MP Board Class 12th Maths Solutions गणित

MP Board Class 12th Maths Solutions Guide Pdf Free Download गणित in both Hindi Medium and English Medium are part of MP Board Class 12th Solutions. Here we have given NCERT Solutions of Madhya Pradesh Syllabus MP Board Class 12 Maths Book Solutions Ganit Pdf.

Students can also download MP Board 12th Model Papers to help you to revise the complete Syllabus and score more marks in your examinations.

MP Board Class 12th Maths Book Solutions in Hindi Medium

MP Board Class 12th Maths Chapter 1 संबंध एवं फलन

MP Board Class 12th Maths Chapter 2 प्रतिलोम त्रिकोणमितीय फलन

MP Board Class 12th Maths Chapter 3 आव्यूह

MP Board Class 12th Maths Chapter 4 सारणिक

MP Board Class 12th Maths Chapter 5 सांतत्य तथा अवकलनीयता

MP Board Class 12th Maths Chapter 6 अवकलज के अनुप्रयोग

MP Board Class 12th Maths Chapter 7 समाकलन

MP Board Class 12th Maths Chapter 8 समाकलनों के अनुप्रयोग

MP Board Class 12th Maths Chapter 9 अवकल समीकरण

MP Board Class 12th Maths Chapter 10 सदिश बीजगणित

MP Board Class 12th Maths Chapter 11 त्रि-विमीय ज्यामिति

MP Board Class 12th Maths Chapter 12 रैखिक प्रोग्रामन

MP Board Class 12th Maths Chapter 13 प्रायिकता

MP Board Class 12th Maths Book Solutions in English Medium

MP Board Class 12th Maths Chapter 1 Relations and Functions

  • Chapter 1 Relations and Functions Ex 1.1
  • Chapter 1 Relations and Functions Ex 1.2
  • Chapter 1 Relations and Functions Ex 1.3
  • Chapter 1 Relations and Functions Ex 1.4
  • Chapter 1 Relations and Functions Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 2 Inverse Trigonometric Functions

  • Chapter 2 Inverse Trigonometric Functions Ex 2.1
  • Chapter 2 Inverse Trigonometric Functions Ex 2.2
  • Chapter 2 Inverse Trigonometric Functions Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 3 Matrices

  • Chapter 3 Matrices Ex 3.1
  • Chapter 3 Matrices Ex 3.2
  • Chapter 3 Matrices Ex 3.3
  • Chapter 3 Matrices Ex 3.4
  • Chapter 3 Matrices Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 4 Determinants

  • Chapter 4 Determinants Ex 4.1
  • Chapter 4 Determinants Ex 4.2
  • Chapter 4 Determinants Ex 4.3
  • Chapter 4 Determinants Ex 4.4
  • Chapter 4 Determinants Ex 4.5
  • Chapter 4 Determinants Ex 4.6
  • Chapter 4 Determinants Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 5 Continuity and Differentiability

  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Ex 5.1
  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Ex 5.2
  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Ex 5.3
  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Ex 5.4
  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Ex 5.5
  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Ex 5.6
  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Ex 5.7
  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Ex 5.8
  • Chapter 5 Continuity and Differentiability Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 6 Application of Derivatives

  • Chapter 6 Application of Derivatives Ex 6.1
  • Chapter 6 Application of Derivatives Ex 6.2
  • Chapter 6 Application of Derivatives Ex 6.3
  • Chapter 6 Application of Derivatives Ex 6.4
  • Chapter 6 Application of Derivatives Ex 6.5
  • Chapter 6 Application of Derivatives Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 7 Integrals

  • Chapter 7 Integrals Ex 7.1
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.2
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.3
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.4
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.5
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.6
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.7
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.8
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.9
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.10
  • Chapter 7 Integrals Ex 7.11
  • Chapter 7 Integrals Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 8 Application of Integrals

  • Chapter 8 Application of Integrals Ex 8.1
  • Chapter 8 Application of Integrals Ex 8.2
  • Chapter 8 Application of Integrals Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 9 Differential Equations

  • Chapter 9 Differential Equations Ex 9.1
  • Chapter 9 Differential Equations Ex 9.2
  • Chapter 9 Differential Equations Ex 9.3
  • Chapter 9 Differential Equations Ex 9.4
  • Chapter 9 Differential Equations Ex 9.5
  • Chapter 9 Differential Equations Ex 9.6
  • Chapter 9 Differential Equations Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 10 Vector Algebra

  • Chapter 10 Vector Algebra Ex 10.1
  • Chapter 10 Vector Algebra Ex 10.2
  • Chapter 10 Vector Algebra Ex 10.3
  • Chapter 10 Vector Algebra Ex 10.4
  • Chapter 10 Vector Algebra Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 11 Three Dimensional Geometry

  • Chapter 11 Three Dimensional Geometry Ex 11.1
  • Chapter 11 Three Dimensional Geometry Ex 11.2
  • Chapter 11 Three Dimensional Geometry Ex 11.3
  • Chapter 11 Three Dimensional Geometry Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 12 Linear Programming

  • Chapter 12 Linear Programming Ex 12.1
  • Chapter 12 Linear Programming Ex 12.2
  • Chapter 12 Linear Programming Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Chapter 13 Probability

  • Chapter 13 Probability Ex 13.1
  • Chapter 13 Probability Ex 13.2
  • Chapter 13 Probability Ex 13.3
  • Chapter 13 Probability Ex 13.4
  • Chapter 13 Probability Ex 13.5
  • Chapter 13 Probability Miscellaneous Exercise

MP Board Class 12th Maths Syllabus and Marking Scheme

Latest Syllabus and Marks Distribution Maths Class XII for the academic year 2019 – 2020 Year Examination.

Maths
Class XII

Time : 3 Hours.
Maximum Marks: 100

Unit Wise Division of Marks

Unit Topics Periods Marks
I. Relations and Functions 30 10
II. Algebra 50 13
III. Calculus 80 44
IV. Vectors and Three-dimensional Geometry 30 17
V. Linear Programming 20 06
VI. Probability ‘ 30 10
Total 240 100

Unit I: Relations and Functions

1. Relations and Functions
Types of relations: reflexive, symmetric, transitive and equivalence relations. One to one and onto functions, composite functions, inverse of a function. Binary operations.

2. Inverse Trigonometric Functions
Definition, range, domain, principal value branch. Graphs of inverse trigonometric functions. Elementary properties of inverse trigonometric functions.

Unit II: Algebra

3. Matrices
Concept, notation, order, equality, types of matrices, zero and identity matrix, transpose of a matrix, symmetric and skew symmetric matrices. Operation on matrices: Addition and multiplication and multiplication with a scalar. Simple properties of addition, multiplication and scalar multiplication. Noncommutativity of multiplication of matrices and existence of non-zero matrices whose product is the zero matrix (restrict to square matrices of order 2). Concept of elementary row and column operations. Invertible matrices and proof of the uniqueness of inverse, if it exists; (Here all matrices will have real entries).

4. Determinants
Determinant of a square matrix (up to 3 x 3 matrices), properties of determinants, minors, co-factors and applications of determinants in finding the area of a triangle. Adjoint and inverse of a square matrix. Consistency, inconsistency and number of solutions of system of linear equations by examples, solving system of linear equations in two or three variables (having unique solution) using inverse of a matrix.

Unit III: Calculus

5. Continuity and Differentiability
Continuity and differentiability, derivative of composite functions, chain rule, derivatives of inverse trigonometric functions, derivative of implicit functions. Concept of exponential and logarithmic functions.
Derivatives of logarithmic and exponential functions. Logarithmic differentiation, derivative of functions expressed in parametric forms. Second order derivatives. Rolle’s and Lagrange’s Mean Value Theorems (without proof) and their geometric interpretation.

6. Applications of Derivatives
Applications of derivatives: rate of change of bodies, increasing/decreasing functions, tangents and normals, use of derivatives in approximation, maxima and minima (first derivative test motivated geometrically and second derivative test given as a provable tool). Simple problems (that illustrate basic principles and understanding of the subject as well as real-life situations).

7. Integrals
Integration as inverse process of differentiation.Integration of a variety of functions by substitution, by partial fractions and by parts, Evaluation of simple integrals of the following types and problems based on them.
Definite integrals as a limit of a sum, Fundamental Theorem of Calculus (without proof). Basic properties of definite integrals and evaluation of definite integrals.

8. Applications of the Integrals
Applications in finding the area under simple curves, especially lines, circles/parabolas/ellipses (in standard form only), Area between any of the two above said curves (the region should be clearly identifiable).

9. Differential Equations
Definition, order and degree, general and particular solutions of a differential equation.Formation of differential equation whose general solution is given. Solution of differential equations by method of separation of variables solutions of homogeneous differential equations of first order and first degree. Solutions of linear differential equation of the type:
dy/dx + py = q, where p and q are functions of x or constants.
dx/dy + px = q, where p and q are functions of y or constants.

Unit IV: Vectors and Three-Dimensional Geometry

10. Vectors
Vectors and scalars, magnitude and direction of a vector.Direction cosines and direction ratios of a vector. Types of vectors (equal, unit, zero, parallel and collinear vectors), position vector of a point, negative of a vector, components of a vector, addition of vectors, multiplication of a vector by a scalar, position vector of a point dividing a line segment in a given ratio. Definition, Geometrical Interpretation, properties and application of scalar (dot) product of vectors, vector (cross) product of vectors, scalar triple product of vectors.

11. Three – dimensional Geometry
Direction cosines and direction ratios of a line joining two points.Cartesian equation and vector equation of a line, coplanar and skew lines, shortest distance between two lines.Cartesian and vector equation of a plane. Angle between (i) two lines, (ii) two planes, (iii) a line and a plane. Distance of a point from a plane.

Unit V: Linear Programming

12. Linear Programming
Introduction, related terminology such as constraints, objective function, optimization, different types of linear programming (L.P.) problems, mathematical formulation of L.P. problems, graphical method of solution for problems in two variables, feasible and infeasible regions (bounded and unbounded), feasible and infeasible solutions, optimal feasible solutions (up to three non-trivial constraints).

Unit VI: Probability

13. Probability
Conditional probability, multiplication theorem on probability. independent events, total probability, Baye’s theorem, Random variable and its probability distribution, mean and variance of random variable. Repeated independent (Bernoulli) trials and Binomial distribution.

We hope the given MP Board Class 12th Maths Solutions Guide Pdf Free Download गणित in both Hindi Medium and English Medium will help you. If you have any queries regarding NCERT Madhya Pradesh Syllabus MP Board Class 12 Maths Book Solutions Ganit Pdf, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

MP Board Class 12th Chemistry Solutions रसायन विज्ञान

MP Board Class 12th Chemistry Solutions Guide Pdf Free Download रसायन विज्ञान in both Hindi Medium and English Medium are part of MP Board Class 12th Solutions. Here we have given Madhya Pradesh Syllabus NCERT Solutions for Class 12 Chemistry Book Solutions Rasayan Vigyan Pdf.

Students can also download MP Board 12th Model Papers to help you to revise the complete Syllabus and score more marks in your examinations.

MP Board Class 12th Chemistry Book Solutions in Hindi Medium

MP Board Class 12th Chemistry Book Solutions in English Medium

MP Board Class 12th Chemistry Syllabus and Marking Scheme

Latest Syllabus and Marks Distribution Chemistry Class XII for the academic year 2019 – 2020 Year Examination.

Chemistry
Class XII

Time : 3 Hours.
Maximum Marks: 70

Unit Wise Division of Marks

MP Board Class 12th Chemistry Syllabus and Marking Scheme

MP Board Class 12th Chemistry Syllabus and Marking Scheme

1. Solid State
Classification of solids based on different binding forces : Molecular, ionic, covalent and metallic solids, amorphous and crystalline solids (elementary idea). Unit cell in two-dimensional and three-dimensional lattices, calculation of density of unit cell, packing in solids, packing efficiency, voids, number of atoms per unit cell in a cubic unit cell, point defects, electrical and magnetic properties. Band theory of metals, conductors, semiconductors and insulators and n and p type semiconductors.

2. Solutions
Types of solutions, expression of concentration of solutions of solids in liquids, solubility of gases in liquids, solid solutions, colligative properties : Relative lowering of vapour pressure, Raoult’s law, elevation in boiling point, depression in freezing point, osmotic pressure, determination of molecular masses using colligative properties, abnormal molecular mass, van’t Hoff factor.

3. Electrochemistry
Redox reactions, conductance in electrolytic solutions, specific and molar con-ductivity, variations of conductivity with concentration, Kohlrausch’s law, elec-trolysis and law of electrolysis (elementary idea), dry cell- electrolytic cells and Galvanic cells; lead accumulator, EMF of a cell, standard electrode potential, Nemst equation and its application to chemical cells, Relation between Gibbs energy change and EMF of a cell, fuel cells, corrosion.

4. Chemical Kinetics
Rate of a reaction (Average and instantaneous), factors affecting rate of reaction : concentration, temperature, catalyst; order and molecularity of a reaction, rate law and specific rate constant, integrated rate equations and half-life (only for zero and first order reactions); concept of collision theory (elementary idea, no mathematical treatment). Activation energy, Arrhenius equation. Surface Chemistry

5. Adsorption : Physisorption and chemisorption, factors affecting adsorption of gases on solids.
Catalysis: Homogeneous and heterogeneous, activity and selectivity; enzyme catalysis.
Colloidal state : Distinction between true solutions, colloids and suspension; lyophilic, lyophobic, multimolecular and macromolecular colloids; properties of colloids; Tyndall effect, Brownian movement, electrophoresis, coagulation. Emulsion : Types of emulsions.

6. General Principles and Processes of Isolation of Elements
Principle and methods of extraction; concentration, oxidation, reduction, elec-trolytic method and refining, occurrence and principles of extraction of aluminium, copper, zinc and iron.

7. p-block Elements
Group-15 elements : General indroduction, electronic configuration, occurrence, oxidation states, trends in physical and chemical properties; Nitrogen : Preparation, properties and uses; compounds of nitrogen, preparation and properties of ammonia and nitric acid, oxides of nitrogen (structure only); Phosphorus : Allotropic forms; compounds of phosphorus preparation and properties of phosphine, halides (PC13, PC15) and oxo-acids (elementary idea only).
Group-16 elements : General introduction, electronic configuration, oxidation states, occurrence, trends in physical and chemical properties; Dioxygen; preparation, properties and uses; classification of oxides; ozone, Sulphur: allotropic forms; compounds of sulphur; preparation, properties and uses of sulphur dioxide; sulphuric acid, industrial process of manufacture, properties and uses, oxo-acids of sulphur (structures only).
Group-17 elements : General introduction, electronic configuration, oxidation states, occurrence, trends in physical and chemical properties; compounds of halogens; preparation, properties and uses of chlorine, hydrochloric acid and interhalogen compounds, oxo-acids of halogens (structures only). Group-18 elements : General introduction, electronic configuration, occurrence, trends in physical ahd chemical properties, uses.

8. d- and f-block Elements
General introduction, electronic configuration, occurrence and characteristics of transition metals, general trends in properties of the first row transition metals : metallic character, ionization enthalpy, oxidation states, ionic radii, colour, catalytic property, magnetic properties, interstitial compounds, alloy formation, preparation and properties of K2Cr207 and KMn04.
Lanthanoids : Electronic configuration, oxidation states, chemical reactivity and lanthanoid contraction and its consequences.
Actinoids : Electronic configuration, oxidation states and comparison with lanthanoids.

9. Co-ordination Compounds
Co-ordination compounds : Introduction, ligands, co-ordination number, colour, magnetic properties and shapes. IUPAC nomenclature of mononuclear co-ordination compounds. Bonding; Werner’s theory, VBT and CFT structure and stereo-isomerism, importance of co-ordination compounds (in qualitative inclusion, extraction of metals and biological system).

10. Haloalkanes and Haloarenes
Haloalkanes : Nomenclature, nature of C—X bond, physical and chemical properties, mechanism of substitution reactions, optical rotation.
Haloarenes : Nature of C—X bond, substitution reactions (Directive influence of halogen in monosubstituted compounds only). Uses and environmental effects of dichloromethane, trichloromethane, tetrachloromethane, iodoform, freons, DDT.

11. Alcohols, Phenols and Ethers
Alcohols: Nomenclature, methods of preparation, physical and chemical prop-erties of (primary alcohols only); identification of primary, secondary and tertiary alcohols; mechanism of dehydration, uses with special reference to methanol and ethanol.
Phenols : Nomenclature; methods of preparation, physical and chemical prop-erties, acidic nature of phenol, electrophilic substitution reactions, uses of phenols.
Ethers : Nomenclature; methods of preparation, physical and chemical properties, uses.

12. Aldehydes, Ketones and Carboxylic Acids
Aldehydes and Ketones : Nomenclature, nature of carbonyl group, methods of preparation, physical and chemical properties, mechanism of nucleophilic ad-dition, reactivity of alpha hydrogen in aldehydes; uses.
Carboxylic acids: Nomenclature, acidic nature, methods of preparation, physical and chemical properties; uses.

13. Organic Compounds Containing Nitrogen.
Amines: Nomenclature, classification, structure, methods of preparation, physical and chemical properties, uses, identification of primary, secondary and tertiary amines.
Cyanides and isocyanides : will be mentioned at relevant places in context. Diazonium salts: Preparation, chemical reactions and importance in synthetic organic chemistry.

14. Bio-molecules
Carbohydrates : Classification (aldoses and ketoses), monosaccharides (glucose and fructose), D-L configuration, oligosaccharides (sucrose, lactose, maltose), polysaccharides (starch, cellulose, glycogen); importance.
Proteins : Elementary idea of -amino acids, peptide bond, polypeptides, proteins, structure of proteins : primary, secondary, tertiary and quaternary structures (qualitative idea only), denaturation of proteins, enzymes. Hormones : elementary idea excluding structure.
Vitamins : Classification and functions.
Nucleic acids : DNA and RNA.

15. Polymers
Classification : Natural and synthetic, methods of polymerization (addition and condensation), copolymerization, some important polymers : Natural and synthetic like polythene, nylon, polyesters, bakelite, rubber. Biodegradable and non-biodegradable polymers.

16. Chemistry in Everyday Life
Chemicals in medjcines : Analgesics, tranquilizers, antiseptics, disinfectants, antimicrobials, antifertility drugs, antibiotics, antacids, antihistamines. Chemicals in food : Preservatives, artificial sweetening agents, elementaiy idea of antioxidants.
Cleansing agents : Soaps and detergents, cleansing action.

We hope the given MP Board Class 12th Chemistry Solutions Guide Pdf Free Download रसायन विज्ञान in both Hindi Medium and English Medium will help you. If you have any query regarding Madhya Pradesh Syllabus MP Board Class 12 Chemistry Book Solutions Rasayan Vigyan Pdf, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry

MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry

Electrochemistry NCERT Intext Exercises

Electrochemistry Class 12 NCERT Solutions help to score more marks.

Question 1.
How would you determine the standard electrode potential of the system Mg2+ | Mg ?
Answer:
The standard electrode potential of the system Mg2+/ Mg can be determined as explained below. Prepare Mg2+/ Mg system by dipping Mg rod in a solution of Mg2+ ions and connect it to standard hydrogen electrode.
Mg | Mg2+ || H+(aq) | H2(g); Pt
When magnesium is connected with SHE, oxidation takes place at the Mg electrode. Hence, the potential of the magnesium electrode is taken as – ve The emf of the cell, determined potentiometrically, is equal to the potential of the magnesium electrode because the potential of SHE is taken as zero.

Question 2.
Can you store copper sulphate solutions in a zinc pot?
Answer:
No, it is not possible. The E° values of the copper and zinc electrodes are as follows :
Zn2+(aq) + 2e– → Zn(s) ; E° = – 0·76 V
Cu2+(aq) + 2e– → Cu(s) ; E° = + 0·34 V
This shows that zinc is a stronger reducing agent than copper. It will lose electrons to Cu2+ ions and a redox reaction will immediately set in.
Zn(s) + Cu2+ (aq) → Zn2+(aq) + Cu(s)
Thus, copper sulphate solution cannot be stored in zinc pot.

Question 3.
Consult the table of standard electrode potentials and suggest three substances that can oxidise ferrous ions under suitable conditions.
Answer:
Substances having higher E° values than Fe2+ ions can oxidise ferrous ions. Thus, Ag+, Hg2+, Br2, Cl2, F2 etc. can oxidise Fe2+ ions to Fe3+ ions.

Question 4.
Calculate the potential of the hydrogen electrode in contact with a solution whose pH is 10.
Solution:
For hydrogen electrode, H+ + e– → 1/2H2
Applying Nernst equation,
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 2

Question 5.
Calculate the emf of the cell in which the following reaction takes place :
Ni(s) + 2Ag+ (0.002 M) → Ni2+ (0.160 M) + 2Ag(s) Given that Ecell = 1.05 V.
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 3

Question 6.
The cell in which the following reactions occurs :
2Fe3+(aq) + 2I(aq) → 2Fe2+(aq) + I2(s) has Ecell = 0-236 V at 298 K.
Calculate the standard Gibbs energy and the equilibrium constant of the cell reaction.
Solution:
The two half reactions are :
2Fe3+ + 2e → 2Fe2+ and 2I → I2 + 2e
For the above reaction, n = 2
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 4

Question 7.
Why does the conductivity of a solution decrease with dilution?
Answer:
The number of ions per unit volume that carry the current in a solution decreases on dilution. Therefore the conductivity of a solution decreases with dilution.

Question 8.
Suggest a way to determine the \(\wedge_{m}^{0}\) value of water.
Answer:
Conductance of weak electrolytes can be determined by kohlraush’s law. Thus, molar conductance of water of infinite dilution can be determined by the molar conductances of NaOH, HCl and NaCl at infinite dilution.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 5

Question 9.
The molar conductivity of 0.025 mol L-1 methanoic acid is 46.1 S cm2 mol-1 Calculate its degree of dissociation and dissociation constant Given \(\lambda_{\left(\mathbf{H}^{+}\right)}^{\circ}\) = 349.6 S cm2 mol-1 and \(\lambda_{\left(\mathrm{H} \mathrm{COO}^{-}\right)}^{\circ}\) = 54.6 S cm2 mol.
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 6

Question 10.
If a current of 0.5 ampere flows through a metallic wire for 2 hours, then how many electrons would flow through the wire ?
Solution:
Q (coulomb) = 1 (ampere) × t (sec)
Q = 0.5 ampere × 2 × 60 × 60
= 3600 C
A flow of IF, i.e. 96500 C is equivalent to flow of 1 mole of electrons
i. e., = 6.023 × 1023 electrons
3600 C is equivalent to flow of electrons
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 7

Question 11.
Suggest a list of metals that are extracted electrolytically.
Answer:
Li, Na, Mg, Ba, Ca, Al

Question 12.
What is the quantity of electricity in coulombs needed to reduce 1 mol of Cr2O-27 ? Consider the reaction :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 8
Answer:
1 mole Cr2O-27 requires 6 moles electrons for reduction.
∴ Required charge = 6F
= 6 × 96500 coulomb.
= 579000 coulomb.

Question 13.
Write the chemistry of recharging the lead storage battery, highlighting all the materials that are involved during recharging.
Answer:
Lead storage battery : It is a secondary cell i.e., a cell which is rechargeable because the products of cell reaction sticks to the electrode. It is also called as lead storage cells. It consists of six cells connected in series. Each cell consist of spongy lead anode and a grid of lead packed with lead dioxide (PbO2) acts as cathode. An aqueous solution of H2SO4 (38% by mass) acts as electrolyte. The reactions which takes place at electrodes can be represented as:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 9
Concentration of H2SO4 decreases as sulphate ions are consumed to form PbSO4 during the working of the cell. As a result of this the density of solution also decreases.

Recharging the cell / battery: Lead storage battery can be recharged by connecting it to an external source of direct current. This reverses the flow of electron with the deposition of Pb on the anode and PbO2 on the cathode. That is, during recharging operation the cell behaves as electrolytic cell. Following reaction occurs during recharging.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 10

Question 14.
Suggest two materials other than hydrogen that can be used as fuels in fuel cells.
Answer:
Methanol (CH3OH), propane (C3H8)

Question 15.
Explain how rusting of iron is envisaged as setting up of an electrochemical cell.
Answer:
Formation of carbonic acid takes place on the surface of iron
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 11
In presence of H+ ion, oxidation of iron takes place
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 12
The electrons are used at other spot where reduction takes place.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 13
Overall reaction,
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 14

MP Board Solutions

Electrochemistry NCERT Textbook Exercises

Question 1.
Arrange the following metals in the order in which they displace each other from the solution of their salts. Al, Cu, Fe, Mg and Zn.
Answer:
A metal with lesser standard potential (more reactive) can displace the other metal from solution of its salts.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 15

Question 2.
Given the standard electrode potentials, K+/K = -2.93V, Ag+/Ag = 0.80V, Hg2+/Hg = 0.79V, Mg2+/Mg = -2.37 V, Cr3+/Cr = -0.74V. Arrange these metals in their increasing order of reducing power.
Answer:
The lower the reduction potential, the higher is the reducing power. Hence, the reducing power of the given metals increases in the following order.
Ag < Hg < Cr < Mg < K.

Question 3.
Depict the galvanic cell in which the reaction Zn(s) + 2Ag+(aq) → Zn2+(aq)+ 2Ag(s) takes place. Further show :
(i) Which of the electrode is negatively charged?
(ii) The carriers of the current in the cell.
(iii) Individual reaction at each electrode.
Answer:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 16
(i) Anode i.e., Zn electrode is negatively charged.
(ii) Electrons are current carriers.

Question 4.
Calculate the standard cell potentials of galvanic cells in which the following reactions take place:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 17
Calculate the ∆rG°, and equilibrium constant of the reactions.
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 18

Question 5.
Write the Nernst equation and emf of the following cells at 298 K :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 19
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 20
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 21
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 22

Question 6.
In the button cells widely used in watches and other devices the following reaction takes place:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 23
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 24

Question 7.
Define conductivity and molar conductivity for the solution of an electrolyte. Discuss their variation with concentration.
Answer:
Conductivity: The conductivity of a solution is defined as the conductance of a solution of 1 cm length and having 1 sq. cm as the area of cross-section.

Molar conductivity: Molar conductivity of a solution at a dilution (V) is the conductance of all the ions produced from one mole of the electrolyte dissolved in V cm3 of the solution when the electrodes are one cm apart and the area of cross-section of the electrodes is so large that the whole of the solution is contained between them. It is usually represented by Λm.

Variation with concentration: The conductivity of a solution (Both for strong and weak electrolytes) decreases with a decrease in the concentration of the electrolyte i.e., on dilution. This is due to the decrease in the number of ions per unit volume of the solution on dilution. The molar conductivity of a solution increase in the decrease in the concentration of the electrolyte i.e., on dilution. This is due to the decrease in the number of ions per unit volume of the solution on dilution. The molar conductivity of a solution increases with decrease in the concentration of the electrolyte. This is because both the number of ions, as well as mobility of ions, increases with dilution. When concentration approaches zero, the molar conductivity is known as limiting molar conductivity.

Question 8.
The conductivity of 0.20 M solution of KCI at 298 K is 0.0248 Scm-1. Calculate its molar conductivity.
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 25

Question 9.
The resistance of a conductivity cell containing 0.001M KCl solution at 298 K is 1500Ω What is the cell constant if the conductivity of 0.001M KCl solution at 298 K is 0.146 × 10-3 S cm-1.
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 26

Question 10.
The conductivity of sodium chloride at 298 K has been determined at different concentrations and the results are given below :
Concentration/M 0.001 0.010 0.020 0.050 0.100 102 × kSm-1 1.237 11.85 23.15 55.53 106.74 for all concentrations and draw a plot between Λm and C1/2 Find the value calculate Λm and C1/2 Find the value calculate Λm of Λ0m.
Answer:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 27
Λ0m = intercept on Λm axis = 124-0 S cm2 mol-1 (on extrapolation to zero concentration)
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 28

MP Board Solutions

Question 11.
The conductivity of 0.00241 M acetic acid is 7.896 × 10-5 S cm-1. Calculate its molar conductivity and if Λ0m for acetic acid is 390.5 S cm2 mol-1, what is its dissociation constant?
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 29

Question 12.
How much charge is required for the following reductions :
(i) 1 mol of Al3+ to Al.
(ii) 1 mol of Cu2+ to Cu.
(iii) 1 mol of MnO4 to Mn2+.
Solution:
(i) The electrode reaction is :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 30
(ii) The electrode reaction is :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 31
(iii) The electrode reaction is :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 32

Question 13.
How much electricity in terms of Faraday is required to produce
(i) 20.0 g of Ca from molten CaCl2.
(ii) 40.0 g of Al from molten Al2O3.
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 33

Question 14.
How much electricity is required in coulomb for the oxidation of
1. 1 mole of H2O to O2
2. 1 mole of FeO to Fe2O3.
Answer:
1. 2H2O → 4H+ + O2 + 4e
2F of electricity is required for the oxidation of 1 mol of H2O

2. Fe2+ → Fe3+ + e
1F of electricity is required for the oxidation of 1 mole of FeO

Question 15.
A solution of Ni(NO3)2 is electrolyzed between platinum electrodes using a current of 5 amperes for 20 minutes. What mass of Ni is deposited at the cathode?
Answer:
According to Faraday’s first law:
W = ZIr [z = \(\frac { M }{ nF } \)]
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 34

Question 16.
Three electrolytic cells A, B, C containing solutions of ZnSO4, AgNO3, and CuSO4, respectively are connected in series. A steady current of 1.5 amperes was passed through them until 1.45 g of silver deposited at the cathode of cell B. How long did the current flow? What mass of copper and zinc were deposited?
Solution:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 35

Question 17.
Using the standard electrode potentials given in Table 3.1, predict if the reaction between the following is feasible :
(i) Fe3+(aq) and I(aq)
(ii) Ag+(aq) and Cu(s)
(iii) Fe3+(aq) and Br(aq)
(iv) Ag(s) and Fe3+(aq)
(v) Br2(aq) and Fe2+(aq)
Answer:
A reaction is feasible if EMF of the cell is +ve.
Cathode : At which reduction occurs.
Anode : At which oxidation occurs.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 36
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 37

MP Board Solutions

Question 18.
Predict the products of electrolysis in each of the following:
(a) An aqueous solution of AgNO3 with silver electrodes.
(b) An aqueous solution of AgNO3 with platinum electrodes.
(c) A dilute solution of H2SO4 with platinum electrodes.
(d) An aqueous solution of CuCl2 with platinum electrodes.
Answer:
(i) At cathode:
The following reduction reactions compete to take place at the cathode
Ag+(aq) + e → Ag(s); Eθ = 0.80 V
H+ (aq) + e → \(\frac { 1 }{ 2 }\) H2 (g); Eθ = 0.00V
The reaction with a higher value of Eθ takes place of the cathode. Therefore, deposition of silver will take place at the cathode.

At anode:
The Ag anode is attacked by NO3 ions. Therefore, the silver electrode at the anode dissolves in the solution to from Ag+.

(ii) At cathode: Same as above
At anode: Anode is not attackable and hence OH ions have lower discharge potential than NO3 ions and OH ions react to give O2
OH → OH + e
4OH → 2H2O + O2 (g)
(iii) H2SO4 → 2H+ + SO2-4
HO2 ⇌ H+ + OH

At cathode:
2H++ 2e → H2
At anode: 4OH → 2H2O + O2 + 4e
i. e., H2 will be liberated at cathode and O2 at the anode.

(iv) CuCl2 → Cu2++2Cl
2nd PUC Chemistry Question Bank Chapter 3 Electrochemistry - 18
At Cathode: Cu2+ ions will be reduced in preference to H+ ions
Cu2+ + 2e → Cu
At anode: Cl’ ions will be oxidised in preference to OH ions.
2Cl → Cl2 + 2e
i.e., Cu will be deposited on the cathode and Cl2 will be liberated at the anode.

MP Board Solutions

Electrochemistry Other Important Questions and Answers

Electrochemistry Objective Type Questions

Question 1.
Choose the correct answer:

Question 1.
If specific conductance = K, R = Resistance, l = distance between the electrodes A = Cross-sectional area of a conductor Cm = mol L-1, Ceq = g.eq L-1 then specific resistance of electrolyte will be equal to :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 38

Question 2.
K is equal to :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 39

Question 3.
Molar conductivity Λm is equal to :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 40

Question 4.
Cell constant is :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 41

Question 5.
For electrolyte (v+ = v = 1) like NaCI:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 42

Question 6.
Which among the following is not a conductor of electricity :
(a) NaCl(aq)
(b) NaCl(s)
(c) NaCl(mol)
(d) Ag.

Question 7.
By which of the following the resistance of the solution is multiplied to obtain cell constant:
(a) Specific conductance (K)
(b) Molar conductance (Λm)
(c) Equivalent conductance (Λeq)
(d) None of these.

Question 8.
Increase in equivalent conductance of the solution of an electrolyte by dilution is due to:
(a) Increase in ionic attraction
(b) Increase in molecular attraction
(c) Increase in association of electrolyte
(d) Increase in ionization of electrolyte.

Question 9.
If the specific conductance and observed conductance of an electrolyte is same then its cell constant will be :
(a) 1
(b) 0
(c) 10
(d) 1000

Question 10.
Unit of cell constant is :
(a) ohm-1 cm-1
(b) cm
(c) ohm cm
(d) cm-1.

Question 11.
Unit of specific conductance is :
(a) ohm-1
(b) ohm-1 cm-1
(c) ohm-2 cm-1 equivalent-1
(d) ohm-1 cm-2.

Question 12.
If the concentration of any solution is C gram equivalent/ litre and specific resistance is A, its equivalent conductance will be :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 43

Question 13.
The coating of layer of zinc on iron to prevent it from corrosion is called :
(a) Galvanization
(b) Cathodic protection
(c) Electrolysis
(d) Photoelectrolysis.

Question 14.
A saturated solution of KNO3 is used for salt bridge because :
(a) Speed of K+ is more than NO3
(b) Speed of NO3 is more than K+
(c) Speed of both is nearly same
(d) Solubility of KNO3 is high in water.

Question 15.
Acts as dipolar in dry cells :
(a) NH4Cl
(b) Na2CO3
(c) pbSO4
(d) MnO2

Question 16.
Reduction is known as :
(a) Electronation
(b) De-electronation
(c) Protonation
(d) De-protonation.

Question 17.
What is the path of electric current in a Daniel cell when Zn and Cu electrodes are connected:
(a) From Cu to Zn inside the cell
(b) From Cu to Zn outside the cell
(c) From Zn to Cu inside the cell
(d) From Zn to Cu outside the cell.

Question 18.
In a cell containing Zn electrode and normal hydrogen electrode (NHE), Zn acts like:
(a) Anode
(b) Cathode
(c) Neither cathode nor anode
(d) Both anode and cathode.

Question 19.
If salt bridge is removed from half cells then voltage :
(a) Reduces and becomes zero
(b) Increases
(c) Immediately increases
(d) Does not change.

Question 20.
When lead storage battery is discharged :
(a) SO2 is released
(b) Pb is manufactured
(c) PbSO4 is used
(d) H2SO4 is used.

Question 21.
Process of Rusting of iron is :
(a) Oxidation
(b) Reduction
(c) Corrosion
(d) Polymerisation.

Question 22.
Value of standard potential of hydrogen electrode is :
(a) Positive
(b) Negative
(c) Zero
(d) No definite value.

Answers:
1. (b), 2. (c), 3. (d), 4. (b), 5. (a), 6 (b), 7. (a), 8. (d), 9. (a), 10. (d), 11. (b), 12. (a), 13. (a), 14. (c), 15. (d), 16. (a), 17. (d), 18. (a), 19. (a), 20. (d), 21. (c), 22. (c).

Question 2.
Fill in the blanks :

  1. Acetic acid is a ………………… electrolyte.
  2. Conductance of electrolyte ………………… with the increase in temperature.
  3. On increasing dilution the value of specific conductance of a solution …………………
  4. ………………… decreases with increase in size of ion.
  5. Unit of specific resistance is …………………
  6. Primary cells cannot be ………………… again.
  7. Device which converts chemical energy into electrical energy is known as ………………… cell.
  8. Amount of electric current which produces one gram equivalent of a substance is known as …………………
  9. In metallic conduction ………………… property remains unchanged.
  10. Reciprocal of resistance is known as …………………
  11. Conductance of 1 cm cube of a conductor is called …………………
  12. 1 Faraday is equal to ………………… coulomb.
  13. Rusting of iron is an example of …………………
  14. Potential of standard hydrogen is assumed to be …………………

Answers:

  1. Weak
  2. Increases
  3. Decreases
  4. Conductance
  5. ohm cm
  6. Charged
  7. Electrochemical
  8. Faraday
  9. Chemical property
  10. Conductance
  11. Specific conductance
  12. 96500 coulomb
  13. Corrosion process
  14. 0.0 volt
  15. Electrochemical cell.

Question 3.
Match the following :

I.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 44
Answers:

  1. (e)
  2. (c)
  3. (d)
  4. (b)
  5. (a).

II.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 45
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 46
Answer:

  1. (c)
  2. (d)
  3. (b)
  4. (a)
  5. (e)
  6. (f).

Question 4.
Answer in one word / sentence :

1. Give two examples of strong electrolyte.
2. Give two examples of weak electrolytes.
3. What is the effect of temperature on electrolytic conductivity ?
4. Write the formula of Kohlrausch’s law.
5. Write the formula of equivalent conductance.
6. Write the formula of molar conductance.
7. Device which converts electrical energy into chemical energy.
8. What is the potential of both the electrodes of the cell due to which electric current flows in the cell ?
9. What is the potential produced due to redox reaction between a metal electrode and its ions called ?
10. What is the unit of potential difference ?
11. Write the formula of cell constant.
12. Cell which can be recharged are known as.
13. State the unit of Equivalent conductance.
14. What is the chemical composition of rust ?
15. Write the relation between Electromotive force and Equilibrium constant of a cell.
16. What is the name of the reaction in which oxidation and reduction occur simultaneously ?
Answers:
1. Strong electrolyte : HCl, NaOH, NaCl
2. Weak electrolyte : CH3COOH, H2CO3,
3. Conductivity increases
4.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 47
5. Equivalent conductance
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 48
6.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 49
7. Electrolytic cell
8. Electromotive force
9. Electrode potential
10. Volt
11. Cell constant = \(\frac { l }{ A } \)
12. Secondary cell
13. Ohm cm2 gm eq-1
14. Fe2O3 . xH2O
15.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 50
16. Redox reaction.

MP Board Solutions

Electrochemistry Very Short Answer Type Questions

Question 1.
Write the definition of Electrochemical cell.
Answer:
System in which chemical energy is converted to electrical energy by oxidation reduction is known as electrochemical cell or voltaic cell.

Question 2.
What is an Electrolytic cell ?
Ans.
The container or system in which electrical energy is passed by which chemical reaction takes place thus, electrical energy is converted to chemical energy is known as electrolytic cell.

Question 3.
What is Electrode potential ?
Answer:
The potential difference developed between the electrodes and electrolyte of an Electrolytic cell is known as Electrode potential.

Question 4.
What is a strong electrolyte ? Write two examples.
Answer:
Electrolyte which completely dissociate in aqueous solution are known as strong electrolyte.
Example : NaCl, KCl, NH4Cl etc.

Question 5.
What is a weak Electrolyte ? Write two examples.
Answer:
Electrolyte which dissociate partially in aqueous solution are known as weak electrolyte.
Example : NH4OH, CH3COOH, HCN etc.

Question 6.
What is meant by standard electrode potential ?
Answer:
Standard electrode potential (E°) of a half cell is the potential difference when one electrode is dipped in molar solution of its ion at 298 K. If electrode is gaseous the pressure of gas must be one atmosphere.

In IUPAC system, reduction potential are known as standard electrode potential.

Question 7.
Write Ohm’s law.
Answer:
According to Ohm’s law “It states that potential difference across the conductor is directly proportional to the current (I) flowing through it” i.e.,
Mathematically, it can be written as :
I α V
V = IR (R = Resistance, unit = ohm, Ω)

Question 8.
What is cell constant ?
Answer:
For a conductivity cell, the ratio of distance between two electrodes (l) and area of cross-section of electrode (A) is called as cell constant.
∴ Cell constant = \(\frac { l }{ A } \) or x = \(\frac { l }{ A } \)
Unit of cell constant = cm-1.

Question 9.
What is galvanization ? Explain.
Answer:
Iron is coated with the layer of zinc to protect it from rusting. This process is known as galvanization. The galvanized iron articles keep their lustre due to the coating of invisible protective layer of basic zinc carbonate, ZnCO3.Zn(OH)2.

Question 10.
What is Electrochemical Equivalent ?
Answer:
Electrochemical equivalent of a substance is that mass of substance released or deposited on an electrode when a current of one ampere is passed for one second.

MP Board Solutions

Electrochemistry Short Answer Type Questions

Question 1.
What is salt bridge ? Write its two functions.
Answer:
‘U’ shaped tube filled with KCl or KNO3 in Agar-Agar solution or gelatin, is known as salt bridge. It connects the two half cell.
Functions : (i) It allows the flow of current by completing the circuit.
(ii) It maintains the electrical neutrality.

Question 2.
Derive relation between standard electromotive force and equilibrium constant
Answer:
Relation between standard electromotive force and equilibrium constant can be derived using van’t Hoff isochore. For any given reaction equilibrium constant IQ is equal to the ratio of rate constant of forward reaction and rate constant of backward reaction.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 51
Value of equilibrium constant Kc can be calculated using standard free energy change (∆G°) because
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 52

Question 3.
What do you understand by oxidation-reduction reactions ?
Answer:
Oxidation-Reduction reactions: Chemical reactions in which valency of elements changes are known as oxidation-reduction reactions. In this process both oxidation and reduction reactions occur simultaneously, in which one of the substance is oxidized and the other substance is reduced. Like
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 53
In this reaction FeCl3 is reduced to FeCl2 and SnCl2 is oxidized to SnCl4. In the reaction valency of Fe decreases and valency of Sn increases.

Question 4.
Write difference between Metallic conduction and Electrolytic conduction.
Answer:
Differences between Metallic conduction and Electrolytic conduction :

Metallic conduction:

  1. Metallic conduction takes place by movement of electrons.
  2. There is no chemical change.
  3. There is no transfer of matter.
  4. In metallic conduction conductivity decreases with increase in temperature.

Electrolytic conduction

  1. Electrolytic conduction takes place by movement of ions.
  2. Due to chemical change decomposition of electrolyte takes place.
  3. Transfer of matter takes place as ions.
  4. In electrolytic conduction conductivity increases with increase in temperature.

