकार पुष्टि करेंगे कि दिया हुआ रंगहीन द्रव शुद्ध जल है ?
उत्तर:
हम दिए हुए रंगहीन द्रव का क्वथनांक ज्ञात करेंगे यदि क्वथनांक 100°C (373K) आता है तो दिया हुआ रंगहीन द्रव शुद्ध जल है, अन्यथा नहीं ।

MP Board Solutions

प्रश्न 7.
निम्न में से कौन-सी वस्तुएँ शुद्ध पदार्थ हैं ?
(a) बर्फ,
(b) दूध,
(c) लोहा,
(d) हाइड्रोक्लोरिक अम्ल,
(e) कैल्शियम ऑक्साइड,
(f) पारा,
(g) ईंट,
(h) लकड़ी,
(i) वायु।
उत्तर:
शुद्ध पदार्थ –
(a) बर्फ,
(c) लोहा,
(d) हाइड्रोक्लोरिक अम्ल,
(e) कैल्शियम ऑक्साइड,
(f) पारा।

प्रश्न 8.
निम्नलिखित मिश्रणों में से विलयन की पहचान करें
(a) मिट्टी,
(b) समुद्री जल,
(c) वायु,
(d) कोयला,
(e) सोडा जल।
उत्तर:
विलयन-
(c) वायु, एवं
(e) सोडा जल।

प्रश्न 9.
निम्नलिखित में कौन टिण्डल प्रभाव को प्रदर्शित करेगा?
(a) नमक का घोल,
(b) दूध,
(c) कॉपर सल्फेट का विलयन,
(d) स्टार्च विलयन।
उत्तर:
(b) दूध एवं
(d) स्टार्च विलयन।

प्रश्न 10.
निम्नलिखित को तत्व, यौगिक तथा मिश्रण में वर्गीकृत करें
(a) सोडियम,
(b) मिट्टी,
(c) चीनी का घोल,
(d) चाँदी,
(e) कैल्शियम कार्बोनेट,
(f) टिन,
(g) सिलिकॉन,
(h) कोयला,
(i) वायु,
(j) साबुन,
(k) मीथेन,
(l) कार्बन डाइऑक्साइड,
(m) रक्त।
उत्तर:
तत्व-
(a) सोडियम,
(d) चाँदी,
(f) टिन,
(g) सिलिकॉन।

यौगिक –
(e) कैल्शियम कार्बोनेट,
(k) मीथेन,
(l) कार्बन डाइऑक्साइड।

मिश्रण –
(b) मिट्टी,
(c) चीनी का घोल,
(b) कोयला,
(i) वायु,
(j) साबुन,
(m) रक्त।

प्रश्न 11.
निम्नलिखित में से कौन-कौन से परिवर्तन रासायनिक हैं ?
(a) पौधों की वृद्धि,
(b) लोहे में जंग लगना,
(c) लोहे के चूर्ण तथा बालू को मिलाना,
(d) खाना पकाना,
(e) भोजन का पाचन,
(f) जल से बर्फ बनना,
(g) मोमबत्ती का जलना।
उत्तर:
रासायनिक परिवर्तन-

(a) पौधों की वृद्धि,
(b) लोहे में जंग लगना,
(e) भोजन का पाचन,
(g) मोमबत्ती का जलना।

MP Board Class 9th Science Chapter 2  परीक्षोपयोगी अतिरिक्त प्रश्नोत्तर

MP Board Class 9th Science Chapter 2  वस्तुनिष्ठ प्रश्न

बहु-विकल्पीय प्रश्न

MP Board Solutions

प्रश्न 1.
शुद्ध पदार्थों के लिए निम्नलिखित में कौन-से कथन सत्य हैं ?
(i) शुद्ध पदार्थों में केवल एक प्रकार के कण होते हैं
(ii) शुद्ध पदार्थ यौगिक अथवा मिश्रण हो सकते हैं
(iii) शुद्ध पदार्थों का संघटन सर्वत्र समान होता है
(iv) निकिल के अतिरिक्त अन्य सभी तत्वों द्वारा शुद्ध पदार्थों को हस्तान्तरित किया जा सकता है।

(a) (i) तथा (ii)
(b) (i) तथा (iii)
(c) (iii) तथा (iv)
(d) (ii) तथा (iii)।
उत्तर:
(b) (i) तथा (iii)

प्रश्न 2.
लोहे से बनी वस्तु में जंग लगने को कहते हैं-
(a) संक्षारण तथा यह एक भौतिक एवं रासायनिक परिवर्तन भी है
(b) विलयन तथा यह एक भौतिक परिवर्तन है
(c) संक्षारण तथा यह एक रासायनिक परिवर्तन है
(d) विलयन तथा यह एक रासायनिक परिवर्तन है।
उत्तर:
(c) संक्षारण तथा यह एक रासायनिक परिवर्तन है

प्रश्न 3.
सल्फर तथा कार्बन डाइ-सल्फाइड का एक मिश्रण है-
(a) विषमांगी तथा टिण्डल प्रभाव दर्शाता है
(b) समांगी तथा टिण्डल प्रभाव दर्शाता है।
(c) विषमांगी तथा टिण्डल प्रभाव नहीं दर्शाता है।
(d) समांगी तथा टिण्डल प्रभाव नहीं दर्शाता है।
उत्तर:
(d) समांगी तथा टिण्डल प्रभाव नहीं दर्शाता है

प्रश्न 4.
आयोडीन का टिंचर पूतिरोधी गुण रखता है। यह विलयन निम्नलिखित में से किसको घोलने पर बनता है ?
(a) पोटैशियम आयोडाइड में आयोडीन
(b) वैसलीन में आयोडीन
(c) जल में आयोडीन
(d) ऐल्कोहॉल में आयोडीन।
उत्तर:
(d) ऐल्कोहॉल में आयोडीन