Question 5.
What are the difference between emf (Cell potential) and potential difference
Answer:
Difference between EMF and Potential difference :

EMF / Cell potential:

  1. It is the potential difference between the two terminals of the cell when no current is flowing in the circuit, i.e., in an open circuit.
  2. It is the maximum voltage which can be obtained from a cell.
  3. It can be measured by potentiaometrie method.
  4. Work performed by electromotive force is the maximum work done by a cell.
  5. It is responsible for continuous flow of current in electric circuit.

Potential difference:

  1. It is the difference of the electrodes potentials of the two electrodes when the cell is sending current through the circuit.
  2. It is the less than the maximum voltage as it is the difference of electrode potential.
  3. It can be measured by simple voltmeter also.
  4. Work performed by potential difference is less than the maximum work done by a cell.
  5. It is not responsible for the continuous flow of current in circuit.

Question 6.
What is specific conductance ? Give its unit.
Answer:
Specific conductivity: The reciprocal of resistivity is called specific conductiv¬ity. It is defined as the conductance between the opposite faces of one centimeter cube of a conductor. It is denoted by K (kappa).
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 54
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 55
The specific conductivity of a solution at a given dilution is the conductance of one cm cube of the solution. It is represented by K (kappa).
Note : The specific conductivity of a solu¬tion of electrolyte depends upon the dilution or molar concentration of the solution.

Question 7.
What is resistivity of any solution ?
Answer:
Resistivity : When current flow in the solution through two electrodes the resistance is proportional to length and inversely proportional to cross-sectional area A.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 56
The constant p (rho) is called resistivity or specific resistance.
Unit: If l is expressed in cm, A in cm2 and R in ohm, the unit of resistivity will be
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 57
or Resistivity of any solution is the resistance of 1 cm cube.

Question 8.
Differentiate between Electrochemical cell (Galvanic cell) and Electrolytic cell.
Answer:
Differences between Electrochemical and Electrolytic cells :

Electrochemical cell or Galvanic cell:

  1. It is a device to convert chemical energy into electrical energy.
  2. It consists of two electrodes in different compartments joined by a salt bridge.
  3. Redox reactions occurring in the cell are spontaneous.
  4. Free energy decreases with operation of cell, i.e., ∆G < 0.
  5. Useful work is obtained from the cell.
  6. Anode works as negative and cathode as positive electrodes.
  7. Electrons released by oxidation process at anode go into external circuit and pass to cathode.
  8. To set-up this cell, a salt bridge/porous pot is used.

Electrolytic cell:

  1. It is a device to convert electrical energy into chemical energy.
  2. Both the electrodes are in same solution.
  3. Redox reactions occurring in the cell are non-spontaneous.
  4. Free energy increases with operation of cell, i.e., ∆G > 0.
  5. Work is done on the system.
  6. Anode is positive and cathode is negative.
  7. Electrons enter into cathode electrode from external source and leave the cell at anode.
  8. No salt bridge is used in this cell.

Question 9.
What is equivalent conductance ?
Answer:
Equivalent conductance:
“Conductance of total ion produced by one gram equivalent of electrolyte in the solution is called equivalent conductance.” It is denoted by Λeq.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 58

Question 10.
What is molar conductance ?
Answer:
Molar Conductivity : The molar conductivity of a solution at definite concentration (or dilution) and temperature is the conductivity of that volume which contains one mole of the solute and is placed between two parallel electrodes 1 cm apart and having sufficient area to hold whole of the solution. It is denoted by Λm.
Mathematically,
Λm = K × V …(1)
Where V is the volume in ml in which one gram mole of substance is dissolved.
If M is molarity or m moles are dissolved in 1000 ml.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 59
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 60

Question 11.
Define cell constant Develop a relation between specific conductance and cell constant.
Answer:
Cell constant: In any conductive cell, the distance between two electrodes and surface area of electrode A are constant. The ratio of l and a is called cell constant i.e.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 61
Unit of cell constant is cm1 and it is generally expressed by x.
Relation between specific conductance and cell constant : For a conductor, the resistance R is directly proportional to length R and inversely proportional to area of cross – section of electrolyte.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 62

Question 12.
What are the factors which influence the electrical conductance of electrolytes ?
Answer:
Factor which influence electrical conductivity of electrolytes :

The main factor which influence the electrical conductivity are following:

1. Temperature: It influence following interactions.
(a) Interionic attractions: It depends upon the solute-solute interactions. Which is found between the ions of solute.
(b) Solvation of ions: It depends upon solute-solvent interactions. It is relation between ions of solute and solvent molecules.
(c) Viscosity of solvent: It depends upon solvent-solvent interactions. Solvent molecules are related with each other.
With increase in temperature all these three effects decrease and average kinetic energy of ions increases. Thus, with increase of temperature, resistance of solution decreases and hence conductance increases.

2. Nature of electrolyte : The conductance of solution depends upon the nature of electrolyte. On the basis of conductance measurement electrolytes are classified as strong electrolyte and weak electrolyte. Strong electrolytes have high value of conductance even at higher concentration also.

3. Dilution or concentration : It is main factor which influence electrical conductance. Effect of dilution or concentration can be studied indivisually in equivalent conductance, specific conductance and molar conductance. But for a general concept of electrical conductance of solution as the concentration is lowered or dilution increases, electrical conductance of whole solution increases.

Question 13.
On what factors does the various conductivities of an electrolytic solution depend ?
Answer:
Conductivities of electrolytic solution depend on the following factors :

  1. Dilution : On increasing dilution, value of specific conductance of a solution decreases, value of equivalent conductance and molar conductance increases.
  2. Nature of solvent: A solvent with high dielectric constant has high conductivity and with low dielectric constant has low conductivity.
  3. Number of ions present in solution: Conductivity of strong electrolytes is higher than the conductivity of weak electrolytes.
  4. Size of ion : In aqueous solution, small ions are heavily hydrated due to which their conductivity decreases.
  5. Effect of Temperature: With the increase in temperature conductivity increases.

Question 14.
With the increase in dilution how do specific conductance, Equivalent conductance and molar conductance change ?
Answer:
With the increase in dilution, specific conductance decreases. This is because by the increase in dilution number of ions present in 1 cm cube of solution decreases.
But, Equivalent conductance Λeq = K × V
and Molar conductance Λm = K × V
Equivalent conductance and molar conductance are the product of specific conductance and dilution. By the increase in dilution (or decrease in concentration) magnitude of K decreases but that of V increases.
Increase in magnitude of V is comparatively much more than the decrease in magnitude of K. Thus, by the combined effect of both, by the increase in dilution Λeq and Λm increases.

MP Board Solutions

Question 15.
What is an Electrolytic cell and how does it work ?
Answer:
Electrolytic cells : In these cells electric current is supplied through an external source, as a result of which chemical reactions take place which is called electrolysis like : Electrolysis of water, NaCl, Al2O3 etc. For example in Solvay trough cell electrode is immersed in sodium chloride solution and electric current is passed due to which NaCl electrolyses.

At mercury cathode sodium is released and at anode chlorine is released. Sodium forms amalgam with mercury and is taken out of the cell.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 63

Question 16.
What is meant by electromotive force of an electrochemical cell ?
Answer:
The difference in electrode potentials of the two electrodes of an electro- chemical cell is known as electromotive force or cell potential. It is expressed in volt.

Due to difference in potential electric current flows from an electrode of lower potential to an electrode of higher potential. EMF of the cell can be expressed in terms of reduction potential as :

Cell potential = Standard electrode potential – Standard electrode potential
of R.H.S. electrode of L.H.S electrode
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 64
EMF of a cell is measured by connecting the voltmeter between the two electrodes of a cell. EMF of a cell depend on the concentration of solutions of both half cells and nature of the two electrodes. For example, In Daniel cell, concentration of CuSO4 and ZnSO4 solutions in the two half cells is 1M and at 298 K EMF of the cell is 1.10 volt.

MP Board Solutions

Electrochemistry Long Answer Type Questions

Question 1.
What is standard hydrogen electrode ? How is it prepared ?
Answer:
Standard hydrogen electrode : This consists of gas at 1 atmospheric pressure bubbling over a platinum electrode immersed in 1 M HC1 at 25°C (298 K) as shown in figure. The platinum electrode is coated with platinum black to increase its surface. The hydrogen electrode thus con¬structed forms a half cell which on coupling with any other half cell begins to work on the principle of oxidation or reduction. Electrode depending upon the circumstances works both as anode or cathode.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 65

MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 66
Standard hydrogen electrode (SHE) is arbitrarily assigned a potential of zero.

Question 2.
Derive Nernst Equation for single electrode potential.
Answer:
Value of standard electrode potential given in electrochemical series is applicable only when the concentration of electrolyte is 1M and temperature is 298 K. But in electrochemical cells the concentration of electrolyte is not definite and electrode potential depends on concentration and temperature. In such condition single electrode potential can be expressed by Nernst equation.
For a reduction half reaction, Nernst equation can be expressed as follows :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 67
Where E = Reduction electrode potential
E° = Standard electrode potential (Mn+ concentration 1M and at 298 K)
R = Gas constant = 8.31 JK-1 mol-1 = Temperature (in kelvin) = 298 K
n = Valency of metal ion, F = 1 Faraday (96,500 coulomb)
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 68
Equation (2) is Nernst equation for single electrode potential.

Question 3.
Write the Faraday’s laws of electrolysis.
Answer:
Faraday’s first law of electrolysis : The law states that, “The mass of any substance deposited or liberated at any electrode is directly proportional to the quantity of electricity passed.”
Thus, if W gm of the substance is deposited on passing Q coulomb of electricity, then
W α Q or W = ZQ
Where, Z is a constant of proportionality and is called electrochemical equivalent of the substance deposited. If a current of I ampere is passed for t second, then Q = I × t. So that,
W = Z × Q = Z × I × t
Thus, if Q = 1 coulomb, I = 1 ampere and t = 1 second, then W = Z. Hence, electrochemical equivalent of a substance may be defined as, “The mass of the substance deposited when a current of one ampere is passed for one second.”
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 69
As one faraday (96500 C) deposits one gram equivalent of the substance, hence electrochemical equivalent can be calculated from the equivalent mass.
Faraday’s second law of electrolysis : It states that, “When the same quantity of electricity is passed through solutions of different electrolytes connected in series, the weight of the substances produced at the electrodes are directly proportional to their equivalent mass.”

For example, for CuSO4 solution and AgNO3 solution connected in series, if the same quantity of electricity is passed, then
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 70

Question 4.
What is rusting of iron ? Describe Electrochemical theory of rusting.
Answer:
Corrosion: Process by which the layers of undesirable compounds are formed on the surface of a metal on its exposure to atmospheric condition are called corrosion. Rusting of iron is an example of corrosion, chemically it is Fe2O3xH2O.

Electrochemical theory of rusting :
Anode reaction : On one spot of iron sheet, oxidation takes place and this spot behaves as an anode.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 71
The electrons which are released at this spot travel through the metal and reach another spot on the metal which acts as cathode. These electrons cause the reduction of oxygen in the presence of hydrogen ions (H+). H+ ions are formed due to decomposition of carbonic acid formed by dissolution of CO2 in H2O.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 72
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 73

Question 5.
What is corrosion ? Write three factors affecting it and any three methods to prevent it.
Answer:
Corrosion : Process by which the layers of undesirable compounds are formed on the surface of a metal on its exposure to atmospheric conditions are called corrosion.

Factors affecting corrosion :

  1. Nature of metal: Reactive metal corrodes readily.
  2. Impurities in metal: Impure metal corrodes quickly to a greater extent.
  3. Environment: If environment around metal contains oxygens, carbon dioxide, moisture, salts and acidic gases like CO2, SO2, SO3 etc. then corrosion occurs quickly.

Methods to prevent corrosion :

1. Barrier protection : In this method, the surface of the metal is coated with paint, oil or grease. Due to this the surface of the metal remain unexposed to atmospheric conditions and hence corrosion is prevented. Surface of the metal can also be protected by :
(i) Coating metal surface with non-corroding metals like nickel and chromium is called electroplating.
(ii) Dipping iron article in molten metal like zinc. This process is called galvanization.

2. Sacrificial protection : The rusting of iron can be prevented by covering the iron with more electropositive metals like zinc. Zinc metal has more tendency to get oxidized as compared to iron. So, iron articles will not be harmed till the layer of zinc present on its surface hence zinc metal is called the sacrificial metal.

3. Antirust solution : The alkaline antirust solution are employed to prevent rusting, alkaline solution prevent the availability of H+ ions.

In this method, iron articles are dipped in alkaline sodium phosphate or chromate solution. Due to this an insoluble sticking film of iron phosphate is formed on the surface which prevents rusting.

MP Board Solutions

Question 6.
Describe dry cell with labelled diagram.
Answer:
Dry cell: It is a primary cell based on Leclanche cell invented by G. Leclanche in 1868. In a primary cell, the electrode reactions cannot be reversed by an external source of electrical energy. In this cell, the cell reaction takes place only once i.e., this cell is not rechargeable.

It is generally used in torches, transistors, radios, calculators, tape recorders, etc. It consists of a hollow zinc cylinder which is filled with a paste of NH4Cl and a little ZnCl2. This paste is made with the help of water. The zinc cylinder acts as anode while cathode is a graphite rod (Carbon). The carbon rod is surrounded by a black paste of MnO2 and carbon powder. The zinc cylinder has an outer insulation of cardboard case.

Dry cells are sealed with wax or other material to protect the moisture from evaporation. When the electrodes are connected, the cell operates.

The electrode reactions are complex. Metallic Zn is oxidized to Zn2+ and the electrons liberated are left on the container. The reactions which take place at electrodes can be represented as :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 74

This reaction prevents polarization due to formation of ammonia. It also prevents the substantiaL increase of concentration of Zn2+ ions which would decrease the cell potential. This potential of dry cell is approximately 1.5 V.

Defect: Due to acidic nature of NH4Cl zinc container corrodes due to which holes develop through which the chemicals come out.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 75
Nowadays, the cells are made leakage resistant. In it KOH is used in place of NH4Cl by which zinc does not corrode.

Question 7.
What is Kohlrausch law ? Give its two applications.
Answer:
Kohlrausch in 1875 gave a generalisation known as Kohlrausch’s law, “At infinite dilution when the dissociation of the electrolyte is complete, each ion makes a definite contribution towards molar conductance of the electrolyte irrespective of the nature of the other ion with which it is associated.”
Or
“The value of molar conductance at infinite dilution is given by the sum of the contributions of ions (cation and anion).”
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 76
Where, λ+ and λ are ionic contributions or ionic conductances of cation and anion while v+ and v are the number of cations and anions in the formula unit of electrolyte.

Applications of Kohlrausch’s law :

(i) Calculation of molar conductance at infinite dilution for weak electrolytes :

Molar conductance or equivalent conductance of weak electrolytes cannot be obtained graphically by extrapolation method, since these are feebly ionized. Kohlrausch’s law enables indirect evaluation in such cases. For example, molar conductances of acetic acid can be obtained from the knowledge of molar conductances at infinite dilution of HCl, CH3COONa and NaCl which are strong electrolytes.

From Kohlrausch’s law, it is clear that
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 77
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 78

(ii) Determination of degree of dissociation :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 79

Question 8.
Draw a labelled diagram of Daniel cell and explain cell reaction.
Or,
Draw a labelled diagram of electrochemical cell and write cell reaction.
Answer:
Electrochemical cell: In the redox reactions, the transfer of electrons between oxidizing and reducing agents occurs through wire and thus chemical energy changes into electrical energy. The device on which chemical energy changes into electrical energy is called electro chemical cell. These are also known as galvanic or voltaic cells. Working of these cells can be understood with the example of Daniel cell.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 80
Daniel cell : In this cell, Zn rod is dipped in ZnSO4 solution and Cu rod in copper sulphate solution. Both solutions are connected through KC1 salt bridge. When Zn and Cu electrodes are connected by wire and galvanometer, flow of electrons from Zn to Cu occurs. Zinc atoms change into Zn2+ and electrons reach at Cu electrode, where Cu2+ changes into Cu metal and this copper deposits on electrode.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 81

MP Board Solutions

Electrochemistry Numerical Questions

Question 1.
On passing 5 ampere electric current for 30 minute through a container filled with AgNO3 10.07 gram silver is deposited, then determine the chemical equivalent of silver. If electrochemical equivalent of hydrogen is 0-00001036 then calculate the equivalent mass of Silver.
Solution:
Given : W = 10-07 gm, i = 5 ampere, t = 30 × 60 second
According to Faraday’s first law W = Zit
∴ 10.7 = Z × 30 × 60
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 82

Question 2.
What are weak electrolytes ? Give one example. Find out molar conductivity of LiBr aqueous solution infinite dilution when joint conductance of Li+ ion and Br ion are 38.7 Scm2 mol-1 and 78.40 Scm2 mol-1 respectively.
Solution:
Weak electrolytes : These are the substances which dissociate only to a small extent.
Examples: CH3COOH,NH4OH
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 83

Question 3.
What are strong electrolytes ? Find out the molar conductivity of aqueous solution of BaCl2 at infinite dilution when ionic conductance of Ba+2 ion and Cl ion are 127.30 Scm2 mol-1 and 76.34 Scm2 mol-1 respectively.
Solution:
Strong electrolytes : These are substances which dissociate almost completely into ions under all dilutions.
Examples: NaCl, HCl,CH3COONa
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 84

Question 4.
Calculate the molar conductance of Al2(SO4)3 if
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 85
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 86
Solution:
By the ionisation of Al2(SO4)3 solution
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 87
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 88

Question 5.
Molar conductivity of \(\frac { M }{ 30 } \) CH3COOH is 9.625 mho and molar conductance of CH3COOH at infinite dilution (Λm) is 385 mho. Calculate the percentage of dissociation of \(\frac { M }{ 30 } \) CH3COOH.
Solution:
Degree of dissociation
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 89

Question 6.
Calculate molar conductance of acetic acid at infinite dilution from following values:
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 90
Solution:
From Kohlrausch’s law,
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 3 Electrochemistry 91

MP Board Class 12th Chemistry Solutions

MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व

In this article, we will share MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व

d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व NCERT पाठ्यनिहित प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
आद्य अवस्था में सिल्वर परमाणु में पूर्ण भरे d-कक्षक (4d10) होते हैं। इसे आप कैसे कह सकते हैं कि यह संक्रमण तत्व है?
उत्तर
सिल्वर +2 ऑक्सीकरण अवस्था रखता है। 4d-उपकक्ष में नौ इलेक्ट्रॉन होते हैं, जैसे 4dकक्षकों का एक कक्ष आंशिक भरा होता है। अतः इसे संक्रमण तत्व नहीं मान सकते।

प्रश्न 2.
श्रेणी Sc(Z = 21) से Zn(Z = 30) में, Zn की परमाणुकरण की एन्थैल्पी कम होती है, 126 kJmol-1 क्यों?
उत्तर
जिंक में 3d-इलेक्ट्रॉन धात्विक बन्ध में भाग नहीं लेते क्योंकि d10 विन्यास होता है। दुर्बल धात्विक बंध के कारण जिंक की परमाणुकरण की एन्थैल्पी निम्न होती है।

प्रश्न 3.
संक्रमण धातुओं की 3d श्रेणी में किसकी अधिकतम संख्या में ऑक्सीकरण अवस्था होती है एवं क्यों ?
उत्तर
Mn(Z = 25) अधिक संख्या में ऑक्सीकरण अवस्थायें रखते हैं, क्योंकि इसमें अधिकतम संख्या में अयुग्मित इलेक्ट्रॉन होते हैं। अत: यह +2 से +7 तक ऑक्सीकरण अवस्थायें दर्शाता है।

प्रश्न 4.
E°(M2+/M) का मान कॉपर के लिए धनात्मक (+034V) है। इसका संभावित कारण क्या है ? (संकेत : इसकी उच्च ΔaH एवं निम्न ΔhydH मानने पर) –
उत्तर
किसी धातु की E° (M2+/M) पूर्ण परमाणुकरण की एन्थैल्पी, आयनन एन्थैल्पी एवं जलयोजन एन्थैल्पी पर निर्भर होती है। कॉपर की उच्च परमाणुकरण एन्थैल्पी एवं निम्न आयनन एन्थैल्पी होती है। अतः E° (Cu2+ /Cu) धनात्मक है।

MP Board Solutions

प्रशन 5.
संक्रमण तत्वों की प्रथम श्रेणी में (प्रथम एवं द्वितीय) आयनन एन्थैल्पियों में अनियमित क्रमिकता को किस प्रकार देखते हो? ।
उत्तर
आयनन एन्थैल्पी में अनियमित क्रम (प्रथम एवं द्वितीय) का कारण मुख्यतः विभिन्न 3dविन्यासों के भिन्न स्थायित्व की मात्रा के कारण होता है। d0, d5 एवं d10 विन्यास अतिरिक्त स्थायित्व रखता है एवं ऐसे प्रकरणों में आयनन एन्थैल्पी के मान सामान्यत: उच्च होते हैं। उदाहरण, Cr के प्रथम आयनन एन्थैल्पी के नाम निम्न होते हैं, क्योंकि 4s- कक्षक से इलेक्ट्रॉन को निकाला जा सकता है, किन्तु द्वितीय आयनन एन्थैल्पी अति उच्च होती है, अत: Cr+ में स्थायी d5 विन्यास होता है। Zn की प्रथम आयनन एन्थैल्पी अति उच्च होती है, क्योंकि स्थायी विन्यास 3d10,4s2 से इलेक्ट्रॉन हटाया जाता है।

प्रश्न 6.
धातु अपने उच्चतम ऑक्सीकरण अवस्था में केवल ऑक्साइड अथवा फ्लोराइड में रहते हैं, क्यों?
उत्तर
क्योंकि ऑक्सीजन एवं फ्लुओरीन का आकार छोटा एवं ऋण-विद्युतता उच्च होती है, इस प्रकार ये सरलता से धातु को उसकी उच्च ऑक्सीकरण अवस्था में ऑक्सीकृत करता है।

प्रश्न 7.
Cr2+ अथवा Fe2+ में से कौन-सा प्रबल अपचायक अभिकर्मक है एवं क्यों ?
उत्तर
Fe2+ से Cr2+ प्रबल अपचायक अभिकर्मक है। इसका कारण है कि Cr2+ का विन्यास d4 ‘से d3 एवं d3 विन्यास में परिवर्तित होता है, जो स्थायी t32(g)(138) अर्द्धपूर्ण t2) स्तर है।

प्रश्न 8.
M2+(aq) आयन (Z = 27) के लिए ‘चक्रण खेल’ चुम्बकीय आघूर्ण की गणना कीजिए।
उत्तर
M2+(aq) आयन (Z = 27) का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास है :
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 1
इस प्रकार तीन अयुग्मित इलेक्ट्रॉन हैं। ‘चक्रण केवल’ चुम्बकीय आघूर्ण
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 2

प्रश्न 9.
Cu+ आयन जलीय विलयनों में क्यों स्थायी नहीं हैं, समझाइये?
उत्तर
Cu+(aq) जलीय विलयन में स्थायी नहीं है, क्योंकि इसकी Cu+(aq) की तुलना में निम्न ऋणात्मक जलयोजन एन्थैल्पी है।

MP Board Solutions

प्रश्न 10.
लैन्थेनॉइड संकुचन की तुलना में तत्वों से तत्वों में एक्टीनॉइड संकुचन अधिक है, क्यों ?
उत्तर
लैन्थेनॉयड के 4f इलेक्ट्रॉनों की तुलना में एक्टीनॉयड्स में 5f इलेक्ट्रॉनों का कमजोर परिरक्षण प्रभाव के कारण होता है।

d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व NCERT पाठ्य-पुस्तक प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए –
(i) Cr3+
(ii) Cu+
(i) CO2+
(iv) Mn2+
(v) Pm3+
(vi) Ce4+
(vii) Lu2+
(viii) Th4+
उत्तर
(i) Cr+3 : [Ar]3d3
(ii) Cu+1 : [Ar]3d10
(iii) CO+2 : [Ar]3d7
(iv) Mn+2 : [Ar]3d5
(v) Pm+3 : [Xe]4f4
(vi) Ce+4 : [Xe]54 .
(vii) Lu+2 : [Xe]4 f145d1
(vii) Th+4: [Rn].

प्रश्न 2.
+3 अवस्था में Mn+2 यौगिक Fe+2 से ऑक्सीकरण में अधिक स्थायी है, क्यों?
उत्तर
Mn+2 का स्थायी इलेक्ट्रॉनिक विन्यास [Ar]4s0,3d5 होता हैं एवं यह सरलता से Mn+3 में परिवर्तित नहीं होता, Fe+2[Ar] 4s0,3d6 ऑक्सीकरण पर Fe+3[Ar] 4s0,3d5 बनाता है जो अधिक स्थायी विन्यास है।

प्रश्न 3.
परमाणु क्रमांक में वृद्धि से संक्रमण तत्वों के प्रथम श्रेणी के पहले आधे की +2 अवस्था अधिक एवं अधिक स्थायी होती हैं, विस्तृत विवेचना कीजिए।
उत्तर
स्कैण्डियम (जो +3 ऑक्सीकरण अवस्था दर्शाता है) को छोड़कर, प्रथम श्रेणी के सभी संक्रमण तत्व +2 ऑक्सीकरण अवस्था दर्शाते हैं । यह 4s के दो इलेक्ट्रॉनों के त्यागने के कारण होता है। प्रथम चरण में, जब हम Ti+2 से Mn+2 की तरफ चलते हैं, तो इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 3d2 से 3d5 में परिवर्तित होता है, जिसका अर्थ है अधिक-से-अधिक d-कक्षकों का अर्द्धपूर्ण भरना है, जो +2 अवस्था को अधिक स्थायित्व प्रदान करते हैं।

प्रश्न 4.
संक्रमण तत्वों की प्रथम श्रेणी में ऑक्सीकरण अवस्थाओं के स्थायित्व का निर्धारण इलेक्ट्रॉनिक विन्यासों से कितना किया जा सकता है ? अपने उत्तर को उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर
संक्रमण श्रेणी में, ऑक्सीकरण अवस्थायें अर्द्धपूर्ण अथवा पूर्ण भरे हुए d-कक्षक अधिक स्थायी है। उदाहरण के लिए, Fe(Z = 26) का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास [Ar]3d64s2 है। यह दर्शाता है कि विभिन्न ऑक्सीकरण अवस्थाओं में Fe(III) अधिक स्थायी है, क्योंकि यह विन्यास [Ar]3d5 रखता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 5.
संक्रमण तत्व के स्थायी ऑक्सीकरण अवस्था, आद्य अवस्था में इनके परमाणुओं के d इलेक्ट्रॉन विन्यासों : 3d3,3d5,3d8 एवं 3d4 में से क्या होगी? ।
उत्तर
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 3
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 4
3d4 आद्य अवस्था में कोई d4 विन्यास नहीं होता।

प्रश्न 6.
प्रथम श्रेणी के संक्रमण धातुओं के ऑक्सो धातु ऋणायनों के नाम बताइये, जिसमें धातु की ऑक्सीकरण अवस्था समूह संख्या के बराबर होती है।
उत्तर
CrO2-7 एवं CrO2-4 (समूह संख्या = Cr की ऑक्सीकरण अवस्था = 6) MnO4 (समूह संख्या = Mn की ऑक्सीकरण अवस्था = 7)

प्रश्न 7.
लैन्थेनॉयड संकुचन क्या है ? लैन्थेनॉयड संकुचन के प्रभाव क्या होंगे?
उत्तर
लैन्थेनाइड संकुचन-लैन्थेनाइडों के परमाणु क्रमांक बढ़ने के साथ-साथ उनके परमाणुओं एवं आयनों के आकार में कमी होती है, इसे लैन्थेनाइड संकुचन कहते हैं।।
कारण-लैन्थेनाइडों में आने वाला नया इलेक्ट्रॉन बाह्यतम कक्ष में न जाकर (n-2)f- उपकोश में प्रवेश करता है, फलतः इलेक्ट्रॉन और नाभिक के मध्य आकर्षण बल में वृद्धि होती है, जिससे परमाणु अथवा आयन संकुचित हो जाता है।

लैन्थेनाइड संकुचन का प्रभाव :
(i) लैन्थेनाइडों के गुणों में परिवर्तन-लैन्थेनाइड संकुचन के कारण इनके रासायनिक गुणों में बहुत कम परिवर्तन होता है। अतः इन्हें शुद्ध अवस्था में प्राप्त करना अत्यन्त कठिन होता है।
(ii) अन्य तत्वों के गुणों पर प्रभाव-लैन्थेनाइड संकुचन का लैन्थेनाइडों से पूर्व आने वाले तथा इनके बाद आने वाले तत्वों के आपेक्षिक गुणों पर बहुत महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। उदाहरण के लिए, Ti और Zr के गुणों में भिन्नता होती है, जबकि Zr और Hf गुणों में काफी समानता रखते हैं।

प्रश्न 8.
संक्रमण तत्वों के अभिलक्षण क्या हैं एवं इन्हें संक्रमण तत्व क्यों कहते हैं ? कौन से dब्लॉक तत्वों को संक्रमण तत्व नहीं माना जा सकता?
उत्तर
संक्रमण तत्व वे तत्व हैं जिसके अणुओं में (स्थायी ऑक्सीकरण अवस्था में) आंशिक रूप से पूर्ण d-ऑर्बिटल विद्यमान होते हैं। इन तत्वों को d-ब्लॉक के तत्व भी कहते हैं, ये 5-ब्लॉक तथा p-ब्लॉक के तत्वों के गुणों में संक्रमण प्रदर्शित करते हैं। इसलिए इन्हें संक्रमण तत्व कहा जाता है। Zn, Cd एवं Hg जैसे तत्वों को संक्रमण तत्वों की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता क्योंकि इनमें पूर्ण पूरित d-उपकक्षक पाये जाते हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न 9.
नॉन-संक्रमण तत्वों से संक्रमण तत्वों के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास किस प्रकार भिन्न हैं ?
उत्तर
संक्रमण तत्वों में d-कक्षकों को भरते हैं, जबकि प्रतिनिधि तत्वों में 5-एवं p-कक्षकों को भरते हैं। संक्रमण तत्वों के सामान्य इलेक्ट्रॉनिक विन्यास (n-1)d1-10ns1-2 है, जबकि प्रतिनिधि तत्वों का सामान्य इलेक्ट्रॉनिक विन्यास ns1-2 अथवा ns2np1-6 होता है। प्रतिनिधि तत्वों में केवल अंतिम कक्ष अपूर्ण होता है जबकि संक्रमण तत्वों में उपात्य कक्ष अपूर्ण होता है।

प्रश्न 10.
लैन्थेनॉयड्स कौन-सी विभिन्न ऑक्सीकरण अवस्थायें रखते हैं ?
उत्तर
लैन्थेनॉयड्स का मुख्य ऑक्सीकरण अवस्था + 3 है। इसके अतिरिक्त ये + 2 एवं + 4 ऑक्सीकरण अवस्थायें रखते हैं।

प्रश्न 11.
कारण सहित समझाइए-
(i) संक्रमण धातुओं एवं इनके अनेक यौगिक अनुचुम्बकीय व्यवहार दर्शाते हैं।
(ii) संक्रमण धातुओं के परमाण्वीयकरण की एन्थैल्पी उच्च होती है।
(iii) संक्रमण धातुएँ सामान्यतः रंगीन यौगिक बनाते हैं।
(iv) संक्रमण धातुएँ एवं इसके अनेक यौगिक अच्छे उत्प्रेरक होते हैं।
उत्तर
(i) जब किसी यौगिक को चुम्बकीय क्षेत्र में रखा जाता है तो यौगिक के भीतर का चुम्बकत्व बाहरी चुम्बकीय क्षेत्र से प्रभावित होता है। यदि भीतर का चुम्बकत्व बाहरी चुम्बकीय क्षेत्र का साथ देता है तो उसे अनुचुम्बकीय गुण कहते हैं। यदि यौगिक में अयुग्मित इलेक्ट्रॉन हो तो अनुचुम्बकत्व प्रबल हो जाता है अर्थात् किसी यौगिक के अनुचुम्बकत्व की मात्रा उसमें उपस्थित अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों पर निर्भर होती है। संक्रमण तत्वों में अयुग्मित इलेक्ट्रॉन होते हैं, अतः वे अनुचुम्बकीय होते हैं। .

(ii) संक्रमण धातुओं में उच्च प्रभावी न्यूक्लियर आवेश तथा संयोजी इलेक्ट्रॉनों की अधिक संख्या होती है इसलिए ये बहुत मजबूत धात्विक बंध बनाते हैं। परिणामस्वरूप संक्रमण धातुओं के परमाण्विकरण की एन्थैल्पी उच्च होती है।

(iii) संक्रमण धातु आयनों का रंग अपूर्ण रूप से भरे हुए (n-1)d कक्षकों के कारण होता है। संक्रमण धातु आयनों में जिनमें अयुग्मित d-इलेक्ट्रॉन हैं, इस इलेक्ट्रॉन का एक d-कक्षक से दूसरे d-कक्षक में संक्रमण होता है। इस संक्रमण के समय वे दृश्य प्रकाश के कुछ विकिरणों का अवशोषण करते हैं तथा शेष विकिरणों को रंगीन प्रकाश के रूप में उत्सर्जित कर देते हैं। अत: आयन का रंग उसके द्वारा अवशोषित रंग का पूरक (Complementary) होता है। उदाहरणार्थ, [Cu(H2O)6]+2 आयन नीला दिखता है, क्योंकि यह दृश्य प्रकाश के लाल रंग को इलेक्ट्रॉन के उत्तेजना के लिए अवशोषित करता है तथा उसके पूरक (नीले) रंग को उत्सर्जित कर देता है।

कुछ आयनों के रंग –
Cr4+ नीला : Cr3+ बैंगनी
Mn2+ बैंगनी : Mn3+ गुलाबी
Fe2+ हरा : Fe3+ पीला

(iv) संक्रमण तत्व परिवर्ती संयोजकता प्रदर्शित करते हैं, क्योंकि (n-1)d-कक्षक तथा ns-कक्षक के इलेक्ट्रॉनों की ऊर्जा में बहुत अधिक अन्तर नहीं होता है, जिससे d-कक्षक के इलेक्ट्रॉन भी संयोजी इलेक्ट्रॉन का कार्य करते हैं। इन तत्वों में Mn अधिकतम परिवर्ती संयोजकता प्रदर्शित करता है।

प्रश्न 12.
अन्तराकाशी यौगिक क्या है ? संक्रमण धातुओं के ऐसे यौगिक क्यों ज्ञात हैं ?
उत्तर
अधिकांश संक्रमण तत्व उच्च ताप पर अधात्विक तत्वों के परमाणुओं जैसे-H, B,C, Ni, Si आदि के साथ अन्तराकाशी यौगिक बनाते हैं। संक्रमण धातु के क्रिस्टल जालक के अन्तराकाशी रिक्तियों में ये अधात्विक तत्वों के छोटे परमाणु ठीक-ठीक फिट हो जाते हैं। ये अन्तराकाशी यौगिक कहलाते हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न 13.
नॉन-संक्रमण धातुओं से संक्रमण धातुओं की परिवर्ती ऑक्सीकरण अवस्थायें भिन्न कैसे होती हैं ? उदाहरण देकर समझाइए।
उत्तर
संक्रमण तत्वों में उत्तरोत्तर ऑक्सीकरण अवस्थाओं में इकाई का अन्तर आता है। उदाहरण के लिए, Mn सभी ऑक्सीकरण अवस्थायें +2 से +7 दर्शाता है। जबकि नॉन-संक्रमण धातुएँ परिवर्ती ऑक्सीकरण अवस्थाएँ रखती हैं, जिनमें दो इकाई का अन्तर होता है, उदाहरण के लिए Pb(II), Pb(IV), Sn(II), Sn(IV).

प्रश्न 14.
आयरन क्रोमाइट अयस्क से पोटैशियम डाइक्रोमेट के बनाने की विधि का वर्णन कीजिए। पोटैशियम डाइक्रोमेट विलयन की pH बढ़ाने पर क्या प्रभाव होगा?
उत्तर
बनाने की विधि-

बनाने की विधि-K2Cr2O7 को क्रोमाइट अयस्क (Fe2Cr2O4) या क्रोम आयरन (FeO.Cr203) से बनाया जाता है, जो निम्नलिखित पदों में होते हैं।

(1) क्रोमाइट अयस्क का सोडियम क्रोमेट में परिवर्तन-क्रोमाइट अयस्क को NaOH या Na2CO3 के साथ वायु की उपस्थिति में एक परावर्तनी भट्टी में गर्म करने पर सोडियम क्रोमेट (पीला रंग) बनता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 5

पदार्थ को छिद्रमय रखने हेतु कुछ मात्रा में शुष्क चूने को मिलाते हैं । जल के साथ निष्कर्षण करने पर Na2Cr2O3 विलयन में चला जाता है। जबकि Fe2O3 रह जाता है जिसे छानकर पृथक् कर लेते हैं।

(2) सोडियम क्रोमेट (Na2CrO4) का सोडियम डाइक्रोमेट (Na2Cr2O7) में परिवर्तन-सोडियम क्रोमेट विलयन सान्द्र H2SO4 के साथ अपचयित करके सोडियम डाइक्रोमेट बनाते हैं।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 6
2Na2CrO4 कम विलेय होता है जिसका वाष्पन करने पर Na2SO410H2O के रूप में क्रिस्टलीकृत हो जाता है जिसे पृथक् कर लिया जाता है।

(3) Na2Cr2O7 का K2Cr2O7 में परिवर्तन-सोडियम डाइक्रोमेट के जलीय विलयन का उपचार KCI के साथ किये जाने पर पोटैशियम डाइ क्रोमेट प्राप्त होता है। K2Cr2O7 के अल्प विलेय प्रकृति के कारण इसके क्रिस्टल ठण्डे में प्राप्त किये जाते हैं।

MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 7

K2Cr2O7 की निम्न के साथ होने वाली रासायनिक अभिक्रिया –

(1) अम्लीय फेरस सल्फेट के साथ-K2Cr207 अम्लीय माध्यम में यह फेरस सल्फेट को फेरिक सल्फेट में ऑक्सीकृत कर देता है। K2Cr2O7 पहले H2SO4 से क्रिया करके नवजात ऑक्सीजन का तीन परमाणु देता है जो Fe2+ को Fe3+ आयन में ऑक्सीकृत कर देता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 8

pH बढ़ाने पर प्रभाव-पोटैशियम क्लोराइड सोडियम क्लोराइड से कम विलेयशील होता है। ये ऑरेंज क्रिस्टल के रूप में प्राप्त होते है तथा इन्हें फिल्ट्रेशन से हटाया जा सकता है। pH 4 पर डाइक्रोमेट आयन (CrO72-) क्रोमेट आयन CrO4 2-के रूप में उपस्थित होते हैं । ये pH के मान में परिवर्तन के अनुसार एक-दूसरे में परिवर्तनशील होते हैं।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 9

MP Board Solutions

प्रश्न 15.
पोटैशियम डाइक्रोमेट की ऑक्सीकरण क्रियायें समझाइये एवं इनकी निम्न के साथ आयनिक अभिक्रियायें लिखिए
(i) आयोडाइड, (ii) आयरन (II) विलयन एवं (ii) H2S.
उत्तर
दीर्घ उत्तरीय प्रश्न 2 (K2Cr2O7 की निम्न के साथ होने वाली रासायनिक अभिक्रिया) देखें।

प्रश्न 16.
पोटैशियम परमैंगनेट के बनाने की विधि का वर्णन कीजिए।अम्लीकृत परमैंगनेट विलयन निम्न से कैसे क्रिया करता है
(i) आयरन (II) आयनों से, (ii) SO2 एवं (ii) ऑक्सेलिक अम्ल ? अभिक्रियाओं की आयनिक समीकरणों को लिखिए।
उत्तर
KMnO4, पायरोलुसाइट से बनाया जा सकता है, अयस्क को KOH के साथ वायुमण्डलीय ऑक्सीजन या ऑक्सीकृत एजेन्ट जैसे- KNO3 या KClO4 की उपस्थिति में क्रिया कराकर K2MnO4 प्राप्त किया जाता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 10
प्राप्त 2K2MnO4 (ग्रीन) को जल द्वारा छाना जा सकता है। फिर विद्युत्-अपघटन या क्लोरीन/ओजोन को विलयन मे प्रवाहित कर ऑक्सीकृत किया जाता है।

विद्युत्-अपघटनी ऑक्सीकरण –
2K2MnO4 ⇌ 2K+ + MnO42-
H2O → H+ + OH
एनोड में मैंग्नेट आयन, पर मैंग्नेट आयन में ऑक्सीकृत होता है।
MnO42- → MnO4 + e

क्लोरीन द्वारा ऑक्सीकरण –
2K2MnO4 + Cl2 → 2KMnO4 + 2KCl
2MnO42- + Cl2 → 2MnO4 + 2Cl

ओजोन द्वारा ऑक्सीकरण –
2K2MnO4 + O3 + H4O → 2KMnO4 + 2KOH + O2
2MnO42- + O3 +H2O → 2MnO42- + 2OH + O2
अम्लीकृत KMnO4 विलयन Fe(II) आयन को Fe(III) आयन में ऑक्सीकृत करना है अर्थात् फेरस आयन से फेरिक आयन
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 11

अम्लीकृत पोटैशियम परमैंग्नेट SO2 को H2SO4 में ऑक्सीकृत करता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 12

अम्लीकृत पोटैशियम परमैंग्नेट ऑक्सेलिक अम्ल को कार्बन डाइ-ऑक्साइड में ऑक्सीकृत करता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 13

प्रश्न 17.
M22+M एवं M3+/M2+ तंत्रों के लिए कुछ धातुओं के E° मान निम्न है –
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 14
उपर्युक्त आँकड़ों का उपयोग कर निम्न पर टिप्पणी कीजिए –
(i) Cr3+ अथवा Mn3+ की तुलना में Fe3+ का अम्लीय विलयन में स्थायित्व एवं
(ii) वो कौन-सी स्थितियाँ हैं, जहाँ आयरन, समान विधियों में क्रोमियम अथवा मैंगनीज धातु की तुलना में ऑक्सीकृत होता है।
उत्तर
(i) जैसे- \(\mathrm{E}_{\mathrm{Cr}}^{\circ} / \mathrm{Cr}^{+2}\) ऋणात्मक (-04V) है, जिसका अर्थ है cr+3 आयन विलयन में सरलता से Cr+2 में अपचयित नहीं होता, अत: Cr+3 आयन अधिक स्थायी है। इसी प्रकार \(\mathrm{E}^{\circ}_{\mathrm{Mn}^{+} 3} / \mathrm{Mn}^{+2}\) धनात्मक (+1:5V) है, Mn+3 आयन सरलता से Mn+2 आयन में Fe+3 आयन की तुलना में अपचयित होता है अत: इन आयनों की आपेक्षिक स्थायित्व निम्न है –
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 15

(ii) दिए गए जोड़ों का ऑक्सीकरण विभव +09V, +1-2V एवं 0-4V है। अत: इनके ऑक्सीकरण का क्रम निम्न है –

Mn>Cr>Fe

MP Board Solutions

प्रश्न 18.
पहचानिए, निम्न में कौन जलीय विलयन में रंग देते हैं? Ti3+,V3+, Cu+,Sc3+,Mn2+, Fe3+ एवं CO2+ प्रत्येक का कारण दीजिए।
उत्तर
ऐसे आयन जिनमें एक या अधिक अयुग्मित इलेक्ट्रॉन होते हैं, जलीय विलयन में d – d संक्रमण के कारण रंगीन होते हैं।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 16

प्रश्न 19.
प्रथम संक्रमण श्रेणी के तत्वों की +2 ऑक्सीकरण अवस्था को स्थायित्व की तुलना कीजिए।
उत्तर
Mn एवं Zn को छोड़कर + 2 अवस्था का स्थायित्व बायें से दायें चलने पर घटता है। मानव अपचयन विभव के ऋणात्मक मान के घटने के कारण दाँयी तरफ स्थायित्व घटता है। कुल ∆1H1 + ∆1H2 (प्रथम एवं द्वितीय आयनन एन्थैल्पी में वृद्धि के कारण E° के ऋणात्मक मान कम होते हैं।)

प्रश्न 20.
निम्न को ध्यान में रखकर एक्टीनॉयड्स के रसायन की तुलना लैन्थेनॉयड्स के साथ कीजिए
(i) इलेक्ट्रॉनिक विन्यास
(ii) परमाणु एवं आयनिक आकार एवं
(iii) ऑक्सीकरण अवस्था
(iv) रासायनिक क्रियाशीलता।
उत्तर
लैंथेनाइडों एवं एक्टिनाइडों के मध्य भिन्नताएँ
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 17

प्रश्न 21.
निम्न से क्या समझते हो –
(i) d4 श्रेणी में, Cr2+ प्रबल अपचायक है जबकि मैंगनीज (III) प्रबल ऑक्सीकारक है।
(ii) कोबाल्ट (II) जलीय विलयन में स्थायी है, जबकि जटिल अभिकर्मकों की उपस्थिति में यह आसानी से ऑक्सीकृत हो जाता है।
(iii) आयनों में d विन्यास अत्यधिक अस्थायी है।
उत्तर
(i) Cr2+ अपचायक प्रकृति का है, इसका विन्यास d4 से d3 (अर्द्धपूर्ण t.कक्षकों का स्थायी विन्यास) परिवर्तन होता है। अन्य शब्दों में Mn3+ ऑक्सीकारक प्रकृति का है, जिसका विन्यास d4 से d5 (अर्द्धपूर्ण t2g से 2g कक्षकों के स्थायी विन्यास) में परिवर्तन होता है।
(ii) प्रबल लिगेण्ड कोबाल्ट (II) को बल द्वारा 3d- उपकक्ष से एक अथवा अधिक इलेक्ट्रॉन को हटाता है, जिससे d2sp3 संकरण होता है।
(iii) d1-विन्यास वाला आयन प्रयास करता है कि d-उपकक्ष से एक इलेक्ट्रॉन निकालकर स्थायी अकिय गैस विन्यास प्राप्त कर लेवें।।

प्रश्न 22.
विषमसमानुपाती से क्या तात्पर्य है ? जलीय विलयन में विषमसमानुपाती अभिक्रिया के दो उदाहरण दीजिए।
उत्तर
विषमसमानुपाती अभिक्रियायें वे होती हैं, जिनमें समान पदार्थ ऑक्सीकृत एवं अपचयित होता है। उदाहरण के लिए –
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 18

प्रश्न 23.
संक्रमण धातुओं की प्रथम श्रेणी की कौन-सी धातु सामान्य +1 ऑक्सीकरण अवस्था रखते हैं एवं क्यों ?
उत्तर
कॉपर का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास [Ar]3d104s1 है। जो एक इलेक्ट्रॉन (4s1) सरलता से त्याग कर स्थायी विन्यास 3d10 देता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 24.
निम्न गैसीय आयनों में अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों की गणना कीजिए- Mn3+, Cr3+,v3+ एवं Ti3+ इनमें से कोई एक जलीय विलयन में अधिक स्थायी है ?
उत्तर
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 19
Cr2+ अत्यधिक स्थायी है, इसमें अर्द्धपूर्ण t2gस्तर होते हैं।

प्रश्न 25.
संक्रमण धातु रसायन के निम्न के उदाहरण एवं कारणों को दीजिए –
(i) संक्रमण धातु के निम्न ऑक्साइड क्षारीय हैं, उच्च उभयधर्मी/अम्लीय हैं।
(ii) संक्रमण धातु ऑक्साइडों एवं फ्लुओराइडों में उच्च ऑक्सीकरण अवस्था रखते हैं।
(iii) धातु ऑक्सो ऋणायनों में उच्च ऑक्सीकरण अवस्था होती है।
उत्तर
(i) संक्रमण तत्व के निम्न ऑक्साइड क्षारीय होते हैं, क्योंकि धातु परमाणुओं की निम्न
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 20

धातु की निम्न ऑक्सीकरण अवस्था में, धातु परमाणु के कुछ संयोजी इलेक्ट्रॉन बन्धन में भाग नहीं लेते। अत: ये इलेक्ट्रॉन को दानकर क्षार की भाँति व्यवहार करते हैं। उच्च ऑक्सीकरण अवस्था में, संयोजी इलेक्ट्रॉन बन्धन में भाग लेते हैं एवं जो उपलब्ध नहीं होते। इसके अतिरिक्त प्रभावी नाभिकीय आवेश अधिक होने पर यह इलेक्ट्रॉन स्वीकार करता है एवं अम्ल की भाँति व्यवहार दर्शाते हैं।

(ii) संक्रमण धातु ऑक्साइडों एवं फ्लुओराइडों में उच्च ऑक्सीकरण अवस्थायें रखते हैं, क्योंकि ऑक्सीजन एवं फ्लुओरीन का आकार छोटा एवं उच्च ऋणविद्युतता है एवं ये धातुओं को सरलता से ऑक्सीकृत करते हैं। उदाहरण के लिए- O5F6 [O5(VI)],V2O5 [v(v)] .

(iii) धातुओं के ऑक्सो ऋणायन उच्च ऑक्सीकरण अवस्थायें रखते हैं। उदाहरण के लिए, Cr2O72- में Cr की ऑक्सी-करण अवस्था + 6 है, जबकि MnO4 में Mn की ऑक्सी-करण अवस्था +7 है। क्योंकि ऑक्सीजन की उच्च ऋणविद्युतता एवं उच्च ऑक्सीकारक गुण है।

प्रश्न 26.
बनाने के पदों को दर्शाइये –
(i) क्रोमाइट अयस्क से K2Cr2O7
(ii) पायरोलुसाइट अयस्क से KMnO4.
उत्तर
दीर्घ उत्तरीय प्रश्न क्र. 2 एवं 4 देखें।

MP Board Solutions

प्रश्न 27.
मिश्रधातुएँ क्या हैं ? प्रमुख मिश्रधातु के नाम लिखते हुए उसके उपयोग लिखिए, जिनमें कुछ लैन्थेनॉयड्स धातुएँ होती हैं।
उत्तर
दो अथवा अधिक धातुओं अथवा धातुओं एवं अधातुओं के समांगी मिश्रण मिश्रधातु है । प्रमुख मिश्रधातु जिसमें लैन्थेनॉयड होता है, मिश्रधातु है, जिसमें 95% लैन्थेनॉयड धातुएँ एवं 5% आयरन के साथ थोड़ी मात्रा में S, C, Ca एवं Al होते हैं । इसका उपयोग Mg-आधारित मिश्रधातु में करते हैं। जो गोली के आवरण एवं लाइटर में उपयोग होती है।

प्रश्न 28.
अन्तर संक्रमण तत्व क्या हैं ? दिए गए निम्न परमाणु संख्याओं में से अन्तर संक्रमण तत्वों की परमाणु संख्याओं का निर्धारण कीजिए- 29,59, 74, 95, 102, 104.
उत्तर
f-ब्लॉक तत्वों में, अन्तिम इलेक्ट्रॉन अन्तर उपात्यकक्ष – उपकक्ष में प्रवेश करते हैं, अतः इन्हें अन्तर संक्रमण तत्व कहते हैं। इनमें लैन्थेनॉयड्स (58-71) एवं एक्टीनॉयड्स (90-103) होते हैं । अतः परमाणु क्रमांक 59, 95 एवं 102 वाले तत्व अन्तर संक्रमण तत्व हैं।

प्रश्न 29.
लैन्थेनॉयड्स की तुलना में एक्टीनॉयड्स तत्वों का रसायन अधिक सरल नहीं है। इस वाक्य को इन तत्वों की ऑक्सीकरण अवस्था के कुछ उदाहरणों द्वारा न्यायोचित सिद्ध कीजिए।
उतर
लैन्थेनॉयड्स निश्चित संख्या में ऑक्सीकरण अवस्थायें दर्शाते हैं, जैसे +2, +3 एवं +4 (+3 मुख्य ऑक्सीकरण अवस्था है)। क्योंकि 5d एवं 4f उपकक्षों के मध्य अधिक ऊर्जा अन्तर होता है। एक्टीनॉयड्स भी प्रमुख ऑक्सीकरण अवस्था +3 दर्शाते हैं, किन्तु अन्य ऑक्सीकरण अवस्था भी दर्शाते हैं । उदाहरण के लिए, यूरेनियम (Z= 92) +3, +4, +5, +6 ऑक्सीकरण अवस्थायें रखता है, एवं नेप्चूनियम (Z= 94) +3, +4, +5, +6 एवं +7 ऑक्सीकरण अवस्थायें दर्शाता है। क्योंकि 4f एवं 6d कक्षकों के मध्य ऊर्जा अन्तर कम होता है।

प्रश्न 30.
एक्टीनॉयड्स श्रेणी का अंतिम तत्व कौन-सा है ? इस तत्व का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए। इस तत्व की संभावित ऑक्सीकरण अवस्था पर टिप्पणी कीजिए।
उत्तर
एक्टीनॉयड श्रेणी का अंतिम तत्व= लॉरेन्सियम (Z = 103)
इलेक्ट्रॉनिक विन्यास = [Rn]5f146d17s2
संभावित ऑक्सीकरण अवस्था = +3

MP Board Solutions

प्रश्न 31.
हुण्ड नियम का उपयोग करते हुए Ce* आयन का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए एवं ‘चक्रण केवल’ सूत्र के आधार पर इसके चुम्बकीय आघूर्ण की गणना कीजिए।
उत्तर
सीरियम का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास = [Xe] 4f15d16s2
Ce3+ 344 = [Xe]4f1
जिसका अर्थ है कि एक अयुग्मित इलेक्ट्रॉन उपस्थित है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 21

प्रश्न 32.
लैन्थेनॉयड श्रेणी के उन सदस्यों के नाम दीजिए, जो +4 ऑक्सीकरण अवस्था में एवं +2 ऑक्सीकरण अवस्थायें रखते हैं। इस प्रकार के व्यवहार को इन तत्वों के इलेक्ट्रॉनिक विन्यासों से संबंध स्थापित कीजिए।
उत्तर
+4= 58Ce, 59Pr, 60Nd, 65Tb, 66Dy
+2 = 60Nd, 62Sm, 63Eu, 69Tm, 70Yb
+4 ऑक्सीकरण अवस्था दर्शाती है, जब विन्यास बाँयी तरफ के समीप 4f° (अर्थात् 4f04f14f2) अथवा 4f7 के समीप (अर्थात् 4f7 अथवा 4f8) होता है।
+2 ऑक्सीकरण अवस्था दर्शाती है, जब विन्यास 5d0 6s2 है तथा दो इलेक्ट्रॉन सरलता से त्याग देता है।

प्रश्न 33.
निम्न के सापेक्ष एक्टीनॉयड्स एवं लैन्थेनॉयड्स के रसायन की तुलना कीजिए –
(i) इलेक्ट्रॉनिक विन्यास
(ii) ऑक्सीकरण अवस्थाएँ
(iii) आयनन एन्थैल्पी एवं
(iv) परमाण्विक आकार।
उत्तर
लैंथेनाइडों एवं एक्टिनाइडों के मध्य भिन्नताएँ
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 22

MP Board Solutions

प्रश्न 34.
परमाणु क्रमांक 61,91, 101 एवं 109 वाले तत्वों के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए।
(i) z = 61: [Xe]4f5f506s2
(ii) Z = 91: [Rn]5f26d17s2
(iii) Z = 101: [Rn]5f136d07s2
(iv) Z = 109: [Rn]5f146d7s2

प्रश्न 35.
ऊर्ध्वाधर कॉलम के सापेक्ष प्रथम संक्रमण धातुओं की श्रेणी के सामान्य गुणों की तुलना द्वितीय एवं तृतीय श्रेणी के धातुओं से कीजिए। निम्न बिन्दुओं को विशिष्टता प्रदान कीजिए –
(i) इलेक्ट्रॉनिक विन्यास,
(ii) ऑक्सीकरण अवस्थायें
(iii) आयनन एन्थैल्पी एवं
(iv) परमाण्विक आकार।
उत्तर
प्रथम संक्रमण धातुओं की श्रेणी के सामान्य गुणों की तुलना –
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 23

प्रश्न 36.
निम्न आयनों में प्रत्येक के 3d इलेक्ट्रॉनों की संख्या लिखिए –
Ti2+,v2+, Cr3+,Mn2+, Fe2+, Fe3+,Co2+,Ni2+ एवं Cu2+ दर्शाइये कि पाँच 31 कक्षकों को इन हाइड्रेट आयनों (अष्टफलकीय) द्वारा भरा जा सकता है।
उत्तर
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 24

प्रश्न 37.
इस वाक्य पर टिप्पणी कीजिए कि प्रथम संक्रमण श्रेणी के तत्वों में अनेक गुण भारी संक्रमण तत्वों से भिन्न होते हैं।
उत्तर
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 25

प्रश्न 38.
निम्न संकुल स्पीशीज के चुम्बकीय आघूर्ण के मानों से क्या दर्शाया जाता है ?
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 26
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 27
उत्तर
K4[Mn(CN)6]
Mn+2 . 3d5 , चुम्बकीय आघूर्ण 2.2 दर्शाता है कि इसमें एक अयुग्मित इलेक्ट्रॉन है एवं अन्तर कक्षक संकुल अथवा निम्न चक्रण संकुल बनाता है। इसका विन्यास है –
t22g[Fe(H2 O)6 ]2+

Fe+2: 3d6 चुम्बकीय आघूर्ण का मान 4 अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों के समीप है, अत: यह बाह्य कक्षक संकुल अथवा उच्च चक्रण संकुल बनाता है। इसका विन्यास है  – t42g e2g K2[MnCl4]

Mn+2 : 3d5 चुम्बकीय आघूर्ण का मान 5 अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों के सापेक्ष है। d-कक्षक प्रभावित नहीं होते। अतः यह चतुष्फलकीय संकुल बनाता है। इसका विन्यास है – t32g e2g

d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व अन्य महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व वस्तुनिष्ठ प्रश्न

1. सही विकल्प चुनकर लिखिए-

प्रश्न 1.
मैंगनीज किसमें उच्चतम ऑक्सीकरण अवस्था प्रदर्शित करता है
(a) K2MnO4
(b) KMnO4
(c) MnO2
(d) MngO4
उत्तर
(b) KMnO4
MP Board Solutions

प्रश्न 2.
कौन अन्तराली यौगिक बनाता है
(a) Fe
(b) Ca
(c) Ni
(d) सभी।
उत्तर
(b) Ca

प्रश्न 3.
जब KMnO4 को उदासीन माध्यम में प्रयुक्त करते हैं, तब उनका तुल्यांक भार होगा –
(a) M
(b) M/2
(c) M/3
(d) M/5.
उत्तर
(c) M/3

प्रश्न 4.
कौन-सी लैन्थेनाइड सर्वाधिक प्रयुक्त की जाती है –
(a) लैन्थेनम
(b) नोबेलियम
(c) थोरियम
(d) सीरियम।
उत्तर
(d) सीरियम।

प्रश्न 5.
गैडोलिनियम का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास है –
(a) [Xc]4f65d9,6s2
(b) [Xe]4f7,5d1,6s2
(C) [Xe] f3,5d5,6s2
(d) [Xe]4f6,5d2,6s2.
उत्तर
(b) [Xe]4f7,5d1,6s2

प्रश्न 6.
लैन्थेनाइड संकुचन निम्न कारक के लिए उत्तरदायी होता है –
(a) Zr एवं Y की त्रिज्या लगभग समान होती है
(b) Zr एवं Nb की ऑक्सीकरण अवस्था समान होती है
(c) Zr एवं Hf की त्रिज्या लगभग समान होती है
(d)zr एवं Zn की ऑक्सीकरण अवस्था समान होती है।
उत्तर
(c) Zr एवं Hf की त्रिज्या लगभग समान होती है

प्रश्न 7.
3d श्रेणी में उच्चतम ऑक्सीकरण अवस्था किसके द्वारा प्रदर्शित की जाती है –
(a) Mn
(b) Fe2+
(c) Ni
(d) Cr
उत्तर
(a) Mn

प्रश्न 8.
कौन-सा संक्रमण धातु आयन रंगीन है –
(a) Cu+
(b) v2+
(c) Sc+3
(d) Ti+4
उत्तर
(b) v2+

प्रश्न 9.
एक संक्रमण धातु जो +3 ऑक्सीकरण अवस्था में हरा किन्तु +6 ऑक्सीकरण अवस्था में नारंगी होता है –
(a) Mn.
(b) Cr
(c) Os
(d) Fe.
उत्तर
(b) Cr

MP Board Solutions

प्रश्न 10.
लैन्थेनाइड श्रेणी में, लैन्थेनाइड हाइड्रॉक्साइडों की क्षारकता –
(a) बढ़ती है
(b) घटती है
(c) पहले बढ़ती है फिर घटती है
(d) पहले घटती है और फिर बढ़ती है।
उत्तर
(b) घटती है

प्रश्न 11.
Fe, Co, Ni किस प्रकार के चुम्बकीय पदार्थ हैं –
(a) अनुचुम्बकीय
(b) लौह चुम्बकीय
(c) प्रति चुम्बकीय
(d) प्रति लौह चुम्बकीय।
उत्तर
(b) लौह चुम्बकीय

प्रश्न 12.
Fe+2 आयन के अयुग्मित इलेक्ट्रॉन की संख्या है –
(a) 0
(b) 4
(c) 6
(d) 3.
उत्तर
(b) 4

MP Board Solutions

2. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए – 

  1. Fe, Co, Ni धातुओं को …………. कहते हैं।
  2. परमाणु क्रमांक में वृद्धि के साथ त्रिसंयोजी धनायनों का आकार क्रमशः….,.. जाता है।
  3. निम्नतर ऑक्सीकरण अवस्था प्रदर्शित करने वाले संक्रमण धातु …….. प्रकृति के होते हैं।
  4. K2Cr207 एक प्रबल ……….. है जो केवल अम्लीय माध्यम में नवजात ऑक्सीजन का ……… परमाणु मुक्त करता है।
  5. Zn केवल …………. ऑक्सीकरण अवस्था प्रदर्शित करता है।
  6. f-ब्लॉक तत्व …………. तत्व कहलाते हैं।
  7. संक्रमण तत्व और उनके यौगिक ……….. का कार्य करते हैं।
  8. अंतः संक्रमण तत्वों का सामान्य इलेक्ट्रॉनिक विन्यास …………..
  9. पोटैशियम मैंगनेट का रासायनिक सूत्र ……….. है।
  10. d-ब्लॉक तत्वों को …………. भी कहा जाता है।

उत्तर

  1. फेरस धातुएँ
  2.  घटता
  3. क्षारीय
  4. ऑक्सीकारक, तीन
  5. +2
  6. आन्तर संक्रमण
  7. उत्प्रेरक
  8. (n-2)f1-14, (n-1)d1-2,ns2
  9. K2MnO4,
  10. संक्रमण तत्व।

3. सत्य/असत्य बताइए –

  1. पारा द्रव अवस्था में होता है तथा इसकी ऑक्सीकरण अवस्था +1 व + 2 होती है।
  2. संक्रमण धातुओं की उच्चतम ऑक्सीकरण अवस्था अम्लीय प्रकृति की होती है।
  3. लैन्थेनाइड और एक्टीनाइड दोनों संक्रमण तत्व कहलाते हैं।
  4. सभी संक्रमण तत्वों में +2 ऑक्सीकरण अवस्था सामान्यत: अधिक पायी जाती है अथवा सामान्य होती है।
  5. Zn, Cd एवं Hg परिवर्ती संयोजकता प्रदर्शित करती है।
  6. Cu+2 आयन रंगहीन और प्रतिचुम्बकीय होता है।
  7. प्लूटोनियम का उपयोग परमाणु बम बनाने में तथा परमाणु रियेक्टर में ईंधन के रूप में किया जाता है।
  8. संक्रमण तत्व अन्तराली यौगिक बनाते हैं।

उत्तर

  1. सत्य,
  2. सत्य,
  3. असत्य,
  4. सत्य,
  5. असत्य,
  6. असत्य,
  7. सत्य,
  8. सत्य।

4. उचित संबंध जोडिए –
I.
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 28
उत्तर
1. (1), 2. (g), 3. (e), 4. (c), 5. (b), 6, (d), 7. (a).

5. एक शब्द/वाक्य में उत्तर दीजिए – 

  1. Cu+ तथा Cu2+ में कौन-सा आयन रंगहीन है ?
  2. एक अभिक्रिया में KMnO4 को K2MnO4 में परिवर्तित किया जाता है तो Mn की ऑक्सी
    करण संख्या में कितना परिवर्तन होगा?
  3. लैन्थेनाइड और एक्टीनाइड में कौन-सी श्रेणी उच्च ऑक्सीकरण अवस्था दर्शाती है ?
  4. लैन्थेनम की कौन-सी ऑक्सीकरण अवस्था अधिक स्थायी होती है ?
  5. K3Cr3O7 का अम्लीय विलयन में तुल्यांकी भार कितना होता है ?
  6. Fe+3 में अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों की अधिकतम संख्या होती है।
  7. क्रोमिलं क्लोराइड परीक्षण में प्रयुक्त ऑक्सीकरण का नाम लिखिए।
  8. d- ब्लॉक के तत्वों में Zn परिवर्तित संयोजकता प्रदर्शित नहीं करता, क्योंकि।
  9. Cu की सर्वाधिक महत्वपूर्ण ऑक्सीकरण अवस्था है।
  10. f- ब्लॉक के तत्वों को कितने श्रेणी में बाँटा गया है ?
  11. लूनर कॉस्टिक किसे कहते हैं ?
  12. d-ब्लॉक के तत्वों में Zn परिवर्ती ऑक्सीकरण संख्या नहीं दर्शाता है, क्यों ?
  13. HgCl2 तथा KI का क्षारीय विलयन क्या कहलाता है ?

उत्तर-

  1. Cu+
  2. 1,
  3. एक्टीनाइड,
  4. +3,
  5. 49,
  6. 5,
  7. K2Cr2O7,
  8. पूर्ण-पूरित d-कक्षक,
  9. +2,
  10. दो,
  11. AgNO3,
  12. d-कक्षक के पूर्ण भरे होने की वजह से,
  13. नेसलर अभिकर्मक।

d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
सिल्वर परमाणु की मूल अवस्था में पूर्ण-पूरित d-कक्षक है।आप कैसे कह सकते हैं कि यह एक संक्रमण तत्व है ?
उत्तर
सिल्वर +1 ऑक्सीकरण अवस्था में 4d10 5s0 इलेक्ट्रॉनिक विन्यास दर्शाता है। परन्तु कुछ यौगिकों में यह +2 ऑक्सीकरण अवस्था दर्शाता है। इस अवस्था में यह 4d95s0 इलेक्ट्रॉनिक विन्यास दर्शाता है। अतः 4d- से कक्षक के अपूर्ण होने के कारण इसे संक्रमण तत्व माना गया है।

प्रश्न 2.
संक्रमण तत्व किसे कहते हैं ? इनका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए। ये धात्विक गुण प्रदर्शित करते हैं, क्यों?
उत्तर
वे तत्व, जिनके परमाणु अथवा साधारण आयनों के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास में भीतरी d-कक्षक अपूर्ण रूप से भरे होते हैं, संक्रमण तत्व कहलाते हैं । ये समूह 2 और 13 के मध्य स्थित होते हैं।
उदाहरण-Fe, Ni, Co आदि। इलेक्ट्रॉनिक विन्यास-(n-1)1-10,ns1-2 है।
किसी तत्व द्वारा अपने परमाणु में से एक अथवा अधिक इलेक्ट्रॉन त्यागकर धनायन बनाने की क्षमता पर उसका धात्विक गुण निर्भर करता है, सभी संक्रमण तत्व धातुएँ हैं, क्योंकि इनकी बाह्यतम कक्षा में एक या दो इलेक्ट्रॉन होते हैं, जो कि आसानी से त्यागे जा सकते हैं, क्योंकि इनकी आयनन ऊर्जा निम्न होती है। अतः ये धात्विक प्रकृति के होते हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
संक्रमण तत्व परिवर्ती संयोजकता प्रदर्शित करते हैं, क्यों?
उत्तर-
संक्रमण तत्व परिवर्ती संयोजकता प्रदर्शित करते हैं, क्योंकि (n-1)d-कक्षक तथा ns-कक्षक के इलेक्ट्रॉनों की ऊर्जा में बहुत अधिक अन्तर नहीं होता है, जिससे d-कक्षक के इलेक्ट्रॉन भी संयोजी इलेक्ट्रॉन का कार्य करते हैं । इन तत्वों में Mn अधिकतम परिवर्ती संयोजकता प्रदर्शित करता है।

प्रश्न 4.
संक्रमण धातुएँ आसानी से मिश्र धातुएँ क्यों बना लेती हैं ?
उत्तर
संक्रमण धातुएँ पिघली हुई अवस्था में एक-दूसरे में मिश्रणीय हैं तथा विभिन्न संक्रमण धातुओं के मिश्रण को ठण्डा करने पर मिश्र धातुएँ बनती हैं । संक्रमण धातुओं का आकार लगभग समान होता है, अतः क्रिस्टल जालक में एक धातु परमाणु को दूसरे धातु परमाणु से आसानी से विस्थापित किया जा सकता है, इस प्रकार मिश्रधातुएँ बनती हैं । जैसे-Cr को Ni में विलेय कर Cr-Ni मिश्रधातु बनाया जाता है। मिश्र धातुएँ अपनी जनक धातुओं की तुलना में अधिक कठोर, उच्च गलनांक वाली तथा अधिक संक्षारण प्रतिरोधी होती हैं।

प्रश्न 5.
संक्रमण धातुओं के चुम्बकीय गुणों को उसके इलेक्ट्रॉनिक विन्यास के आधार पर बताइए।
अथवा, अनुचुम्बकत्व और प्रतिचुम्बकत्व को समझाइए।
उत्तर
चुम्बकीय गुण-संक्रमण धातुएँ चुम्बकीय गुण प्रदर्शित करती हैं।
(a) प्रतिचुम्बकत्व-जब किसी पदार्थ में उपस्थित सभी इलेक्ट्रॉन युग्मित हों तो वह प्रतिचुम्बकत्व दर्शाता है। Zn एक प्रतिचुम्बकीय धातु है।
(b) अनुचुम्बकत्व-यह गुण पदार्थ में उपस्थित अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों की संख्या पर निर्भर करता है। अयुग्मित इलेक्ट्रॉन युक्त पदार्थ अनुचुम्बकीय होता है । अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों की संख्या बढ़ने से चुम्बकीय गुण भी बढ़ता है।
Fe, Co तथा Ni फेरोचुम्बकीय होते हैं, क्योंकि इन्हें चुम्बकित भी किया जा सकता है । अनुचुम्बकत्व को निम्न सूत्र से दर्शाते हैं –
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 29
जिसमें μ = चुम्बकीय आघूर्ण, n = अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों की संख्या।

प्रश्न 6.
संक्रमण तत्वों की प्रवृत्ति अक्रिय होती है, क्यों? उत्तर
संक्रमण तत्वों की अक्रिय प्रवृत्ति या कम क्रियाशीलता निम्नलिखित कारणों से होती हैं –

(i) इनके मानक इलेक्ट्रोड विभव का मान कम होता है ।
(ii) इनकी आयनन ऊर्जा उच्च होती है ।
(iii) इनकी वाष्पन या कणिकरण ऊर्जा (Sublimation of Atomization energy) का मान उच्च होता है।
(iv) इनके आयनों की जल योजन ऊर्जा का मान कम होता है ।

MP Board Solutions

प्रश्न 7.
संक्रमण तत्वों की विशेषताएँ लिखिए।
उत्तर
संक्रमण तत्वों की विशेषताएँ-

  • इनकी प्रकृति धात्विक होती है जिनका धन विद्युतीय गुण सीमित (Ti) से उत्कृष्ट (Cu) तक होता है।
  • ये कठोर होते हैं तथा ऊष्मा और विद्युत् के सुचालक हैं।
  • इनके b.p. तथा m.p. उच्च होते हैं ।
  • ये परिवर्ती ऑक्सीकरण अवस्था प्रदर्शित करते हैं ।
  • ये रंगीन आयन बनाते हैं ।
  • ये समन्वयन यौगिक बनाते हैं।
  • ये सामान्यत: अनुचुम्बकीय होते हैं ।
  • ये अच्छे उत्प्रेरक होते हैं।
  • ये मिश्रधातु बनाते हैं।
  • ये अधातुओं के साथ अन्तराकाशीय यौगिक बनाते हैं।
  • इनमें कार्बधात्विक यौगिक, समाकृतिक यौगिक तथा नॉन-स्टॉइकियोमीट्रिक यौगिक भी पाये जाते हैं। __

प्रश्न 8.
d और f-ब्लॉक तत्वों में कोई पाँच प्रमुख अन्तर दीजिए।
उत्तर
d और ब्लिॉक तत्वों में अन्तर –
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 30
प्रश्न 9.
आन्तरिक संक्रमण तत्व क्या होते हैं ?
उत्तर
वे तत्व जिनमें तीनों बाह्यतम कोश अपूर्ण भरे होते हैं अन्तर संक्रमण तत्व कहलाते हैं। संक्रमण तत्वों के भीतर वर्ग 3 व 4 के मध्य 14-14 तत्व f-ब्लॉक में आते हैं। अतः संक्रमण तत्वों के मध्य स्थित होने के कारण इन्हें अन्तर संक्रमण तत्व कहते हैं। चूँकि इनमें अंतिम इलेक्ट्रॉन बाह्यतम कोश से दो अन्दर के कोश उपउपान्त्य कोश अर्थात् (n-2)f-ऑर्बिटल में प्रवेश करते हैं। अत: इन तत्वों को f-ब्लॉक तत्व भी कहते हैं। (n-2)f1-14(n-12)d1-10ns2 इन्हें दो श्रेणियों में बाँटा गया है –

(1) लैन्थेनाइड श्रेणी-लैन्थेनम के बाद (La57) आने वाले 14 तत्व (Ce58-Lu71) लैन्थेनाइड कहलाते हैं।
(2) ऐक्टिनाइड श्रेणी-ऐक्टिनम के बाद आने वाले 14 तत्व ऐक्टिनाइड्स कहलाते हैं।

प्रश्न 10.
समूह- 12 के सदस्यों के नाम लिखिए। वे सामान्यतः संक्रमण तत्व क्यों नहीं माने जाते हैं ?
उत्तर
समूह- 12 के सदस्यों के नाम Zn, Cd, Hg हैं जिन्हें संक्रमण तत्वों में शामिल नहीं किया गया है, क्योंकि इनकी परमाणु अवस्था तथा द्विसंयोजी आयन अवस्था दोनों में इलेक्ट्रॉनिक संरचना (n-1)d10 होती है अर्थात् इनके d- कक्षक पूर्णतः भरे होते हैं। इस कारण इन्हें संक्रमण तत्व नहीं माना जाता।

MP Board Solutions

प्रश्न 11.
लैन्थेनाइडों की पाँच विशेषताएँ लिखिए। उत्तर-लैन्थेनाइडों की विशेषताएँ –
(a) ये f-ब्लॉक के तत्व हैं ।
(b) ये चाँदी के समान चमकदार धातुएँ हैं ।
(c) ये ऊष्मा तथा विद्युत् के अच्छे चालक हैं ।
(d) इनका गलनांक तथा घनत्व उच्च होता है ।
(e) La से Lu तक इनकी परमाणु त्रिज्या में लगातार कमी होती है, इसे लैन्थेनाइड संकुचन कहते हैं ।

प्रश्न 12.
क्या कारण है कि 5d श्रेणी के तत्वों की आयनन ऊर्जा का मान 4d श्रेणी से अधिक होता है?
उत्तर
किसी समूह में ऊपर से नीचे जाने पर आयनन ऊर्जा का मान घटता है, लेकिन अपेक्षा के विरुद्ध 5d श्रेणी के संक्रमण तत्वों की आयनन ऊर्जा का मान 4d श्रेणी के तत्वों के मान से अधिक होता है, जिसका कारण इन दोनों श्रेणियों के बीच आने वाले 14 लैन्थेनाइड तत्वों का रहना तथा उनके आकार में अपेक्षित वृद्धि नहीं हो पाना है। अतः नाभिक का आकर्षण बल बाह्यतम कक्षा के इलेक्ट्रॉन के लिए अधिक हो जाता है यही उनके अधिक आयनन विभव का कारण है।

प्रश्न 13.
(i) संक्रमण धातुओं में संकुल यौगिक बनाने की प्रवृत्ति होती है। समझाइए।
(ii) Zn, Cd एवं Hg संक्रमण तत्व का गुण व्यक्त क्यों नहीं करते हैं ?
(iii) Ti को आश्चर्यजनक धातु क्यों कहते हैं ?
उत्तर
(i) संक्रमण तत्वों के संकुल यौगिक बन्गने के कारण –
1. इन तत्वों के आयनों का आकार कम तथा नाभिकीय आवेश उच्च होता है, जिसके कारण ये आयन या अणु (लिगण्ड) को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।
2. लिगैण्ड द्वारा दिये जाने वाले इलेक्ट्रॉन युग्म को ग्रहण करने के लिए इन तत्वों के आयनों में रिक्त ऑर्बिटल होते हैं।

(ii) ऐसे तत्व जिनमें (n-1)d- उपकोश आंशिक (Partially) रूप से भरे रहते हैं, उन्हें संक्रपण तत्व कहते हैं।
जबकि Zn में [3d104s2], Cd में [4d10 5s2] एवं Hg में [5d10s2] अवस्था पायी जाती है। इसलिए इन्हें संक्रमण तत्व नहीं मानते हैं।
(iii) Ti को आश्चर्यजनक धातु कहते हैं क्योंकि – (1) यह कठोर व उच्च गलनांक वाली धातु है। (2) यह ऊष्मा व विद्युत् की सुचालक होती है। (3) संक्षारण प्रतिरोधी होती है।(4) इसका उपयोग टैंक, तोप, बन्दूक व रक्षात्मक कवच बनाने में किया जाता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 14.
Fe2+ आयन की त्रिज्या Mn2+ आयन की त्रिज्या से कम होती है, क्यों?
उत्तर
Fe का परमाणु क्रमांक (26) Mn के परमाणु क्रमांक (25) से अधिक है। अधिक परमाणुक्रमांक होने से नाभिक में प्रोटॉन की संख्या अधिक होती है, फलतः नाभिक और बाह्य कोश के इलेक्ट्रॉन के बीच कार्य करने वाला आकर्षण बल उतना ही प्रबल होता है। प्रबल आकर्षण बल इलेक्ट्रॉन बल इलेक्ट्रान मेघ को भीतर की ओर खींचता है, जिससे आकार में कमी होती है, इसीलिए Fe+ आयन की त्रिज्या Mn2+ आयन से कम होती है।

प्रश्न 15.
लैन्थेनाइड समूह को पृथक् करना क्यों कठिन है ? समझाइए।
उत्तर
लैन्थेनाइड समूह (Ce58 से – 71Lu) तक तत्वों में लैन्थेनाइड संकुचन के कारण रासायनिक गुणों में अत्यधिक समानता होती है। अत: इन्हें शुद्ध अवस्था में प्राप्त करना अत्यधिक कठिन होता है। इन्हें आयन विनिमय विधि द्वारा पृथक् किया जाता है।

प्रश्न 16.
(i) TiO2 श्वेत है, जबकि TiCl3 बैंगनी है। क्यों?
(ii) संक्रमण धातुओं की प्रथम पंक्ति में Cr तक अनुचुम्बकत्व बढ़ता है और फिर घटने लगता है, क्यों?
उत्तर
(i) TiO2 में Ti4+ अवस्था में है जिसका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 3d0 है अतःd-इलेक्ट्रॉन के अभाव में d-d संक्रमण नहीं हो पाने के कारण TiO2 श्वेत है। जबकि TiCl3 में Ti3+ अवस्था में है जिसका विन्यास 3d1 है। अतः अयुग्मित d-इलेक्ट्रॉन की उपस्थिति के कारण TiCl3 बैंगनी रंग का होता है।
(ii) संक्रमण धातुओं की प्रथम पंक्ति में Cr (3d5) तक अयुग्मित d-इलेक्ट्रॉनों के संख्या में वृद्धि होती है तथा फिर युग्मन प्रारम्भ होने के कारण इनकी संख्या घटती जाती है। अत: इसी के अनुसार पहले Cr तक अनुचुम्बकत्व बढ़ता है और फिर घटने लगता है।

प्रश्न 17.
किन्हीं पाँच बिन्दुओं पर लैन्थेनाइड और ऐक्टिनाइड की तुलना कीजिए।
उत्तर-लैन्थेनाइडों एवं ऐक्टिनाइडों की तुलना –
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 31

MP Board Solutions

प्रश्न 18.
क्रोमिल क्लोराइड परीक्षण समीकरण सहित लिखिए।
उत्तर
जब किसी धातु क्लोराइड को ठोस पोटैशियम डाइक्रोमेट एवं सांद्र H,SO के साथ गर्म किया जाता है तब क्रोमिल क्लोराइड का नारंगी वाष्प बनता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 32
प्राप्त वाष्प को NaOH विलयन में प्रवाहित करने पर सोडियम क्रोमेट का पीले रंग का विलयन प्राप्त होता है, जो CH3COOH की उपस्थिति में लेड ऐसीटेट मिलाने पर, लेड क्रोमेट का पीला अवक्षेप देता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 33

प्रश्न 19.
प्रथम संक्रमण श्रेणी में उपस्थित तत्वों के नाम, संकेत तथा इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए।
उत्तर
प्रथम संक्रमण श्रेणी में उपस्थित तत्वों के नाम, संकेत तथा इलेक्ट्रॉनिक विन्यास –
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 34

प्रश्न 20.
f-ब्लॉक तत्वों का सामान्य इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए। लैन्थेमाइड्स के कोई दो उपयोग लिखिए। ऐक्टिनाइड्स के कोई तीन उपयोग लिखिए।
उत्तर
ब्लॉक तत्वों का सामान्य विन्यास –
(n-2)f1-14, (n-1) s2p6 d0-1,ns2 होता है।
लैन्थेनाइड्स के दो उपयोग –

(i) ज्वलनशील मिश्रधातु बनाने में
(ii) धूप के चश्मों में
(iii) रंगीन काँच व फिल्टर बनाने में।

ऐक्टिनाइड्स के उपयोग –

(i) नाभिकीय रिएक्टर में
(ii) कैंसर के उपचार में थोरियम का उपयोग
(iii) प्लूटोनियम का उपयोग परमाणु बम, परमाणु भट्ठी में होता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 21.
K2Cr2O7 एवं KMnO4 के उपयोग बताइए। .
उत्तर
K2Cr2O7 के उपयोग- (i) ऑक्सीकारक के रूप में, (ii) रंगाई व छपाई में, (iii) आयतनमितीय विश्लेषण में, (iv) क्रोमेटेजिंग में।
KMnO4 के उपयोग-(i) ऑक्सीकारक के रूप में, (ii) आयतनात्मक विश्लेषण में, (iii) कार्बनिक यौगिकों के निर्माण में, (iv) संक्रमणरोधी के रूप में।

प्रश्न 22.
अप्रारूपी संक्रमण तत्व एवं प्रारूपी संक्रमण तत्व किसे कहते हैं ?
उत्तर
Zn, Cd तथा Hg के परमाणुओं में (n-1)d उपकक्ष पूर्ण होते है। अत: इन तत्वों को d- समुदाय तत्व नहीं मानना चाहिए। इसी प्रकार ये तत्व d- समुदाय के तत्वों से गुणों के आधार पर बहुत कम समानता रखते हैं। परन्तु फिर भी ये तत्व d- समुदाय के तत्व कहलाते हैं । अत: Zn, Cd तथा Hg को अप्रारूपी संक्रमण तत्व कहा जाता है। जबकि अन्य संक्रमण तत्वों को प्रारूपी संक्रमण तत्व कहा जाता है।

प्रश्न 23.
Cu+ रंगहीन है परन्तु Cu2+ रंगीन होता है, क्यों?
उत्तर
Cu+ का उपकोश पूर्ण भरा होता है। इस प्रकार इनका d – d संक्रमण नहीं होता और वह सफेद अथवा रंगहीन रहता है। जबकि Cu2+ में अयुग्मित 3d इलेक्ट्रॉन होने के कारण एवं d-d संक्रमण सम्भव होने के कारण वह रंगीन होता है।