प्रश्न 5.
निम्नलिखित में से कौन समांगी प्रकृति के हैं ?
(i) बर्फ
(ii) लकड़ी
(iii) मृदा
(iv) वायु।

(a) (i) तथा (iii)
(b) (ii) तथा (iv)
(c) (i) तथा (iv)
(d) (iii) तथा (iv)।
उत्तर:
(c) (i) तथा (iv)

प्रश्न 6.
निम्नलिखित में से भौतिक परिवर्तन कौन से हैं ?
(i) लोह धातु का पिघलना
(ii) लोहे में जंग लगना
(iii) एक लोह छड़ को मोड़ना
(iv) लोह धातु का एक तार खींचना।

(a) (i), (ii) तथा (iii)
(b) (i), (ii) तथा (iv)
(c) (i), (iii) तथा (iv)
(d) (ii), (iii) तथा (iv)।
उत्तर:
(c) (i), (iii) तथा (iv)

MP Board Solutions

प्रश्न 7.
निम्नलिखित में से रासायनिक परिवर्तन कौन-से हैं ?
(i) लकड़ी का क्षरण
(ii) लकड़ी का दहन
(iii) लकड़ी का चीरना
(iv) लकड़ी के एक टुकड़े में कील ठोंकना।

(a) (i) तथा (ii)
(b) (ii) तथा (iii)
(c) (iii) तथा (iv)
(d) (i) तथा (iv)।
उत्तर:
(a) (i) तथा (ii)

प्रश्न 8.
निम्नलिखित अभिक्रिया अनुसार दो पदार्थ A तथा B अभिक्रिया कर तृतीय पदार्थ A,B बनाते 2A + B → A2B निम्नलिखित में से कौन-से कथन इस अभिक्रिया के सन्दर्भ में सही नहीं हैं ?
(i) उत्पाद A2B, पदार्थ A तथा B के गुण प्रदर्शित करता है
(ii) उत्पाद का सदैव एक निश्चित संघटन होगा
(iii) इस प्रकार का बना उत्पाद यौगिक के रूप में वर्गीकृत नहीं किया जा सकता है
(iv) इस प्रकार का बना उत्पाद एक तत्व है।

(a) (i), (ii) तथा (iii)
(b) (ii), (iii) तथा (iv)
(c) (i), (iii) तथा (iv)
(d) (i), (ii) तथा (iv)।
उत्तर:
(c) (i), (iii) तथा (iv)

प्रश्न 9.
दो रासायनिक स्पीशीजX तथा Y आपस में संयुक्त होकर P उत्पाद बनाती हैं जिसमें X तथा Y दोनों उपस्थित हैं
X + Y = P
X तथा Y को सरल रासायनिक अभिक्रिया द्वारा सरल पदार्थों में नहीं तोड़ा जा सकता है। निम्नलिखित में से कौन-सा X, Y तथा P स्पीशीज के सन्दर्भ में सत्य है (i) P एक यौगिक है
(ii)X तथा Y यौगिक हैं
(iii) X तथा Y तत्व हैं।
(iv) P का एक निश्चित संघटन है

(a) (i), (ii) तथा (iii)
(b) (i), (ii) तथा (iv)
(c) (ii), (iii) तथा (iv)
(d) (i), (iii) तथा (iv)।
उत्तर:
(d) (i), (iii) तथा (iv)

प्रश्न 10.
अरुण ने जल में सोडियम क्लोराइड का 0.01% (द्रव्यमान) विलयन बनाया। निम्नलिखित में से कौन-सा विलयन का सही संघटन व्यक्त करता है ?
(a) 1.00 g NaCl + 100 g जल
(b) 0.11 g NaCl + 100 g जल
(c) 0.01 g NaCl + 99.99 g जल
(d) 0.10 g NaCl + 99.90g जल।
उत्तर:
(c) 0.01 g NaCl + 99.99 g जल

रिक्त स्थानों की पूर्ति

1. कोलॉइड …………… मिश्रण है तथा इसके अवयवों को एक तकनीक जिसे ………….. जाना जाता है, के द्वारा पृथक् किया जा सकता है।
2. बर्फ, जल तथा जल वाष्प भिन्न दिखते हैं तथा भिन्न ……………. गुण प्रदर्शित करते हैं परन्तु वे ………. दृष्टि से समान होते हैं।
3. एक पृथक्कारी कीप में जल तथा क्लोरोफॉर्म का मिश्रण लेकर मिश्रित किया गया तथा कुछ समय के लिए अविक्षुब्ध अवस्था में छोड़ दिया। पृथक्कारी कीप में दूसरी सतह ………….. की तथा
निचली सतह ……………. की होगी।
4. दो या अधिक मिश्रणीय द्रवों, जिनके क्वथनांकों में 25 K से कम अन्तर है, के मिश्रण को …………….. विधि द्वारा पृथक् किया जा सकता है।
5. कुछ बूंद दूध युक्त जल में सूर्य का प्रकाश गुजारने पर वह नीली झलक दर्शाता है। यह दूध के द्वारा प्रकाश के ………….. के कारण होता है तथा इस परिघटना को ………….. कहते हैं। यह प्रदर्शित करता है कि दूध एक ………… विलयन है।
6. विलयन एक …………….. मिश्रण होता है। (2018, 19)
7. बर्फ, जल और जल वाष्प के …………….. गुण समान होते हैं। (2018)
उत्तर:

  1. विषमांगी, अपकेन्द्रण,
  2. भौतिक, रासायनिक,
  3. जल, क्लोरोफॉर्म,
  4. प्रभाजी आसवन,
  5. प्रकीर्णन (फैलाने), टिण्डल प्रभाव, कोलॉइडली,
  6. समांगी,
  7. रासायनिक।

सही जोड़ी बनाना

स्तम्भ ‘A’                                                                   स्तम्भ ‘B’
1. अघुलनशील द्रवों का पृथक्करण                     (i) भौतिक परिवर्तन
2. डाई में रंगों को पृथक् करने में                       (ii) क्रिस्टलीकरण
3. मोमबत्ती का जलना                                      (iii) पृथक्करण कीप
4. विद्युत बल्ब का जलना                                   (iv) क्रोमेटोग्राफी
5. अशुद्ध नमूने से फिटकरी को शुद्ध करना        (v) रासायनिक परिवर्तन
उत्तर:

  1. → (iii)
  2. → (iv)
  3. → (v)
  4. → (i)
  5. → (ii).

MP Board Solutions

सत्य/असत्य कथन
1. जल में नमक का घोल निलम्बन होता है।
2. ऐरोसॉल एक कोलॉइडल विलयन का प्रकार होता है।
3. नमक एवं गंधक के मिश्रण को ऊर्ध्वपातन विधि से पृथक् करते हैं।
4. विलयन एक समांगी मिश्रण होता है।
5. काँच की बोतल का टूटना एक रासायनिक परिवर्तन होता है।
उत्तर:

  1. असत्य
  2. सत्य
  3. असत्य
  4. सत्य
  5. असत्य।

एक शब्द/वाक्य में उत्तर

प्रश्न 1.
एक ही प्रकार के कणों से बनने वाले पदार्थों को क्या कहते हैं ? (2019)
उत्तर:
शुद्ध पदार्थ।

प्रश्न 2.
उस यन्त्र का नाम बताइए जिसके द्वारा दूध से क्रीम को पृथक् किया जाता है।
उत्तर:
अपकेन्द्रीय यन्त्र।

प्रश्न 3.
नमक एवं आयोडीन के मिश्रण को पृथक् करने की विधि का नाम बताइए।
उत्तर:
ऊर्ध्वपातन।

प्रश्न 4.
आसुत जल को किस विधि से प्राप्त किया जाता है?
उत्तर:
आसवन विधि।

प्रश्न 5.
जब लोहे की छीलन को गंधक चूर्ण के साथ गरम किया जाता है तो एक काला यौगिक बनता है। इस क्रिया में कौन-सा परिवर्तन होता है?
उत्तर:
रासायनिक परिवर्तन।

MP Board Class 9th Science Chapter 2  अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
विलयन किसे कहते हैं ? उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
विलयन-“दो या दो से अधिक शुद्ध पदार्थों का समांगी मिश्रण विलयन कहलाता है।” उदाहरण-चीनी/नमक का जल में घोल, हवा (वायु), मिश्र धातुएँ।

प्रश्न 2.
ऊर्ध्वपातन से क्या समझते हो ? ऊर्ध्वपातज पदार्थों के उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
ऊर्ध्वपातन-“कछ ठोस पदार्थ गर्म करने पर बिना द्रव में बदले हए ही सीधे गैस अवस्था में परिवर्तित हो जाते हैं तथा ठण्डा करने पर गैस अवस्था से सीधे ठोस अवस्था में आ जाते हैं। यह प्रक्रिया ऊर्ध्वपातन कहलाती है।”
ऊर्ध्वपातज पदार्थों के उदाहरण-आयोडीन, कपूर आदि।

प्रश्न 3.
क्रोमेटोग्राफी से क्या समझते हो?
उत्तर:
क्रोमेटोग्राफी-“एक ऐसी विधि जिसका प्रयोग उन विलेय पदार्थों को पृथक् करने में होता है जो एक ही प्रकार के विलायक में घुले होते हैं, क्रोमेटोग्राफी कहलाती है।”

प्रश्न 4.
भौतिक परिवर्तन से क्या समझते हो?
उत्तर:
भौतिक परिवर्तन-“वे परिवर्तन जिनमें पदार्थ के भौतिक गुण तो बदल जाते हैं लेकिन रासायनिक गुणों में कोई परिवर्तन नहीं होता, भौतिक परिवर्तन कहलाते हैं।”

प्रश्न 5.
रासायनिक परिवर्तन किसे कहते हैं ?
उत्तर:
रासायनिक परिवर्तन-“वे परिवर्तन जिसमें पदार्थ के रासायनिक गुणों में आमूलचूल परिवर्तन हो .. जाता है तथा नया पदार्थ बनता है, रासायनिक परिवर्तन कहलाते हैं।”

प्रश्न 6.
मिश्रण से क्या समझते हो ?
उत्तर:
मिश्रण-“दो या दो से अधिक शुद्ध पदार्थों के अनिश्चित अनुपात में मिलने से बने पदार्थ जिनमें उनके अवयवों के गुण विद्यमान रहते हैं, मिश्रण कहलाते हैं।”

प्रश्न 7.
यौगिक किसे कहते हैं ?
उत्तर:
यौगिक-“दो या दो से अधिक तत्वों के निश्चित अनुपात में मिलने से बने पदार्थ जिनके गुण अपने अवयवी तत्वों के गुणों से सर्वथा भिन्न होते हैं, यौगिक कहलाते हैं।”

प्रश्न 8.
तत्व किसे कहते हैं ?
उत्तर:
तत्व-“एक ही प्रकार के परमाणुओं से बने पदार्थ तत्व कहलाते हैं।”

प्रश्न 9.
तत्वों को कितने वर्गों में वर्गीकृत किया जा सकता है ? उनके नाम लिखिए।
उत्तर:
तत्वों को तीन वर्गों में विभाजित किया जा सकता है (1) धातु, (2) उपधातु, (3) अधातु।