प्रश्न 24.
संक्रमण तत्व क्या है ? इन्हें कितनी श्रेणियों में विभाजित किया गया है ?
उत्तर
वे तत्व जिनमें परमाण्विक अवस्था में d-कक्षक आंशिक रूप से भरे हुए हों, संक्रमण तत्व कहलाते हैं, इन्हें 4 श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है –

1. प्रथम संक्रमण श्रेणी (3d- Series)- इसमें चतुर्थ आवर्त के Sc21 स्कैंडियम से जिंक (Zn = 30) तक 10 तत्व हैं।
2. द्वितीय संक्रमण श्रेणी (4d- Series)- इसमें पंचम आवर्त के इट्रियम Y39 से कैडमियम Cd48 तक 10 तत्व हैं।
3. तृतीय संक्रमण श्रेणी (5d- Series)- इसमें छठे आवर्त के लैन्थेनम (La = 57) तथा (Hf =72) से मर्करी (Hg = 80) तक के 10 तत्व हैं।
4. चतुर्थ संक्रमण श्रेणी(6d- Series)- इसमें सातवें आवर्त ऐक्टीनियम (Ac=89) तथा रदरफोर्डियम (Rf =72) तथा हाड्रियम (Ha = 105) हैं ये श्रेणी अभी अपूर्ण है।

MP Board Solutions

प्रश्न 25.
संक्षेप में स्पष्ट कीजिए कि प्रथम संक्रमण श्रेणी के प्रथम अर्द्धभाग में बढ़ते हुए परमाणु क्रमांक के साथ +2 ऑक्सीकरण अवस्था कैसे अधिक स्थायी होती जाती है?
उत्तर
(IE1 + IE2) आयनन ऊर्जा का मान बढ़ता है। परिमाणस्वरुप मानक अपचयन विभव E0 कम होता जाता है। अत: M+2 आयन बनने की क्षमता घटती है। Mn+2 के लिए उच्च क्षमता अर्द्धपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक विन्यास के कारण है। इसलिए प्रथम सदस्य के लिए इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 3d14s2 है, जिनमें तीन इलेक्ट्रॉन दान करने की क्षमता होती है। अतः +2 ऑक्सीकरण अवस्था की तुलना में +3 ऑक्सीकरण अवस्था की प्रबलता अधिक है।

d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
लैन्थेनाइड का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास देते हुए इसके ऑक्सीकरण अवस्था को समझाइए।
उत्तर
अन्तर संक्रमण तत्त्वों की दो श्रेणियों में एक है लैन्थेनाइड या 4fश्रेणी । इस श्रेणी के तत्त्वों में 4fकक्षक में क्रमशः इलेक्ट्रॉन भरते हैं । इनका सामान्य इलेक्ट्रॉनिक विन्यास [Xe] 4f1-145d1-26s2 होता है। इनकी कुल संख्या 14 है जो सीरियम (परमाणु क्रमांक 58) से प्रारम्भ होकर ल्यूटीशियम (परमाणु क्रमांक 71) पर समाप्त होती है ।

ऑक्सीकरण अवस्था – लैन्थेनाइड तत्त्वों की सर्वाधिक ऑक्सीकरण अवस्था (+3) होती है। यह लैन्थेनम से दो और एक d-कक्षक के इलेक्ट्रॉन के खोने से बनती है। La3+ का विन्यास जेनॉन (Xe = 54) जैसा होता है जो कि अत्यधिक स्थायी होता है। कुछ तत्व (+ 2) और (+4) ऑक्सीकरण भी प्रदर्शित करते हैं क्योंकि ये तत्व 2 या 4 इलेक्ट्रॉन खोने के बाद स्थायी f7 या f14 विन्यास प्राप्त करते हैं।

उदाहरणार्थ – Ce4+(4f°), Tb+ (4f7),Eu2+ (4f7), Yb2+ (4f14), परन्तु Sm2+, Tm2+ इसके अपवाद हैं।
सामान्यतः लैन्थेनाइड में +4 ऑक्सीकरण अवस्था प्रबल ऑक्सीकरण का कार्य करती है, जैसे Ce+4 आयन जलीय विलयन का अच्छा ऑक्सीकरक है जो +4 से +3 में परिवर्तित हो जाता है तथा दूसरी ओर लैन्थेनाइड में +2 ऑक्सीकरण अवस्था प्रबल अपचायक की तरह कार्य करती है। जैसे-Sm+2, Eu+2 और Yb+2 आयन अच्छा अपचायक है जो जलीय विलयन में +2 से +3 में ऑक्सीकृत हो जाता है।

प्रश्न 2.
क्रोमाइट अयस्क से K2Cr2O7 बनाने की विधि लिखिए तथा K2Cr2O7 की अम्लीय FeSO4 KI एवं H2S के मध्य अभिक्रिया के लिए संतुलित समीकरण लिखिए।
उत्तर
बनाने की विधि-K2Cr2O7 को क्रोमाइट अयस्क (Fe2Cr2O4) या क्रोम आयरन (FeO.Cr203) से बनाया जाता है, जो निम्नलिखित पदों में होते हैं।

(1) क्रोमाइट अयस्क का सोडियम क्रोमेट में परिवर्तन-क्रोमाइट अयस्क को NaOH या Na2CO3 के साथ वायु की उपस्थिति में एक परावर्तनी भट्टी में गर्म करने पर सोडियम क्रोमेट (पीला रंग) बनता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 35

पदार्थ को छिद्रमय रखने हेतु कुछ मात्रा में शुष्क चूने को मिलाते हैं । जल के साथ निष्कर्षण करने पर Na2Cr2O3 विलयन में चला जाता है। जबकि Fe2O3 रह जाता है जिसे छानकर पृथक् कर लेते हैं।

(2) सोडियम क्रोमेट (Na2CrO4) का सोडियम डाइक्रोमेट (Na2Cr2O7) में परिवर्तन-सोडियम क्रोमेट विलयन सान्द्र H2SO4 के साथ अपचयित करके सोडियम डाइक्रोमेट बनाते हैं।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 36
2Na2CrO4 कम विलेय होता है जिसका वाष्पन करने पर Na2SO410H2O के रूप में क्रिस्टलीकृत हो जाता है जिसे पृथक् कर लिया जाता है।

(3) Na2Cr2O7 का K2Cr2O7 में परिवर्तन-सोडियम डाइक्रोमेट के जलीय विलयन का उपचार KCI के साथ किये जाने पर पोटैशियम डाइ क्रोमेट प्राप्त होता है। K2Cr207 के अल्प विलेय प्रकृति के कारण इसके क्रिस्टल ठण्डे में प्राप्त किये जाते हैं।

MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 37

K2Cr2O7 की निम्न के साथ होने वाली रासायनिक अभिक्रिया –

(1) अम्लीय फेरस सल्फेट के साथ-K2Cr207 अम्लीय माध्यम में यह फेरस सल्फेट को फेरिक सल्फेट में ऑक्सीकृत कर देता है। K2Cr2O7 पहले H2SO4 से क्रिया करके नवजात ऑक्सीजन का तीन परमाणु देता है जो Fe2+ को Fe3+ आयन में ऑक्सीकृत कर देता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 38

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
अम्लीय, क्षारीय तथा उदासीन माध्यम में KMnO के ऑक्सीकारक गुण को दो-दो उदाहरण द्वारा समझाइए।
अथवा, पोटैशियम परमैंगनेट के अम्लीय माध्यम में कोई ऑक्सीकारक गुणों को समीकरण द्वारा समझाइए।
उत्तर
KMnO4 का विलयन उदासीन हो, क्षारीय हो या अम्लीय हो, प्रत्येक परिस्थिति में यह तीव्र ऑक्सीकारक का कार्य करता है।
(1) अम्लीय माध्यम में-तनु H2SO4 की उपस्थिति में KMnO4 अपचयित हो जाता है तथा इसके दो अणुओं से ऑक्सीजन के पाँच परमाणु प्राप्त होते हैं।
2KMnO4 + 3H2SO4→K2SO4 + 2MnSO4 + 3H2O + 5[0]

उदाहरण – (i) फेरस लवण का फेरिक लवण में ऑक्सीकरण –
अम्लीय KMnO4 से प्राप्त नवजात ऑक्सीजन फेरस लवण को फेरिक लवण में ऑक्सीकृत करता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 39

(ii) ऑक्जेलिक अम्ल का ऑक्सीकरण-अम्लीय माध्यम में KMnO4 ऑक्जेलिक अम्ल को CO2 में ऑक्सीकृत कर देता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 40

(iii) आयोडाइड आयन का आयोडीन में परिवर्तन
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 41

(iv) नाइट्राइट का नाइट्रेट में ऑक्सीकरण
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 42

(2) क्षारीय माध्यम में-क्षारीय माध्यम में KMnOa, MnO, में अपचयित होता है तथा 3 नवजात ऑक्सीजन देता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 43
उदाहरण-(i) आयोडाइड का आयोडेट में ऑक्सीकरणक्षारीय माध्यम में KI का आयोडेट में ऑक्सीकरण होता है।
2KMnO4 + H2O +KI→KIO3 +2MnO2 + 2KOH

(ii) एथिलीन का ग्लाइकॉल में ऑक्सीकरण –
क्षारीय KMnO4 एथिलीन का एथिलीन ग्लाइकॉल में ऑक्सीकरण करता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 44

(3) उदासीन माध्यम में-उदासीन माध्यम में भी KMnO4 ऑक्सीकारक की तरह कार्य करता है। अभिक्रिया में बना KOH विलयन को क्षारीय बना देता है। KMnO4, MnO2 में अपचयित हो जाता है एवं 2 मोल KMnO4 से 2 मोल नवजात ऑक्सीजन मुक्त होते हैं।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 45

प्रश्न 4.
पायरोलुसाइट से KMnO4 बनाने की विधि लिखिए तथा KMnO4 की अम्लीय, क्षारीय तथा उदासीन माध्यम में ऑक्सीकारक गुणों को एक-एक उदाहरण देकर समझाइए।
उत्तर
पायरोलुसाइट से KMnO4 का निर्माण
1. पायरोलुसाइट का KMnO4 (हरे पदार्थ) में परिवर्तन-पायरोलुसाइट को वायुमण्डलीय O2 में KOH या K2CO3 के साथ गलित करने पर पोटैशियम मैंगनेट का हरा पदार्थ बनता है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 46

MP Board Solutions

2. K2MnO4 का KMnO4 में परिवर्तन-K2MnO4 के हरे पदार्थ को जल के साथ निष्कासित करके रासायनिक ऑक्सीकरण या विद्युत्-अपघटनी ऑक्सीकरण द्वारा KMnO4 में ऑक्सीकृत करते हैं।
(a) रासायनिक ऑक्सीकरण-KMnO4 के हरे विलयन का उपचार Cl2, O2 या CO2 की धारा में प्रवाहित करके KMnO में ऑक्सीकृत किया गया है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 47

(b) विद्युत्-अपघटनी ऑक्सीकरण-इस विधि में आयरन कैथोड एवं निकिल ऐनोड के मध्य K2MnO4 विलयन का विद्युत्-अपघटन किया जाता है, तो मैंगनेट आयन का ऐनोड पर परमैंगनेट आयन (MnO4) में ऑक्सीकरण हो जाता है तथा कैथोड पर H, मुक्त होती है।
MP Board Class 12th Chemistry Solutions Chapter 8 d एवं f-ब्लॉक के तत्त्व - 49
अम्लीय, क्षारीय तथा उदासीन माध्यम में ऑक्सीकारक गुणों के उदाहरण-दीर्घ उत्तरीय प्रश्न क्र. 3 देखिए।

MP Board Class 12th General Hindi निबंध साहित्य का इतिहास

In this article, we will share MP Board Class 12th Hindi Solutions निबंध साहित्य का इतिहास Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 12th General Hindi निबंध साहित्य का इतिहास

निबंध का उदय

आधुनिक युग को गद्य की प्रतिस्थापना का श्रेय जाता है। जिस विश्वास, भावना और आस्था पर हमारे युग की बुनियाद टिकी थी उसमें कहीं न कहीं अनास्था, तर्क और विचार ने अपनी सेंध लगाई। कदाचित् यह सेंध अपने युग की माँग थी जिसका मुख्य साधन गद्य बना। यही कारण है, कवियों ने गद्य साहित्य में भी अपनी प्रतिभा का परिचय दिया।

हिंदी गद्य का आरम्भ भारतेंदु हरिश्चंद्र से माना जाता है। वह कविता के क्षेत्र में चाहे परम्परावादी थे पर गद्य के क्षेत्र में नवीन विचारधारा के पोषक थे। उनका व्यक्तित्व इतना समर्थ था कि उनके इर्द-गिर्द लेखकों का एक मण्डल ही बन गया था। यह वह मण्डल था जो हिंदी गद्य के विकास में महत्त्वपूर्ण स्थान रखते हैं। हिंदी गद्य के विकास में दशा और दिशा की आधारशिला रखने वालों में इस मण्डल का अपूर्व योगदान है। इन लेखकों ने अपनी बात कहने के लिए निबंध विधा को चुना।

निबंध की व्युत्पत्ति, स्वरूप एवं परिभाषा

निबंध की व्युत्पत्ति पर विचार करने पर पता चलता है कि ‘नि’ उपसर्ग, ‘बन्ध’ धातु और ‘धर्म प्रत्यय से यह शब्द बना है। इसका अर्थ है बाँधना। निबंध शब्द के पर्याय के रूप में लेख, संदर्भ, रचना, शोध प्रबंध आदि को स्वीकार किया जाता है। निबंध को हिंदी में अंग्रेजी के एसे और फ्रेंच के एसाई के अर्थ में ग्रहण किया जाता है जिसका सामान्य अर्थ प्रयत्न, प्रयोग या परीक्षण कहा गया है।

निबंध की भारतीय व पाश्चात्य परिभाषाएँ कोशीय अर्थ।

‘मानक हिंदी कोश’ में निबंध के संबंध में यह मत प्रकट किया गया है-“वह विचारपूर्ण विवरणात्मक और विस्तृत लेख, जिसमें किसी विषय के सब अंगों का मौलिक और स्वतंत्र रूप से विवेचन किया गया हो।”

हिंदी शब्द सागर’ में निबंध शब्द का यह अर्थ दिया गया है- ‘बन्धन वह व्याख्या है जिसमें अनेक मतों का संग्रह हो।”

पाश्चात्य विचारकों का मत

निबंध शब्द का सबसे पहले प्रयोग फ्रेंच के मांतेन ने किया था, और वह भी एक विशिष्ट काव्य विधा के लिए। इन्हें ही निबंध का जनक माना जाता है। उनकी रचनाएँ आत्मनिष्ठ हैं। उनका मानना था कि “I am myself the subject of my essays because I am the only person whom I know best.”

MP Board Solutions

अंग्रेजी में सबसे पहले एस्से शब्द का प्रयोग बेकन ने किया था। वह लैटिन । भाषा का ज्ञाता था और उसने इस भाषा में अनेक निबंध लिखे। उसने निबंध कोबिखरावमुक्त चिन्तन कहा है।

सैमुअल जॉनसन ने लिखा, “A loose sally of the mind, an irregular, .. undigested place is not a regular and orderly composition.” “निबंध मानसिक जगत् की विशृंखल विचार तरंग एक असंगठित-अपरिपक्व और अनियमित विचार खण्ड है। निबंध की समस्त विशेषताएँ हमें आक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी में दी गई इस परिभाषा में मिल जाती है, “सीमित आकार की एक ऐसी रचना जो किसी विषय विशेष या उसकी किसी शाखा पर लिखी गई हो, जिसे शुरू में परिष्कारहीन अनियमित, अपरिपक्व खंड माना जाता था, किंतु अब उससे न्यूनाधिक शैली में लिखित छोटी आकार की संबद्ध रचना का बोध होता है।”

भारतीय विचारकों का मत

आचार्य रामचंद्र शक्ल-आचार्य रामचंद्र शक्ल ने निबंध को व्यवस्थित और मर्यादित प्रधान गद्य रचना माना है जिसमें शैली की विशिष्टता होनी चाहिए, लेखक का निजी चिंतन होना चाहिए और अनुभव की विशेषता होनी चाहिए। इसके अतिरिक्त लेखक के अपने व्यक्तित्व की विशिष्टता भी निबंध में रहती है। हिंदी साहित्य के इतिहास में आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने निबंध की परिभाषा देते हुए लिखा, “आधुनिक पाश्चात्य लेखकों के अनुसार निबंध उसी को कहना चाहिए जिसमें व्यक्तित्व अर्थात् व्यक्तिगत विशेषता है। बात तो ठीक है यदि ठीक तरह से समझी जाय। व्यक्तिगत विशेषता का यह मतलब नहीं कि उसके प्रदर्शन के लिए विचारकों की श्रृंखला रखी ही न जाए या जान-बूझकर जगह-जगह से तोड़ दी जाए जो उनकी अनुमति के प्रकृत या लोक सामान्य स्वरूप से कोई संबंध ही न रखे अथवा भाषा से सरकस वालों की सी कसरतें या हठयोगियों के से आसन कराये जाएँ, जिनका लक्ष्य तमाशा दिखाने के सिवाय और कुछ न हो।”

बाबू गुलाब राय-बाबू गुलाबराय ने भी निबंध में व्यक्तित्व और विचार दोनों को आवश्यक माना है। वे लिखते हैं- “निबंध उस गद्य रचना को कहते हैं जिसमें एक सीमित आकार के भीतर किसी विषय का वर्णन या प्रतिपादन एक विशेष निजीपन, स्वच्छंदता, सौष्ठव, सजीवता तथा अनावश्यक संगति और संबद्धता के साथ किया गया हो।”

निबंध की परिभाषाओं का अध्ययन करने पर हम इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि निबंध एक गद्य रचना है। इसका प्रमुख उद्देश्य अपनी वैयक्तिक अनुभूति, भावना या आदर्श को प्रकट करना है। यह एक छोटी-सी रचना है और किसी एक विषय पर लिखी गई क्रमबद्ध रचना है। इसमें विषय की एकरूपता होनी चाहिए और साथ ही तारतम्यता भी। यह गद्य काव्य की ऐसी विधा है जिसमें लेखक सीमित आकार में अपनी भावात्मकता और प्रतिक्रियाओं को प्रकट करता है।

निबंध के तत्त्व

प्राचीन काल से आज तक साहित्य विधाओं में अनेक बदलाव आए हैं। साधारणतः निबंध में निम्नलिखित तत्त्वों का होना अनिवार्य माना गया है
1. उपयुक्त विषय का चुनाव-लेखक जिस विषय पर निबंध लिखना चाहता है उसे सबसे पहले उपयुक्त विषय का चुनाव करना चाहिए। इसके लिए उसे पर्याप्त सोच-विचार करना चाहिए। निबंध का विषय सामाजिक, वैज्ञानिक, दार्शनिक आर्थिक, ऐतिहासिक, धार्मिक, साहित्यिक, वस्तु, प्रकृति-वर्णन, चरित्र, संस्मरण, भाव, घटना आदि में से किसी भी विषय पर हो सकता है, किंतु विषय ऐसा होना चाहिए कि जिसमें लेखक अपना निश्चित पक्ष व दृष्टिकोण भली-भाँति व्यक्त कर सके।

2. व्यक्तित्व की अभिव्यक्ति-निबंध में निबंधकार के व्यक्तित्व की अभिव्यक्ति दिखनी चाहिए। मोन्तेन ने निबंधों पर निजी चर्चा करते हुए लिखा है, “ये मेरी भावनाएँ हैं, इनके द्वारा मैं स्वयं को पाठकों के समक्ष प्रस्तुत करता हूँ।” भारतीय और पाश्चात्य दोनों ही विचारकों ने निबंध लेखक के व्यक्तित्व के महत्त्व को स्वीकार किया है। निबंध लेखक की आत्मीयता और वैयक्तिकता के कारण ही विषय के सम्बन्ध में निबंधकार के विचारों, भावों और अनुभूति के आधार पर पाठक उनके साथ संबद्ध कर पाता है। इस प्रकार निबंधकार के व्यक्तित्व को निबंध का केंद्रीय गुण कहा जाता है।

3. एकसूत्रता-निबंध बँधी हुई एक कलात्मक रचना है। इसमें विषयान्तर की संभावना नहीं होती, इसलिए निबंध के लिए आवश्यक है कि निबंधकार अपने विचारों को एकसूत्रता के गुण से संबद्ध करके प्रस्तुत करता है। निबंध के विषय के मुख्य भाव या विचार पर अपनी दृष्टि डालते हुए निबंधकार तथ्यों को उसके तर्क के रूप में प्रस्तुत करता है। इन तर्कों को प्रस्तुत करते हुए निबंधकार को यह ध्यान रखना पड़ता है कि तथ्यों और तर्कों के बीच अन्विति क्रम बना रहे। कई निबंधकार निबंध लिखते समय अपनी भाव-तरंगों पर नियन्त्रण नहीं रख पाते, ऐसे में वह विषय अलग हो जाता है। वस्तुतः लेखक का कर्तव्य है कि वह विषयान्तर न हो। अगर विषयान्तर हो भी गया तो उसे इधर-उधर विचरण कर पुनः अपने विषय पर आना ही पड़ेगा। निबंधकार को अपने अभिप्रेत का अंत तक बनाए रखना चाहिए।

4. मर्यादित आकार-निबंध आकार की दृष्टि से छोटी रचना है। इस संदर्भ में हर्बट रीड ने कहा है कि निबंध 3500 से 5000 शब्दों तक सीमित किया जाना चाहिए। वास्तव में निबंध के आकार के निर्धारण की कोई आवश्यकता नहीं है। निबंध विषय के अनुरूप और सटीक तर्कों द्वारा लिखा जाता है। लेखक अपने विचार भावावेश के क्षणों में व्यक्त करता है। ऐसे में वह उसके आकार के विषय में सोचकर नहीं चलता। आवेश के क्षण बहुत थोड़ी अवधि के लिए होते हैं, इसलिए निश्चित रूप से निबंध का आकार स्वतः ही लघु हो जाता है। इसमें अनावश्यक सूचनाओं को कोई स्थान नहीं मिलता।

5. स्वतःपूर्णता-निबंध का एक गुण या विशेषता है कि यह अपने-आप में पूर्ण होना चाहिए। निबंधकार का दायित्व पाठकों को निबंध में चुने हुए विषय की समस्त जानकारी देना है। यही कारण है कि उसे विषय के पक्ष और विपक्ष दोनों पर पूर्णतः विचार करना चाहिए। विषय से संबंधित कोई ज्ञान अधूरा नहीं रहना चाहिए। जिस भाव या विचार या बिंदु को लेकर निबंधकार निबंध लिखता है, निबंध के अंत तक पाठक के मन में संतुष्टि का भाव जागृत होना चाहिए। अगर पाठक के मन में किसी तरह का जिज्ञासा भाव रह जाता है तो उस निबंध को अपूर्ण माना जाता है और इसे निबंध के अवगुण के रूप में शुमार कर लिया जाएगा।

6. रोचकता-निबंध क्योंकि एक साहित्यिक विधा है इसलिए इसमें रोचकता का तत्त्व निश्चित रूप से होना चाहिए। यह अलग बात है कि निबंध का सीधा संबंध बुद्धि तत्त्व से रहता है। फिर इसे ज्ञान की विधा न कहकर रस की विधा कहा जाता है, इसलिए इसमें रोचकता होनी चाहिए, ललितता होनी चाहिए और आकर्षण होना चाहिए। निबंध के विषय प्रायः शुष्क होते हैं, गंभीर होते हैं या बौद्धिक होते हैं।

अगर निबंधकार इन विषयों को रोचक रूप में पाठक तक पहुँचाने में समर्थ हो जाता है तो इसे निबंध की पूर्णता और सफलता कहा जाएगा।

निबंध के भेद

निबंध के भेद, इसके लिए अध्ययन किए गए हैं। विषयों की विविधता से देखा जाए तो इन्हें सीमा में नहीं बाँधा जा सकता। अतः निबंध लेखन का विषय दुनिया के किसी भी कोने का हो सकता है। विद्वानों ने निबंधों का वर्गीकरण तो अवश्य किया है पर यह वर्गीकरण या तो वर्णनीय विषय के आधार पर किया है या फिर उसकी शैली के आधार पर। निबंध का सबसे अधिक प्रचलित वर्गीकरण यह है

1. वर्णनात्मक-वर्णनात्मक निबंध वे कहलाते हैं जिनमें प्रायः भूगोल, यात्रा, ऋतु, तीर्थ, दर्शनीय स्थान, पर्व-त्योहार, सभा- सम्मेलन आदि विषयों का वर्णन किया जाता है। इनमें दृश्यों व स्थानों का वर्णन करते हुए रचनाकार कल्पना का आश्रय लेता है। ऐसे में उसकी भाषा सरल और सुगम हो जाती है। इसमें लेखक निबंध को रोचक बनाने में पूरी कोशिश करता है।

MP Board Solutions

2. विवरणात्मक-इस प्रकार के निबंधों का विषय स्थिर नहीं रहता अपितु गतिशील रहता है। शिकार वर्णन, पर्वतारोहण, दुर्गम प्रदेश की यात्रा आदि का वर्णन जब कलात्मक रूप से किया जाता है तो वे निबंध विवरणात्मक निबंधों की शैली में स्थान पाते हैं। विवरणात्मक निबंधों में विशेष रूप से घटनाओं का विवरण अधिक होता है।

3. विचारात्मक-इस प्रकार के निबंधों में बौद्धिक चिन्तन होता है। इनमें दर्शन, अध्यात्म, मनोविज्ञान आदि विषयगत पक्षों का विवेचन किया जाता है। लेखक अपने अध्ययन व चिन्तन के अनुरूप तर्क-शितर्क और खण्डन का आश्रय लेते हुए विषय का प्रभावशाली विवेचन करता है। इनमें बौद्धिकता तो होती ही है साथ ही भावना और कला कल्पना का समन्वय भी होता है। ऐसे निबंधों में लेखक आमतौर पर तत्सम शैली अपनाता है। समासिकता की प्रधानता भी होती है।

4. भावात्मक-इस श्रेणी में उन निबंधों को स्थान मिलता है जो भावात्मक विषयों पर लिखे जाते हैं। इन निबंधों का निस्सरण हृदय से होता है। इनमें रागात्मकता होती है इसलिए लेखक कवित्व का भी प्रयोग कर लेता है। अनुभूतियाँ और उनके उद्घाटन की रसमय क्षमता इस प्रकार के निबंध लेखकों की संपत्ति मानी जाती हैं। वस्तुतः कल्पना के साथ काव्यात्मकता का पुट इन निबंधों में दृश्यमान होता है।

वर्गीकरण अनावश्यक

गौर से देखा जाए तो इन चारों भेदों की कोई ज़रूरत नहीं है क्योंकि ये निबंध लेखन की शैली हैं। इन्हें वर्गीकरण नहीं कहा जाना चाहिए। अगर कोई कहता है कि वर्णनात्मक निबंध है या दूसरा कोई कहता है कि विवरणात्मक निबंध है तो यह शैली नहीं है तो और क्या है?

वस्तुतः इन्हें विचारात्मक निबंध की श्रेणी में रखा जा सकता है। विचारात्मक निबंधों का विषय मानव जीवन का व्यापक कार्य क्षेत्र है और असीम चिंतन लोक है। इसमें धर्म, दर्शन, मनोविज्ञान आदि विषयों का गंभीर विश्लेषण होता है। इसे निबंध का आदर्श भी कहा जा सकता है। इसमें निबंधकार के गहन चिंतन, मनन, सूक्ष्म अन्तर्दृष्टि और विशद ज्ञान का स्पष्ट रूप देखने को मिलता है। इस संबंध में आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने कहा है, “शुद्ध विचारात्मक निबंधों का वहाँ चरम उत्कर्ष नहीं कहा जा सकता है जहाँ एक-एक पैराग्राफ में विचार दबा-दबाकर.टूंसे गए हों, और एक-एक वाक्य किसी विचार खण्ड को लिए हुए हो।’

आचार्य शुक्ल ने अपने निबंधों में स्वयं इस शैली का बखूबी प्रयोग किया है। इसके अतिरिक्त आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने भी इस प्रकार के अनेक निबंध लिखे हैं जिनमें उनके मन की मुक्त उड़ान को अनुभव किया जा सकता है। इन निबंधों में उनकी व्यक्तिगत रुचि और अरुचि का प्रकाशन है। नित्य प्रति के सामान्य शब्दों को अपनाते हुए बड़ी-बड़ी बातें कह देना द्विवेदीजी की अपनी विशेषता है। व्यक्तिगत निबंध जब लेखक लिखता है तो उसका संबंध उसके संपूर्ण निबंध से होता है। आचार्यजी के इसी प्रकार के निबंध ललित निबंध कहलाते रहे हैं। आचार्यजी ने स्वयं कहा है, “व्यक्तिगत निबंधों का लेखन किसी एक विषय को छेड़ता है किंतु जिस प्रकार वीणा के एक तार को छेड़ने से बाकी सभी तार झंकृत हो उठते हैं उसी प्रकार उस एक विषय को छुते ही लेखक की चित्तभूमि पर बँधे सैकड़ों विचार बज उठते हैं।”

आचार्य रामचंद्र शुक्ल व्यक्तित्व व्यंजना को निबंधों का आवश्यक गुण मानते हैं। उन्होंने वैचारिक गंभीरता और क्रमबद्धता का समर्थन किया है। आज हिंदी में दो ही प्रकार के प्रमुख निबंध लिखे जा रहे हैं, “व्यक्तिनिष्ठ और वस्तुनिष्ठ। यों निबंध का कोई भी विषय हो सकता है। साहित्यिक भी हो सकता है और सांस्कृतिक भी। सामाजिक भी और ऐतिहासिक आदि भी। वस्तुतः कोई भी निबंध केवल वस्तुनिष्ठ नहीं हो सकता और न ही व्यक्तिनिष्ठ हो सकता है। निबंध में कभी चिंतन की प्रधानता होती है और कभी लेखक का व्यक्तित्व उभर आता है।”

निबंध शैली

वस्तुतः निबंध शैली को अलग रूप में देखने की परम्परा-सी चल निकली है अन्यथा निबंधों का व करण निबंध शैली ही है। लेखक की रचना ही उसकी सबसे बड़ी शक्ति होती है। शैली ही उसके व्यक्तित्व की पहचान होती है। एक आलोचक ने शैली के बारे में कहा है कि जितने निबंध हैं, उतनी शैलियाँ हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि निबंध लेखन में लेखक के निजीपन का पूरा असर पड़ता है। निबंध की शैली से ही किसी निबंधकार की पहचान होती है क्योंकि एक निबंधकार की शैली दूसरे निबंधकार से भिन्न होती हैं।

मुख्य रूप से निबंध की निम्न शैलियाँ कही जाती हैं-
1. समास शैली-इस निबंध शैली में निबंधकार कम से कम शब्दों में अधिक-से-अधिक विषय का प्रतिपादन करता है। उसके वाक्य सुगठित और कसे हुए होते हैं। गंभीर विषयों के लिए इस शैली का प्रयोग किया जाता है।

2. व्यास शैली-इस तरह के निबंधों में लेखक तथ्यों को खोलता हुआ चला जाता है। उन्हें विभिन्न तर्कों और उदाहरणों के ज़रिए व्याख्यायित करता चला जाता है। वर्णनात्मक, विवरणात्मक और तुलनात्मक निबंधों में निबंधकार इसी प्रकार की शैली का प्रयोग करता है।

3. तरंग या विक्षेप शैली-इस शैली में निबंधकार में एकान्विति का अभाव रहता है। इसमें निबंधकार अपने मन की मौज़,में आकर बात कहता हुआ चलता है पर विषय पर केंद्रित अवश्य रहता है।

4. विवेचन शैली-इंस निबंध शैली में लेखक तर्क-वितर्क के माध्यम से प्रमाण पुष्टि और व्याख्या के माध्यम से, निर्णय आदि के माध्यम से अपने विषय को बढ़ाता हुआ चलता है। इस शैली में लेखक गहन चिंतन के आधार पर अपना कथ्य प्रस्तुत करता चला जाता है। विचारात्मक निबंधों में लेखक इस शैली का प्रयोग करता है। आचार्य रामचंद्र शुक्ल के निबंध इसी प्रकार की शैली के अन्तर्गत माने जाते हैं।

5. व्यंग्य शैली-इस शैली में निबंधकार व्यंग्य के माध्यम से अपने विषयों का प्रतिपादन करता चलता है। इसमें उसके विषय धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक आदि भी हो सकते हैं। इसमें रचनाकार किंचित हास्य का पुट देकर विषय को पठनीय बना देता है। शब्द चयन और अर्थ के चमत्कार की दृष्टि से इस शैली का निबंधकारों में विशेष प्रचलन है। व्यंग्यात्मक निबंध इसी शैली में लिखे जाते हैं।

MP Board Solutions

6. निगमन और आगमन शैली-निबंधकार अपने विषय का प्रतिपादन करने । की दृष्टि से निगमन शैली और आगमन शैली का प्रयोग करता है। इस प्रकार की शैली में लेखक पहले विचारों को सूत्र रूप में प्रस्तुत करता है। तद्उपरांत उस सूत्र के अन्तर्गत पहले अपने विचारों की विस्तार के साथ व्याख्या करता है। बाद में सूत्र रूप में सार लिख देता है। आगमन शैली निनन शैली के विपरीत होती है। इसके अतिरिक्त निबंध की अन्य कई शैलियों को देखा जा सकता है, जैसे प्रलय शैली। इस प्रकार की शैली में निबंधकार कुछ बहके-बहके भावों की अभिव्यंजना करता है। कुछ लेखकों के निबंधों में इस शैली को देखा जा सकता है। भावात्मक निबंधों के लिए कुछ निबंधकार विक्षेप शैली अपनाते हैं। धारा शैली में भी कुछ निबंधकार निबंध लिखते हैं। इसी प्रकार कुछ निबंधकारों ने अलंकरण, चित्रात्मक, सूक्तिपरक, धाराप्रवाह शैली का भी प्रयोग किया है। महादेवी वर्मा की निबंध शैली अलंकरण शैली है।

हिंदी निबंध : विकास की दिशाएँ
हिंदी गद्य का अभाव तो भारतेंदुजी से पूर्व भी नहीं था, पर कुछ अपवादों तक सीमित था। उसकी न तो कोई निश्चित परंपरा थी और न ही प्रधानता। सन् 1850 के बाद गद्य की निश्चित परंपरा स्थापित हुई, महत्त्व भी बढ़ा। पाश्चात्य सभ्यता के संपर्क में आने पर हिंदी साहित्य भी निबंध की ओर उन्मुख हुआ। इसीलिए कहा जाता है कि भारतेंदु युग में सबसे अधिक सफलता निबंध लेखन में मिली। हिंदी निंबध साहित्य को निम्नलिखित भागों में विभाजित किया जा सकता है

  • भारतेंदुयुगीन निबंध,
  • द्विवेदीयुगीन निबंध,
  • शुक्लयुगीन निबंध
  • शुक्लयुगोत्तर निबंध एवं
  • सामयिक निबंध-1940 से अब तक।

भारतेंदुयुगीन निबंध-भारतेंदु युग में सबसे अधिक सफलता निबंध में प्राप्त हुई। इस युग के लेखकों ने विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से निबंध साहित्य को संपन्न किया! भारतेंदु हरिश्चंद्र से हिंदी निबंध का आरंभ माना जाना चाहिए। बालकृष्ण भट्ट और प्रतापनारायण मिश्र ने इस गद्य विधा को विकसित एवं समृद्ध किया। आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने इन दोनों लेखकों को स्टील और एडीसन कहा है। ये दोनों हिंदी के आत्म-व्यंजक निबंधकार थे। इस युग के प्रमुख निबंधकार हैं-भारतेंदु हरिश्चंद्र, प्रतापनारायण मिश्र, बालकृष्ण भट्ट, बदरीनारायण चौधरी ‘प्रेमघन’, लाला श्री निवासदास, राधाचरण गोस्वामी, काशीनाथ खत्री आदि। इन सभी निबंधकारों का संबंध किसी-न-किसी पत्र-पत्रिका से था। भारतेंदु ने पुरातत्त्व, इतिहास, धर्म, कला, समाज-सुधार, जीवनी, यात्रा-वृत्तांत, भाषा तथा साहित्य आदि अनेक विषयों पर निबंध लिखे। प्रतापनारायण मिश्र के लिए तो विषय की कोई सीमा ही नहीं थी। ‘धोखा’, ‘खुशामद’, ‘आप’, ‘दाँत’, ‘बात’ आदि पर उन्होंने अत्यंत रोचक निबंध लिखे। बालकृष्ण भट्ट भारतेंदु युग के सर्वाधिक समर्थ निबंधकार हैं। उन्होंने सामयिक विषय जैसे ‘बाल-विवाह’, ‘स्त्रियाँ और उनकी शिक्षा’ पर उपयोगी निबंध लिखे। ‘प्रेमघन’ के निबंध भी सामयिक विषयों पर टिप्पणी के रूप में हैं। अन्य निबंधकारों का महत्त्व इसी में है कि उन्होंने भारतेंदु, बालकृष्ण भट्ट और प्रतापनारायण मिश्र के मार्ग का अनुसरण किया।

द्विवेदीयुगीन निबंध-भारतेंदु युग में निबंध साहित्य की पूर्णतः स्थापना हो गई थी, लेकिन निबंधों का विषय अधिकांशतः व्यक्तिव्यंजक था। द्विवेदीयुगीन निबंधों में व्यक्तिव्यंजक निबंध कम लिखे गए। इस युग के श्रेष्ठ निबंधकारों में महावीर प्रसाद द्विवेदी (1864-1938), गोविंदनारायण मिश्र (1859-1926), बालमुकुंद गुप्त (1865-1907), माधव प्रसाद मिश्र (1871-1907), मिश्र बंधु-श्याम बिहारी मिश्र (1873-1947) और शुकदेव बिहारी मिश्र (1878-1951), सरदार पूर्णसिंह (1881-1939), चंद्रधर शर्मा गुलेरी (1883-1920), जगन्नाथ प्रसाद चतुर्वेदी (1875-1939), श्यामसुंदर दास (1875-1945), पद्मसिंह शर्मा ‘कमलेश’ (1876-1932), रामचंद्र शुक्ल (1884-1940), कृष्ण बिहारी मिश्र (1890-1963) आदि उल्लेखनीय हैं। महावीर प्रसाद द्विवेदी के निबंध परिचयात्मक या आलोचनात्मक हैं। उनमें आत्मव्यंजन तत्त्व नहीं है। गोंविद नारायण मिश्र के निबंध पांडित्यपूर्ण तथा संस्कृतनिष्ठ गद्यशैली के लिए प्रसिद्ध हैं। बालमुकुंद गुप्त ‘शिवशंभु के चिट्टे’ के लिए विख्यात हैं।

ये चिट्ठे “भारत मित्र’ में छपे थे। माधव प्रसाद मिश्र के निबंध ‘सुदर्शन’ में प्रकाशित हुए। उनके निबंधों का संग्रह ‘माधव मिश्र निबंध माला’ के नाम से प्रकाशित है। सरदार पूर्णसिंह भी इस युग के निबंधकार हैं। इनके निबंध नैतिक विषयों पर हैं। कहीं-कहीं इनकी शैली व्याख्यानात्मक हो गई हैं। चंद्रधर शर्मा गलेरी ने कहानी के अतिरिक्त निबंध भी लिखे। उनके निबंधों में मार्मिक व्यंग्य है। जगन्नाथ प्रसाद चतुर्वेदी के निबंध ‘गद्यमाला’ (1909) और ‘निबंध-निलय’ में प्रकाशित हैं। पद्मसिंह शर्मा कमलेश तुलनात्मक आलोचना के लिए विख्यात हैं। उनकी शैली प्रशंसात्मक और प्रभावपूर्ण है। श्यामसुंदरदास तथा कृष्ण बिहारी मिश्र मूलतः आलोचक थे। इनकी शैली सहज और परिमार्जित है। आचार्य रामचंद्र शुक्ल के प्रारंभिक निबंधों में भाषा संबंधी प्रश्नों और कुछ ऐतिहासिक व्यक्तियों के संबंध में विचार व्यक्त किए गए हैं। उन्होंने कुछ अंग्रेजी निबंधों का अनुवाद भी किया।

इस युग में गणेशशंकर विद्यार्थी, मन्नन द्विवेदी आदि ने भी पाठकों का ध्यान आकर्षित किया। शुक्लयुगीन निबंध-इस युग के प्रमुख निबंधकार आचार्य रामचंद्र शुक्ल हैं आचार्य शुक्ल के निबंध ‘चिंतामणि’ के दोनों खंडों में संकलित हैं। अभी हाल में चिंतामणि का तीसरा खंड प्रकाशित हुआ है। इसका संपादन डॉ. नामवर सिंह ने किया है। इसी युग के निबंधकारों में बाबू गुलाबराय (1888-1963) का उल्लेखनीय स्थान है। ‘ठलुआ क्लब’, ‘फिर निराश क्यों’, ‘मेरी असफलताएँ’ आदि संग्रहों में उनके श्रेष्ठ निबंध संकलित हैं। ल पुन्नालाल बख्शी’ ने कई अच्छे निबंध लिखे। इनके निबंध ‘पंचपात्र’ में संगृहीत हैं। अन्य निबंधकारों में शांति प्रेत द्विवेदी, शिवपूजन सहाय, पांडेय बेचन शर्मा ‘उग्र’, रधुवीर सिंह, माखनलाल चतुर्वेदी आदि मुख्य हैं। इस युग में निबंध तो लिखे गए, पर ललित निबंध कम ही हैं।

शुक्लयुगोत्तर निबंध-शुक्लयुगोत्तर काल में निबंध ने अनेक दिशाओं में सफलता प्राप्त की। इस युग मं समीक्षात्मक निबंध अधिक लिखे गए। यों व्यक्तव्यंजक निबंध भी कम नहीं लिखे गए। शुक्लजी के समीक्षात्मक निबंधों को परंपरा के दूसरे नाम हैं नंददुलारे वाजपेयी। इसी काल के महत्त्वपूर्ण निबंधकार आच हजागे प्रसाद द्विवेदी हैं। उनके ललित निबंधों में नवीन जीवन-बोध है।

शुक्लयुगोत्तर निबंधकारों में जैनेंद्र कुमार का स्थान काफी ऊँचा है। उनके निबंधों में दार्शनिकता है। यह दार्शनिकता निजी है, अतः ऊब पैदा नहीं करती। उनके निबंधों में सरसता है।

हिंदी में प्रभावशाली समीक्षा के अग्रदूत शांतिप्रिय द्विवेदी हैं। इन्होंने समीक्षात्मक निबंध भी लिखे हैं और साहित्येतर भी। इनके समीक्षात्मक निर्बंधों में निर्बध का स्वाद मिलता है। रामधारीसिंह ‘दिनकर’ ने भी इस युग में महत्त्वपूर्ण निबंध लिखे। इनके निबंध विचार-प्रधान हैं। लेकिन कुछ निबंधों में उनका अंतरंग पक्ष भी उद्घाटित हुआ है। समीक्षात्मक निबंधकारों में डॉ. नगेंद्र का स्थान महत्त्वपूर्ण है। उनके निबंधों की कल्पना, मनोवैज्ञानिक दृष्टि उनके व्यक्तित्व के अपरिहार्य अंग हैं। रामवृक्ष बेनीपुरी के निबंध-संग्रह ‘गेहूँ और गुलाब’ तथा ‘वंदे वाणी विनायकौ’ हैं। बेनीपुरी की भाषा में आवेग है, जटिलता नहीं। श्रीराम शर्मा, देवेंद्र सत्यार्थी भी निबंध के क्षेत्र में उल्लेखनीय हैं। वासुदेवशरण अग्रवाल के निबंधों में भारतीय संस्कृति के विविध आयामों को विद्वतापूर्वक उद्घाटित किया गया है। यशपाल के निबंधों में भी मार्क्सवादी दृष्टिकोण मिलता है। बनारसीदास चतुर्वेदी के निबंध-संग्रह ‘साहित्य और जीवन’, ‘हमारे आराध्य’ नाम में यही प्रवृत्ति है। कन्हैयालाल मिश्र प्रभाकर के निबंध में करुणा, व्यंग्य और भावुकता का सन्निवेश है। भगवतशरण उपाध्याय ने ‘ठूठा आम’, और ‘सांस्कृतिक निबंध’ में इतिहास और संस्कृति की पृष्टभूमि पर निबंध लिखे। प्रभाकर माचवे, विद्यानिवास मिश्र, धर्मवीर भारती, शिवप्रसाद सिंह, कुबेरनाथ राय, ठाकुर प्रसाद सिन्हा आदि के ललित निबंध विख्यात हैं।

सामयिक निबंधों में नई चिंतन पद्धति और अभिव्यक्ति देखी जा सकती है। अज्ञेय, विद्यानिवास मिश्र, कुबेरनाथ राय, निर्मल वर्मा, रमेशचंद्रशाह, शरद जोशी, जानकी वल्लभ शास्त्री, रामेश्वर शुक्ल ‘अंचल’, नेमिचंद्र जैन, विष्णु प्रभाकर, जगदीश चतुर्वेदी, डॉ. नामवर सिंह और विवेकी राय आदि ने हिंदी गद्य की निबंध परंपरा को न केवल बढ़ाया है, बल्कि उसमें विशिष्ट प्रयोग किए हैं। समीक्षात्मक निबंधों में गजानन माधव मुक्तिबोध का नाम आता है। उनके निबंधों में बौद्धिकता है और वयस्क वैचारिकता तबोध के ‘नई कविता का आत्मसंघर्ष तथा अन्य निबंध’ नए साहित्य का सौंदर्यशास्त्र, ‘समीक्षा की समस्याएँ’ और ‘एक साहित्यिक की डायरी’ नामक निबंध विशेष उल्लेखनीय हैं। डॉ. रामविलास शर्मा के निबंध शैली में स्वच्छता, प्रखरता तथा वैचारिक संपन्नता है। हिंदी निबंध में व्यंग्य को रवींद्र कालिया ने बढ़ाया है। नए निबंधकारों में रमेशचंद्र शाह का नाम तेजी से उभरा है।

MP Board Solutions

महादेवी वर्मा, विजयेंद्र स्नातक, धर्मवीर भारती, सर्वेश्वरदयाल सक्सेना और रामेश्वर शुक्ल ‘अंचल’ के निबंधों में प्रौढ़ता है। इसके अतिरिक्त विष्णु प्रभाकर कृत ‘हम जिनके ऋणी हैं’ जानकी वल्लभ शास्त्री कृत ‘मन की बात’, ‘जो बिक न सकी’ आदि निबंधों में क्लासिकल संवेदना का उदात्त रूप मिलता है। नए निबंधकारों में : प्रभाकर श्रोत्रिय, चंद्रकांत वांदिवडेकर, नंदकिशोर आचार्य, बनवारी, कृष्णदत्त पालीवाल, प्रदीप मांडव, कर्णसिंह चौहान और सुधीश पचौरी आदि प्रमुख हैं। आज राजनीतिक-सांस्कृतिक विषयों पर भी निबंध लिखे जा रहे हैं। अतः हिंदी निबंध-साहित्य उत्तरोत्तर बढ़ता जा रहा है।

MP Board Class 12th Hindi Makrand Solutions Chapter 10 निष्ठामूर्ति कस्तूरबा

In this article, we will share MP Board Class 12th Hindi Solutions Chapter 10 निष्ठामूर्ति कस्तूरबा Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 12th Hindi Makrand Solutions Chapter 10 निष्ठामूर्ति कस्तूरबा (संस्मरण, काका कालेलकर)

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा पाठ्य-पुस्तक पर आधारित प्रश्न

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
लेखक ने राष्ट्रमाता किसे कहा है? (M.P. 2010)
उत्तर:
माँ कस्तूरबा को राष्ट्रमाता कहा गया है।

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
राष्ट्र माँ कस्तूरबा को किस आदर्श की जीवित प्रतिमा मानता है?
उत्तर:
राष्ट्र माँ कस्तूरबा का आर्य सती स्त्री के आदर्श की जीवित प्रतिमा मानता है।

प्रश्न 3.
कस्तूरबा भाषा का सामान्य ज्ञान होने पर भी कैसे अपना काम चला लेती थीं?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा कुछ अंग्रेजी समझ लेती थीं और वे 25-30 शब्द बोल लेती थीं। उन्हीं शब्दों को समझ-बोलकर अपना काम चला लेती थीं।

प्रश्न 4.
कस्तूरबा को किन ग्रंथों पर असाधारण श्रद्धा थी?
उत्तर:
कस्तूरबा को गीता और तुलसी-रामायण पर असाधारण श्रद्धा थी।

प्रश्न 5.
महात्माजी और कस्तूरबा को पहली बार देखकर लेखक ने क्या अनुभव किया?
उत्तर:
लेखक ने अनुभव किया कि मानो उस आध्यात्मिक माँ-बाप मिल गए हैं।

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
दुनिया में कौन-सी दो अमोघ शक्तियाँ मानी गई थीं? कस्तूरबा की निष्ठा किसमें अधिक थी? (M.P. 2009, 2010)
उत्तर:
दुनिया में शब्द और कृति दो अमोघ शक्तियाँ मानी गई हैं। शब्दों ने तो सारी दुनिया को हिला कर रख दिया है।

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
कस्तूरबा को तेजस्वी महिला क्यों कहा गया है? (M.P. 2012)
उत्तर:
जब माँ कस्तूरबा को दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया तो उन्होंने अपने बचाव में कुछ नहीं कहा और न ही कोई निवेदन प्रकट किया। उन्होंने केवल यही कहा कि मुझे तो वह कानून तोड़ना है जो यह कहता है कि मैं महात्माजी की धर्मपत्नी नहीं हूँ। जेल में उनकी तेजस्विता तोड़ने में सरकार असफल रही और सरकार को घुटने टेकने पड़े इसीलिए माँ कस्तूरबा को तेजस्वी कहा गया है।

प्रश्न 3.
“सभा में जाने का मेरा निश्चय पक्का है मैं जाऊँगी ही” यह कथन किसका है और किस प्रसंग में कहा गया है?
उत्तर:
यह कथन माँ कस्तूरबा का है। यह इस प्रसंग में कहा गया है जब गाँधी जी को सरकार ने गिरफ्तार कर लिया था और माँ कस्तूरबा पति के कार्य को आगे बढ़ाने के उस सभा में भाषण देने जा रही थीं जिसमें गाँधीजी भाषण देने वाले थे। उस समय सरकारी अधिकारियों ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो उन्होंने उक्त कथन द्वारा उन्हें उत्तर दिया।

प्रश्न 4.
“मुझे यहाँ का वैभव कतई नहीं चाहिए। मुझे तो सेवाग्राम की कुटिया ही पसंद है” माँ कस्तूरबा के इस कथन के आशय को स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
आशय-माँ कस्तूरबा को गाँधीजी के साथ आगा खाँ महल में सरकार ने कैद कर रखा था। वहाँ किसी प्रकार का अभाव नहीं था। सभी प्रकार की सुविधाएँ उपलब्ध थीं किंतु उन्हें वहाँ कैद होना असहनीय लग रहा था। उन्हें महल में कैद होना अच्छा नहीं लगता। उन्हें किसी प्रकार सुख-सुविधा, ऐश्वर्य की आवश्यकता नहीं थी, उन्हें तो स्वतंत्रतापूर्वक सेवाग्राम की कुटिया में रहना ही पसंद था।

प्रश्न 5.
कस्तूरबा ने अपनी तेजस्विता और कृतिनिष्ठा से क्या सिद्ध कर दिखाया?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा ने अपनी तेजस्विता और कृतिनिष्ठा से यह सिद्ध कर दिखाया कि उन्हें शब्द-शास्त्र में बेशक निपुणता प्राप्त न हो परंतु कर्त्तव्य-अकर्त्तव्य के निर्णय करने में उन्हें कोई दुविधा नहीं है। उनमें तुरंत निर्णय लेने की क्षमता है।

प्रश्न 6.
बदलते आदर्शों के इस युग में कस्तूरबा के प्रति श्रद्धा प्रकट कर किस बात का प्रमाण दिया गया है?
उत्तर:
बदलते आदर्शों के इस युग में कस्तूरबा के प्रति श्रद्धा प्रकट कर इस बात का प्रमाण दिया कि आज भी हमारे देश में प्राचीन तेजस्वी आदर्श मान्य हैं और हमारी संस्कृति की जड़ें आज भी काफी मजबूत हैं।

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा भाव-विस्तार/पल्लवन

प्रश्न 1.
निम्नलिखित कथन का भाव-विस्तार कीजिए।
“हमारी संस्कृति की जड़ें आज भी काफी मजबूत हैं।”
उत्तर:
हमारी भारतीय संस्कृति के जीवन-मूल्य और आदर्श आज के बदलते . आदर्शों के युग में भी महत्त्व रखते हैं। भारतीय समाज में आज भी उन आदर्शों को श्रद्धा और विश्वास की दृष्टि से देखा जाता हैं। इससे प्रमाणित होता है कि हमारी संस्कृति की जड़ें भी काफी मजबूत हैं। संस्कृति के आदर्शों और मूल्यों को सरलता से समाप्त नहीं किया जा सकता।

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा भाषा-अनुशीलन

प्रश्न 1.
निम्नलिखित शब्दों की संधि-विच्छेद करते हुए संधि का नाम लिखिए –
लोकोत्तर, स्वागत, सत्याग्रह, महत्त्वाकांक्षा, निस्तेज।
उत्तर:
MP Board Class 12th Hindi Makrand Solutions Chapter 10 निष्ठामूर्ति कस्तूरबा img-1

प्रश्न 2.
निम्नलिखित शब्दों का समास-विग्रह करते हुए समास का नाम लिखिए –
धर्मनिष्ठा, राष्ट्रमाता, देशसेवा, जीवनसिद्धि, बंधनमुक्त।
उत्तर:
MP Board Class 12th Hindi Makrand Solutions Chapter 10 निष्ठामूर्ति कस्तूरबा img-2

प्रश्न 3.
निम्नलिखित शब्दों में से उपसर्ग अलग करके लिखिए –
उपसंहार, प्रत्युत्पन्न, असाधारण, अशिक्षित, अनपढ़।
उत्तर:
उपसर्ग – उप, प्रति, अ, अ, अन।

MP Board Solutions

प्रश्न 4.
निम्नलिखित शब्दों से प्रत्यय अलग करके लिखिए –
तेजस्विता, कौटुम्बिक, चरित्रवान, शासकीय, उत्कृष्टता।
उत्तर:
प्रत्यय – ता, इक, वान, ईय, ता।

प्रश्न 5.
निम्नलिखित विदेशी शब्दों के लिए हिंदी शब्द लिखिए –
अमलदार, हासिल, खुद, कायम, आंबदार, जिद्द।
उत्तर:
MP Board Class 12th Hindi Makrand Solutions Chapter 10 निष्ठामूर्ति कस्तूरबा img-3

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा योग्यता-विस्तार

प्रश्न 1.
ऐसी नारियों के जीवन-प्रसंगों का संकलन कीजिए जो समाज के लिए प्रेरक व आदर्श साथ ही स्वरूप रही हैं।
उत्तर:
छात्र स्वयं करें।

प्रश्न 2.
अपने आस-पास की ऐसी महिला के बारे में लिखिए, जो आपके लिए आदर्श हो।
उत्तर:
छात्र स्वयं लिखें।

प्रश्न 3.
स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने वाली महिलाओं के चित्रों का एलबम बनाइए।
उत्तर:
छात्र स्वयं चित्र एकत्र कर एलबम बनाएँ।

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा परीक्षोपयोगी अन्य महत्वपूर्ण प्रश्न

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्नोत्तर –

प्रश्न 1.
कस्तूरवा का एकाक्षरी नाम…….था।
(क) माँ
(ख) बा
(ग) तेजस्वी
(घ) दा
उत्तर:
(ख) बा।

प्रश्न 2.
अपने आंतरिक सद्गुणों और निष्ठा के कारण कस्तूरबा…….वन पाईं।
(क) राष्ट्रमाता
(ख) वीरमाता
(ग) वीर पत्नी।
(घ) आदर्श नारी
उत्तर:
(क) राष्ट्रमाता।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
‘निष्ठामूर्ति कस्तूरबा’ संस्मरण के लेखक हैं –
(क) कन्हैयालाल मिश्र ‘प्रभाकर’
(ख) उदयशंकर भट्ट
(ग) काला कालेलकर
(घ) मैथिलीशरण गुप्त
उत्तर:
(ग) काका कालेलकर।

प्रश्न 4.
लेखक के अनुसार गाँधीजी को भारत में कहाँ गिरफ्तार किया गया था?
(क) विधानसभा हाउस
(ख) आगा खाँ महल
(ग) बिड़ला हाउस
(घ) बिड़ला मंदिर
उत्तर:
(ग) बिड़ला हाउस।

प्रश्न 5.
कस्तूरबा का निधन……….में हुआ।
(क) बिड़ला हाउस
(ख) आगा खाँ महल
(ग) सेवाग्राम
(घ) वायसराय हाउस
उत्तर:
(ख) आगा खाँ महल।

प्रश्न 6.
“अगर आप गिरफ्तार करें, तो भी मैं जाऊँगी।” यह कथन उस समय … का है?”
(क) जब कस्तूरबा को पुलिस ने घेर लिया।
(ख) जब कस्तूरवा पर सरकार ने आरोप लगाया।
(ग) जब महात्माजी को गिरफ्तार कर लिया गया।
(घ) जब कस्तूरबा से पुलिस ने पूछताछ की।
उत्तर:
(ख) जब कस्तूरबा पर सरकार ने आरोप लगाया।

II. निम्नलिखित रिक्त स्थानों की पूर्ति दिए गए विकल्पों के आधार पर कीजिए –

  1. राष्ट्र ने ………. को राष्ट्रपति का सम्मान दिया। (महात्माजी बापूजी)
  2. कस्तूरबा ………. के नाम से राष्ट्रमाता का सम्मान दिया गया। (माँ वा)
  3. दुनिया में दो अमोघ शक्तियाँ हैं ……….। (शब्द और कृति स्मृति और उपासना)
  4. लेखक को कस्तूरवा के प्रथम दर्शन ………. में हुए। (शान्तिनिकेतन/दक्षिण अफ्रीका)
  5. हमारी ………. की जड़ें आज भी काफी मजबूत हैं। (परम्परा/संस्कृति)

उत्तर:

  1. बापूजी
  2. बा
  3. शब्द और कृति
  4. शान्तिनिकेतन
  5. संस्कृति।

MP Board Solutions

III. निम्नलिखित कथनों में सत्य असत्य छाँटिए –

  1. अपने आंतरिक सद्गुणों और निष्ठा के कारण कस्तूरबा राष्ट्रमाता बन गईं।
  2. कस्तूरबा का भाषा-ज्ञान सामान्य से अधिक था।
  3. 1915 के आरंभ में महात्माजी शान्तिनिकेतन पधारे।
  4. आश्रम में कस्तूरबा लेखक के लिए देवी के समान थीं।
  5. अध्यक्षीय भाषण किसी से लिखवा लेना आसान है।

उत्तर:

  1. सत्य
  2. असत्य
  3. सत्या
  4. असत्य
  5. सत्य।

IV. निम्नलिखित के सही जोड़े मिलाइए –

प्रश्न 1.
MP Board Class 12th Hindi Makrand Solutions Chapter 10 निष्ठामूर्ति कस्तूरबा img-4
उत्तर:

(i) (घ)
(ii) (ग)
(iii) (ख)
(iv) (ङ)
(v) (क)।

V. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक शब्द या एक वाक्य में दीजिए –

प्रश्न 1.
सत्याग्रहाश्रम क्या था?
उत्तर:
महात्माजी की संस्था।

प्रश्न 2.
स्त्री-जीवन सम्बन्ध के हमारे आदर्श को हमने क्या किए हैं?
उत्तर:
काफी बदल दिए हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
कस्तूरबा के सामने उनका कर्त्तव्य कैसा था?
उत्तर:
किसी दीये के समान था।

प्रश्न 4.
किन दो वाक्यों में कस्तूरबा अपना फैसला सुना देतीं।
उत्तर:
‘मुझसे यही होगा’ और ‘यह नहीं होगा।

प्रश्न 5.
कस्तूरबा में कौन-से भारतीय गुण थे?
उत्तर:
कौटुम्बिक सत्वगुण।

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
माँ कस्तूरबा कौन थीं? (M.P. 2010)
उत्तर:
माँ कस्तूरबा महात्मा गाँधीजी की सहधर्मचारणी थीं।

प्रश्न 2.
माँ कस्तूरबा अंग्रेजी कैसे समझ और बोल लेती थीं?
उत्तर:
दक्षिण अफ्रीका में जाकर रहने के कारण कस्तूरबा कुछ अंग्रेजी समझ लेती थीं और 25-30 शब्द बोल भी लेती थीं।

प्रश्न 3.
माँ कस्तूरबा ने धर्म के विरुद्ध खुराक लेने से इनकार क्यों कर दिया?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा एक धर्मनिष्ठ महिला थीं। धर्म के विरुद्ध खुराक लेने से उनका धर्म भ्रष्ट हो जाता इसलिए उन्होंने धर्म के विरुद्ध खुराक लेने से मना कर दिया।

प्रश्न 4.
लेखक को कस्तूरबा के प्रथम दर्शन कब हुए?
उत्तर:
सन् 1915 में शांतिनिकेतन पधारने पर लेखक को कस्तूरबा के प्रथम दर्शन हुए हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न 5.
माँ कस्तूरबा को भारत में कहाँ कैद रखा गया?
उत्तर:
माँ कस्तूबा को भारत में आगा खाँ महल में कैद रखा गया।

प्रश्न 6.
आज हमारी संस्कृति की जड़ें कैसी हैं?
उत्तर:
आज हमारी संस्कृति की जड़ें काफी मजबूत हैं।

प्रश्न 7.
महात्मा गाँधी की सहधर्मिणी कौन थी?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा, महात्मा गाँधी की संहधर्मिणी थीं।

प्रश्न 8.
माँ कस्तूरबा का किसके प्रति अपार श्रद्धा थी?
उत्तर:
तुलसीदास की रामायण के प्रति माँ कस्तूरबा की अपार श्रद्धा थी।

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
महात्मा गाँधीजी ने किन दो शक्तियों की उपासना की?
उत्तर:
महात्मा गाँधी ने विश्व की दो अमोघ शक्तियों-शब्द और कृति-की असाधारण उपासना की। उन्होंने इन दोनों शक्तियों में निपुणता प्राप्त की।

प्रश्न 2.
“मुझे अखाद्य खाकर जीना नहीं है। यह कथन किसका है और किस प्रसंग में कहा गया हैं?
उत्तर:
यह कथन माँ कस्तूरबा का है और यह डॉक्टर द्वारा धर्म के विरुद्ध खुराक लेने की बात के प्रसंग में कहा गया है।

MP Board Solutions

प्रश्न 3.
पति के गिरफ्तार होने पर मौकस्तूरबा ने उनके कार्य को आगे बढ़ाने के लिए क्या किया?
उत्तर:
पति के गिरफ्तार होने पर माँ कस्तूरबा ने उनके कार्य आगे बढ़ाने के लिए उस सभा में भाषण देने के लिए गईं जिसे गाँधीजी संबोधित करने वाले थे। दो-तीन बार राजकीय परिषदों या शिक्षण सम्मेलनों में अध्यक्ष का पद संभाला और अध्यक्षीय भाषण दिए।

प्रश्न 4.
माँ कस्तूरबा देश में चल रही सूक्ष्म जानकारी.कैसे रखती थीं?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा देश में क्या चल रहा है इसकी सूक्ष्म जानकारी प्रश्न पूछ-पूछकर या अखबारों पर दृष्टि डालकर प्राप्त कर लेती थीं और इस देश में चल रही गतिविधियों की जानकारी रखती थीं।

प्रश्न 5.
“मुझे यहाँ का वैभव कतई नहीं चाहिए। मुझे तो सेवाधाम की कुटिया ही पसंद है।” यह किसने, कब और क्यों कहा?
उत्तर:
“मुझे यहाँ का वैभव कतई नहीं चाहिए। मुझे तो सेवाधाम की कुटिया ही पसंद है।” यह माँ कस्तूरबा ने कहा। यह उस समय कहा, जव माँ कस्तूरबा को गाँधीजी के साथ आगा खाँ महल में सरकार ने कैद कर लिया। माँ कस्तूरबा ने यह इसलिए कहा कि उन्हें वहाँ कैद होना असहनीय हो उठा था। इसका यही कारण था कि उन्हें किसी प्रकार की सुख-सुविधा और ऐश्वर्य की आवश्यकता नहीं थी। उन्हें तो स्वतंत्रता एवं सेवाग्राम कुटिया ही पसंद थी।

प्रश्न 6.
माँ कस्तूरबा ने धर्म के विरुद्ध खुराक लेने से क्यों मना कर दिया?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा ने धर्म के विरुद्ध खुराक लेने से मना कर दिया क्योंकि धर्म के प्रति उनकी अपार श्रद्धा थी। इस प्रकार की खुराक उनकी अंतरात्मा के विरुद्ध थी। फलस्वरूप उन्होंने इस प्रकार की खुराक लेने की अपेक्षा मृत्यु को प्राप्त होना उचित समझा था।

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा लेखक-परिचय

प्रश्न 1.
काका कालेलकर का संक्षिप्त-जीवन परिचय देते हुए उनकी साहित्यिक विशेषताओं का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
जीवन-परिचय:
काका कालेलकर का जन्म 1 दिसंबर, सन् 1885 ई० में महाराष्ट्र प्रांत के सतारा नगर में हुआ था। अहिंदीभाषी होते हुए भी आपने सबसे पहले हिंदी सीखी और कई वर्षों तक दक्षिण सम्मेलन की ओर से हिंदी का प्रचार-कार्य किया। आपने राष्ट्रभाषा प्रचार के कार्य में सक्रिय और सार्थक भूमिका निभाई। अपनी चमत्कारी सूझ-बूझ और व्यापक अध्ययनशीलता के कारण आपकी गणना प्रमुख अध्यापकों और व्यवस्थापकों में होने लगी।

गुजरात में हिंदी प्रचार के लिए. गाँधी जी ने कालेलकर को ही चुना इसलिए उन्होंने गुजराती सीखी और गहन अध्ययन के बाद ही शिक्षण-कार्य प्रारंभ किया। आप गुजरात विद्यापीठ के कुलपति पद पर रहे। आपको दो बार राज्यसभा का सदस्य मनोनीत किया गया। सन् 1964 ई० में आपको ‘पदम् विभूषण’ सम्मान से सम्मानित किया गया। मराठीभाषी होते हुए भी आपने हिंदी के प्रचार-प्रसार में रुचि दिखाई। आप विज्ञापन और आत्मप्रचार से दूर रहकर हिंदी की सेवा में लगे रहे। आपका निधन 21 अगस्त, 1981 को हुआ।

साहित्यिक विशेषताएँ:
आपके साहित्य में यात्राओं के वर्णन तथा लोक-जीवन के अनुभवों को स्थान मिला है। आपने हिंदी में यात्रा-साहित्य के अभाव को काफी हद तक दूर किया। आपकी रचनाओं में सजीवता के प्रत्यक्ष दर्शन होते हैं। अपनी भाषा क्षमता के कारण ही आप साहित्य अकादमी में गुजराती भाषा के प्रतिनिधि चुने गए।

रचनाएँ:
काका कालेलकर ने लगभग तीस पुस्तकें लिखी हैं, जिनमें स्मरण-यात्रा, धर्मोदय, हिमालय प्रवास, लोकमाता, जीवन और साहित्य, तक्षशिला, अमृत और विष, मुक्ति पथ, स्त्री का हृदय, युगदीप आदि प्रमुख हैं।

भाषा-शैली:
काका कालेलकर की भाषा-शैली बड़ी सजीव और प्रभावशाली है। उन्होंने अपनी रचनाओं में हिंदी खड़ी बोली का प्रयोग किया है। उनकी भाषा आम बोलचाल की है। उन्होंने अपनी भाषा में तद्भव, तत्सम और देशी-विदेशी भाषाओं के शब्दों, मुहावरों और लोकोक्तियों का प्रयोग किया है।

साहित्य में महत्त्व:
काका कालेलकर को उत्तम निबंध, सजीव यात्रा-वृत्त, प्रभावोत्पादक संस्मरण और भावुकतापूर्ण जीवनी लिखने वालों में उच्च स्थान प्राप्त है। आप अहिंदीभाषी होते हुए भी राष्ट्रभाषा हिंदी के सच्चे सेवकों में गिने जाते हैं।

MP Board Solutions

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा पाठ का सारांश

प्रश्न 1.
काका कालेलकर के संस्मरण ‘निष्ठामूर्ति कस्तूरवा’ का सार अपने शब्दों में लिखिए।
उत्तर:
लेखक ने इस संस्मरण में कस्तूरबा के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला है। लेखक का मानना है कि माँ कस्तूरबा का सम्मान गाँधी जी की पत्नी होने के कारण नहीं, अपितु उनके स्वतंत्र व्यक्तित्व के कारण है। राष्ट्र ने बापूजी को राष्ट्रपिता का सम्मान दिया है तो ‘बा’ भी राष्ट्रमाता का सम्मान पा सकीं। वे राष्ट्रमाता अपने आंतरिक सद्गुणों और निष्ठा के कारण बनीं। उन्होंने प्रत्येक स्थान पर अपने चरित्र को उजागर किया है। वे आर्य स्त्री के आदर्श की जीवंत प्रतिमा थीं।

माँ कस्तूरबा का भाषा ज्ञान विशेष नहीं था। दक्षिण अफ्रीका में जाकर कुछ अंग्रेजी के शब्द समझने में समर्थ हो सकी थी और अंग्रेजी के 25-30 शब्द बोलने के लिए भी सीख लिए थे। विदेशी मेहमानों के आने पर उन्हीं शब्दों से अपना काम चलाती थीं। माँ कस्तूरबा की गीता और तुलसी की रामायण पर अपार श्रद्धा थी। आगा खाँ महल में कारावास के दौरान वार-बार गीता का पाठ लेने का प्रयास करती रही थीं।

संसार में दो अमोघ शक्तियाँ हैं-शब्द और कृति, किंतु अंतिम अक्ति ‘कृति’ है। महात्माजी ने शब्द और कृति दोनों शक्तियों की उपासना की तो बा ने कृति शक्ति की ‘नम्रता के साथ उपासना करके संतोष प्राप्त करने के साथ-साथ जीवन-सिद्धि भी प्राप्त की थी। दक्षिण अफ्रीका में जब उन्हें जेल भेजा, तो उन्होंने अपना बचाव नहीं किया। न कोई निवेदन किया और जेल चली गईं। जेल में वहाँ की सरकार ने उनकी तेजस्विता भंग करने का बड़ा प्रयास किया किंतु वह सफल न हो सकी। डॉक्टर ने जब धर्म के विरुद्ध खुराक लेने की बात कही तो केवल इतना कहा- “मुझे अखाद्य खाकर जीना नहीं है। फिर भले ही मुझे मौत का सामना करना पड़े।”

लेखक को सन् 1915 में शांतिनिकेतन में ‘बा’ को देखने का अवसर मिला। रात को आंगन के बीच के एक चबूतरे पर अगल-बगल विस्तर लगाकर वापृ ओर बा सो गए और अन्य लोग आँगन में बिस्तर लगा सो गए। उस समय लेखक को लगा कि हमें आध्यात्मिक मां-बाप मिल गए हैं। लेखक को ‘बा’ के अंतिम दर्शन बिड़ला हाउस में गिरफ्तारी के दौरान हुए। जब गाँधी जी को गिरफ्तार करने के वाद उनसे कहा गया कि आपकी इच्छा हो । तो आप भी चल सकती हैं। ‘बा’ ने कहा अगर आप गिरफ्तार करें तो मैं भी जाऊँगी। पति के गिफ्तार होने के बाद उन्होंने उस सभा में जाने का निश्चय किया, जिसमें बापू बोलने वाले थे। सरकार ने उन्हें रोकने का प्रयास किया, तो उन्होंने उत्तर दिया कि ‘सभा में जाने का निश्चय पक्का है, मैं जाऊँगी।’

माँ कस्तूरबा को गिरफ्तार करके आगा खाँ महल में रखा गया है, जहाँ सभी प्रकार की सुख-सुविधाएँ थीं किंतु उन्हें अपना कैद में होना असह्य था। उन्होंने कई बार कहा-‘मुझे यहाँ का वैभव कतई नहीं चाहिए, मुझे तो सेवाग्राम की कुटिया ही पसंद है।” सरकार ने उनके शरीर को कैद रखा, किंतु उनकी आत्मा को वह कैद सहन नहीं हुई। उन्होंने सरकार की कैद में ही अपने प्राण त्यागे और वह स्वतंत्र हुई। माँ कस्तूरबा के सामने उनके कर्तव्य सदा स्पष्ट रहे। उन्होंने ‘मुझसे यही होगा’ और ‘यह नहीं होगा’ वाक्यों में अपना निर्णय सुना देती थीं।

आश्रम में कस्तूरबा लोगों के लिए माँ के समान थीं। आश्रम के नियम उन पर लागू नहीं होते थे। आश्रम में सभी के खाने-पीने की व्यवस्था कस्तूरबा करती थीं। आलस्य उनमें बिलकुल नहीं था। वे रसोईघर में जो भी काम करती थीं, आस्था से करती थीं। उनमें संस्था चलाने की महत्त्वाकांक्षा नहीं थी। परंतु देश में क्या हो रहा है, इसकी जानकारी वे अवश्य रखती थीं। वापूजी जब जेल में होते थे तो उन्होंने दो-तीन बार राजकीय परिषदों का या शिक्षण सम्मेलनों का अध्यक्ष पद भी सँभालना पड़ा। उनके अध्यक्षीय भाषण लेखक लिखता था। किन्तु उपसंहार माँ कस्तूरबा अपनी प्रतिभा से करती थीं, उनके भाषणों में परिस्थिति की समझ, भाषा की सावधानी और खानदानी की महत्ता आदि गुण उत्कृष्टता से दिखाई देते थे।

माँ कस्तूरबा की मृत्यु पर पूरे देश ने स्वयं स्फूर्ति से उनका स्मारक बनाया। कस्तूरबा अपने संस्कार के बल पर पातिव्रत्य को, कुटुंब-वत्सलता को और तेजस्विता को चिपकाए रहीं और उसी के बल पर बापूजी के माहात्म्य की बराबरी कैर सकीं। स्वातंत्र्य की पूर्व शिवरात्रि के दिन उनका स्मरण कर सभी देशवासी अपनी-अपनी तेजस्विता को और अधिक तेजस्वी बनाते हैं।

निष्ठामूर्ति कस्तूरबा संदर्भ-प्रसंगसहित व्याख्या

प्रश्न 1.
महात्मा गाँधी जैसे महान पुरुष की सहधर्मचारिणी के तौर पर पूज्य कस्तूरबा के बारे में राष्ट्र का आदर मालूम होना स्वाभाविक है। राष्ट्र ने महात्माजी को ‘बापूजी’ के नाम से राष्ट्रपिता के स्थान पर कायम किया ही है। इसलिए कस्तूरबा भी ‘घा’ के एकाक्षरी नाम से राष्ट्रमाता बन सकी हैं। किंतु सिर्फ महात्माजी के साथ संबंध के कारण ही नहीं, बल्कि अपने आंतरिक सद्गुणों और निष्ठा के कारण भी कस्तूरबा राष्ट्रमाता बन पाई हैं। चाहे दक्षिण अफ्रीकामें हों या हिंदुस्तान में, सरकार के खिलाफ लड़ाई के समय जब-जब चारित्र्य का तेज प्रकट करने का मौका आया, कस्तूरबा हमेशा इस दिव्य कसौटी से सफलतापूर्वक पार हुई हैं। (Page 44)

शब्दार्थ:

  • सहधर्मचारिणी – धर्म या कर्तव्यों के निर्वाह में साथ देने वाली पत्नी।
  • कायम – स्थापित।
  • एकाक्षरी – एक अक्षर वाला।
  • आंतरिक सद्गुण – हृदय के अच्छे गुण।
  • कसौटी – परख, परीक्षा।
  • खिलाफ – विरुद्ध।

प्रसंग:
प्रस्तुत गद्यांश काका कालेलकर द्वारा रचित संस्मरण ‘निष्ठामूर्ति कस्तूरबा’ से लिया गया है। लेखक इन पंक्तियों में कस्तूरबा के राष्ट्रमाता बनने के कारणों को स्पष्ट करने के साथ-साथ उनके व्यक्तित्व पर भी प्रकाश डाल रहा है।

व्याख्या:
महात्मा गाँधी की धर्म अथवा कर्तव्यों के निर्वाह में साथ देने वाली पूजनीय कस्तूरबा के संबंध में राष्ट्र के आदर को देशवासियों को ज्ञान होना स्वाभाविक है। राष्ट्र ने महात्मा गाँधी को ‘बापूजी’ कहकर सम्मानित किया है। इतना ही नहीं उन्हें राष्ट्रपिता के पद पर स्थापित किया है। सारा राष्ट्र उन्हें राष्ट्रपिता कहकर सम्मान देता है। इसलिए कस्तूरबा भी ‘बा’ एक अक्षर वाले नाम से राष्ट्रमाता बनने में सफल रही हैं।

सारा देश उन्हें राष्ट्रमाता का दर्जा देता है। महात्मा गाँधी की पत्नी होने के कारण ही वे राष्ट्रमाता नहीं बनीं, अपितु अपने सद्गुणों अर्थात् अच्छे गुणों से युक्त होने और विश्वास के कारण बनीं। वे चाहे दक्षिण अफ्रीका में रही हों अथवा भारत में, जब भी उन्हें सरकार के विरुद्ध लड़ाई लड़ते समय अपने चारित्रिक तेज को उजागर करने का अवसर मिला, वे सदा इस दिव्य परीक्षा में पूर्णतः सफल हुईं। भाव यह है कि माँ कस्तूरबा को जब भी अपने चारित्रिक तेज को उजागर करने का अवसर मिला, उन्होंने इसे उजागर किया।

विशेष:

  1. माँ कस्तूरबा का सम्मान उनकै स्वतंत्र व्यक्तित्व के कारण समूचे देश में होता है। लेखक मैं इस तथ्य को उजागर किया है।
  2. माँ कस्तूरबा के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला गया है।
  3. भाषा तत्सम, उर्दू शब्दावली से युक्त खड़ी बोली है।

गद्यांश पर आधारित अर्थग्रहण संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
माँ कस्तूरबा किस कारण से राष्ट्रमाता बन सकीं?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा महात्मा गाँधी की पत्नी होने के कारण राष्ट्रमाता नहीं बनी, अपितु वे अपने हृदय के सद्गुणों और विश्वास तथा स्वतंत्र व्यक्तित्व के कारण राष्ट्रमाता बनने में सफल रहीं।

प्रश्न (ii)
माँ कस्तूरबा किस कसौटी पर सदा खरी उतरीं?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा को दक्षिण अफ्रीका और हिंदुस्तान में सरकार के विरुद्ध लड़ाई लड़ते समय जब भी चारित्रिक तेज को प्रकट करने का मौका मिला वे सदा इस कसौटी पर खरी उतरीं।

प्रश्न (iii)
माँ कस्तूरबा के दो चारित्रिक गुणों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:

  1. माँ कस्तूरबा महात्मा गाँधी के धर्म और कर्तव्यों के निर्वाह में साथ देने वाली पतिव्रता नारी थीं।
  2. उनका अपना स्वतंत्र व्यक्तित्व था। सरकार के विरुद्ध लड़ाई लड़ने में वे कभी पीछे नहीं हटीं।

गद्यांश पर आधारित विषय-वस्तु संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
माँ कस्तूरबा को महात्मा गाँधी की सहधर्मचारिणी क्यों कहा गया है?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा महात्मा गाँधी की ऐसी पत्नी ही, जो अपने पति के धर्म और कर्तव्यों के निर्वाह में पूर्ण साथ देती थीं इसीलिए उन्हें महात्मा गाधी की सहधर्मचारिणी कहा गया है।

प्रश्न (ii)
राष्ट्र ने महात्मा गाँधी को किस पद पर स्थापित किया है?
उत्तर:
राष्ट्र ने महात्मा गाँधी को ‘बापूजी’ नाम से राष्ट्रपिता के पद पर स्थापित किया।

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
दुनिया में दो अमोध शक्तियाँ हैं-शब्द और कृति। इसमें कोई शक नहीं कि ‘शब्दो’ नै सारी पक्षी को हिला दिया है। किंतु अंतिम शक्ति तो ‘कृति’ की है। महात्माजी ने इन दोनों शक्तियों की असाधारण उपासना की है। कस्तूरबा ने इन दोनों शक्तियों से ही अधिक श्रेष्ठ शक्ति कृति की नम्रता के साथ उपासना करके संतोष माना और जीवनसिद्धि प्राप्त की। (Page 45) (M.P 2011).