प्रश्न 10.
वाष्यन द्वारा नमक को उसके विलयन से पुनः प्राप्त किया जा सकता है। इसके लिए कोई अन्य तकनीक सुझाइए।
उत्तर:
नमक को उसके विलयन से पुनः प्राप्त करने के लिए दूसरी तकनीक आसवन विधि है। इसमें नमक के घोल को आसवन फ्लास्क में लेकर गर्म करते हैं। वाष्पन के बाद जल संघनित होकर ग्राहक में एकत्रित हो जाता है तथा नमक फ्लास्क में रह जाता है।

प्रश्न 11.
समुद्री जल को समांगी तथा साथ ही विषमांगी मिश्रण के रूप में भी वर्गीकृत किया जा सकता है। टिप्पणी कीजिए।
उत्तर:
समुद्री जल में घुलनशील लवण घुले रहते हैं इसलिए यह एक समांगी मिश्रण (विलयन) होता है लेकिन साथ ही इसमें कुछ अविलेय अशुद्धियाँ भी मिश्रित होती हैं इसलिए इसे विषमांगी मिश्रण के रूप में भी वर्गीकृत करते हैं।

प्रश्न 12.
नमक के विलयन को जल से तनु करते समय एक विद्यार्थी ने गलती से ऐसीटोन (क्वथनांक 56°C) मिला दिया है। ऐसीटोन को पुनः प्राप्त करने के लिए हम क्या तकनीक अपना सकते हैं ? अपने विकल्प का औचित्य दीजिए।
उत्तर:
ऐसीटोन को पुनः प्राप्त करने के लिए हम आसवन तकनीक को अपनाएँगे क्योंकि ऐसीटोन एवं नमक के विलयन के क्वथनांकों में 25°C से अधिक का अन्तर है। इसमें ऐसीटोन आसवित होकर ग्राहक पात्र में एकत्रित हो जायेगा तथा नमक का घोल अथवा आसवन फ्लास्क में बचा रह जायेगा।

MP Board Solutions

प्रश्न 13.
समझाइए अविक्षुब्ध अवस्था में कोलॉइडी विलयन के कण तल पर क्यों नहीं बैठते हैं, जबकि निलम्बन की स्थिति में ऐसा नहीं होता है ?
उत्तर:
कोलॉइडी विलयन एक स्थायी विलयन है तथा इसमें प्रक्षिप्त कण बहुत छोटे होते हैं जबकि निलम्बन अस्थायी होता है तथा इसके कण बड़े होते हैं इसलिए अविक्षुब्ध अवस्था में कोलॉइडी विलयन के कण तल पर नहीं बैठते जबकि निलम्बन के कण बैठ जाते हैं।

प्रश्न 14.
धुआँ तथा कोहरा दोनों एरोसॉल हैं। ये किस प्रकार भिन्न हैं ?
उत्तर:
धुंए में ठोस कण वायु में प्रक्षिप्त होते हैं जबकि एरोसॉल में द्रव के कण वायु में प्रक्षिप्त होते हैं। अर्थात् धुआँ ठोस का गैस में कोलॉइड तथा कोहरा द्रव का गैस में कोलॉइड होता है।

प्रश्न 15.
निम्नलिखित को भौतिक अथवा रासायनिक गुणों में वर्गीकृत कीजिए
(a) स्टील के एक नमूने का संघटन, 98% आयरन, 1.5% कार्बन तथा 0.5% अन्य तत्व हैं।
(b) जिंक, हाइड्रोजन गैस के निष्कासन के साथ हाइड्रोक्लोरिक अम्ल में घुलता है।
(c) धात्विक सोडियम पर्याप्त मुलायम होता है जिसे चाकू के द्वारा काटा जा सकता है।
(d) अधिकांश धातु ऑक्साइड, जल से अन्योन्य क्रिया कर क्षारक बनाते हैं।
उत्तर:
(a) भौतिक गुण,
(b) रासायनिक गुण,
(c) भौतिक गुण,
(d) रासायनिक गुण।

प्रश्न 16.
संलग्न चित्र में दो संघनित्र (a) एवं (b) दिए गए हैं। आसवन उपकरण में कौन-सी नली अधिक प्रभावी रहेगी?
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 6
उत्तर:
संघनित्र नली (a) अधिक प्रभावी रहेगी क्योंकि इसके अन्दर रुकावट होने से अधिक क्वथनांक का द्रव भी वाष्प संघनित होकर नीचे आ जायेगा। इसके द्वारा 25°C से कम अन्तर के क्वथनांकों वाले द्रवों को पृथक् किया जा सकता है।

प्रश्न 17.
आपको ‘A’ तथा ‘B’ चिह्नित जल के दो नमुने दिए गए हैं। नमूना ‘A’ 100°C पर उबलता है तथा नमूना ‘B’ 102°C पर उबलता है। जल का कौन-सा नमूना 0°C पर नहीं जमेगा? टिप्पणी कीजिए।
उत्तर:
जल का नमूना ‘B’ 0°C पर नहीं जमेगा क्योंकि यह अशुद्ध जल का नमूना है इसलिए 102°C पर उबलता है। अशुद्ध जल का गलनांक 0°C से कम होता है।

प्रश्न 18.
आभूषण बनाने के उद्देश्य से स्वर्ण में कॉपर अथवा सिल्वर को मिश्रित करने पर उसे क्या अनुकूल गुण प्राप्त होते हैं ?
उत्तर:
उसकी सुदृढ़ता और अधिक हो जाती है। इसलिए आभूषण मजबूत एवं टिकाऊ बनते हैं।