शब्दार्थ:

  • दुनिया – संसार, विश्व, जगत्।
  • अमोघ – अचूक।
  • कृति – रचना, कार्य, कर्म।
  • शक – संदेह।
  • स्मृति – स्मरण, चिंतन, इच्छा, पाप।
  • उपासना – आराधना, प्रजा जीवन।
  • असाधारण – जो साधारण नहीं है, विशेष।
  • नम्रता – कोमलता, विनम्रता।
  • जीवनसिद्धि – जीवन में सफलता प्राप्ति।

प्रसंग:
प्रस्तुत गद्यांश काका कालेलकर द्वारा रचित संस्मरण ‘निष्ठामूर्ति कस्तूरबा’ से लिया गया है। लेखक माँ कस्तूरवा के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाल रहा हैं।

व्याख्या:
लेखक कहता है कि संसार में दो अचूक ताकते हैं-शब्द और कृति अर्थात् शब्द और उनके माध्यम से रचित रचना। इस बात में विलकुल संदेह नहीं है कि शब्दों की शक्ति में सारे भू-मंडल को हिला दिया है। दूसरे शब्दों में, शब्दों ने अपनी शक्ति से सारे संसार को अस्थिर कर दिया है परंतु आखिरी शक्ति तो स्मरण अथवा चिंतन है। महात्मा गाँधी ने अपने जीवन में शब्द और कृति दोनों शक्तियों की विशेष आधिमा की; अर्थात् उन्होंने शब्दों की शक्ति और उससे होने वाली रचनों पर विशेष दक्षता प्राप्त की। उन्होंने किस अवसर किन शब्दों का प्रयोग करना चाहिए और रचना में किस प्रकार के शब्दों का चयन करना चाहिए। इसमें विशेष योग्यता प्राप्त की।

कस्तूरबा गांधी ने इसके विपरीत इन दोनों शक्तियों से अधिक श्रेष्ठ सृष्टि की रचना; अर्थात् महात्मा गाँधी की विनम्रता के साथ आराधना करके ही संतुष्टि प्राप्त की और जीवन में सफलता प्राप्त की। दूसरे शब्दों में, कस्तूरबा गांधी ने शब्द शक्ति की अधिक उपासना नहीं की। उनका भाषा ज्ञान अधिक नहीं था किंतु उन्होंने सृष्टि की रचना महात्मा गाँधी की सेवा द्वारा ही अपने जीवन को सफल बनाया।

विशेष:

  1. महात्मा गाँधी और कस्तूरबा के भाषा ज्ञान के अंतर को स्पष्ट किया गया है।
  2. कस्तूरबा की पतिनिष्ठा को उजागर किया गया है।
  3. भाषा तत्सम शब्दावलीयुक्त खड़ी वोली है।

गद्यांश पर आधारित अर्थग्रहण संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
किस, शक्ति ने सारी दुनिया को हिला दिया है?
उत्तर:
शब्द की अमोघ शक्ति ने सारी दुनिया को हिला दिया है।

प्रश्न (ii)
महात्मा गाँधी ने किन दो शक्तियों की उपासना की है?
उत्तर:
महात्मा गांधी ने शब्द और कृति दोनों अमोघ शक्तियों की असाधारण उपासना की है। उन्होंने इन दोनों शक्तियों पर असाधारण अधिकार प्राप्त कर लिया था।

प्रश्न (iii)
इन दोनों शक्तियों से अधिक श्रेष्ठ कृति’ किसे कहा गया है?
उत्तर:
शब्द और कृति शक्तियों से आधक श्रेष्ठ कृति महात्मा गाँधी को कहा गया है।

गद्यांश पर आधारित विषय-वस्तु संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
इस गयांश में किसके व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला गया है?
उत्तर:
इस गद्यांश में माँ कस्तूरबा के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला गया है।

प्रश्न (ii)
माँ कस्तूरबा ने किसकी उपासना करके जीवन-सिद्धि प्राप्त की?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा ने शब्द और कृति जैसी अमोघ शक्तियों से अधिक सृष्टि की श्रेष्ठ रचना महात्मा गाँधी की विनम्रता के साथ आराधना करके ही संतुष्टि और जीवनसिद्धि प्राप्त की।

प्रश्न (iii)
माँ कस्तूरबा ने किस शक्ति की अधिक उपासना नहीं की?
उत्तर:
माँ कस्तूरवा ने शब्द शक्ति की अधिक उपासना नहीं की। उन्हें भाषा ज्ञान अधिक नहीं था।

प्रश्न 3.
दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने जब उन्हें जेल भेज दिया, कस्तूरबा ने अपना बचाव तक नहीं किया। न कोई निवेदन प्रकट किया। “मुझे तो वह कानून तोड़ना ही है जो यह कहता है कि मैं महात्माजी की धर्मपत्नी नहीं हूँ।” इतना कहकर सीधे जेल चली गईं। जेल में उनकी तेजस्विता तोड़ने की कोशिशें वहाँ की सरकार ने बहुत की, किंतु अंत में सरकार की उस समय की जिद्द ही टूट गई। डॉक्टर ने जब उन्हें धर्म विरुद्ध खुराक लेने की बात कही तब भी उन्होंने धर्मनिष्टा पर कोई व्याख्यान नहीं दिया। उन्होंने सिर्फ इतना ही कहा-“मुझे अखाद्य खाना खाकर जीना नहीं है। फिर भले ही मुझे पौत का सामना करना पड़े।” (Page 45)

शब्दार्थ:

  • बचाव – बचने का प्रयास।
  • निवेदन – प्रार्थना, याचिका।
  • तेजस्विता – तेजस्वी होने का भाव, प्रभावशाली होने का भाव कोशिश-प्रयास।
  • जिद – हटवादिता।
  • धर्मविरुद्ध – धर्म के विपरीत।
  • खुराक – आहार, भोजन।
  • धर्मनिष्ठा – धर्म के प्रति श्रद्धा।
  • व्याख्यान – भाषण।
  • अखाद्य – जो खाने योग्य न हो।

प्रसंग:
प्रस्तुत गद्यांश काका कालेलकर द्वारा रचित ‘निष्ठामूर्ति कस्तूरबा’ से लिया गया है। लेखक कस्तूरबा के व्यक्तित्व के तेजस्वी स्वरूप और दृढ़ता को उजागर कर रहा है।

व्याख्या:
लेखक दक्षिणी अफ्रीका में घटित घटना के द्वारा माँ कस्तूरबा के व्यक्तित्व की दृढ़ता को उजागर करते हुए आगे कहता है कि जव दक्षिणी अफ्रीका की सरकार ने माँ कस्तूरबा को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया, तो उन्होंने अपने बचाव के संबंध में कुछ नहीं कहा। न कोई तर्क दिया और न ही जेल से छूटने के लिए कोई याचिका दर्ज की। उन्होंने उस समय केवल इतना ही कहा कि मुझे तो वह कानून भंग करना है, जो मुझे महात्मा गाँधी की पत्नी स्वीकार नहीं करता। इतना कहकर वे जेल चली गईं और जेल जाकर यह सिद्ध कर दिया कि वे गांधी जी की पत्नी हैं।

जेल में उनके तेजस्वी होने के भाव और उनकी दृढ़ता तोड़ने के अनेक प्रयास वहाँ की सरकार ने किए, लेकिन वह माँ कस्तूरबा की तेजस्विता तोड़ने में सफल नहीं हो पाईं। उनकी दृढ़ता के सामने तत्कालीन दक्षिण अफ्रीका की सरकार को घुटने टेकने पड़े। जेल में रहते हुए जब उनका स्वास्थ्य गिरने लगा, तो डॉक्टर ने उन्हें हिंदू-धर्म के विरुद्ध भोजन लेने का सुझाव दिया।

उस समय उन्होंने धर्म के प्रति श्रद्धा और आस्था पर कोई भाषण नहीं दिया। उन्होंने केवल इतना ही कहा कि मुझे अखाद्य (न खाने योग्य) भोजन खाकर जीवित नहीं रहना है। चाहे मुझे मृत्यु का ही सामना करना पड़े। दूसरे शब्दों में, उन्होंने मांस-अंडे आदि खाने से साफ इनकार कर दिया। उन्होंने ऐसा भोजन खाने की अपेक्षा मृत्यु को चुना। यह उनके व्यक्तित्व की दृढ़ता का ही परिचायक है।

विशेष:

  1. माँ कस्तूरबा के व्यक्तित्व की तेजस्विता, दृढ़ता, धर्मनिष्ठा को उजागर किया गया है।
  2. भाषा तत्सम शब्दावली युक्त खड़ी बोली है।
  3. मुहावरों के प्रयोग से भाषा में अर्थवत्ता का समावेश हुआ है।

गद्यांश पर आधारित अर्थग्रहण संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
माँ कस्तूरबा ने किस कानून को तोड़ने की बात की है?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा ने दक्षिण अफ्रीका के उस कानून को तोड़ने की बात की है, जो उन्हें महात्मा गाँधी की पत्नी स्वीकार नहीं करता था।

प्रश्न (ii)
माँ कस्तूरबा को दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने बंदी क्यों बनाया?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा ने दक्षिण अफ्रीका के सरकारी कानून को तोड़ा था, इसलिए उन्हें बंदी बनाकर जेल भेज दिया गया।

प्रश्न (iii)
जेल में डॉक्टर ने उन्हें क्या परामर्श दिया?
उत्तर:
जेल में माँ कस्तूरबा का स्वास्थ्य गिरने लगा, तो डॉक्टर ने उन्हें धर्म के विरुद्ध खाना खाने का परामर्श दिया। दूसरे शब्दों में, डॉक्टर ने उन्हें मांस और अण्डे खाने की सलाह दी।

गद्यांश पर आधारित विषय-वस्तु संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
दक्षिण अफ्रीका में कस्तूरबा को जब जेल भेज दिया तो उन्होंने अपना बचाव क्यों नहीं किया?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा दक्षिण अफ्रीका के उस कानून को तोड़ना चाहती थीं जो उन्हें. महात्मा गाँधी की धर्मपत्नी नहीं मानता था इसीलिए उन्होंने अपना बचाव नहीं किया और जेल चली गईं।

प्रश्न (ii)
माँ कस्तूरबा ने धर्म के विरुद्ध खुराक लेने से मना क्यों कर दिया?
उत्तर:
धर्म के विरुद्ध खुराक लेने से माँ कस्तूरबा की धर्मनिष्ठा खंडित हो जाती इसीलिए उन्होंने धर्म के विरुद्ध खुराक लेने से मना कर दिया।

MP Board Solutions

प्रश्न 4.
महात्माजी को गिरफ्तार करने के बाद सरकार की ओर से कस्तूरबा को कहा गया, “अगर आपकी इच्छा हो तो आप भी साथ में चल सकती हैं।” बा बोलीं-“अगर आप गिरफ्तार करें तो मैं भी जाऊँगी। वरना आने की मेरी तैयारी नहीं है। महात्माजी जिस सभा में बोलने वाले थे उस सभा में जाने का उन्होंने निश्चय किया था। पति के गिरफ्तार होने के बाद उनका काम आगे चलाने की जिम्मेदारी बा ने कई बार उठाई है।

शाम के समय जब वह व्याख्यान के लिए निकल पड़ीं, सरकारी अमलदारों ने आकर उनसे कहा, ‘माताजी सरकार का कहना है कि आप घर पर ही रहें, सभा में जाने का कष्ट न उठाएँ।” बा ने उस समय उन्हें न देशसेवा का महत्त्व समझाया और न उन्होंने उन्हें ‘देशद्रोह करने वाले हो’ कहकर उनकी निभर्त्सना ही की। उन्होंने एक ही वाक्य में सरकार की सूचना का जवाब दिया। “सभा में जाने का मेरा निश्चय पक्का है, मैं जाऊँगी ही।” (Page 45)

शब्दार्थ:

  • व्याख्यान – भाषण।
  • अमलदारों – अधिकारियों।
  • निभर्त्सना – निंदा।

प्रसंग:
प्रस्तुत गद्यांश काका कालेलकर द्वारा लिखित संस्मरण ‘निष्ठामूर्ति कस्तूरबा’ से उद्धृत है। लेखक कस्तूरबा के व्यक्तित्व की दृढ़ता को उजागर कर रहा है।

व्याख्या:
दिल्ली के बिड़ला हाउस में पुलिस द्वारा महात्मा गाँधी को गिरफ्तार करने के बाद सरकार की तरफ़ से बा को संदेश दिया गया कि यदि आपकी इच्छा गाँधी जी के साथ जेल जाने की हो, तो आप भी साथ चल सकती हैं। इस पर बा ने उत्तर दिया कि यदि आप मुझे गिरफ्तार करेंगे तो मैं भी चलूँगी, अन्यथा जेल जाने की मेरी कोई तैयारी नहीं; अर्थात् मैं बिना गिरफ्तार किए जेल जाने के लिए तैयार नहीं हूँ। गिरफ्तार करोगे, तो मुझे जाना ही पड़ेगा। महात्मा गांधी उस दिन जिस सभा में भाषण देने वाले थे, माँ कस्तूरबा ने उस सभा में जाने का निश्चय किया।

पति के जेल जाने के बाद, उनकी अनुपस्थिति में पति के कार्य को आगे बढ़ाने का उत्तरदायित्व ‘बा’ ने कई बार उठाया। शाम के समय वे सभा में भाषण देने के लिए बिड़ला हाउस चल दीं। तो सरकारी अधिकारियों ने आकर उनसे कहा कि माताजी सरकार चाहती है कि आप घर पर ही रहें, अर्थात् आप सभा में भाषण देने जाएँ, यह सरकार नहीं चाहती। ‘बा’ ने उस अवसर पर उन सरकारी अधिकारियों को न तो देश सेवा का महत्त्व समझाया और न ही उन्होंने उन्हें देश के विरुद्ध कार्य करने वाला कहकर उनकी निंदा की। उन्होंने एक ही वाक्य में सरकार की उस सूचना का उत्तर दिया कि सभा में जाने का मेरा निश्चय पक्का है, और में अवश्य जाऊँगी। . इस प्रकार उन्होंने अपनी दृढ़ता का परिचय दिया।

विशेष:

  1. माँ कस्तूरबा की दृढ़ता को उजागर किया गया है। पति के कार्य को आगे बढ़ाने के क्षमता को उद्घाटित किया गया है।
  2. भाषा सरल, सुबोध और आम बोलचाल की खड़ी बोली है।
  3. मुहावरों का सार्थक प्रयोग किया गया है।

गद्यांश पर आधारित अर्थग्रहण संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
प्रस्तुत गद्याशं में माँ कस्तूरबा के चरित्र का कौन-सा पक्ष उजागर हुआ है?
उत्तर:
प्रस्तुत गद्यांश में माँ कस्तूरबा के चरित्र की दृढ़ता का पक्ष उजागर हुआ है।

प्रश्न (ii)
महात्मा गाँधी को गिरफ्तार करने के बाद दक्षिण अफ्रीका सरकार ने कस्तूरबा के सामने क्या प्रस्ताव रखा?
उत्तर:
महात्मा गाँधी को गिरफ्तार करने के बाद दक्षिण अफ्रीका सरकार ने माँ कस्तूरबा के सामने प्रस्ताव रखा कि अगर आपकी इच्छा हो तो आप भी (गाँधीजी के) साथ चल सकती हैं।

प्रश्न (iii)
माँ कस्तूरबा ने पति की गिरफ्तारी के बाद उनके अधूरे कार्य को आगे बढ़ाने के लिए क्या किया?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा ने पति की गिरफ्तारी के बाद उनके अधूरे कार्य को आगे बढ़ाने के लिए उस सभा को सम्बोधित करने का निश्चय किया, जिसमें वे भाषण देने वाले थे। सरकारी अधिकारियों द्वारा रोकने पर भी वे नहीं रुकीं।

गद्यांश पर आधारित विषय-वस्तु संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
माँ कस्तूरबा ने गाँधी के साथ जेल जाने से क्यों मना कर दिया?
उत्तर:
सरकार माँ कस्तूरबा को गिरफ्तार नहीं कर रही थी अपितु उसने उनकी इच्छा पर छोड़ दिया था इसलिए उन्होंने गाँधीजी के साथ जेल जाने से मना कर दिया था। दूसरे उनकी जेल जाने की तैयारी भी नहीं थी।

प्रश्न (ii)
सरकारी अमलदारों ने क्या कहकर कस्तूरबा को सभा में जाने से रोकने का प्रयास किया?
उत्तर:
सरकारी अमलदारों ने यह कहकर कि ‘माताजी सरकार का कहना है कि आप घर पर ही रहें, सभा में जाने का कप्ट न उठाएँ, यह कहकर कस्तूरबा को सभा में जाने से रोकने का प्रयास किया।

MP Board Solutions

प्रश्न 5.
आगाखाँ महल में खाने-पीने की कोई तकलीफ नहीं थी। हवा की दृष्टि से भी स्थान अच्छा था। महात्माजी का साथ भी था, किंतु कस्तूरबा के लिए यह विचार ही असह्य हुआ कि ‘मैं कैद में हूँ।’ उन्होंने कई बार कहा-‘मुझे यहाँ का वैभव कतई नहीं चाहिए, मुझे तो सेवाग्राम की कुटिया ही पसंद है।’ सरकार ने उनके शरीर को कैद रखा किंतु उनकी आत्मा को वह कैद सहन नहीं हुई। जिस प्रकार पिंजड़े का पक्षी प्राणों का त्याग करके बंधनमुक्त हो जाता है उसी प्रकार कस्तूरबा ने सरकार की कैद में अपना शरीर छोड़ा और वह स्वतंत्र हुईं। उनके इस मूक किंतु तेजस्वी? बलिदान के कारण अंग्रेजी साम्राज्य की नींव ढीली हुई और हिंदुस्तान पर उनकी हुकूमत कमजोर हुई।

कस्तूरबा ने अपनी कृतिनिष्ठा के द्वारा यह दिखा दिया कि शुद्ध और रोचक साहित्य के पहाड़ों की अपेक्षा कृति का एक क्षण अधिक मूल्यवान और आबदार होता है। शब्द-शास्त्र में जो लोग निपुण होते हैं उनको कर्त्तव्य-अकर्तव्य की हमेशा ही विचिकित्सा करनी पड़ती है। कृतिनिष्ठ लोगों को ऐसी दुविधा कभी परेशान नहीं कर पाती। कस्तूरबा के और सामने उनका कर्तव्य किसी दीये के समान स्पष्ट था। जब कभी कोई चर्चा शुरू हो जाती तब ‘मुझसे पेही होगा’ और ‘यह नहीं होगा’-इन दो वाक्यों में ही अपना फैसला सुना देतीं। (Pages 45-46)

शब्दार्थ:

  • तकलीफ़ – परेशानी।
  • असह्य – असहनीय, सहन न करने योग्य।
  • वैभव – ऐश्वर्य।
  • कतई – बिलकुल, ज़रा भी।
  • बंधनमुक्त – स्वतंत्र।
  • मूक – मौन।
  • नींव ढीली होना – आधार कमजोर होना।
  • हुकूमत-शासन – व्यवस्था।
  • आबदार – स्वाभिमानी, धारदार, चमकदार।
  • निपुण – कुशल।
  • विचिकित्सा – संदेह, शक, दुविधा।

प्रसंग:
प्रस्तुत गद्यांश काका कालेलकर द्वारा रचित ‘निष्ठामूर्ति कस्तूरबा’ से उद्धृत किया गया है। लेखक माँ कस्तूरबा की मृत्यु और उससे ब्रिटिश साम्राज्य पर पड़ने वाले प्रभाव का वर्णन कर रहा है।

व्याख्या:
भारत की ब्रिटिश सरकार ने महात्मा गाँधी और माँ कस्तूरबा को गिरफ्तार करके आगा खाँ महल में रखा। महल में खाने-पीने की व्यवस्था अच्छी थी। उन्हें खाने-पीने की कोई परेशानी नहीं थी। हवा के आने-जाने की भी अच्छी व्यवस्था थी। दूसरे शब्दों में, महल हवादार और आरामदायक था। फिर गाँधीजी भी माँ कस्तूरबा के साथ ही थे किंतु सभी प्रकार की सुविधाएँ होते हुए भी ‘बा’ के लिए यह विचार ही असहनीय था कि वे इस महल में कैद हैं। यह महल कैदखाना है। उन्होंने इस संबंध में कई बार कहा कि मुझे यहाँ का ऐश्वर्य बिलकुल नहीं चाहिए।

मुझे तो इस महल की अपेक्षा सैवाग्राम की कुटिया ही अधिक पसंद है। लेखक कहता है कि सरकार ने उनके शरीर को आगा खाँ महल में कैद कर रखा था किंतु उनकी आत्मा को यह कैद सहन नहीं हुई। जिस प्रकार पिंजरे में बंद पक्षी अपने प्राणों को त्यागकर स्वतंत्र हो जाता है। उसी प्रकार माँ कस्तूरबा सरकार की कैद में अपना शरीर छोड़ा अर्थात् सरकार की कैद में ही माँ कस्तूरबा का देहांत हो गया और वे सरकार की कैद से आजाद हो गईं। उनके इस मौन किंतु तेजस्वी बलिदान के कारण भारत में अंग्रेजी साम्राज्य के आधार को कमजोर कर दिया। हिंदुस्तान पर उनकी पकड़ ढीली पड़ गई।

माँ कस्तूरबा ने अपने कार्यों से यह दिखा दिया कि अपनी कृतिनिष्ठा अर्थात् महात्मा गाँधी के प्रति उनकी श्रद्धा और आस्था के द्वारा यह प्रमाणित कर दिया कि शुद्ध और रोचक साहित्य के विशाल भंडार की अपेक्षा सृष्टि की रचना का एक क्षण अधिक मूल्यवान और स्वाभिमान होता है। शब्द-शास्त्र अर्थात् शब्द ज्ञान में जो लोग निपुण होते हैं उनको कर्त्तव्य और अकर्तव्य का निर्णय करने में सदैव दुविधा होती हैं।

लेखक का मत है कि ईश्वर की रचना के प्रति आस्था रखने वाले लोगों को इस प्रकार की दुविधा कभी भी परेशान नहीं कर पाती अर्थात् वे तुरंत निर्णय करने में सक्षम होते हैं। माँ कस्तूरबा के सम्मुख उनका कर्त्तव्य दीये के प्रकाश के सामने बिलकुल स्पष्ट था। जब कभी कर्त्तव्य-अकर्त्तव्य के संबंध में चर्चा आरंभ हो जाती तो :मुझसे यही होगा’ और ‘मुझसे यह नहीं होगा’ कहकर वे अपना स्पष्ट निर्णय दे देती थीं। उन्हें निर्णय लेने में ज़रा भी देर नहीं लगती थी। वे तुरंत निर्णय लेने की क्षमता रखती थीं।

विशेष:

  1. माँ कस्तूरबा की कैद में मृत्यु ओर ब्रिटिश शासन पर उसके प्रभाव का वर्णन किया गया है।
  2. माँ कस्तूरबा की निर्णय क्षमता को उजागर किया गया है।
  3. भाषा तत्सम तथा उर्दू शब्दावली से युक्त खड़ी बोली है।

गद्यांश पर आधारित अर्थग्रहण संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
माँ कस्तूरबा आगा खाँ महल में क्यों नहीं रहना चाहती थीं?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा को सरकार ने आगा खाँ महल में कैद में रखा था। यद्यपि उन्हें वहाँ सारी सुविधाएँ उपलब्ध थीं तथापि उन्हें कैद में होने का विचार असह्य था इसलिए वे आगा खाँ महल में नहीं रहना चाहती थीं।

प्रश्न (ii)
माँ कस्तूरबा सरकार की कैद से कैसे स्वतंत्र हुईं?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा जेल में ही अपने प्राणों को त्यागकर सरकार की कैद से मुक्त हो गईं।

प्रश्न (iii)
प्रस्तुत गद्यांश में माँ कस्तूरबा की कौन-सी चारित्रिक विशेषता उभरकर सामने आई है?
उत्तर:
प्रस्तुत गद्यांश में माँ कस्तूरबा के चरित्र की कर्तव्य-अकर्त्तव्य के संबंध में निर्णय लेने की क्षमता उजागर हुई है। वे तुरंत निर्णय लेने में समर्थ थीं।

गद्यांश पर आधारित विषय-वस्तु संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न (i)
आगा खाँ महल में सरकारी कैद में माँ कस्तूरबा की मृत्यु होने का ब्रिटिश साम्राज्य पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर:
कैद में माँ कस्तूरबा की मृत्यु होने से भारत में अंग्रेजी साम्राज्य की नींव ढीली हुई और हिंदुस्तान पर उनकी हुकूमत कमजोर हुई।

प्रश्न (ii)
माँ कस्तूरबा को आगा खाँ महल के वैभव की अपेक्षा क्या पसंद था?
उत्तर:
माँ कस्तूरबा को आगा खाँ महल के वैभव की अपेक्षा सेवाग्राम की कुटिया का सीधा-सादा जीवन अधिक पसंद था।

MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 13 On His Being Arrived at the Age of Twenty-three

In this article, we will share MP Board Class 12th English Solutions Chapter 13 On His Being Arrived at the Age of Twenty-three Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 13 On His Being Arrived at the Age of Twenty-three (John Milton)

On His Being Arrived at the Age of Twenty-three Textbook Exercises

Word Power

A. Give words opposite in meaning to the words mentioned below
subtle, youth, hasting, deceive, mean,
Answer:

  • subtle – obvious
  • youth – old age
  • hasting – delaying
  • deceive – believe
  • mean – dignified
  • inward – outward
  • appear – disappear
  • perhaps – certainly

B. Mark the use of word, ‘strictest’ in the poem. It is an adjective in the superlative degree. The other two forms in the positive and comparative degrees are: ‘strict’ and ‘stricter’, Give the forms of the following adjectives in the comparative and superlative degrees. late, soon, slow, mean, high, much.
Answer:
MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 13 On His Being Arrived at the Age of Twenty-three img 1

MP Board Solutions

C. Match the words in column ‘A with those in column ‘B’.

Column ‘A’ Column’B’
(i) renaissance
(ii) taskmaster
(iii) deceive
(iv) subtle
(v) blossom
(vi) ripeness
(1)  dupe
(2) reawakening
(3) maturity
(4) one who entrusts work to be done by others
(5) not obvious and so difficult to notice
(6) flower which has not opened its petals

Answer:
(1) 2, (ii) 4, (iii) 1, (iv) 5, (v) 6, (vi) 3.

D. Look up a dictionary and match tile words wit h their meanings. Also use them in sentences of
your own to bring out the difference in their meanings.

  • faith – a set of beliefs
  • credo – trust in somebody’s ability or knowledge
  • belief – a set of beliefs or religious principles
  • motto – a set of beliefs shared by a group or organisation
  • creed – confidence that something or somebody is true
  • dogma –  a sentence or phrase, expressing the aims and beliefs of a person or institution.

For example:

  • faith – (trust in somebody’s ability or knowledge): People had faith in what Mahatma Gandhi did for the nation.
  • credo –  (a set of beliefs): Every religion follows a credo.
  • belief – (confidence that something or somebody is true): I have full belief in you.
  • motto –  (a sentence or phrase expressing the aims and beliefs of a person or institution): What is your motto in life? .
  • creed – (a set of beliefs shared by a group or organisation): There are people of many creeds in India.
  • dogma – (a set of beliefs or religious principles): I have firm belief in the dogmas of the church.

comprehension

A. Answer the following questions in one sentence:

Question 1
Why does the poet call time, the subtle thief of youth?
Answer:
The poet call time, the subtle thief of youth because time has taken away his twenty-three years without notice.

Question 2.
‘But my late spring no bud or blossom sheweth’.
(a) What does ‘spring’ refer to?
(b) How is it late?
Answer:
(a) ‘Spring’ refers to maturity. Maturity that poet has not gained with age.
(b) It is late as he has not seen bud or blossom. There is no sign of maturity that is visible.

Question 3.
All is, if I have grace to use it so,
As ever in my Taskmaster’s eye.
(a) What has grace been spoken of in the above lines?
(b) Who is the Taskmaster?
Answer:
(a) Grace is the extra time that the poet wishes to have to compensate his loss.
(b) God is the Taskmaster.

MP Board Solutions

B. Answer the following questions in about 60 words:

Question 1.
What has time stolen from the poet?
Answer:
In this poem, the poet makes a complain blaming Time that it has stolen the prime part of his life. The twenty-three years of his life passed away so hastily that the poet failed to mature himself. His career could not be perfect. Although his appearance is now mature, he still requires time for the maturity of his career. There is a lack of inner maturity.

Question 2.
What deceives the truth? (M.P. Board 2009)
Answer:
Here, the poet refers that now he is mature in age. His appearance can deceive one about his inner maturity which is still unripe. Time did not give him an opportunity to attain the ripeness of his poetic talent. He has lost his career. His appearance is deceiving.

Question 3.
What will be in the strictest measure?
Answer:
As this poem is devotional in tone, the poet says that whatever one gets or does, it is the ruling of God. God distributes everything to everyone in the strictest measure. For him, there is no distinction between high or low. He observes everything equally and allots everyone equally.

Question 4.
How does the poet console himself?
Answer:
The poet here feels sorry for he could not make his career properly. His talent is still unripe. Time has stolen the twenty-three years of his life without notice. It has deceived him. However, the poet consoles himself with the plea that whatever he has achieved was the wish of God. God gives anything to anyone without any reservation. God being the Taskmaster controls everything.

Question 5.
What passes by in a hurry in the poet’s life?
Answer:
Here, the poet feels himself at a great loss. He thinks that he has lost the twenty-three years of his life without any concrete achievement. It has passed so hastily that he could not notice the bud or blossom. Now, he has attained maturity of age but he still needs time for attaining the maturity in his career.

Question 6.
What is approaching the poet fast?
Answer:
The poet here reveals a secret of his life. He says that he is now grown up. The state of manhood is approaching fast to him. He has lost his youth the formative period of his life. However, as he is sorry for the loss of youth very rapidly, he feels approaching of manhood at the same time.

Question 7.
Explain the line, “That some more timely happy spirits endueth”.
Answer:
As the poet is sorry for not attaining maturity’ in his career, he requires some more time for it. He feels that his career, that is, the poetic talent is still unripe. Time has passed so hastily that he could not notice the passing of his youth. In this line, he expresses his desire for some more timely happy spirits. He wants some grace time to compensate the lost years and work ahead for his poetic maturity.

MP Board Solutions

C. Answer the following question in about 75 words:

Question 1.
Briefly describe Milton’s feelings on his having arrived at the age of twenty-three.
(MP. Board 2011)
Answer:
On His Having Arrived at the age of Twenty-three is poet’s reflections on his late maturing. He has attained the age of twenty-three. He takes it as a loss of his life. He feels that it has approached in such a manner that he could not notice it. The prime of his life is lost. He couldn’t mind his career. He couldn’t achieve the height of the poetic talent. He feels being cheated or deceived by the time which has taken away his ripening period without notice. The poet is not at all happy but one thing gives him relief is that it was the will of God.

Question 2.
Give the central idea of the poem.
Answer:
Blaming Time for stealing his youth, the poet says that it has taken away his twenty-three years without notice. It has passed away so fast that he couldn’t mend his career properly. He couldn’t find time to mature himself. His appearance has become mature but he still requires time to get inner maturity. Whatever time he has got, it was the will of God. Whatever one does, what one achieves, when one lives one’s life everything is the wish of God. No one can overrule the ruling of God who is the Taskmaster of the world. No one is spared from His eye.

Question 3.
Critically analyse the poem.
Answer:
The poem On His Having Arrived at the Age of Twenty-three is a devotional sonnet written in an autobiographical tone. It contains Milton’s reflections of late maturing. The dominating passion of his life is to justify the ways of God to man and write in praise of God. Here, he blames Time for stealing away his youth without repairing his poetic talent .He uses the sonnet form of poetry to produce a personal utterance that combines dignity of lone, flexibility of movement and mastery of structure.

Question 4.
Analyse the poem as a Petrarchan Sonnet.
Answer:
Sonnet is a short poem of fourteen lines expressing a single thought or emotion at a time. It owes its popularisation to the 14th century Italian poet Franesco Petrarch who used this poetic form to express his love for his idealised lady love, laura. John Milton uses the original Italian (Petrarchan) form to express his devotion to God or sublime feelings.

In this form, the poem Is divided into two parts the octave (a stanza of eight lines) and the sestet (a stanza of six lines). The first part makes a statement or puts up a question while the second part illustrates or serves the answer to it. On Being Arrived at the Age of Twenty-three is a devotional sonnet in Petrarchan form. It is a striking example of the Renaissance ethos and Reformation zeal. It is an assertion of faith and a wish to be guided by the divine will.

MP Board Solutions

Speaking Activity

A. Read aloud the poem in groups, observing the stress-pattern. short syllable followed by a long syllable. Consult an English pronunciation dichonary.
Answer:
Do yourself.

B. ‘Practtsing one’s faith is one’s private affair’. Give arguments for or against the motion.
Answer:
Do yourself.

A. Write a letter to your friend, narrating one such even! when your act of faith made you successful in the long run.
Answer:
163. Shivaji Park
Gwalior (M.P.)
Date: 19 Jan. 20xx
Dear Rahul,
As I was very busy last week, I couldn’t reply to your letter. Now I am free and wish to share my experience which is absolutely unbelievable. I was seriously ill. The fever was not coming down. No medicine was working. The doctors were very anxious. They advised to take me to the City Hospital. Next morning, I had to appear for the Maths Olympiad. My father was upset. But my grandmother wasn’t. She had firm belief in God, specially in Lord Hanuman. She began chanting Hanuman Chalis.a. For the whole night, she did My fever began to come down. It finally became normaL Next day, I appeared for my test comfortably. I was amazed how the faith of my grandmother worked so well. Everyone was surprised. I thank God to the core of my heart, He is really the Almighty.
Yours,
Rohit.

B. Expand the idea contained in the statement, ‘Faith mares the mountains’.
Answer:
‘Faith moves the mountains’ is a very old saying. ft is still hue. ‘Faith’ means confidence. If one is confident of one’s capabilities, one can do wonders. it gives courage and a wish to do any type of work. One can win over all difficulties, Sometimes, it happens that one does even an impossible task. So, one must not lose confidence. Nothing is impossible if one has the determination to do. Determination along with the self-motivation helps in attaining the impossible thing but the hard work is required.

Think it Over

A. Faith is the key to success. Think of other qualities which contribute to the development of a successful and happy human personality.
Answer:
Do yourself.

B. Every religion insists on faith. How does it make a person noble and sublime?
Answer:
Do yourself.

Things to Do

A. Prepare a list of John Milton’s important works.
Answer:
Do yourself. Yet may consult your school library

B. Have you read any other 14-line poem in a different rhynze-sclieme? Do you know other sonneteers like Thomas Wyatt, John Donne, William Wordsworth and W.B. Yeats and so on? Read some of their sonnets; examine the rhyme-schemes and themes.
Answer:
Do yourself.

On His Being Arrived at the Age of Twenty-three Summary in English

Blaming Time for stealing his youth, the poet says that it has taken away his twenty-three years without notice. It has passed away so fast that he couldn’t mend his career properly. He couldn’t find time to mature himself. His appearance has become mature but he still requires time to get inner maturity. Whatever time he has got, it was the will of God. Whatever one does, what one achieves, when one lives one’s life everything is the wish of God. No one can overrule the ruling of God who is the Taskmaster of the world. No one is spared from His eye.

MP Board Solutions

On His Being Arrived at the Age of Twenty-three Summary in Hindi

समय पर अपनी जवानी चुराने का आरोप लगाते हुए कवि कहता है कि इसने उसके तेईस वर्ष बिना सूचना के ले लिए। यह इतनी तेज़ी से बीत गया कि उसे सही ढंग से अपना गुण सँवारने का समय ही नहीं मिला। वह अपनी परिपक्वता के लिए समय नहीं निकाल पाया। उसका शरीर (हाव-भाव) परिपक्व हो गया है, परंतु अभी भी उसकी आंतरिक परिपक्वता के लिए समय की ज़रूरत है। समय ने उसे धोखा दिया है। लेकिन कवि अपने को यह सोचकर सांत्वना देता है कि जो भी उसने पाया है, यह ईश्वर की इच्छा है। जो भी कोई करता है, जो भी कोई पाता है और कब तक कोई जीता है-सब ईश्वर की इच्छा है। कोई भी ईश्वर, जो दुनिया का मालिक है, के आदेश को नकार नहीं सकता। कुछ भी उसकी आँखों से बचा नहीं है।

On His Being Arrived at the Age of Twenty-three Word Meaning

MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 13 On His Being Arrived at the Age of Twenty-three img 2

On His Being Arrived at the Age of Twenty-three Important Pronunciations

MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 13 On His Being Arrived at the Age of Twenty-three img 3

On His Being Arrived at the Age of Twenty-three Stanzas for Comprehension

Read the following stanzas carefully and answer the questions that follow:

1. How soon hath Time, the subtle thief of youth,
Stolen on his wing my three and twentieth year!
My hastign day fly on with full career,
But my late spring no bud or blossom sheweth. (Page 93)

Questions: (M.P. Board 2010)

(i) What has time stolen from the poet?
(ii) Find out the words from the extract which have the same meaning as the words given below:
(a) something not noticeable or obvious.
(b) flower which has not yet opened its petals.
(iii) Give the superlative degree of the word ‘soon’.
Answers:
(i) The time has stolen youth from the poet in the form of twenty-three years.
(ii) (a) subtle
(b) bud.
(iii) ‘Soonest’ is the superlative degree of the word ‘soon’.

MP Board Solutions

2. Yet be it less-or more, or soon or slow,
It shall be still in strictest measure even
To that same lot however mean or high,

Toward which time leads me and the will of Heaven.
All is, if I have grace to use it so,
As ever in my Taskmaster’s eye. (Page 93)

Questions:
(i) Who is referred to as ‘Heaven’ in the fourth line?
(ii) ……………measure even to that same lot.
(iii) What does the poet wish for?
(iv) Give a word which has the meaning same as ‘balance’.
Answers:
(i) God is referred to as’Heaven’in the fourth line.
(ii) It shall be still in strictest.
(iii) The poet wishes for the grace period to mind his ways and measure his career.
(iv) ‘Measure’ has the same meaning as ‘balance’.

MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 15 To Autumn

In this article, we will share MP Board Class 12th English Solutions Chapter 15 To Autumn Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 15 To Autumn (John Keats)

To Autumn Textbook Exercises

Word Power

A. Distinguish between the following pairs of words by using them in meaningful sentences. The first word in each pair is from the text:
bless-bliss; vine-wine; shell-cell; sweet-sweat; later-latter; warm-worm; cease-seize; abroad-aboard; granary-greenery; floor-flour; hair-heir; patient-patent; plain-plane;
Answer:

  • Bless-The hermit blessed him with a long life.
    Bliss-Sound sleep is a great bliss to me.
  • Vine-The grapevine scattered all over the roof.
    Wine-Wine is injurious to health.
  • Shell-The shell of the tortoise is very hard.
    Cell-The cell of this calculator is damaged.
  • Sweet-The mango tastes sweet.
    Sweat-Too much sweat is not good. .
  • Later-Later, I thought to shift my plan.
    Latter-Two visitors came this morning, the latter one was a policeman.
  • Warm-Take this pill with warm water.
    Worm-The doctor found a dangerous worm in his body.
  • Cease-The engine of this car suddenly ceased.
    Seize-The police seized all the property of my neighbour.
  • Abroad-I sent my son abroad for higher studies.
    Aboard-I was aboard when you called me.
  • Floor-My friend’s house is on the third floor.
    Flour—I don’t like packed flour.
  • Hair—His hair turned grey prematurely.
    Heir—The heir of the king proved to be unworthy.
  • Patient—This patient suffers from a chronic asthma.
    Patent—Use only patent drug.
  • Plain—I want a plain sheet of paper.
    Plane—The plane crashed this morning due to technical failure.

MP Board Solutions

B. The following words have sensuous connotations. Fill them in the appropriate columns according to their appeal to the senses:
mist, mellow, ripeness, swell, plump, kernel, flower, clammy, wind, perfume, cider, oozings, songs, music, soft, bloom, stubble-plains, rosy hue, wailful, chou, bleat, whistles, twitter.
Answer:

appeal to the sense of perception appeal to the eye appeal to the ear appeal to the nose appeal to the tongue
soft
stubble-plains
wind
clammy
swell
flower
bloom
mist
swell
rosy hue
oozings
plump
songs
music
wailful
bleat
whistles
twitter
choir
perfume ripeness kernel , cider

Comprehension

A. Answer the following questions in about 60 words each:

Question 1.
What does the autumn plan to do with the cottage trees?
Answer:
The autumn plans to bend the cottage trees with apples and fill all the fruits with ripeness to the core. It wants to swell the ground and plump the hazel shells with a sweet kernel. Here, the poet presents a lively and sensuous picture of the season. The Autumn’and the sun work together for the ripening of all kinds of fruits.

Question 2.
Why does autumn intend to ‘set budding’ the late summer flowers?
Answer:
The autumn is described as a season of fruitfulness. There is mist and mellow fruitfulness all around. Fruits come to their maturity. The season intends to ‘set budding’ the late summer flowers, so that the bees can suck the perfect sweetness. They store fresh honey.

Question 3.
How are the honey-combs after the summer and how do the bees feel?
Answer:
The bees here represent a continuation of summer. For the bees, therefore, the warm days of summer have not ended. The sticky cells of the honey-combs are filled to overflowing with honey and yet autumn provides more flowers in case the bees may like to draw more sweetness from them.

Question 4.
How can Autumn be seen as a harvester?
Answer:
The poet has personified Autumn in various forms. All the forms are perfect and realistic. Autumn is seen as a harvester. He is sitting carelessly in the field during the winnowing operation. Here the poet uses all the images to make the picture clearer. The Autumn is shown sitting carelessly on a granary floor. His hair is soft lifted by the winnowing wind. He is sometimes in sound sleep on a half reaped furrow. He is drowsed with the fume of poppies while his look spares the next swath and all its twined flowers.

MP Board Solutions

Question 5.
How does the poet describe the crop cutter?
Answer:
While presenting the various occupations of Autumn, the poet depicts him as a reaper. He has fallen asleep in the midst of reaping. He is very tired. Through this the poet makes the poem human and universal because the eternal labour of man is brought before the eyes of the reader.

Question 6.
What is the cider-maker doing?
Answer:
The poet presents the Autumn in a role of a cider-maker who is watching intently the apple juice oozings hours by hours till its end. There is a patient look in his eye. The poet is very realistic in the description of the Autumn.

Question 7.
Describe the scene of the earth at sunset. (M.P. Board 2011)
Answer:
Keats has presented his keen observation with all minute details. The whole poem demonstrates his interest in nature. While describing the scene at sun-set, he says that in the evening when the crimson light of the setting sun falls upon the stable fields, a chorus of natural sound is heard. This picture is very appealing.

Question 8.
Where do the small gnats sing from and how does their music reach the poet?
Answer:
The poet has created a very intense and varied sound effect in the poem. Autumn has its own sounds and songs. In the evening in a wailful choir the small gnats mourn among the river shallow. The sound appears to be born aloft or sinking, as the light winds lift or die. It symbolizes the close of the year.

Question 9.
Do you find remember of sadness at some points in the poem? How does the poet overcome the sad moment and become happy?
Answer:
Keats presents a vivid picture in this poem. Beginning with a very sensuous picture of the season, the poet shows the Autumn as an active agent. However, towards the end of the poem, he becomes sad. The Autumn is shown at its fag end. There are images of death or withdrawal and of song and the songs are funeral dirge for the dying year.

Question 10.
How does the poet address Autumn? (M.P. Board 2015)
Answer:
The poet has presented a lively picture of the autumn. He addresses the autumn as ‘season of mists and mellow fruitfulness’. The autumn is seen as a person in various roles as a reaper, a winnower, a gleaner and a cider-maker.

MP Board Solutions

B. Answer the following questions in 75-100 words each:

Question 1.
Prove that To Autumn’ is a song of ripeness and abundance.
Answer:
‘Ode to Autumn’ is a typical poem of John Keats. This poem describes the autumn season. The poet personifies the season and presents it with all its sensuousness. Autumn is described as a season of ‘mellow-fruitfulness’. The sun is ripening or ‘maturing’ the earth. It conspires to load the vines and blend the apple trees and ‘to swell the ground and plump the hazel shells’.

The season fills ‘all fruits with ripeness to the core’. These images of full, inward ripeness, and strain suggest that the maturing and the fulfillment has reached its climax. Even the combs of the bees are over brimmed but still the ripening continues as. ‘Budding more and still more later flowers.’ Therefore, this poem can be said a song of ripeness and abundance.

Question 2.
What are the two friends-Autumn and warm sun planning to do with fruits and flowers?
Answer:
‘Ode to Autumn’ presents a sensuous picture of the autumn. Autumn is a season of ripe fruitfulness. It is the time of the ripening of grapes, apples, gourds, hazel nuts etc. It is also the time when the bees suck the sweetness from the later flowers and make honey. The sun plays a major role in maturing or ripening these fruits. It is the main conspirator of the ripening and maturing of the fruits. There are indirect images of ageing. Autumn and the sun are shown as close bosom friends, together conspiring to riper the fruits.

Question 3.
What are the four images of personication through which autumn has been picturized?
Answer:
The poem, ‘Ode to Autumn’ presents autumn’s vivid images. The poet personifies it in fair images of a winnower, a reaper, a gleaner and a cider-presser. Autumn is seen as a woman who performs the task of winnowing, reaping, gleaning, and cider-pressing. One can see the Avoman, i.e., autumn into the fields engaged in the winnowing operations while breeze ruffles her locks of hair.

This is the first image of autumn. Second, one may see autumn in the form of a reaper, who has been engaged in reaping corn but is so overcome by the sleep-inducing smell of poppies, which hampers the next row of corn that remains unreaped. Third, autumn may be seen in the image of a gleaner who is walking along steadily with the weight also of grains upon her head, crossing a stream. Finally, autumn may also be seen in the image of one who is crushing the ripe apples in the warden press to obtain their juice from which cider is to be made. This woman sits by the cider-press and watches patiently the apple juice flowing out of the press drop-by drop.