प्रश्न 19.
क्या हम पृथक्कारी कीप का उपयोग कर जल में घुलित ऐल्कोहॉल पृथक् कर सकते हैं ? यदि हाँ तो प्रक्रम का वर्णन कीजिए। यदि नहीं, तो समझाइए।
उत्तर:
पृथक् नहीं कर सकते क्योंकि पृथक्कारी कीप का उपयोग दो या अधिक अमिश्रण (अघुलनशील) द्रवों को पृथक् उनके मिश्रण से पृथक् करने में कर सकते हैं।

प्रश्न 20.
चुकन्दर तथा गन्ने से प्राप्त सुक्रोज (शक्कर) के क्रिस्टलों को मिश्रित किया गया है। क्या यह एक शुद्ध पदार्थ है अथवा मिश्रण ? इसका कारण दीजिए।
उत्तर:
उपर्युक्त मिश्रित पदार्थ शुद्ध पदार्थ हैं क्योंकि इसके अवयवों को सामान्य भौतिक तकनीक से पृथक् नहीं किया जा सकता।

MP Board Class 9th Science Chapter 2 लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
पृथक्करण तकनीक सुझाइए, जिसकी/जिनकी किसी व्यक्ति को निम्नलिखित मिश्रणों को . पृथक् करने हेतु आवश्यकता होगी
(a) पारा तथा जल,
(b) पोटैशियम क्लोराइड तथा अमोनियम क्लोराइड,
(c) सामान्य नमक, जल तथा रेत,
(d) कैरोसीन तेल, जल का नमक।
उत्तर:
(a) इस मिश्रण को पृथक करने के लिए पृथक्कारी कीप विधि या वाष्पन विधि या आसवन विधि का प्रयोग कर सकते हैं।
(b) मिश्रण को पृथक् करने के लिए ऊर्ध्वपातन विधि का प्रयोग करते हैं।
(c) मिश्रण को पहले छानते हैं, रेत अवशेष के रूप में तथा नमक का विलयन छनित के रूप में प्राप्त होता है जिसके वाष्पन से नमक मिल जाता है।
(a) पृथक्कारी कीप द्वारा नमक के घोल एवं कैरोसीन तेल को अलग करते हैं फिर नमक के घोल से वाष्पन द्वारा नमक पृथक् कर लेते हैं।

प्रश्न 2.
आप क्या प्रेक्षित करेंगे जब
(a) 60°C पर बने पोटैशियम क्लोराइड के एक संतृप्त विलयन को सामान्य ताप तक ठण्डा होने दिया जाता है।
(b) शक्कर के जलीय विलयन को शुष्कन तक गर्म किया जाता है।
(c) लोह छीलन तथा सल्फर के चूर्ण को तीव्र गर्म किया जाता है।
उत्तर:
(a) विलयन की तली में अतिरिक्त पोटैशियम क्लोराइड के कण एकत्रित हो जाते हैं।
(b) पात्र में ठोस शक्कर बच जाती है।
(c) काला पदार्थ लोह सल्फाइड बनता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
निम्नलिखित से सम्बन्धित प्रक्रम का नाम लिखिए
(a) शुष्क बर्फ को सामान्य तापमान तथा एक वायुमण्डलीय दाब पर रखा जाता है।
(b) एक गिलास में रखे जल की सतह पर स्याही की एक बूंद डालने पर वह जल में चारों ओर फैल जाती है।
(c) एक क्रिस्टल है, उसमें विलोडित करते हुए जल मिलाते हैं।
(d) ऐसीटोन की बोतल को खुला छोड़ने पर बोतल रिक्त हो जाती है।
(e) दूध से क्रीम निकालने के लिए इसका मंथन किया जाता है।
(f) रेत तथा जल के मिश्रण को कुछ समय के लिए अविक्षुब्ध अवस्था में छोड़ने पर रेत तली पर बैठ जाती है।
(g) अँधेरे कमरे में सूक्ष्म छिद्र से प्रवेश करती हुई महीन प्रकाश की किरण उसके पथ में उपस्थित कणों को प्रदीप्त कर देती है।
उत्तर:
(a) ऊर्ध्वपातन,
(b) विसरण,
(c) विसरण/विलयन,
(d) वाष्पन (वाष्पीकरण/विसरण),
(e) अपकेन्द्रण,
(f) तलछट या अवसादन,
(g) टिण्डल प्रभाव (प्रकाश का प्रकीर्णन)।

प्रश्न 4.
कैल्सियम कार्बोनेट गर्म किए जाने पर कैल्सियम ऑक्साइड तथा कार्बन डाइ-ऑक्साइड देता है।
(a) क्या यह एक भौतिक अथवा रासायनिक परिवर्तन है ?
(b) उपर्युक्त विधि से प्राप्त उत्पादों से क्या आप एक अम्लीय तथा एक क्षारकीय विलयन बना सकते हैं ? यदि हाँ, तो सम्बन्धित रासायनिक समीकरण दीजिए।
उत्तर:
(a) हाँ, यह एक रासायनिक परिवर्तन है।
(b) हाँ, हम प्राप्त उत्पादों से एक अम्लीय एवं एक क्षारकीय विलयन बना सकते हैं।

रासायनिक समीकरण-
CaO + H2O → Ca(OH)2 क्षारकीय
(कैल्शियम ऑक्साइड)
CO2 + H2O →  H2CO3 अम्लीय
(कार्बन डाइ-ऑक्साइड)