MP Board Solutions

Question 4.
In the third stanza, the poet says “thou hast thy music too”. What objects does the poet find Autumn’s music in?
Answer:
In the third stanza of the poem, Keats describes the sound of Autumn. It has its own pattern and music or quality that enhances its charm. The sounds of Autumn are heard in the evenings. When the sun is setting, soft glow irradiates the fields from which the crop has been reaped, leaving the stumps behind. The long-drawn out clouds in the sky look like the bars of a grate. At this time, the melancholy buzzing of the gnats is heard. The gnats fly about among the shrubs growing on the riverside. The gnats are carried upwards when the wind is strong and they come downwards when the wind is feeble.

In addition to the gnats singing in a melancholy chorus, the bleating of full-grown lambs is heard from the hills which bound the landscape. Then there is the chirping of the grasshoppers. Next comes the high, bold and delicate singing of the red-breast which sings from an orchard. Finally there is the twittering of the swallows which are gathering in large numbers to get ready for their winter migration. Through these images, Keats heightens the effect of autumn. The sound generated becomes the music of autumn.

Question 5.
Keats is a master of word-pictures. Explain some of the word-pictures from the poem.
Answer:
Keats’s Ode to Autumn is said to be a fine specimen revealing the qualities of the poet.
Keats was one of the greatest word painters in English poetry. In his poems, picture follows picture in quite succession and each picture is remarkable for its vividness and minuteness of detail. His images are concrete. In Ode to Autumn, Autumn has been represented in the concrete form of a reaper, winnower, gleaner, etc.

In the first stanza, we have a complete and concrete picture of Autumn’the season of mists and mellow fruitfulness.’ In the second stanza, Autumn is a winnower’on a half reaped furrow sound asleep,’ a gleaner, keeping ‘steady they laden head across a brook’ and a spectator, watching ‘the last oozings hour by hour.’ All these pictures of Autumn make the poem human and universal for its use of concrete imagery.

Question 6.
What is an ode? Compare ‘To Autumn’ with Toru Dutt’s ‘Our Casuarina Tree’ in respect to form, address and glorification of the subject of treatment.
Answer:
An Ode is always an address to some noble thought, idea or deity. It is a serious, noble and dignified form of lyrical composition in a regular stanza form. It is exalted in theme, elated in tone and is always refined in language and style.

Ode to Autumn is a typical example of a highly structured ode. It is in the form of an
address in a purely objective manner. The Autumn has been personified with vivid images which seem to be very realistic. On the other Hand, Toru Dutta’s ‘Our Casuarina Tree’ is in lyrical tone with a touch of elegy.

Toru Dutt’s,’Our Casuarina Tree’ is a more personal poem where she glorifies the tree as it reminds her of her beautiful past. Her poem is an effort to make the tree immortal while Keat’s ‘To Autumn’ personifies the different aspect of Autumn in lyrical form.

MP Board Solutions

Question 7.
Give a critical appreciation of the poem, dealing with Keats’ attitude to the season, and the pictorial quality of the ode.
Answer:
Autumn is a season of ripe fruitfulness. It is the time of the ripening of grapes, apples, gourds, hazelnuts, etc. It is also the time when the bees suck the sweetness from “later flowers” and make honey. Thus, autumn is picturised in the stanza as bringing all the fruits of earth to maturity in readiness for harvesting.

In the second stanza, autumn is seen in the person of a reaper, a winnower, a gleaner, and a cider-presser. Reaping, winnowing, gleaning and cider-pressing are all operations connected with the harvest and are, therefore, carried on during autumn. Autumn is depicted first as a harvester sitting carelessly in the field during a winnowing operation, second, as a tired reaper fallen asleep in the very midst of reaping, third, as a gleaner walking homewards with a load on the head, and fourth, as a cider-presser watching intently the apple-juice flowing out of the cider-press.

Autumn is not altogether devoid of music. If spring has its songs, autumn too has its sounds and songs. In the evening, when the crimson light of the setting sun falls upon the stubble-fields, a chorus of natural sounds is heard. The gnats utter their mournful sounds; the full-growyn lambs bleat loudly, the hedge-crickets chirp; the robin’s high and delicate notes are heard, and the swallows twitter in the sky. In the last stanza, the close of the year is associated with sunset and nightfall.

C. Explain the following expressions with reference to the text:

1. mellow fruitfulness (use of abstract for the concrete)
2. maturing sun.
3. load and bless with fruit the vines
4. winnowing wind.
5. soft dying day.
Answer:

  1. Full of soft and juicy fruits.
  2. Warm sun of Autumn that ripens the fruits.
  3. The thatched roofs loaded with grapes during autumn.
  4. Gently moving Autumn wind that helps in separating grain from chaff
  5. day coming to its close gently.

MP Board Solutions

D.Explain the following verses:

(i) Who has not seen thee oft amid thy store?
Sometime whoever seeks abroad may find
Thee sitting careless on a granary floor,
Thy hair soft-lifted by the winnowing wind.

(ii) Where are the songs of spring? Ay, where are they?
Think not of them, thou hastes thy music too.

(iii) While barred clouds bloom the soft during day,
And touch the stubble-plains with rosy hue;
Then in a wailful choir the small gnats mourn Among the river sallows, borne aloft,
Or sinking as the light wind lives or dies.
Answer:
(i) Autumn may often be seen in the fields in the midst of her treasures of corn which have been harvested. The wind separates the chaff from the grains. It also means the wind which ruffles and passes the locks of a woman’s hair.

(ii) Here, the poet talks about the sounds of Autumn. Spring is distinguished by its songs which are not heard in Autumn but the poet says that there is no need to feel any regret on that account for the Autumn has its own peculiar music.

(iii) The poet in these lines describes that the long drawn out clouds in the sky look like bars of a grate. At this time, the melancholy buzzing of the gnats is heard. The gnats fly about among the shrubs growing on her river-side. The gnats are carried upwards when the wind is strong and they come downwards when the wind is feeble.

Speaking Activity

Hold a seminar in your class, under the guidance of your English teacher on the topic: ‘Nature and Man’. Individual speakers may choose any of the following topics for deliberation.

  • Educative value of Nature.
  • Nature as a refuge from worldly worries.
  • Nature as a living force.
  • Lessons we can learn from Nature:
  • charit generosity, co-existence, discipline, peace and harmony.
  • Can man survive without Nature?

Answer:
Students can choose any of the given topics as per their choice. One topic is given here as an example: Can Man Survive without Nature?
Man is a gift of God. God has created man and for his all types of comforts, He created Nature. Hence, there is an intricate relationship between Man and Nature. The whole life of a man depends upon Nature. Nature provides us air to breathe, water to drink, grain to eat, cool breeze to soothe, etc. In every sphere of our life, we need Nature. If Nature ceases to cooperate just for a second, we will collapse and the whole human race will be crippled. So, we cannot survive without Nature.

Writing Activity

Compose a paragraph on: “If Winter comes, can spring be far behind”? You can have an idea from the following: P.B. Shelley, closes his Ode to the West Wind with the given line, conveying the message of optimism and hope of regeneration. In the Ode, the poet invokes the tempestuous West Wind as a destroyer of the old and decayed order of things and a preserver of the seeds, so that, when spring comes, they may come to fresh life.
Answer:
Nature has its own way to govern this universe. It follows certain pattern which regulate our life. Morning is followed by day, day by night, and birth by death. There is a pattern of season which changes at a certain period. Nature maintains a balance. fit is not maintained, there would be a tremendous kind of anarchy. Everything will be turned upside down. So, It is sure that if winter comes spring cannot be far behind because it is governed by Nature.

Think it Over

Given below is a poem on spring written by Thomas Nash (1567—1601). Read the poem.

Spring

Spring, the sweet spring, is the year’s pleasant king;
Then blooms each thing, then maids dance in a ring,
Cold doth not sting, the pretty birds do sing,
Cuckoo, jug-jug, pu-we, to-witta-woo!
The palm and may make country houses gay,
Lambs frisk and play, the shepherds pipe all day,
And we hear ay birds tune this merry lay, .
Cuckoo, jug-jug, pu-we, to-witta-woo!
The fields breathe sweet, the daisies kiss our fret,
Young lovers meet, old wives a—sunning sit,
In every Street these tunes our ears to greet,
Cuckoo, jug-jug, pu-we, to-witta-woo!
Spring! the sweet spring!
Now think over the difference between the attitudes of the two poets—Nash and Keats-
towards the two different seasons.
Answer:
Do yourself.

Things to Do

In cold countries, there are four seasons, while in warm countries like India, there are six seasons called ‘RUTUS’.
English seasons are; Spring. Summer, Autumn. and Winter
Indian seasons are: Vasant, Grishnia, Varsha, Sharad, Hemanta and Shishir.
Now gather the following information about both:

  • their months of occurrence.
  • activities like ploughing, reaping etc. associated with each
  • changes in nature in each season.
  • Gregorian calendar months identical to Indian months.

Answer:
Do yourself with the help of your teacher.

To Autumn Summary in English

Autumn is a season of ripe fruitfulness. It is the time of the ripening of grapes, apples, gourds, hazelnuts, etc. It is also the time when the bees suck the sweetness from “later flowers” and make honey. Thus, autumn is picturised in the stanza as bringing all the fruits of earth to maturity in readiness for harvesting.

In the second stanza, autumn is seen in the person of a reaper, a winnower, a gleaner, and a cider-presser. Reaping, winnowing, gleaning and cider-pressing are all operations connected with the harvest and are, therefore, carried on during autumn. Autumn is depicted first as a harvester sitting carelessly in the field during a winnowing operation, second, as a tired reaper fallen asleep in the very midst of reaping, third, as a gleaner walking homewards with a load on the head, and fourth, as a cider-presser watching intently the apple-juice flowing out of the cider-press.

MP Board Solutions

Autumn is not altogether devoid of music. If spring has its songs, autumn too has its sounds and songs. In the evening, when the crimson light of the setting sun falls upon the stubble-fields, a chorus of natural sounds is heard. The gnats utter their mournful sounds; the full-growyn lambs bleat loudly, the hedge-crickets chirp; the robin’s high and delicate notes are heard, and the swallows twitter in the sky. In the last stanza, the close of the year is associated with sunset and nightfall.

To Autumn Summary in Hindi

पतझड़ पके फलों का मौसम है। यह अंगूर, सेब, कद्दू, पहाड़ी बादाम आदि के पकने का समय है। यही समय है जब मधुमक्खियाँ पिछड़े फूलों की मिठास को चूसती हैं और शहद तैयार करती हैं। इस तरह पतझड़ को एक ऐसे रूप में चित्रित किया गया है जो धरती पर फूलों की परिपक्वता और कटाई के लिए उन्हें तैयार करता है।

दूसरे पद में पतझड़ को एक फसल काटने वाली, फसल से अनाज निकालने वाली और अनाज को तैयार करने वाली के रूप में देखा गया है। कटाई, उड़ाई, बिनाई और छंटाई-सभी फसल से सम्बन्धित प्रक्रियाएँ हैं और इसलिए सभी पतझड़ के समय होते हैं। पतझड को सबसे पहले एक किसान के रूप में चित्रित किया गया है जो अपने खेत में बवाई के समय निश्चिन्त बैठा होता है, उसके बाद एक थके हुए फसल काटने वाले के रूप में जो कटाई के दौरान थककर गहरी नींद में सोया हुआ है और फिर एक बोझा ढोने वाले के रूप में जो अपने सिर पर अनाज का बोझ उठाए घर की ओर जा रहा है और फिर एक पिसाई करने वाले के रूप में जो गौर से सेव को दबाए जाने से निकलने वाले रस को देख रहा है।

पतझड़ बिल्कुल संगीतहीन नहीं है। यदि वसंत का अपना गीत है तो पतझड़ की भी अपनी आवाज़ और अपना गीत है। जब शाम को धुंधलका छा जाता है, सूर्यास्त हो रहा होता है, एक बिल्कुल स्वाभाविक समूह गान का संगीत सुनाई पड़ता है। टिटहरियाँ अपने शोकमय गीत गाती हैं, पूर्ण विकसित मेमने ज़ोर से मिमियाते हैं, झिंगुर गाते हैं, रॉबिन की आवाज़ ऊँची एवं मधुर गीत के रूप में सुनाई देती है और चातक आकाश में गाते हैं। अन्तिम पद में वर्ष की समाप्ति को सूर्यास्त और रात घिरने के रूप में दिखाया गया है।

To Autumn Word Meaning

MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 15 To Autumn img 1

To Autumn Important Pronunciations

MP Board Class 12th English A Voyage Solutions Chapter 15 To Autumn img 2

To Autumn Stanzas for Comprehension

Read the following stanzas carefully and answer the questions that follow:

1. Season,of mists and mellow fruitfulness,
i Close bosom-friend of the maturing sun;
Conspiring with him how to load and bless .
With fruit the vines that round the thatch-eaves run;
To bend with apples the moss’d cottage trees. (Page 108) (M.P. Board 2009)

Questions:
(i) Who does the first line refer to?
(ii) …………. is the bosom friend of the season.
(iii) Find a word which means same as ‘becoming perfect’.
(iv) How does it plan to fill the fruits?
Answers:
(i) The autumn season is referred in the first line.
(ii) The Sun.
(iii) Maturing means same as ‘becoming perfect 1.
(iv) It plans to fill all the fruits with ripeness to their core.

MP Board Solutions

2. Then in a wailful choir the small gnats mourn
Among the river-sallows, home aloft
Or sinking as the light wind lives or dies;
And full-grown lambs loud bleat from hilly bourn;
Hedge-crickets sing; and now with treble soft
The red-breast whistles from a garden-croft;
And gathering swallows twitter in the skies. (Page 109)

Questions:
(i) What sound of the small gnats is referred to in the first line?
(ii) ……. bleat from hilly bourn.
(iii) Find a word from the lines with similar meaning to ‘shrill voice’.
(iv) What does the red-breast do?
Answers:
(i) The small gnat in the wailful choir mourn and this sound is referred in the first line.
(ii) The full grown, lambs.
(iii) Whistles is similar in meaning to ‘shrill voice’.
(iv) The red breast whistles from a garden croft.

MP Board Class 12th Business Studies Important Questions Chapter 5 संगठन

In this article, we will share MP Board Class 12 Business Studies Important Questions Chapter 5 संगठन Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 12th Business Studies Important Questions Chapter 5 संगठन

संगठन Important Questions

संगठन वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
सही विकल्प चुनकर लिखिए –

प्रश्न 1.
निम्नलिखित में कौन-सा अंतरण का तत्व नहीं है –
(a) उत्तरदेयता
(b) अधिकार
(c) उत्तरदायित्व
(d) अनौपचारिक संगठन
उत्तर:
(d) अनौपचारिक संगठन

प्रश्न 2.
कार्य करते हुए अंतःक्रिया में अचानक बना सामाजिक संबंध तंत्र कहलाता है –
(a) औपचारिक संगठन
(b) अनौपचारिक संगठन
(c) विकेन्द्रीकरण
(d) अंतरण।
उत्तर:
(b) अनौपचारिक संगठन

प्रश्न 3.
संगठन को देखा नहीं जा सकता –
(a) प्रबंध के एक कार्य के रूप में
(b) संबंधों के एक ढाँचे के रूप में
(c) एक प्रक्रिया के रूप में
(d) उद्यम वृत्ति के रूप में।
उत्तर:
(d) उद्यम वृत्ति के रूप में।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित में से कौन-सा संगठन प्रक्रिया का एक चरण नहीं है –
(a) क्रियाओं का विभाजन
(b) कार्य सौंपना
(c) कार्यों एवं विभागों का निर्माण
(d) नेतृत्व प्रदान करना।
उत्तर:
(d) नेतृत्व प्रदान करना।

प्रश्न 5.
निम्नलिखित में से कौन संदेशवाहन के अधिकारिक मार्ग का प्रयोग नहीं करता –
(a) औपचारिक संगठन
(b) अनौपचारिक संगठन
(c) कार्यात्मक संगठन
(d) प्रभागीय संगठन
उत्तर:
(b) अनौपचारिक संगठन

प्रश्न 6.
किस संगठन में क्रियाओं को उत्पादों के आधार पर समूहों में बाँटा जाता है –
(a) विकेन्द्रित संगठन
(b) प्रभागीय संगठन
(c) कार्यात्मक संगठन
(d) केन्द्रित संगठन।
उत्तर:
(b) प्रभागीय संगठन

प्रश्न 7.
एक लंबा ढाँचा होता है –
(a) प्रबंध की सिकुड़ी हुई शृंखला
(b) प्रबंध की फैली हुई श्रृंखला
(c) प्रबंध की कोई भी श्रृंखला
(d) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर:
(a) प्रबंध की सिकुड़ी हुई शृंखला

प्रश्न 8.
उत्पादन रेखा पर आधारित सामूहिक क्रिया अंग है –
(a) अंतरित संगठन का
(b) प्रभागीय संगठन का
(c) कार्यात्मक संगठन का
(d) स्वायत्त शासित संगठन का।
उत्तर:
(b) प्रभागीय संगठन का

प्रश्न 9.
केन्द्रीयकरण से तात्पर्य है –
(a) निर्णय लेने के अधिकारों को सुरक्षित रखना
(b) निर्णय लेने के अधिकारों का बिखराव करना
(c) प्रभागों का लाभ केन्द्र बनाना
(d) नये केन्द्रों अथवा शाखाओं को खोलना।
उत्तर:
(a) निर्णय लेने के अधिकारों को सुरक्षित रखना

प्रश्न10.
प्रबंध के विस्तार से तात्पर्य है –
(a) प्रबंधकों की संख्या में वृद्धि
(b) एक प्रबंधक की नियुक्ति के समय की सीमा जिसके लिये उसे नियुक्ति दी गई है
(c) एक उच्चाधिकारी के अंतर्गत कार्य करने वाले अधीनस्थों की गणना
(d) शीर्ष प्रबंध के सदस्यों की गणना।
उत्तर:
(c) एक उच्चाधिकारी के अंतर्गत कार्य करने वाले अधीनस्थों की गणना

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. अधिकार अंतरण या भारार्पण का आशय …………. सौंपना है।
  2. विकेन्द्रीकरण में …………. के वितरण पर बल दिया जाता है।
  3. विकेन्द्रीकरण अधिकारियों के कार्यभार में …………. करता है।
  4. कार्यात्मक संगठन संरचना की अवधारणा …………. के मस्तिष्क की उपज है।
  5. बैंक …………. संरचना संगठन का उदाहरण है।
  6. संगठन संरचना से आशय संस्था में …………. संबंधों की व्याख्या करने से है।
  7. संस्था को उसके द्वारा उत्पादित वस्तुओं के आधार पर विभक्त करना ……….. संगठन कहलाता है।
  8.  …………. संगठन में अधिकार तथा कर्तव्यों की स्पष्ट व्याख्या की जाती है।

उत्तर:

  1. अधिकार
  2. सत्ता
  3. कमी
  4. टेलर
  5. भौगोलिक
  6. अधिकार कर्तव्य
  7.  संभागीय
  8. औपचारिक।

प्रश्न 3.
एक शब्द या वाक्य में उत्तर दीजिए –

  1. उच्च अधिकारियों द्वारा अधीनस्थों में अपने कार्यों-अधिकारों का वितरण, सीमित रूप से किया जाना क्या कहलाता है ?
  2. संस्था में शीघ्र निर्णयन को प्रोत्साहित करने हेतु क्या अपनाया जाना चाहिए?
  3. ऐसी संस्था जो विभिन्न प्रकार के उत्पाद बनाती है उसे कौन-सा संगठन अपनाना चाहिए ?
  4. किस स्थिति में अधिकारों का हस्तांतरण होता है परन्तु उत्तरदायित्वों का नहीं?
  5. संगठन का वह स्वरूप जो कर्मचारियों के मध्य पारस्परिक संबंध के कारण स्वतः ही विकसित होता है, उसे क्या कहते हैं ?
  6. उस संगठन का नाम बताइए जो नियमों एवं कार्य विधियों पर आधारित है।
  7. संगठनात्मक ढाँचे में किस प्रकार के संबंध को दिखाया जाता है ?
  8. प्रबंध का संगठन का कार्य प्रबंध के किस कार्य के बाद आता है ?
  9. विभागीय संगठन प्रक्रिया का कौन-सा चरण है ?
  10. अनौपचारिक संगठन में सदस्यों में किस प्रकार का संबंध होता है ?

उत्तर:

  1. भारार्पण
  2. विकेंद्रीयकरण
  3. संभागीय संगठन
  4. भारार्पण
  5. अनौपचारिक संगठन
  6. औपचारिक संगठन
  7. अधिकारी व अधीनस्थ संबंध
  8. नियोजन के बाद
  9. दूसरा चरण
  10. मधुर संबंध।

प्रश्न 4.
सत्य या असत्य बताइये

  1.  संगठन की स्थापना निम्न स्तर के प्रबन्ध द्वारा होती है।
  2. संगठन भ्रष्टाचार को जन्म देता है।
  3. अधिकार का भारार्पण दिया जा सकता है।
  4. जवाबदेही का भारार्पण नहीं किया जा सकता है।
  5. संगठन का प्रबन्ध में वही महत्व है जो मानव शरीर में हड्डियों के ढाँचे का होता है।

उत्तर:

  1. असत्य
  2. असत्य
  3. सत्य
  4. सत्य
  5. सत्य।

प्रश्न 5.
सही जोड़ी बनाइये –
MP Board Class 12th Business Studies Important Questions Chapter 5 संगठन - 1
उत्तर:

  1. (e)
  2. (a)
  3. (b)
  4. (c)
  5. (d)

संगठन लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
संगठन के उद्देश्य बतलाइये।
उत्तर:
संगठन के उद्देश्य –

1. उत्पादन में मितव्ययिता – संगठन का प्रमुख उद्देश्य उत्पादन में मितव्ययिता लाना है अर्थात् न्यूनतम लागत पर अधिकतम उत्पादन करना प्रत्येक उपक्रम का उद्देश्य होता है।

2. समय तथा श्रम में बचत – संगठन में श्रेष्ठ मशीनें व यंत्र तथा श्रेष्ठ प्रणाली अपनाई जाती है जिससे कार्य के समय व श्रम में काफी बचत की जाती है। संगठन द्वारा बड़े पैमाने में उत्पादन के लाभ भी लिए जा सकते हैं।

3. श्रम तथा पूँजी में मधुर संबंध – श्रमिकों तथा प्रबंध के बीच मधुर संबंध स्थापित करना भी संगठन का एक उद्देश्य है, इस हेतु कुशल संगठनकर्ता की नियुक्ति कर श्रम व पूँजी के हितों की रक्षा की जाती है।

4. सेवा भावना – वर्तमान सामाजिक चेतना एवं जन जागरण के कारण प्रत्येक व्यवसायी का उद्देश्य “प्रथम सेवा फिर लाभ” हो गया है वैसे भी प्रत्येक व्यवसायी को समाज सेवा कर अपने उत्तरदायित्व का निर्वहन करना चाहिए।

MP Board Solutions

प्रश्न 2.
संगठन के कोई चार सिद्धान्तों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
संगठन के सिद्धान्त –

1. विशिष्टीकरण का सिद्धान्त प्रत्येक सदस्य की क्रियाएँ विशेष कार्य को पूरा करने तक ही सीमित होनी चाहिए, अर्थात् एक व्यक्ति को एक कार्य सौंपा जाये तो इससे कुशलता में वृद्धि होगी।

2. एकरूपता का सिद्धान्त – प्रत्येक पद से संबंधित अधिकारों तथा उत्तरदायित्वों में एकरूपता होनी चाहिए, परन्तु एक अधिकारी के अधिकार दूसरे से टकराने नहीं चाहिए, इससे संस्था का अनुशासन ढीला होगा और कार्य कुशलतापूर्वक सम्पन्न नहीं हो सकेगा।

3. अपवाद का सिद्धान्त – इस सिद्धान्त का प्रतिपादन प्रो. टेलर वैज्ञानिक प्रबंध के जन्मदाता ने किया था। इस सिद्धान्त के अनुसार दिन-प्रतिदिन के कार्यों को करने के लिये अधीनस्थों को अधिकार दे दिये जाने चाहिए तथा अपवादपूर्ण एवं महत्वपूर्ण मामलों पर निर्णय करने के कार्य को उच्च अधिकारियों पर छोड़ देना चाहिये।

4. सरलता का सिद्धान्त – संगठन का ढाँचा सरल होना चाहिये ताकि प्रत्येक कार्य के निष्पादन में कमसे-कम समय एवं व्यय लगे। सरलता के अभाव में संदेशों के आदान-प्रदान में भी कठिनाई सामने आती हैं तथा कार्य शीघ्रता व सरलता से नहीं हो पाएगा।

प्रश्न 3.
कार्यात्मक संगठन संरचना के गुण/लाभ समझाइये।
उत्तर:
कार्यात्मक संगठन ढाँचे के गुण / लाभ निम्नलिखित हैं

  1. कार्यात्मक संगठन में व्यावसायिक क्रियाओं का विभाजन तर्क संगत होता है।
  2. प्रत्येक विभाग के प्रबन्धक अपने विभाग के कार्य के लिए उत्तरदायी होते हैं।
  3. कार्यात्मक संगठन द्वारा सर्वोच्च प्रबन्ध का उपक्रम पर नियंत्रण रखना आसान हो जाता है।
  4. इस ढाँचे का आधार श्रम विभाजन है अर्थात् प्रबन्धकों को कार्य उनकी योग्यता एवं सूची के अनुसार दिये जाते हैं।

प्रश्न 4.
संगठन के कोई चार लाभ लिखिए।
उत्तर:
संगठन वह तंत्र है, जिसकी सहायता से प्रबंध व्यवसाय का संचालन, समन्वय तथा नियंत्रण करता है। यह प्रबंध की आधारशिला है। संगठन का महत्व निम्नलिखित बातों से स्पष्ट हो जाता है

1. उपक्रम के विकास में सहायक-श्रेष्ठ संगठन के माध्यम से उपक्रम का विकास तेज गति से होने लगता है, बड़े पैमाने के उत्पादन की सफलता के पीछे श्रेष्ठ संगठन का हाथ होता है।

2. समन्वय स्थापित होना-संगठन की सहायता से विभिन्न विभागों, उपविभागों, विभिन्न व्यक्तियों एवं क्रियाओं में उचित समन्वय एवं सामंजस्य स्थापित होता है। जिससे प्रशासन द्वारा निर्धारित नीति का पूर्ण परिपालन संभव होता है।

3. भ्रष्टाचार पर नियंत्रक-स्वस्थ एवं कुशल संगठन भ्रष्टाचार पर प्रभावी नियंत्रण करने में भी सफल रहता है, जिससे कर्मचारियों की दक्षता बढ़ती है और उनका मनोबल तथा उत्साह बढ़ता रहता है।

4. मनोबल में वृद्धि-कुशल संगठन से कर्मचारियों के मनोबल में वृद्धि होती है। प्रत्येक व्यक्ति अपने अधिकार, दायित्व तथा कर्तव्य से सुपरिचित रहता है तथा वह उपक्रम की नीतियों व उद्देश्यों को भली-भाँति समझ जाता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 5.
श्रेष्ठ संगठन से प्रशासकीय तथा प्रबंधकीय क्षमता में वृद्धि होती है। स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
प्रशासन द्वारा उपक्रम की नीतियों एवं लक्ष्यों का निर्धारण किया जाता है व इनका क्रियान्वयन प्रबंध द्वारा संगठन के सहयोग से किया जाता है। श्रेष्ठ संगठन में सहयोग, समन्वय, कार्यनिष्ठा व अनुशासन की भावना भरी होती है, जिससे संगठन के मानवीय प्रयासों को एक निश्चित दिशा देकर अधिक सार्थक व प्रभावी बनाया जा सकता है। उपक्रम की क्रियाओं एवं उद्देश्यों को सरलता व शीघ्रता से समय पर पूर्ण कराया जा सकता है। इस प्रकार श्रेष्ठ संगठन से प्रशासकीय व प्रबंधकीय क्षमता में वृद्धि होती है।

प्रश्न 6.
रेखा एवं कर्मचारी संगठन क्या है ? इसकी तीन विशेषताएँ लिखिए।
उत्तर:
रेखा एवं कर्मचारी संगठन में काम का विभाजन स्वतंत्र विभागों में किया जाता है तथा उत्तरदायित्व का विभाजन भी लम्बवत् होता है किन्तु कार्यदक्षता तथा सहकारिता को प्रोत्साहन देने के लिए प्रत्येक विभाग में विशेषज्ञ नियुक्त किये जाते हैं, जो परामर्श का कार्य करते हैं।
रेखा व कर्मचारी संगठन की विशेषताएँ

  1. इस संगठन में अधिकार व उत्तरदायित्व ऊपर से नीचे की ओर प्रवाहित होता है।
  2. इस संगठन में योग्य कर्मचारियों को उन्नति के अच्छे अवसर प्राप्त होते हैं।
  3. इसमें सोचने एवं परामर्श देने व करने के कार्य दोनों पृथक्-पृथक् होते हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न 7. रेखा संगठन के दोष लिखिए।
उत्तर:
रेखा संगठन के दोष :

  1. इस संगठन में पक्षपात की आशंका बनी रहती है। इसमें सर्वोच्च अधिकारी अपने अधीनस्थों की नियुक्ति, पदोन्नति आदि में पक्षपात कर सकता है।
  2. आधुनिक उद्योग इतने जटिल व मिश्रित हैं कि एक ही व्यक्ति सारे कार्य दक्षतापूर्वक सम्पन्न नहीं कर सकता है,
  3. विशिष्टीकरण इसमें संभव नहीं है।
  4. दक्ष अधिकारी के बिना विभिन्न विभागों में समन्वय स्थापित करना कठिन हो जाता है।
  5. अनुशासन पर अधिक ध्यान देने के कारण इस प्रणाली में तानाशाही की बुराइयाँ आ जाती हैं।
  6. उच्चाधिकारी के गलत निर्णय लेने पर उपक्रम विफल हो सकता है।

प्रश्न 8.
रेखा संगठन के लाभों को समझाइये।
उत्तर:
रेखा संगठन के प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं

  1. इस संगठन में प्रत्येक सदस्य को अपने उत्तरदायित्व व कर्तव्यों की स्पष्ट जानकारी रहती है।
  2. इस संगठन में निर्णय प्रायः एक व्यक्ति द्वारा लिए जाते हैं, अतः निर्णय सरलतापूर्वक व शीघ्र होते हैं।
  3. विभिन्न विभागों को एक ही व्यक्ति के निर्देशन में कार्य करना होता है, अतः उनमें समन्वय आसानी से किया जा सकता है।
  4. इस संगठन प्रणाली में आवश्यकतानुसार समायोजन भी किया जा सकता है अर्थात् यह लोचपूर्ण है।

प्रश्न 9.
कार्यात्मक संगठन प्रभागीय संगठन से किस प्रकार असमानता रखता है ?
उत्तर:
संगठनात्मक ढाँचा (Organisational structure)- संगठनात्मक ढाँचा संगठन में विभिन्न पदों के बीच अधिकार और उत्तरदायित्व संबंध प्रदर्शित करता है और साथ ही स्पष्ट करता है कि कौन किसको रिपोर्ट करेगा। हर्ले (Hurley) के अनुसार, “संगठन ढाँचे, एक संस्था में विभिन्न पदों एवं उन पदों पर काम करने वाले व्यक्तियों के मध्य संबंधों के स्वरूप होते हैं ।” संगठन ढाँचे को प्रायः संगठन चार्ट पर प्रदर्शित किया जाता है। संगठन ढाँचे के दो रूप हैं-

  1. कार्यात्मक ढाँचा तथा
  2.  प्रभागीय ढाँचा।

प्रश्न 10.
औपचारिक संगठन तथा अनौपचारिक संगठन किस प्रकार आपस में संबंधित हैं?
उत्तर:
अनौपचारिक संगठन और औपचारिक संगठन में संबंध (Relation between formal organization and informal organization)- अनौपचारिक संगठन औपचारिक संगठन का एक अंग होता है। औपचारिक संगठन के अंदर सदस्य अपने कार्यों को एक-दूसरे के सहयोग से पूरा करते हैं। वे एक-दूसरे से बातचीत करते हैं। इससे उनमें मैत्रीपूर्ण संबंध बन जाते हैं। मित्रता के आधार पर सामाजिक समूह का एक संजाल (Network) बन जाता है।

इस संजाल को अनौपचारिक संगठन कहते हैं। इस प्रकार औपचारिक संगठन अनौपचारिक संगठनों को जन्म देते हैं। अनौपचारिक संगठन के अंदर काम करने वाले सदस्यों के बीच सामाजिक संबंधों की एक व्यवस्था होती है। औपचारिक ढाँचे के अंदर ही अनौपचारिक संगठन की उत्पत्ति होती है।

औपचारिक संगठन में अनौपचारिक संगठन की उत्पत्ति के कई आधार होते हैं- जैसे समान रूचि, भाषा, संस्कृति आदि। ये संगठन पूर्व-नियोजित नहीं होते। ये लोगों की आवश्यकताओं और संस्था के वातावरण के अनुसार स्वतः ही बन जाते हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न 11.
केंद्रीयकरण और विकेंद्रीयकरण की अवधारणा अधिकार अंतरण की अवधारणा से संबंधित है। कैसे?
उत्तर:
अधिकारों के केंद्रीयकरण से अभिप्राय उच्च प्रबंध स्तरों पर अधिकारों के संकेद्रण (Centralization) से है। यहाँ अधिकांश निर्णय उच्च स्तर के प्रबंधकों के द्वारा लिए जाते हैं। अधीनस्थ प्रबंधको के द्वारा निर्देशों के अनुसार करते हैं। इसके विपरीत अधिकार विकेंद्रीयकरण से अभिप्राय केवल केंद्रीय बिंदुओं पर ही प्रयोग किये जा सकने वाले अधिकारों को छोड़कर शेष सभी अधिकारों को व्यवस्थित रूप से निम्न स्तरों को सौंपने से है।

केंद्रीयकरण और विकेंद्रीकरण की दोनों अवधारणाएँ अधिकार अंतरण की अवधारणा से संबंधित हैं। जब अधिकार अधीनस्थों को हस्तांतरण नहीं हो जाते और सारे अधिकार उच्च प्रबंध पर संकेद्रित हैं, तब केंद्रीयकरण कहलायेगा और जब अधिकारों का अंतरण अधीनस्थों को किया जाता है तब विकेंद्रीयकरण की स्थिति उत्पन्न होती है।

प्रश्न 12.
अनौपचारिक संगठन औपचारिक संगठन की किस प्रकार सहायता करता है ? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
अनौपचारिक संगठन का जन्म औपचारिक संगठन से होता है, जब व्यक्ति अधिकारिक तौर पर बतलाई गई भूमिकाओं से परे आपस में मेल-मिलाप से कार्य करते हैं। जब कर्मचारी सगंठन की ओर नहीं धकेला जा सकता बल्कि वे मैत्रीपूर्ण व सहयोगपूर्ण विचारों से एक ग्रुप बनाने की ओर झुकते हैं। यह उनके आपसी हितों की अनुरूपता को प्रकट करता है।

ऐसे समूहों का प्रयोग संगठन की उन्नति तथा सहयोग के लिए किया जा सकता है। ऐसे समूह उपयोगी तथा कर्मचारियों एवं उच्चाधिकारियों के मध्य झगड़े सुलझाने का कार्य अनौपचारिक संप्रेषण के द्वारा भली-भाँति किया जा सकता है। प्रबंधकों को औपचारिक तथा अनौपचारिक दोनों प्रकार के संगठनों का युक्ति पूर्ण उपयोग करना चाहिए ताकि संगठन का कार्य सुगमतापूर्वक चल सके। औपचारिक संगठन को यदि भली-भाँति नियंत्रित किया जाए तो औपचारिक संगठन के द्वारा बनाये गये उद्देश्यों की प्राप्ति में अनौपचारिक संगठन अत्यंत उपयोगी है।

प्रश्न 13.
केंद्रीयकरण एवं विकेंद्रीयकरण में अंतर्भेद कीजिए।
उत्तर:
बहुत से संगठनों में सभी निर्णयों को लेने में शीर्ष प्रबंध की मुख्य भूमिका होती है जबकि अन्य संगठनों में यह अधिकार प्रबंध के निम्नतम स्तर को भी दिया जाता है। जिन उपक्रमों में निर्णय लेने का अधिकार केवल शीर्ष स्तरीय प्रबंध को ही होता है वे केंद्रीकृत संगठन कहलाते हैं। जबकि उन संगठनों में जहाँ इस प्रकार के निर्णयों को लेने में निम्न स्तर तक के प्रबंध को भागीदार बनाया जाता है, विकेंद्रीकृत संगठन कहते हैं।

विकेंद्रीयकरण से तात्पर्य उस विधि से है जिसमें निर्णय लेने का उत्तरदायित्व सोपानिक क्रम में विभिन्न स्तरों में विभाजित किया जाता है। सरल शब्दों में विकेंद्रीयकरण का अर्थ संगठन के प्रत्येक स्तर पर अधिकार अंतरण करना होता है। निर्णय लेने का अधिकार निम्नतम स्तर तक के प्रबंध को दिया जाता है जहाँ पर वास्तविक रूप में कार्य होना है। दूसरे शब्दों में निर्णय लेने का अधिकार आदेश की श्रृंखला में नीचे तक दिया जाता है।

केंद्रीयकरण (Centralization) – जिस संगठन में निर्णय लेने का अधिकार केवल उच्चस्तरीय प्रबंधन को ही होता है तो वह संगठन केंद्रीकृत कहलाता है। कोई भी संस्था कभी भी न तो पूर्णरूपेण केंद्रीकृत हो सकती है और न विकेंद्रीकृत। जब कोई संस्था आकार तथा जटिलताओं की ओर अग्रसर होती है तो यह देखा गया है · कि वे संस्थाएँ निर्णयों में विकेंद्रीयकरण को अपनाती हैं। यह इसलिए होता है क्योंकि बड़ी-बड़ी संस्थाओं में जहाँ कर्मचारियों को प्रत्यक्ष तथा अतिनिकट से कार्य संचालन में आल्पित किया जाता है उनका ज्ञान तथा अनुभव उन उच्चस्तरीय प्रबंधकों से कहीं अधिक होता है जो संस्थान से अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए होते हैं।

श्रेष्ठ नियंत्रण (Best control)- विकेंद्रीयकरण से प्रत्येक स्तर पर कार्य निष्पादन के मूल्यांकन का अवसर मिलता है जिससे प्रत्येक विभाग व्यक्तिगत रूप से उसके परिणामों के लिए जवाबदेह बनाया जा सकता है। संगठन के उद्देश्यों की उपलब्धि किस सीमा तक हुई या समस्त उद्देश्यों को प्राप्त करने में प्रत्येक विभाग कितना सफल हो सका इसका भी निर्धारण किया जा सकता है। सभी स्तरों से प्रतिपुष्टि द्वारा भिन्नताओं का विश्लेषण करने तथा सुधारने में सहायता मिलती है। विकेंद्रीयकरण में निष्पादन की जवाबदेही एक बड़ी चुनौती है। इस चुनौती का सामना करने के लिए संतुलन अंक कार्ड तथा प्रबंध सूचना विधि।

MP Board Solutions

प्रश्न 14.
विकेंद्रीयकरण के महत्व लिखिए।
उत्तर:
एक संगठन निम्न कारणों से विकेंद्रीयकरण होना पसंद करता है

1. उच्च अधिकारियों की अत्यधिक कार्यभार से मुक्ति (More capacity utilization)विकेंद्रीयकरण के अतंर्गत दैनिक प्रबंधकीय कार्यों को अधीनस्थों को सौंप दिया जाता है। इसके फलस्वरूप उच्च प्रबंधकों के पास पर्याप्त समय बचता है जिसका प्रयोग वे नियोजन, समन्वय, नीति निर्धारण, नियंत्रण आदि में कर सकते हैं।

2. विभिन्नीकरण में सुविधा (Ease to expansion)- इस बात से इंकार नहीं किया जाता कि एक व्यक्ति का नियंत्रण सर्वश्रेष्ठ होता है लेकिन इसकी भी एक सीमा होती है। सीमा का अभिप्राय व्यवसाय के आकार से है अर्थात् जब तक व्यवसाय का आकार छोटा है उच्च स्तर पर सभी अधिकारियों को केंद्रित करके व्यवसाय को कुशलतापूर्वक चलाया जा सकता है लेकिन जब उसमें उत्पादन की जाने वाली वस्तुओं की मात्रा अधिक हो जाती है तब केंद्रीय नियंत्रण से काम नहीं चल सकता क्योंकि अकेला व्यक्ति सभी वस्तुओं की समस्याओं की ओर पर्याप्त ध्यान नहीं दे सकता।

3. प्रबंधकीय विकास (Managerial development)- विकेंद्रीयकरण का अभिप्राय है निम्नतम स्तर के प्रबंधकों को भी अपने कार्यों के संबंध में निर्णय लेने के अधिकार होना। इस प्रकार निर्णय लेने के अवसर प्राप्त होने से सभी स्तरों के प्रबंधकों के ज्ञान एवं अनुभव में वृद्धि होती है और इस प्रकार कहा जा सकता है कि यह व्यवस्था प्रशिक्षण का काम करती है।

4. कर्मचारियों के मनोबल में वृद्धि (Increase in employees morale)- विकेंद्रीयकरण के कारण प्रबंध में कर्मचारियों की भागीदारी बढ़ती है। इससे संस्था में उनकी पहचान बनती है। जब संस्था में किसी व्यक्ति की पहचान बने अथवा उसका महत्व बढ़े तो उसके मनोबल में वृद्धि होना स्वाभाविक है। मनोबल में वृद्धि होने से वे अपनी इकाई की सफलता के लिए बड़े से बड़ा त्याग करने से भी नहीं घबराते।

प्रश्न 15.
औपचारिक तथा अनौपचारिक संगठन में अंतर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
औपचारिक संगठन एवं अनौपचारिक संगठन में अन्तर:
औपचारिक संगठन

  1. इसका निर्माण किसी योजना को पूरा करने के लिए विचार-विमर्श करके किया जाता है। होता है।
  2. इसे किसी तकनीकी उद्देश्य को पूरा करने के उद्देश्य से बनाया जाता है।
  3. इसका आकार बड़ा हो सकता है।
  4. इसमें सत्ता का प्रवाह ऊपर से नीचे की ओर होता है।

अनौपचारिक संगठन

  1. इसका निर्माण स्वतः ही सामाजिक संबंधों द्वारा
  2. इसका निर्माण सामाजिक संतोष प्राप्त करने
  3. यह प्रायः छोटे आकार का होता है।
  4. इसमें सत्ता का प्रवाह नीचे से ऊपर की ओर होता है।

प्रश्न 16.
औपचारिक संगठन से क्या आशय है ? इसकी कोई चार विशेषताएँ बताइए।
उत्तर:
औपचारिक संगठन – इसका आशय एक ऐसे संगठन से है जिसमें प्रत्येक स्तर के प्रबन्धकों के अधिकारों, कर्तव्यों तथा दायित्वों की स्पष्ट सीमा निर्धारित होती है। इस संगठन को संगठनात्मक लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु प्रबंध द्वारा बनाया जाता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 17.
अनौपचारिक संगठन किसे कहते हैं ? विशेषताओं सहित बताइए।
उत्तर:
अनौपचारिक संगठन से अभिप्राय ऐसे संगठन से है जिसकी स्थापना जानबूझकर नहीं की जाती अपितु, अनायास ही सामान्य हितों, संबंध, रुचियों तथा धर्म के कारण हो जाती है।
अर्ल. पी. स्ट्रांग के अनुसार, “अनौपचारिक संगठन एक ऐसी सामाजिक संरचना है जिसका निर्माण व्यक्तिगत आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए किया जाता है।”
अनौपचारिक संगठन की विशेषताएँ- इसकी प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं.