प्रश्न 5.
अधातुएँ सामान्यतः ऊष्मा तथा विद्युत की अल्पचालक होती हैं। ये चमकदार, ध्वानिक, आघातवर्धनीय नहीं होतीं परन्तु रंगीन होती हैं।
(a) एक चमकदार अधातु का नाम दीजिए।
(b) सामान्य ताप पर द्रव के रूप में उपस्थित एक अधातु का नाम दीजिए।
(c) एक अधातु का अपररूप विद्युत का सुचालक है। अपररूप का नाम दीजिए।
(d) एक अधातु का नाम दीजिए जिसको सर्वाधिक यौगिक बनाने के रूप में जाना जाता है।
(e) कार्बन के अतिरिक्त अपररूपता दर्शाने वाले एक अधातु का नाम दीजिए।
(f) दहन के लिए आवश्यक एक अधातु का नाम दीजिए।
उत्तर:
(a) आयोडीन,
(b) ब्रोमीन,
(c) ग्रेफाइट,
(d) कार्बन,
(e) सल्फर,
(f) ऑक्सीजन।

प्रश्न 6.
निम्न पदार्थों को तत्वों, मिश्रणों तथा यौगिकों में वर्गीकृत कीजिए-
Cu, रेत, H2O, CaCO3, NaCltaan, Zn, O2, लकड़ी, F2, Hg, हीरा।
उत्तर:
तत्व – Cu, Zn, O2, F2, Hg, हीरा।
मिश्रण – रेत, NaCl(aq), लकड़ी।
यौगिक – H2O, CaCO3.

प्रश्न 7.
निम्नलिखित में से कौन यौगिक नहीं है ?
(a) क्लोरीन गैस,
(b) पोटैशियम क्लोराइड,
(c) आयरन,
(d) आयरन सल्फाइड,
(e) ऐलुमीनियम,
(f) आयोडीन,
(g) कार्बन,
(h) कार्बन मोनोऑक्साइड,
(i) सल्फर चूर्ण।
उत्तर:
पदार्थ जो यौगिक नहीं हैं-

(a) क्लोरीन गैस,
(c) आयरन,
(e) ऐलुमीनियम,
(f) आयोडीन,
(g) कार्बन,
(i) सल्फर चूर्ण।

प्रश्न 8.
निम्नलिखित में से प्रत्येक को भौतिक एवं रासायनिक परिवर्तन के रूप में वर्गीकृत कीजिए
(a) धूप में शर्ट का सूखना,
(b) रेडियेटर के ऊपर गर्म वायु का उठना,
(c) लालटेन में कैरोसीन का जलना,
(d) नींबू रस मिलाने पर काली चाय का रंग परिवर्तित होना,
(e) मक्खन प्राप्त करने के लिए दूध, क्रीम का मंथन।
उत्तर:
भौतिक परिवर्तन – (a), (b) एवं (e)।
रासायनिक परिवर्तन – (c) एवं (d)।

प्रश्न 9.
एक तत्व अत्यधिक ध्वनिक तथा अत्यधिक तन्य है। आप इस तत्व को किस श्रेणी में वर्गीकृत करेंगे? इस तत्व में आप अन्य किन अभिलक्षणों के पाये जाने की आशा करते हैं ?
उत्तर:
इस तत्व को धातु तत्व की श्रेणी में वर्गीकृत करेंगे।

इस तत्व के अन्य अभिलक्षण –

  1. यह आघातवर्धनीय है अर्थात् इसको पीटकर महीन चादरों में दाला जा सकता है।
  2. यह ऊष्मा एवं विद्युत का सुचालक है।
  3. यह चमकीला है।

प्रश्न 10.
आपके परिवेश में प्रेक्षित टिण्डल प्रभाव के कुछ उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
टिण्डल प्रभाव के उदाहरण

  1. किसी छेद में या रोशनदान से जब सूर्य की किरणे कमरे में प्रवेश करती हैं तो एक प्रकाशपुंज दिखाई देता है।
  2. अँधेरे में जब टॉर्च की रोशनी वायु में डाली जाती है तो वायु में टॉर्च की रोशनी का पथ चमकता दिखाई देता है।
  3. रात्रि को वाहन की हेडलाइट की रोशनी से टिण्डल प्रभाव दिखाई देता है।

प्रश्न 11.
(a) मिश्र धातु को आप किस वर्ग के अन्तर्गत वर्गीकृत करेंगे तथा क्यों ?
(b) एक विलयन हमेशा द्रव होता है। टिप्पणी कीजिए।
(c) क्या एक विलयन विषमांगी हो सकता है ?
उत्तर:
(a) मिश्र धातु को हम विलयन (समांगी मिश्रण) वर्ग के अन्तर्गत वर्गीकृत करेंगे क्योंकि इसका संघटन सर्वत्र समान है।
(b) नहीं, क्योंकि ठोस विलयन (मिश्र धातुएँ) तथा गैसीय विलयन (वायु) सम्भव हैं।
(c) नहीं, क्योंकि विलयन दो या अधिक पदार्थों का समांगी मिश्रण है।

प्रश्न 12.
लोह छीलन तथा सल्फर को आपस में मिश्रित कर ‘A’ तथा ‘B’ दो भागों में बाँटा गया। भाग ‘A’ को तेज गर्म किया गया जबकि भाग ‘B’ को गर्म नहीं किया गया। दोनों भागों में हाइड्रोक्लोरिक अम्ल मिलाया गया। दोनों परिस्थितियों में गैस निकली। इन उत्सर्जित गैसों को आप कैसे पहचानेंगे ?
उत्तर:
भाग ‘A’ को तीव्र गर्म करने पर आयरन सल्फाइड बनता है जो हाइड्रोक्लोरिक अम्ल से क्रिया करके रंगहीन सड़े हुए अण्डों की गन्ध वाली हाइड्रोजन सल्फाइड गैस निकालता है जबकि ‘B’ में लोह छीलन होती है जो हाइड्रोक्लोरिक अम्ल से क्रिया करके रंगहीन, गंधहीन हाइड्रोजन गैस निकालती है।
इस प्रकार गंध के आधार पर दोनों गैसों की पहचान करेंगे।