1. निर्माण स्वतः-इसका निर्माण जानबूझकर नहीं किया जाता बल्कि व्यक्तियों के आपसी संबंधों तथा रुचियों के आधार पर स्वयं हो जाता है।

2. व्यक्तिगत संगठन-व्यक्तिगत संगठन से अभिप्राय है कि इसमें व्यक्तियों की भावनाओं को ध्यान में रखा जाता है, उन पर किसी भी बात को थोपा नहीं जाता।

3. अधिकार-इसमें अधिकार व्यक्ति से जुड़े रहते हैं तथा उनका प्रवाह नीचे से ऊपर की ओर या समतल रूप में चलता है।

4. स्थायित्व का अभाव-इसमें जब तक व्यक्ति एक समूह में है तभी तक वह संगठन है जब व्यक्ति अलग होता है तो संगठन समाप्त हो जाता है। इसमें स्थायित्व का अभाव रहता है।

प्रश्न 18.
अधिकार अन्तरण या भारार्पण से क्या तात्पर्य है ? इसके प्रमुख तत्वों ( प्रक्रिया) को समझाइए।
उत्तर:
अधिकार अंतरण से आशय, अधीनस्थों को निश्चित सीमा के अन्तर्गत कार्य करने का केवल अधिकार देना है। अधिकार अंतरण प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण अंग है। इसकी आवश्यकता उस समय उत्पन्न होती है जब एक प्रबंधक के पास कार्यभार अधिक होने के कारण वह सभी कार्यों का अधीनस्थों में विभाजन करता है। अतः उसे अधिकार अंतरण का सहारा लेना पड़ता है। जब कुछ कार्यों का निष्पादन करने के लिए दूसरे व्यक्तियों को अधिकृत किया जाता है तो इसे अधिकार अंतरण कहते हैं।
विभिन्न विद्वानों ने अधिकार अंतरण को निम्न प्रकार से परिभाषित किया है

  1. एफ. जी. मूरे, “अधिकार अंतरण से अभिप्राय दूसरे लोगों को कार्य सौंपना और उसे करने के लिए अधिकार देना है।”
  2. मैस्कॉन, “अधिकार अंतरण किसी व्यक्ति को कार्य तथा सत्ता सौंपना है, जो उनके लिए दायित्व ग्रहण करता है।”

अधिकार अंतरण के तत्व-अधिकार अंतरण के पाँच तत्व हैं

1. कार्यभार सौंपना – अधिकार अंतरण प्रक्रिया का पहला कदम कार्यभार सौंपा जाना है क्योंकि कोई भी अधिकारी इतना सक्षम नहीं होता कि वह अपना सारा कार्य स्वयं पूरा कर ले इसलिए अपने कार्य का सफलतापूर्वक निष्पादन करने के लिए वह अपने कार्य का विभाजन करता है, विभाजन के समय अधीनस्थों कीयोग्यता एवं कुशलता का ध्यान में रखा जाना अत्यंत आवश्यक होता है।

2. अधिकार प्रदान करना-कार्य का सफलतापूर्वक निष्पादन करने हेतु अधिकार सौंपे जाते हैं क्योंकि . जब तक अधीनस्थों को अधिकार प्रदान नहीं किए जाएँगे तब तक कार्यभार सौंपना अर्थहीन होता है। अतः कार्य को पूरा करने के लिए अधिकार सौंपे जाने चाहिए।

3. प्रत्यायोजन की स्वीकृति-जिस व्यक्ति को कार्य दिया गया है वह उस कार्य को स्वीकार या अस्वीकार कर सकता है। यदि अधिकार अंतरण स्वीकार नहीं किया जाता तो प्रत्यायोजक प्रबन्धक किसी अन्य अधीनस्थ व्यक्ति को कार्य सौंपने की कार्यवाही करेगा। इसलिए प्रत्यायोजन की स्वीकृति अत्यंत आवश्यक होती है।

4. जवाबदेही निर्धारित करना-जवाबदेही, अधीनस्थों को सही ढंग से कार्य करने के लिए जिम्मेदार ठहराता है, प्रत्येक अधीनस्थ केवल उस अधिकारी के समक्ष ही जवाबदेह होता है जिससे उसे कार्य करने के अधिकार प्राप्त होते हैं।

MP Board Solutions

प्रश्न 19.
विकेन्द्रीयकरण से क्या तात्पर्य है ? विकेन्द्रीयकरण के कौन-कौन से लाभ होते हैं ?
उत्तर:
विकेन्द्रीयकरण से तात्पर्य है, निर्णय लेने के अधिकार को संगठन के निम्न स्तर पर पहुँचाना है। विकेन्द्रीयकरण, अधिकार अंतरण का ही विस्तृत रूप है। जब किसी उच्च अधिकारी के द्वारा अपने अधीनस्थों को अपेक्षाकृत अधिक भाग में अधिकारों का भारार्पण किया जाता है, तो यह विकेन्द्रीयकरण कहलाता है। इसके अंतर्गत केवल ऐसे अधिकार जो उच्च अधिकारियों के लिए सुरक्षित रखना जरुरी है, को छोड़कर शेष सभी अधिकार अधीनस्थों को स्थाई रूप से सौंप दिए जाते हैं।
विकेन्द्रीयकरण के लाभ-विकेन्द्रीकरण के लाभों को निम्न बातों से स्पष्ट किया जा सकता है

1. उच्च अधिकारियों का कार्य भार कम होना-विकेन्द्रीयकरण की सहायता से उच्च अधिकारियों के कार्यभार में बहुत कमी आ जाती है, वे अपना पूरा ध्यान महत्वपूर्ण कार्यों में लगा सकते हैं उन्हें छोटे-छोटे कार्यों में उलझना नहीं पड़ता है, जिस कारण व्यावसायिक उपक्रम उच्च अधिकारियों की योग्यता, कुशलता तथा विवेक का अधिकारिक लाभ उठा सकते हैं।

2. विविधीकरण की सुविधा-विकेन्द्रीयकरण में विविधीकरण की पर्याप्त सुविधा होती है क्योंकि अलग-अलग क्रियाओं के लिए अलग-अलग अध्यक्षों की नियुक्ति की जा सकती है।

3. अनौपचारिक संबंधों का विकास-विकेन्द्रीयकरण के द्वारा अनौपचारिक संबंधों का विकास होता है।

4. अभिप्रेरण-विकेन्द्रीयकरण के द्वारा कर्मचारियों को स्वतंत्र रूप से निर्णय लेने का अधिकार होता है जिससे वह बेहतर परिणाम लाने के लिए अभिप्रेरित होते हैं।।

प्रश्न 20.
कार्यात्मक संगठन तथा प्रभागीय संगठन में अन्तर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
कार्यात्मक संगठन तथा प्रभागीय संगठन में अन्तर –

प्रश्न 21.
औपचारिक संगठन के लाभ तथा दोषों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
औपचारिक संगठन के लाभ (Advantages of Formal Organisation)

1. व्यवस्थित कार्यवाही (Systematic Working)-इस ढाँचे का परिणाम एक संगठन की व्यवस्थित और सरल कार्यवाही होता है।

2. संगठनात्मक उद्देश्यों की प्राप्ति (Achievement of Organisational Objectives)-इस ढाँचे को संगठनात्मक उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए स्थापित किया जाता है।

3. कार्य का दोहराव नहीं (No Overlapping of Work)-औपचारिक संगठनात्मक ढाँचे में विभिन्न विभागों और कर्मचारियों के बीच कार्य व्यवस्थित ढंग से विभाजित होता है। इसलिए कार्य के दोहराव का कोई अवसर नहीं होता है।

4. समन्वय (Coordination)-इस ढाँचे का परिणाम विभिन्न विभागों की क्रियाओं को समन्वित करना होता है।

औपचारिक संगठन के दोष (Disadvantages of Formal Organization)

1. कार्य में देरी (Delay in Action) – सोपान श्रृंखला और आदेश श्रृंखला का अनुसरण करते समय कार्यों में देरी हो जाती है।

2. कर्मचारियों की सामाजिक आवश्यकताओं की अवहेलना करता है (Ignores Social Needs of Employees)-यह ढाँचा कर्मचारियों की सामाजिक और मनोवैज्ञानिक आवश्यकता को महत्व नहीं देता ‘जिससे कर्मचारियों के अभिप्रेरण में कमी हो सकती है।

3. केवल कार्य पर बल (Emphasis on Work Only) – यह ढाँचा केवल कार्य को महत्व देता है इसमें मानवीय संबंधों, सृजनात्मकता, प्रतिभाओं इत्यादि को महत्व नहीं दिया जाता है।

प्रश्न 22.
विकेंद्रीयकरण एवं भारार्पण में अंतर लिखिए।
उत्तर:
विकेंद्रीयकरण एवं भारार्पण में अंतर
MP Board Class 12th Business Studies Important Questions Chapter 5 संगठन - 4

प्रश्न 23.
अधिकार अंतरण तथा विकेन्द्रीयकरण में अंतर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
अधिकार अंतरण तथा विकेन्द्रीयकरण में अंतर

अधिकार अंतरण

  1. उच्च अधिकारी के द्वारा सत्ता का अधीनस्थों को हस्तांतरण, अधिकार अंतरण कहलाता है। करण कहलाता है।
  2. इसमें अंतिम उत्तरदायित्व अधिकार सौंपने उत्तरदायित्व कावाले का ही होता है अर्थात् इसमें उत्तर भी हस्तांतरण हो जाता है।दायित्व का हस्तांतरण नहीं होता।
  3. यह सभी संस्थाओं के लिए आवश्यक होता है क्योंकि अधीनस्थों से काम लेने के लिए उन्हें अधिकार देना पड़ता है।
  4. अधिकार अंतरण, विकेन्द्रीयकरण पर नहीं होता।

विकेन्द्रीयकरण

  1. पूरे संगठन में सत्ता का फैलाव करना विकेन्द्रीय
  2. इसमें अधिकार के साथ-ही-साथ
  3. विकेन्द्रीयकरण प्रत्येक संस्था के लिए आवश्यक नहीं है।
  4. विकेन्द्रीयकरण, अधिकार अंतरण के बिना संभव आधारित नहीं होता है।

प्रश्न 24.
अधिकार एवं उत्तरदायित्व में अन्तर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
अधिकार एवं उत्तरदायित्व में अन्तर –

अधिकार

  1. अधिकार का अर्थ है, निर्णय लेने की शक्ति।
  2. अधिकार वह शक्ति है जो अधीनस्थों के कर्तव्य को पूरा करने से है।
  3. अधिकार का प्रत्यायोजन किया जा सकता है।
  4. अधिकार, संस्था में औपचारिक पद के कारण उत्पन्न होता है।

उत्तरदायित्व

  1. उत्तरदायित्व का अर्थ है, सौंपे गये कार्य को सही
  2. उत्तरदायित्व का आशय किसी व्यक्ति द्वारा अपने व्यवहार को प्रभावित करती है।
  3. उत्तरदायित्व दूसरों को सौंपे जा सकते हैं।
  4. उत्तरदायित्व, उच्चाधिकारी अधीनस्थ सम्बन्ध से उत्पन्न होता है।

प्रश्न 25.
प्रभावी भारार्पण की अनिवार्य अपेक्षाओं को समझाइए।
उत्तर:
प्रभावी भारार्पण की अनिवार्य अपेक्षाएँ – अधिकार सौंपने की व्यवस्था को प्रभावी बनाने के लिए निम्नांकित निर्देशों का पालन करना चाहिए

1. अधिकार और दायित्वों की स्पष्ट सीमा – अधीनस्थों को जो कार्य सौंपे जाएँ तो उन्हें यह पूरी तरह मालूम होना चाहिए कि उनके दायित्व तथा अधिकारों का क्षेत्र क्या है तथा उनकी सीमा कहाँ तक है।

2. अधिकार और दायित्वों की स्पष्ट व्याख्या – अधीनस्थों को स्पष्ट रूप से यह ज्ञान होना चाहिए कि उन्हें क्या करना है तथा सौंपे गए कार्य के लिए कितने अधिकार दिये गये हैं तथा उनसे किस प्रकार के कार्य की आशा की जाती है।

3. उचित नियन्त्रण – अधिकार सौंपने की व्यवस्था के पश्चात् भी वरिष्ठ अधिकारी का उत्तरदायित्व समाप्त नहीं होता। इसलिए उच्च अधिकारियों को अपने अधीनस्थों के कार्यों पर उचित नियंत्रण रखना चाहिए।

4. योग्य व्यक्ति का चयन – अधिकार हमेशा योग्य व्यक्ति को ही सौंपने चाहिए तभी सौंपा गया कार्य सही ढंग से पूर्ण होता है।

प्रश्न 26.
संगठन के उद्देश्य लिखिए।
उत्तर:
किसी भी व्यावसायिक एवं औद्योगिक इकाई में संगठन के निम्नलिखित उद्देश्य होते हैं…

1. उत्पादन में मितव्ययिता (Economy in production) संगठन का प्रमुख उद्देश्य, उत्पादन में मितव्ययिता लाना है, अर्थात् न्यूनतम लागत पर अधिकतम उत्पादन करना प्रत्येक उपक्रम का उद्देश्य होता है, यहाँ यह ध्यान रखना है कि न्यूनतम लागत के साथ-साथ वस्तु की गुणवत्ता (Quality) व मात्रा (Quantity) में गिरावट नहीं आनी चाहिये।

2. समय व श्रम में बचत (Saving in time and labour)-संगठन में श्रेष्ठ मशीनें व यंत्र तथा श्रेष्ठ प्रणाली अपनाई जाती है जिससे कार्य के समय व श्रम में काफी बचत हो जाती है, संगठन द्वारा बड़े पैमाने में उत्पादन के लाभ भी लिये जा सकते हैं।

3. श्रम व पूँजी में मधुर सम्बन्ध (Cordial relations between labour and capital)- श्रमिकों व प्रबन्ध के बीच मधुर सम्बन्ध स्थापित करना भी संगठन का एक उद्देश्य है, इस हेतु कुशल संगठनकर्ता की नियुक्ति कर श्रम व पूँजी के हितों की रक्षा की जाती है।

4. सेवा भावना (Spirit of service) वर्तमान सामाजिक चेतना एवं जन-जागरण के कारण प्रत्येक व्यवसायी का उद्देश्य ‘प्रथम सेवा फिर लाभ’ हो गया है वैसे भी प्रत्येक व्यवसायी को समाज सेवा कर अपने उत्तरदायित्व का निर्वहन करना चाहिये। इसलिये वर्तमान में प्रत्येक संगठन चाहे वह आर्थिक हो या अनार्थिक सभी का उद्देश्य सेवा करना होता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 27.
संगठन प्रक्रिया का संक्षेप में विवेचन कीजिये।
उत्तर:
संगठन के निर्माण के प्रमुख चरण

1. उद्देश्यों की स्थापना-संगठन के साथ उद्देश्यों का होना अति आवश्यक है। संगठन के उद्देश्यों में उन कार्यों की स्पष्ट व्याख्या होनी चाहिए जिनके कारण संगठन की संरचना की जाती है।

2. क्रियाओं का निर्धारण-संगठन का दूसरा कदम क्रियाओं का निर्धारण एवं उनका विभाजन करना होता है। कार्यों को उपकार्यों में विभाजित कर प्रत्येक कार्य की स्पष्ट व्याख्या करनी चाहिए।

3. क्रियाओं का वर्गीकरण-तृतीय चरण में क्रियाओं का वर्गीकरण किया जाता है। इस हेतु विभिन्न क्रियाओं को अलग-अलग समूह में बाँट दिया जाता है। जैसे-क्रय, विक्रय, विज्ञापन, निरीक्षण, उत्पादन, मजदूरी, वेतन आदि।

4. कार्य का विभाजन-इसके अन्तर्गत सही कार्य के लिए सही व्यक्ति के सिद्धान्त के अनुसार कार्य विभाजन किया जाता है। साथ ही कर्मचारियों की जिम्मेदारी भी निश्चित की जाती है।

MP Board Solutions

प्रश्न 28.
विकेन्द्रीयकरण के उद्देश्य लिखिए।
उत्तर:
विकेन्द्रीयकरण के निम्न उद्देश्य होते हैं

1.शीर्ष स्तर पर कार्यभार में कमी-सामान्यतः निर्णय उच्च प्रबन्धक या शीर्ष स्तर पर लिये जाते हैं। संगठन का विस्तार होने पर शीर्ष स्तर का कार्य और बढ़ जाता है अतः इस कार्यभार को कम करने के लिये विकेन्द्रीयकरण किया जाता है। इससे शीर्ष अधिकारियों का कार्यभार कम होगा और वे अति महत्वपूर्ण कार्यों के लिये अच्छा निर्णय ले सकते हैं।

2. प्रजातान्त्रिक व्यवस्था के लाभ प्राप्त करने के लिये-विकेन्द्रीयकरण से अधिकारों का फैलाव छोटे-छोटे स्तर तक हो जाता है इससे प्रजातान्त्रिक व्यवस्था के समस्त लाभ सभी वर्ग को प्राप्त होते हैं।

3. कार्यों के शीघ्र निष्पादन के लिये-उच्चाधिकारियों के अधिक कार्यों को कम कर दिया जाये तो वे अपने कार्यों को ठीक ढंग से व शीघ्र उसका निपटारा कर सकते हैं इसी के साथ प्रतिस्पर्धा में आगे बढ़ने के लिये प्रत्येक स्तर पर अधिकारों का होना आवश्यक है इससे कार्य शीघ्र पूर्ण किये जा सकते हैं।

4.सर्वांगीण विकास-विकेन्द्रीयकरण से शीर्ष स्तर एवं निम्न स्तर के समस्त अधिकारियों को अधिकार प्राप्त होने से उन्हें अपने विकास का पूर्ण अवसर प्राप्त होता है। इसमें पूर्ण कार्यक्षमता से कार्य निष्पादित किये जा सकते हैं। अतः संगठन के सर्वांगीण विकास के लिये भी विकेन्द्रीयकरण आवश्यक है।

प्रश्न 29.
अनौपचारिक संगठन के विशेषताओं का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
अनौपचारिक संगठन में सामान्यतः निम्न विशेषतायें होती हैं

  1. इन संगठनों को बनाया नहीं जाता अपितु विशेष परिस्थितियों के कारण ये बन जाते हैं।
  2. इन संगठनों के समान उद्देश्य होते हैं।
  3. ये अस्थायी होते हैं कभी भी संगठन समाप्त हो जाते हैं।
  4. इनका अपना कोई चार्ट, विधान या मैन्यूवल नहीं होता अपितु सामान्य परम्परा ही इनके कानून होते हैं।
  5. ये संगठन व्यक्तिगत सम्बन्धों पर आधारित होते हैं।
  6. ये वैध एवं अवैध दोनों हो सकते हैं ।
  7. इसमें अधिकार एवं सत्ता को ऊपर से नीचे समर्पित किया जाता है।

प्रश्न 30.
संगठन की विशेषताएँ लिखिए।
उत्तर:

1. दो या दो से अधिक व्यक्ति का होना-एक व्यक्ति अपने आपको संगठन नहीं कह सकता। अतः संगठन हेतु कम से कम दो व्यक्तियों का होना अति आवश्यक है। अधिकतम संख्या पर कोई प्रतिबन्ध नहीं है।

2. निश्चित उद्देश्य का होना-संगठन में निश्चित उद्देश्य का होना अति आवश्यक है, बिना उद्देश्य के व्यक्तियों का समूह, संगठन नहीं हो सकता। जैसे कि किसी स्थान पर एक हजार लोग बिना उद्देश्य के एकत्र हैं तब वह संगठन न होकर मात्र भीड़ (Crowd) होगी।

3. लक्ष्य का पूर्व निर्धारित होना- संगठन के लिये यह आवश्यक है कि लक्ष्य या उद्देश्य पूर्व निर्धारित हो, लक्ष्य की प्राप्ति के लिये ही संगठन बनाया जाता है। अत: संगठन के पूर्व लक्ष्य (Targets) निर्धारित होना चाहिये।

4. व्यक्तियों का समूह होना-पशु-पक्षी या अन्य प्राणियों का समूह संगठन नहीं हो सकता। संगठन केवल व्यक्तियों का ही हो सकता है। यद्यपि फर्म या कम्पनियों के भी विधान द्वारा व्यक्ति (Person) कहा गया है, किन्तु ये सब कृत्रिम (Artificial) व्यक्ति हैं इसलिये 4 या 14 कम्पनियों का एक साथ कार्य करने को समूह (Group) कहेंगे संगठन नहीं।

MP Board Solutions

प्रश्न 31.
संगठन के किन्हीं चार सिद्धांतों को संक्षिप्त रूप में समझाइए।
उत्तर:
संगठन के सिद्धांत (Principles of Organization)

1.सोपानिक सिद्धांत (Principle of scalar chain)- कौन व्यक्ति किस प्रबंधक की अधीनस्थता में काम करेगा और किससे आदेश लेगा इस बात का स्पष्ट उल्लेख होना चाहिए ताकि कोई भी व्यक्ति इस आदेश श्रृंखला का उल्लंघन न करे।

2.अपवाद का सिद्धांत (Principle of exception)- प्रत्येक अधीनस्थ को इतने अधिकार दिये जायें कि वह दैनिक कार्यों को स्वयं निपटा सके। केवल असाधारण मामले ही अधीक्षक के पास आने चाहिए। इस प्रकार प्रबंधक का समय अधिक महत्वपूर्ण मामलों के लिए सुरक्षित रहता है।

3. लोच का सिद्धांत (Principle of flexibility)- संगठन में पर्याप्त लोच होनी चाहिए ताकि इसमें परिस्थितियों व समय के अनुसार आसानी से परिवर्तन किये जा सकें।

4. अधिकार एवं दायित्व (Rights and responsibility)- संगठन के प्रत्येक सदस्य को उसके अधिकार व दायित्व साथ-साथ दिये जाने चाहिए। अधिकार व दायित्व में तालमेल के बिना कोई भी व्यक्ति कुशलतापूर्वक कार्य नहीं कर पायेगा। अधीनस्थों को पर्याप्त अधिकार सौंपे जाने चाहिए।

प्रश्न 32.
रेखा एवं रेखा तथा कर्मचारी संगठन में अंतर लिखिए।
उत्तर:
रेखा एवं रेखा तथा कर्मचारी संगठन में अन्तर
(Difference between Line and Line and Staff Organization)
MP Board Class 12th Business Studies Important Questions Chapter 5 संगठन - 5

प्रश्न 33.
अधिकार, उत्तरदायित्व तथा उत्तरदेयता/जवाबदेही में तुलना करें।
अथवा
अधिकार प्रत्यायोजन के तत्वों में तुलना करें।
उत्तर:
अधिकार, उत्तरदायित्व एवं उत्तरदेयता में अंतर
MP Board Class 12th Business Studies Important Questions Chapter 5 संगठन - 2

MP Board Class 12th General Hindi व्याकरण पारिभाषिक एवं तकनीकी शब्द

In this article, we will share MP Board Class 12th Hindi Solutions व्याकरण पारिभाषिक एवं तकनीकी शब्द Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 12th General Hindi व्याकरण पारिभाषिक एवं तकनीकी शब्द

पारिभाषिक शब्द का अर्थ और स्वरूप
उपयोगिता और महत्त्व

भाषा के अनेक पक्ष होते हैं। उनमें एक महत्त्वपूर्ण पक्ष है : पारिभाषिक और तकनीकी शब्द। विभिन्न विज्ञानों और शास्त्रों में प्रयुक्त होने वाले पारिभाषिक शब्दों का विशेष महत्त्व है। इसके . प्रयोग से विषय – विशेष के संदर्भ में भाषा व्यवहार की प्रयोजनपरकता बढ़ती है। विषय का विशिष्ट ज्ञान उभरता है, किंतु पारिभाषिक शब्द ऐसा तकनीकी विषय है जो स्वयं में कई आयाम लिए हुए

MP Board Solutions

मानव अपने भावों या विचारों को अथवा संकल्पनाओं को भाषा के माध्यम से व्यक्त करता है। वह समाज में रहते हुए भाषा सीखता है, समाज में उसका प्रयोग करता है। भाषा सार्थक शब्दों की समूह होती है और इसका कार्य अर्थ की प्रतीति कराना होता है। यह अर्थ बोध भाषा को जानने वालों को होता है। शब्द जहाँ सांकेतिक अर्थ का बोध कराके वाच्यार्थ को व्यक्त करते हैं वहीं लक्ष्यार्थ और व्यंग्यार्थ के रूप में इससे भिन्न अर्थ का भी बोध कराते हैं। वह अलग – अलग संदर्भो में लक्ष्यार्थ की प्रतीति भी करा सकता है और व्यंग्यार्थ की भी, किंतु मूलतः वह वाचक होता है। इसलिए शब्द में अर्थ बोध कराने की शक्ति होती है। यह भाषा की महत्त्वपूर्ण इकाई है। भाषा विशेष में शब्दों की अधिकता उतने ही अधिक अर्थ क्षेत्रों को व्यक्त करने की क्षमता को सिद्ध करती है।

पारिभाषिक शब्द की व्युत्पत्ति व परिभाषा

साहित्य जगत् – चाहे वह ज्ञानात्मक साहित्य से संबंधित हो अथवा आनंद के साहित्य से – शब्दों के संदर्भ में प्रयुक्त होने वाला पारिभाषिक शब्द अंग्रेजी के Technical Terms शब्द के समान व्यहार में लाया जाता है। पारिभाषिक शब्द एक विश्लेषण है जिसकी रचना परिभाषा शब्द में इक प्रत्यय से हुई है। इस तरह परिभाषिक का अर्थ है परिभाषा संबंधी अर्थात् जिसकी परिभाषा की जा सके अथवा जिसकी परिभाषा देने की आवश्यकता हो। जहाँ तक परिभाषा – शब्द का संबंध है तो इसकी व्युत्पत्ति भाष् धातु में परि उपसर्ग जोड़कर हुई है। भाष धातु कथन का और परि उपसर्ग विशिष्टता (अथवा विशेष अथ) का द्योतक है। इस प्रकार परिभाषा विशिष्ट ” भाष् अर्थात् . किसी पद, शब्द, या कथन की पहचान के स्पष्टीकरण से संबंधित है। इस विशिष्ट कथन का संबंध किसी भी विषय, वस्तु, अर्थ, क्षेत्र अथवा संदर्भ हो सकता है। इस प्रकार पारिभाषिक शब्द विशिष्ट विचारों को व्यक्त करने वाले विशिष्ट शब्द हैं। परिभाषा या विशिष्ट संदर्भ से जुड़े पारिभाषिक शब्दों (अथवा पारिभाषिक शब्दावली) का प्रयोग किसी परिभाषा युक्त कथन के सूत्र में किया जाता है। साथ ही, ये शब्द किसी भी भाषा की विभिन्न प्रयुक्तियों अथवा प्रयोजनमूलक रूपों में विशिष्ट अवधारणाओं के अभिव्यंजक होते हैं और स्वयं में तत्संबंधी व्याख्या समाहित किए हुए होते हैं।

पारिभाषिक शब्दों के अर्थ तत्त्व के बोध के लिए तत्संबंधी परिभाषा अथवा व्याख्या पर समुचित ध्यान दिया जाना अपेक्षित है। रैंडम हाउस ने पारिभाषिक शब्द की परिभाषा इस प्रकार दी है : ‘A word of phrase used in definite or precise sense in some particular subject as a science or art a technical impression (more fully term of art) विशिष्ट विषय जैसे विज्ञान अथवा कला विषय की तकनीकी अभिव्यक्ति के लिए निश्चित अथवा विशिष्ट अर्थ में प्रयुक्त एक शब्द अधिकांशतः कला का शब्द।।

डॉ. रघुवीर ने पारिभाषिक शब्द को इस प्रकार परिभाषित किया है, “ पारिभाषिक शब्द किसको कहते हैं? जिसकी परिभाषा की गई हो। पारिभाषिक शब्द का अर्थ है : जिसकी सीमा बांध दी गई हो। जिन शब्दों की सीमा बांध दी जाती है वे पारिभाषिक शब्द हो जाते हैं।”

पाठ्यक्रम में निर्धारित पारिभाषिक एवं तकनीकी शब्द में पारिभाषिक शब्द की परिभाषा इस प्रकार दी है : जो शब्द विभिन्न शास्त्रों और विज्ञानों में ही प्रयुक्त होते हैं तथा संबद्ध शास्त्र या विज्ञान के प्रसंग में जिनकी परिभाषा दी जा सके, पारिभाषिक शब्द कहलाते हैं।

पारिभाषिक शब्दों के प्रकार

भाषा व्यवहार में देखा जाता है कि प्रयोग के आधार पर शब्द के तीन भेद होते हैं : सामान्य शब्द, अर्द्ध पारिभाषिक शब्द और पारिभाषिक शब्द। इसके विपरीत कुछ भाषाविज्ञानी पारिभाषिक शब्दों के दो ही प्रकार मानते हैं।

1. सामान्य शब्द : सामान्य शब्द वे होते हैं जिन शब्दों में कोई तकनीकी पक्ष समाहित नहीं होता। इनके विषय में कुछ भी स्पष्ट कहने की आवश्यकता नहीं होती। जैसे मीठा, कलम, ठोस
आदि।

2. अर्द्ध पारिभाषिक शब्द वे कहलाते हैं जो सामान्य और पारिभाषिक शब्दों के बीच के शब्द होते हैं। अभिप्राय यह है कि ये शब्द अर्द्ध पारिभाषिक शब्द और सामान्य पारिभाषिक शब्दों के रूप में प्रयुक्त होने वाले होते हैं। इनका प्रयोग सामान्य जीवन व्यवहार में तो होता ही है साथ ही किसी भी विशिष्ट ज्ञान के संदर्भ में भी होता है। इन शब्दों की विशेषता यह होती है कि इनका पारिभाषिक अर्थ व्याख्या, लोक प्रयोग, अर्थ विस्तार, अर्थादेश, अर्थ संकोच से सिद्ध होता है। लोक व्यवहार और शास्त्र/विज्ञान विशेष में प्रयुक्त होने के स्तर पर इन शब्दों के रूप में कोई परिवर्तन नहीं होता। ये केवल नया अर्थ लिए होते हैं

जैसे – आवेश, भिन्न, रस, संधि, पुष्प, हस्ताक्षर आदि। पाठ्यक्रम लेखक ने अर्द्ध पारिभाषिक शब्द के संबंध में यह कहा है, “ऐसे शब्द हैं जो कभी तो पारिभाषिक शब्द के रूप में प्रयुक्त होते हैं और कभी सामान्य रूप में। ऐसे शब्दों को अर्द्ध प्रामाणिक शब्द कहा जाता है। जैसे व्याकरण में क्रिया पारिभाषिक शब्द है। किंतु अन्यत्र इसका सामान्य अर्थ में प्रयोग किया जाता है।” इसी प्रकार अलंकार काव्यशास्त्र में पारिभाषिक शब्द है किंतु सामान्य अर्थ में यह आभूषण के लिए प्रयुक्त किया जाता है।

3. पारिभाषिक शब्द या पूर्ण पारिभाषिक शब्द : पारिभाषिक या पूर्ण पारिभाषिक शब्द वे कहलाते हैं जो ज्ञान व आनंद के साहित्य में टेक्नीकल टर्म के रूप में प्रयोग किए जाते हैं। इन्हें पूर्ण पारिभाषिक शब्द भी कहा जाता है। पाठ्यक्रम लेखक ने पारिभाषिक शब्द को पूर्ण पारिभाषिक शब्द कहा है और इसकी परिभाषा इस प्रकार दी है : “ऐसे शब्द जो पूर्णतः परिभाषा देते हैं। इनका प्रयोग सामान्य अर्थ में नहीं होता। जैसे काव्यशास्त्र में ‘रस निष्पत्ति’ शब्द पूर्णतः पारिभाषिक शब्द है। इसका अर्थ है हृदय में स्थित भाव, रस के रूप में अनुभूत होते हैं।’ इसका सामान्य अर्थ में प्रयोग नहीं होता। इसी प्रकार भाषाविज्ञान का स्वनिम विशेष अर्थ देता है सामान्य अर्थ नहीं। चिकित्सा के राज्यक्ष्मा और शल्य क्रिया, न्यायालय के पेशी और जमानत, वाण्ज्यि के धारक और प्रीमियम शब्द विशेष अर्थ के बोधक हैं।

पारिभाषिक शब्द की विशेषताएँ
(क) पारिभाषिक शब्द का अर्थ सुनिश्चित होता है। जैसे संसद, विधानसभा, मानदेय आदि।
(ख) एक विषय या सिद्धांत में पारिभाषिक शब्द का एक ही अर्थ होता है जैसेः समाजवाद, बहीखाता, द्विआंकन प्रणाली।
(ग) पारिभाषिक शब्द सीमित आकार में होता है जैसे – स्वन, अभिभावक।
(घ) पारिभाषिक शब्द मूल या रूढ़ होता है, व्याख्यात्मक नहीं होता जैसे – दूरदर्शन, निवेशक, श्रमजीवी।
(ङ) पारिभाषिक शब्द मूल या रूढ़ होता है। यह व्याख्यात्मक नहीं होता। जैसे – विधान। इससे अनेक शब्द निर्मित किए जा सकते हैं: जैसे – विधान परिषद्, विधान सभा आदि।

पारिभाषिक शब्द निर्माण पद्धति या प्रणाली :
पारिभाषिक शब्दों का निर्माण कई प्रकार से किया जाता है।
1. उपसर्ग से पारिभाषिक शब्दों का निर्माण : इस तरह के शब्द तद्भव, तत्स आगत शब्दों में उपसर्ग जोड़कर बनाए जाते हैं :

  • अधि + कार – अधिकार
  • अति + क्रमण – अतिक्रमण
  • उप + मंत्रालय – उपमंत्रालय
  • सं + चार – संचार
  • बा + कायदा – बाकायदा
  • ना + लायक – नालायक
  • रि + साइकिल – रिसाइकिल
  • रि + ‘माइण्ड – रिमाइण्ड

2. प्रत्यय द्वारा पारिभाषिक शब्दों का निर्माण :
तत्सम तद्भव, विदेशी/ आगत शब्दों में प्रत्यय जोड़कर पारिभाषिक शब्द बनाए जाते हैं :

  • इतिहास + इक – ऐतिहासिक
  • रूप + इम – रूपिम।
  • दुकान + दार – दुकानदार
  • दम + दार – दमदार।
  • चलन + इया – चलनिया
  • फिर + औती – फिरौती
  • कलेक् + शन – कलेक्शन
  • एक्जामिन + एशन – एक्जामिनेशन

MP Board Solutions

3. समास से पारिभाषिक शब्दों का निर्माण :
तद्भव, तत्सम और विदेशी/आगत शब्दों के सामासिक प्रयोगों से पारिभाषिक शब्द बनाए जाते हैं :

  • तत्सम + तत्सम : ग्राम पंचायत, आकाशवाणी
  • तत्सम + तद्भव : जलपरी, रक्षा + चौंकी।
  • तत्सम + विदेशी : सहकारी + बैंक।
  • तद्भव + तद्भव : हाथ + घड़ा।
  • तद्भव + विदेशी : किताब + घर।
  • देशज + तद्भव : जच्चा + घर
  • विदेशी + विदेशी : ग्रीन + हॉल।

संधि से पारिभाषिक शब्दों का निर्माण : संधि प्रक्रिया से भी पारिभाषिक शब्दों का निर्माण किया जाता है :

  • अभि + आवेदन : अभ्यावेदन
  • जिला + अधिकारी : जिलाधिकारी
  • कुल + अधिपति : कुलाधिपति

विदेशी भाषा से यथावत ग्रहीत शब्द : पारिभाषिक शब्दों के निर्माण के लिए विदेशी या आगत शब्दों को ज्यों का त्यों स्वीकार कर लिया जाता है।
बुलेटिन, बजट, रबर, ग्लूकोज, होमियोग्लोबिन, टेंप्रेचर।
अनुकूलन द्वारा पारिभाषिक शब्द निर्माण : विदेशी या आगत शब्दों में कुछ बदलाव लाकर हिंदी शैली में शब्दों को ढाल लिया जाता है।

  • ट्रेजेडी – त्रासदी
  • एकेडेमी – अकादमी

कुछ ऐसे शब्द भी हैं जो विशेष अर्थ में प्रयुक्त नहीं होते। उन्हें अपरिभाषिक या सामान्य शब्दों की श्रेणी में रखा जाता है जैसे पहाड़ियाँ, तलैया।

पारिभाषिक शब्द बनाने के लिए भारत सरकार के वैज्ञानिक तकनीकी शब्दावली आयोग की ओर से प्रकाशित पारिभाषिक शब्दकोश से ही पारिभाषिक शब्दों का निर्माण करना चाहिए। पारिभाषिक शब्दों के निर्माण में जिस भाषा में जो भी शब्द उपलब्ध है उसे ज्यों का त्यों स्वीकार कर लेना चाहिए।

तकनीकी शब्दावली पारिभाषिक शब्द के लिए तकनीकी शब्द भी : पारिभाषिक शब्द के पर्याय के रूप में तकनीकी शब्द का प्रयोग किया जाता है। जैसे तकनीक शब्द Technical’ ध्वनि – साम्य के आधार पर निर्मित पर्याय है। अंग्रेजी का Technical’ शब्द भी Technique’ शब्द से बना है। यह मूल अंग्रेजी शब्द ग्रीक भाषा के Technician ‘से व्यत्पन्न है, जिसका अर्थ है कला या शिल्प का और इक का अर्थ है, इसका। (इससे संबद्ध) इस प्रकार ‘टेक्नी’ शब्द का अभिप्राय हुआ कला अथवा शिल्प का अथवा इससे संबद्ध। ग्रीक में टेक्टोन ‘Tectonic’ का अर्थ है बढ़ई अथवा निर्माता (Builder)। लेटिन में टैक्सीयर Tex ere’ को बुनना अथवा बनाने या . निर्माण करने के अर्थ में प्रयुक्त किया जाता है। इस तरह यह ग्रीक शब्द किसी चीज़ को बनाने अथवा तैयार करने के अर्थ में प्रयुक्त किया जाता है। इस तरह या ग्रीक शब्द किसी चीज को बनाने अथवा तैयार करने की कला या शिल्प है। अंग्रेजी के Technique’ शब्द में भी यही अर्थ उजागर होता है। फादर कामिल बुल्के ने इंगलिश हिंदी डिक्शनरी के अनुसार ‘Technical’ शब्द का शाब्दिक अभिप्राय बताया है, ‘of a particular art, science, craft or about art.’ अर्थात् विशेष कला का अथवा विज्ञान का अथवा कला के बारे में’। स्पष्ट है कि ‘Technical’ तकनीकी शब्द बनाने, तैयार करने के अर्थ को वहन करता है। इससे इस अर्थ को शब्द के Terms’ के साथ प्रयोग करने पर अर्थात् Technical Terms’ तकनीकी शब्द लिखने पर इसमें तात्पर्य निहित हो जाता है कि यह मानव द्वारा निर्मित अथवा अभिकल्पित अथवा अन्वेषित भाव विचार अथवा वस्तु को उजागर करने वाला शब्द है।

पाठ्यक्रम में निर्धारित तकनीकी शब्द की परिभाषा इस प्रकार दी गई है: तकनीकी वह शब्द है जो किसी निर्मित अथवा खोजी गई वस्तु अथवा विचार को व्यक्त करता हो। कोश ग्रंथों के अनुसार तकनीक शब्द किसी ज्ञान विज्ञान के विशेष क्षेत्र में एक विशिष्ट तथा निश्चित अर्थ में प्रयुक्त किया जाता है।

MP Board Solutions

वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली का संबंध अधिकांश रूप से अंग्रेजी और अंतरराष्ट्रीय शब्दावली से है। सन् 1961 में वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली की स्थापना की गई। तब जाकर तकनीकी शब्दावली का विकास हुआ।

पारिभाषिक और तकनीकी शब्दावली में अंतर

पारिभाषिक व तकनीकी शब्दावली में सूक्ष्म अन्तर है। पारिभाषिक शब्द साहित्यिक और गैर – साहित्यिक विज्ञान आदि दोनों विषयों में हो सकते हैं पर तकनीकी शब्द से केवल तकनीकी टेक्निकल सब्जेक्ट के होते हैं। जैसे रस, गुण, अलंकार आदि साहित्यिक शब्द हैं जबकि राडार, नाइट्रोजन आदि तकनीकी विषयों के पारिभाषिक शब्द हैं।

भारत शासन के वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग ने विभिन्न विषयों को लगभग बीस शब्दावलियाँ प्रकाशित की हैं। इन्हीं शब्दावलियों से निम्नलिखित पारिभाषिक/ तकनीकी शब्दों का चयन किया गया है –
MP Board Class 12th General Hindi व्याकरण पारिभाषिक एवं तकनीकी शब्द img-1
MP Board Class 12th General Hindi व्याकरण पारिभाषिक एवं तकनीकी शब्द img-2