प्रश्न 13.
स्याही को निर्मित करने वाले रंजकों के एक मिश्रण को एक बालक पृथक् करना चाहता है। उसने छन्ना पत्र पर स्याही से एक पंक्ति चिह्नित की तथा जल युक्त काँच के जार में छन्ना पत्र को चित्रानुसार रखा। छन्ना पत्र के शीर्ष के निकट जल पहुँचने पर छन्न पत्रक छन्ना पत्र को बाहर निकालना।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 7
(i) आप क्या देखने की आशा करते हैं, यदि स्याही तीन भिन्न रंगीन यौगिक रखती है।
(ii) बालक द्वारा प्रयोग में ली गयी तकनीक का नाम दीजिए।
(iii) इस तकनीक का एक अन्य अनुप्रयोग दीजिए।
उत्तर:
(i) हम छन्ना पत्र पर हम विभिन्न तीन रंगों के धब्बे देखते हैं।
(ii) बालक द्वारा प्रयोग की गई तकनीक क्रोमेटोग्राफी है।
(iii) रक्त से नशीले पदार्थों (Drugs) को पृथक् करने में इस तकनीक का प्रयोग किया जाता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 14.
विद्यार्थियों के एक समूह ने जूते का एक पुराना डिब्बा लिया तथा इसके सभी पार्श्व काले कागज से ढक दिए। इस बॉक्स में एक छिद्र बनाकर एक प्रकाश स्रोत (टॉर्च) लगा दिया तथा दूसरे पार्श्व पर प्रकाश को देखने के लिए एक अन्य छिद्र किया। उन्होंने चित्रानुसार दूध के नमूने को एक बीकर (काँच के पात्र) में लेकर बक्से में रखा। उन्हें यह देखकर आश्चर्य हुआ कि बीकर में लिया गया दूध प्रदीप्त करता है। उन्होंने इसी क्रिया-कलाप को नमक का विलयन लेकर करने का प्रयास किया परन्तु पाया कि प्रकाश इसमें से सामान्य रूप से निकल गया।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 8
(a) समझाइए दूध क्यों प्रदीप्त हुआ ? इस परिघटना का नाम दीजिए।
(b) नमक के विलयन से समान परिणाम प्रेक्षित नहीं हुए, समझाइए।
(c) क्या आप दूध के विलयन द्वारा दर्शाए गए प्रभाव के समान प्रदर्शित करने वाले दो अन्य विलयनों के नाम सुझा सकते हैं ?
उत्तर:
(a) दूध एक कोलॉइडली विलयन है जिसके कण प्रकाश को फैलाने की प्रवृत्ति रखते हैं इसलिए दूध प्रदीप्त हुआ। इस परिघटना का नाम टिण्डल प्रभाव है।
(b) नमक का विलयन शुद्ध विलयन है जो टिण्डल प्रभाव का गुण नहीं रखता इसलिए समान परिणाम प्रेक्षित नहीं हुए।
(c) कोहरा, धुआँ।

प्रश्न 15.
एक प्रयोग के दौरान विद्यार्थियों को जल में शक्कर का विलयन 10% (द्रव्यमान प्रतिशत) बनाने के लिए कहा गया। रमेश ने 10g शक्कर को 100 g जल में घोला जबकि सारिका ने 10g शक्कर को जल में घोलकर 100 g विलयन बनाया।
(a) क्या दोनों विलयन समान सान्द्रता के हैं ?
(b) दोनों विलयनों के भार प्रतिशत की तुलना कीजिए।
उत्तर:
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 9
(a) दोनों के विलयनों की सान्द्रता समान नहीं है।
(b) रमेश के विलयन की सान्द्रता = 9.09% है जबकि सारिका के विलयन की सान्द्रता = 10% है। इस प्रकार सारिका के विलयन की सान्द्रता अभीष्ट है।

प्रश्न 16.
100g जल में 20% (द्रव्यमान प्रतिशत) विलयन बनाने के लिए आवश्यक सोडियम सल्फेट के द्रव्यमान का परिकलन कीजिए।
हल:
मान लीजिए आवश्यक सोडियम सल्फेट का द्रव्यमान = x g
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 10
⇒ 100x = 20x + 2,000
⇒ 80x = 2,000
⇒ x = 25g
अत: सोडियम सल्फेट का अभीष्ट द्रव्यमान = 25g

प्रश्न 17.
मिश्रण एवं यौगिक में अन्तर स्पष्ट कीजिए। (2019)
उत्तर:
मिश्रण एवं यौगिक में अन्तर
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 11

प्रश्न 18.
एक अध्यापक ने तीन A, B तथा C विद्यार्थियों को 50% (द्रव्यमान-आयतन द्वारा) सोडियम हाइड्रॉक्साइड (NaOH) विलयन बनाने के लिए निर्देशित किया। A में 50g NaOH को 100 ml जल में घोला, B ने 50 g NaOH को 100 g जल में घोला जबकि ‘C’ ने 50 g NaOH को जल में घोलकर 100 ml विलयन बनाया। उनमें से किसने वांछित विलयन बनाया और क्यों ?
उत्तर:
किसी विलयन की सान्द्रता द्रव्यमान-आयतन प्रतिशत में निकालने के लिए विलेय का द्रव्यमान एवं विलयन का आयतन चाहिए लेकिन ‘A’ के विलयन में विलायक का आयतन 100 ml तथा ‘B’ के विलयन में विलायक का द्रव्यमान 100 g दिया है तथा दोनों के विलयनों में विलेय का द्रव्यमान 50g है। अतः इनके विलयन वांछित सान्द्रता के विलयन नहीं हैं।

C ने अपने विलयन बनाने में विलेय का द्रव्यमान 50g तथा तैयार विलयन का आयतन 100 ml लिया है अत: C ने वांछित सान्द्रता 50% (द्रव्यमान-आयतन प्रतिशत) का विलयन बनाया।

प्रश्न 19.
समांगी मिश्रण एवं विषमांगी मिश्रण को उदाहरण सहित समझाइए। (2019)
उत्तर:
समांगी मिश्रण – समांगी मिश्रण की बनावट प्रत्येक स्थान पर समान होती है।
उदाहरण –  नमक या चीनी का जल में विलयन, मिश्र धातु, हवा।

विषमांगी मिश्रण – विषमांगी मिश्रण के अंश भौतिक दृष्टि से पृथक् होते हैं।
उदाहरण – नमक और लोहे की छीलन का मिश्रण, जल एवं तेल का मिश्रण।

MP Board Class 9th Science Chapter 2 दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
निम्नलिखित अभिलक्षणों वाले प्रत्येक मिश्रण का एक उदाहरण दीजिए। इन मिश्रण के अवयवों को पृथक् करने की एक उपयुक्त विधि सुझाइए।
(a) एक वाष्पशील एवं एक अवाष्पशील अवयव।
(b) क्वथनांकों में पर्याप्त अन्तर रखने वाले दो वाष्पशील अवयव।
(c) दो अमिश्रणीय द्रव।
(d) अवयवों में से एक जो ठोस से सीधे गैसीय अवस्था में परिवर्तित हो।
(e) किसी विलायक में घुले दो या दो से अधिक रंगीन अवयव।
उत्तर:
वांछित मिश्रणों के उदाहरण एवं उनके पृथक्करण की विधियाँ
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 12

प्रश्न 2.
क्वथनांक में 25 K अथवा उससे कम अन्तर वाले मिश्रणीय द्रवों को पृथक् करने के लिए प्रयुक्त विधि प्रभाजी आसवन है। प्रभाजी आसवन के उपकरण का कौन-सा भाग इसे दक्ष बनाता है तथा सामान्य आसवन से अधिक प्रभावशाली है। चित्र बनाकर समझाइए।
उत्तर:
प्रभाजी आसवन के उपकरण का प्रभाजी कॉलम इसे दक्ष बनाता है क्योंकि इसके अन्दर शीशे के गुटके भरे होते हैं जो वाष्प को ठण्डा और संघनित होने के लिए सतह प्रदान करते हैं।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 13

प्रश्न 3.
आपको रेत, लोह छीलन, अमोनियम क्लोराइड तथा सोडियम क्लोराइड युक्त मिश्रण दिया गया है। इस मिश्रण से इन अवयवों को पृथक् करने के लिए प्रयुक्त प्रक्रियाओं का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
दिए मिश्रण के अवयवों को पृथक् करने की प्रक्रिया

  1. सर्वप्रथम मिश्रण को एक पात्र में रखकर उसमें चुम्बक घुमाते हैं इससे लोह छीलन पृथक् हो जाती है। उसे चुम्बक से पृथक् करके अलग रख लेते हैं।
  2. मिश्रण में से ऊर्ध्वपातन की प्रक्रिया द्वारा ऊर्ध्वपाती अमोनियम क्लोराइड को पृथक कर लेते हैं।
  3. शेष मिश्रण को जल में घोलते हैं जिससे सोडियम क्लोराइड जल में घुलनशील होने के कारण घुल जाता है तथा रेत नीचे बैठ जाता है।
  4. इस विलयन को फिल्टर पेपर से छानते हैं तो रेत फिल्टर पेपर पर ऊपर अवशेष के रूप में बचता है। नमक (सोडियम क्लोराइड) का विलयन फिल्ट्रेट के रूप में बीकर में एकत्रित हो जाता है।
  5. सोडियम क्लोराइड के विलयन को गर्म करते हैं जिससे जल वाष्पीकृत होकर उड़ जाता है तथा सोडियम क्लोराइड शेष रह जाता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 4.
आपके अध्यापक द्वारा आपको नैफ्थलीन तथा अमोनियम क्लोराइड का मिश्रण दिया गया है। इसको पृथक करने की प्रक्रिया को नामांकित चित्र सहित सुझाइए।
अथवा
नैफ्थलीन और अमोनियम क्लोराइड के मिश्रण को पृथक करने की प्रक्रिया को सचित्र समझाइए। (2019)
उत्तर:
नैफ्थलीन एवं अमोनियम क्लोराइड के मिश्रण को पृथक् करना-अमोनियम क्लोराइड जल में विलेय होता है तथा नैफ्थलीन अविलेय (अघुलनशील) मिश्रण को एक बीकर में पानी में घोल लेते हैं जिससे अमोनियम क्लोराइड तो घुल जाता है लेकिन नैफ्थलीन नहीं घुलता। मिश्रण को छन्नक पत्र (फिल्टर पेपर) से चित्रानुसार उपकरण तैयार करके छान लेते हैं। इससे अमोनियम क्लोराइड का विलयन नीचे बीकर में एकत्रित हो जाता है तथा नैफ्थलीन अवशेष के रूप में फिल्टर पेपर पर एकत्रित हो जाता है।
MP Board Class 9th Science Solutions Chapter 2 क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध हैं image 14
अमोनियम क्लोराइड के विलयन का वाष्पन करके ठोस अमोनियम क्लोराइड प्राप्त कर लेते हैं।

MP Board Class 9th Science Solutions